Header Ads

पीरियड्स



अगर क्रैंप्स होते हैं, पीरियड्स नहीं तो एक्सपर्ट से जानें क्या हो सकती है इसकी वजह



हर महीने पीरियड शुरू होने के पहले के कुछ साइन्स होते हैं! जो जनरली हर फीमेल में होते हैं। हां, साइन्स होते हर किसी के अलग-अलग हैं। मसलन- सूजन, मूड चेंज और एकदम से मीठा खाने की क्रेविंग्स के अलावा, ऐंठन या क्रैम्पस सबसे आम संकेत यानी साइन्स में से एक हैं।


ये बात अलग है, कि ये साइन्स कोई बहुत कंफर्टेबल नहीं होते, न ही इनसे होने वाली परेशानी ही बड़ी हैप्पी एंडिंग का साइन होती है, लेकिन एक बात इन पीरियड सिग्नल्स से तय हो जाती है, वो यह, कि आपको पता चल जाता है, कि ‘आंटी फ्लो’ के आने का टाइम हो गया है, आप अपनी तैयारी कर लो!

लेकिन क्या होगा, यदि आपको ऐंठन तो हो, लेकिन पीरियड न आए? मेरे ख्याल से आपका जवाब होना चाहिए, टेंशन!


वैसे घबराएं नहीं। क्योंकि ऐसा होने के कई कारण हो सकते हैं, जरूरी नहीं कि हर बात सीरियस होने की ही हो!

डाॅक्टर्स कहते हैं, यदि आप वास्तव में चिंतित हैं, तो बिना किसी हेजिटेशन के अपने डाॅक्टर्स से बात करें। वे आपको आपकी जो भी स्थिति हो उस हिसाब से उसका कारण जानने में मदद कर सकते हैं और आपके पीरियड को वापस पटरी पर लाने के लिए क्या करने की आवश्यकता है, यह भी सजेस्ट कर सकते हैं।

फिर भी यदि आप जानना चाहते हैं कि आपकी क्रैंम्प और डीले पीरियड के क्या कारण हैं, तो यहां उन सभी संभावित कारणों की एक लिस्ट है, जो आपकी ऐंठन यानी क्रैंप्स बढ़ा सकते हैं।



एनओव्यूलेशन


यदि हर 2-4 महीने में आपका शरीर प्री-मेंस्टु्रअल सिंड्रोम से जुड़े सभी हार्मोनल चेंजेज शो करता है, लेकिन उस महीने का एग रिलीज नहीं करता, तो इसे, एनोवुलेटरी साइकल के रूप में जाना जाता है और जब जक एग रिलीज नहीं होगा, तब तक परियड होगा नहीं।


एनोव्यूलेशन आप जितना सोच रही याी सोचती हैं, उससे कहीं अधिक आम है। करीब 10 सक 18 प्रतिशत परियड साइकल एनोवुलेटरी होते हैं।’ एक एनोवुलेटरी साइकल के कारण, रैंडम भी हो सकते हैं, जैसे, बाॅडी वेट, न्यूट्रिशन या आप धीरे-धीरे मेनोपाॅज के करीब पहुंच रही हैं।

हालांकि जनरली, समय-समय पर पीरियड स्किप करते समय, आमतौर पर चिंता की कोई बात नहीं होती, लेकिन अगर आपको फीवर, वॉमेटिंग या उल्टी है या दर्द है, जिसे आप साधारण ओटीसी दवाओं से नियंत्रित नहीं कर सकते या कर पा रहे हैं तो, तुरंत अपने डाॅक्टर से संपर्क करें।
प्रेगनेंसी


हो सकता है, इस स्थिति का कारण आपके अनसेफ सेक्सुअल रिलेशन हों! तो पहली चीज, अपना प्रेगनेंसी टेस्ट करें।

थायरॉयड कंडीशन्स

टापकी थायराॅयड, यानी गर्दन में एक छोटी तितली के आकार की ग्रंथि, आपके मेटाबॉलिज़्म और मासिक धर्म चक्र सहित आपके शरीर के कई कार्यों को कंट्रोल करती है। डाॅ. शेफर्ड कहते हैं,‘अगर आपका थायराॅयड बढ़ा या खराब है है तो आपका पीरियड साइकल अनियमित हो सकता है और लंबे टाइम पीरियड के लिए रुक भी सकता है।

पालोमा हेल्थ के एंडोक्राइनोलॉजिस्टए एमडीए यास्मीन अखुनजी बताते हैं कि थायराइड की स्थिति का गलत निदान होना या निदान में देरी होना आम है।

यदि आप थायराइड की स्थिति के अन्य लक्षणों का अनुभव कर रहे हैं, जिसमें अचानक वेट लाॅस या वेट गेन, शिवरिंग, दिल की धड़कन, या थकान शामिल है तो अपने चिकित्सक से जांच करना सुनिश्चित करें।
हार्मोनल बर्थ कंट्रोल


पीरियड्स स्किप होना हार्मोनल आईयूडी IUD का एक बहुत ही सामान्य साइड इफेक्ट है। ऐसा इसीलिए क्योंकि यह डिवाइस प्रेगनेंसी रोकने के लिए आपके यूट्रस में एंडोमेट्रियल स्तर को पतला कर रहा है, इसीलिए पीरियड में शेड करने के लिए कुछ हाेता ही नहीं है।


हालांकि बर्थ कंट्रोल पिल्स आम तौर पर पीरियड या फ्लो को पूरी तरह से राेकते नहीं है लेकिन सुपर लाइट फ्लो या स्पॉटिंग हो सकती है। डॉ.शेफर्ड कहते हैं, तो आपको पीरियड के लक्षण महसूस हो सकते हैं, जैसे ऐंठन और ब्रेस्ट टेंडरनेस।
तनाव


सरप्राइजिंगली! तनाव भी पीरियड गायब होने के बड़े कारणों में से एक है। डॉ शेफर्ड कहते हैं तनाव आपके कोर्टिसोल स्तर को बढ़ाता है, जो आपके हार्मोन संतुलन को प्रभावित करता है, जिसमें आपकी अेवरीज और यूट्रस की परत को नियंत्रित करने वाले हार्मोन भी शामिल हैं। लेकिन,आपको फिर भी आपको ऐंठन महसूस हो सकती है।


और तनाव का तो क्या ही कहा जाए, आजकल हर एक बात से इतनी जल्दी हमें टेंशन होती है। फिर चाहे वो इग्जाम्स हों, नई ड्रेस लेनी हो या फिर सच में कोई सीरियस बात!
पाॅलिसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम


बार-बार पीरियड स्किप होना पीसीओएस PCOS का संकेत हो सकता है। पीसीओएस यानी पाॅलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम एंडोक्राइन सिस्टम का मेटाबाॅलिक डिसॉर्डर होता है। इस स्थिति में उच्च मात्रा में मेल हार्मोन का उत्पादन होता है, जिससे ओव्यूलेशन में अनियमितता होती है, जिसके कारण ओवरी में बहुत सारे सिस्ट बन जाते हैं।


पीसीओएस एक जेनेटिक डिसॉर्डर हैए और यह कोई एक दिन में होने वाली बीमारी नहीं हैए इसलिए डाॅक्टरों के अनुसारए इसके लक्षणों को सिर्फ सप्रेस किया जा सकता है यानी दबाया जा सकता है। पूरी तरह से इसका इलाज संभव नहीं होता क्योंकि यह आपके सिस्टम में है।

चूंकि पीसीओएस से ग्रस्त महिलाओं के लिए हार्मोनल इंबैलेंस और अनियमितताओं के कारण गर्भधारण यानी कंसीव करना एक चुनौती हो सकती है,

इसलिए यदि आपको लगता है कि आपको पीसीओएस है, तो अपने डाॅक्टर से मिलें, क्योंकि पीसीओएस का कोई ऐसा कट-टु-कट क्योर न हीं आता, बर्थ कंट्रोल पिल्स और दूसरे मेडिकेशन्स के जरिए पीरियडस को वापस ट्रैक पर लाना मैनेज किया जाता है।
ओवरियन सिस्ट


हर महीने,आपके अंडाशय ओव्यूलेशन की तैयारी में कई सिस्ट बनाते हैं,लेकिन अंडा केवल एक सिस्ट छोड़ता है। हालांकि अन्य आमतौर पर आपके मासिक धर्म आने तक अपने आप गायब हो जाते हैं, कभी-कभी एक या अधिक सिस्ट चिपकी रह जाती है।


डॉ.मॉस कहते हैं,अक्सर अपने आप में सिस्ट कोई समस्या नहीं होती है, लेकिन अगर वे विशेष रूप से बड़े हो जाते हैं, तो वे ओवरी को मोड़ सकते हैं। एक ओवरियन टाॅरशन, जो दर्दनाक है और आपके ओवरी को बचाने के लिए एक आपातकालीन प्रक्रिया की आवश्यकता होती है।
पेल्विक इंफ्लेमेटरी डिजीज


ऐंठन पीआईडी ​​​​का एक सामान्य लक्षण है, जो गर्भाशय फैलोपियन ट्यूब या अंडाशय का संक्रमण है, ये आमतौर पर तब होता है, जब यौन संचारित बैक्टीरिया आपकी योनि से आपके प्रजनन अंगों में फैलते हैं।


एसटीआई इंफेक्शन जैसे क्लैमाइडिया और गोनोरिया गंभीर पेल्विक इंफेक्शन पेल्विक पेन और बांझपन का कारण बन सकते हैं। इसीलिए एसटीआई चेकअप्स को लेकर सावधानी बरतें।
युरिनरी ट्रैक्ट इंफेक्शन-UTI

यूटीआई का एक आम लक्षण पैल्विक क्रैम्पिंग है, कहना है डाॅक्टर राॅस का। इसके दूसरे लक्षणों में पेन की फ्रीक्वेंसी, दर्द, पेशाब के साथ जलन या पेशाब के साथ रक्तस्राव शामिल है।

अगर आपको लगता है कि आपके क्रैंप यूटीआई से जुड़े हो सकते हैं, तो तुरंत अपने डाॅक्टर से मिलें, अनुपचारित छोड़ दिया जाए तो यूटीआई खतरनाक किडनी इंफेक्शन का कारण बन सकते हें, जिससे जान भी जा सकती है।

हम उम्मीद करते हैं कि ये जानकारी आपके काम आएगी।

कोई टिप्पणी नहीं

Healths Is Wealth. Blogger द्वारा संचालित.