Header Ads

प्रेगनेंसी टेस्ट कब करना चाहिए?


प्रेगनेंसी टेस्ट कब करना चाहिए?
 (Pregnancy test kab kare?)


अगर आप गर्भधारण की कोशिश कर रही हैं या आपने असुरक्षित यौन संबंध बनाए हैं, तो आप घरेलू या होम प्रेगनेंसी टेस्ट (pregnancy test at home in hindi) के ज़रिए यह ज़रूर जानना चाहती होंगी कि आप गर्भवती हुई हैं या नहीं। लेकिन, अगर आप होम प्रेगनेंसी टेस्ट किट का सही उपयोग करना नहीं जानती हैं, तो आपके लिए इसका उपयोग करना थोड़ा मुश्किल हो सकता है।

कई महिलाओं को यह पता नहीं होता है कि प्रेगनेंसी टेस्ट कब करना चाहिए (pregnancy test kab kare) या प्रेग्नेंसी टेस्ट कैसे करे। इसलिए इस ब्लॉग में हम आपको घर पर प्रेगनेंसी टेस्ट करने से जुड़ी सभी अहम बातें बता रहे हैं, ताकि आप आसानी से इस अच्छी ख़बर का पता लगा सकें।

प्रेगनेंसी टेस्ट क्या होता है?
(Pregnancy test kya hota hai)

भ्रूण के गर्भाशय की दीवार से जुड़ने के बाद, उसका प्लेसेंटा आपके शरीर में एक विशेष हॉर्मोन - ह्यूमन कोरियोनिक गोनाडोट्रोपिन (एचसीजी/hCG in hindi) का स्राव करता है। ऐसा आमतौर पर अंडे के निषेचन के छह दिन बाद होने लगता है। आपके खून या पेशाब में इस हॉर्मोन की मौजूदगी का पता लगाने की प्रक्रिया को प्रेगनेंसी टेस्ट (pregnancy test in hindi) कहा जाता है।

ज्यादातर महिलाएं, डॉक्टर के पास जाने से पहले घर पर ही होम प्रेगनेंसी टेस्ट किट की मदद से अपनी गर्भावस्था की जांच करती हैं। इस जांच के लिए वो अपने पेशाब का उपयोग करती हैं।

अगर आप डॉक्टर के पास जाकर प्रेगनेंसी की जांच करवाएंगी, तो वो आपके खून की जांच करेंगे। यह जांच होम प्रेगनेंसी टेस्ट (pregnancy test at home in hindi) की तुलना में ज्यादा स्पष्ट परिणाम दे सकती है। लेकिन फिर भी, डॉक्टर के पास जाने से पहले आपको एक बार घर पर गर्भावस्था की जांच कर लेनी चाहिए।

होम प्रेगनेंसी टेस्ट कब करना चाहिए?
(When to do pregnancy test at home in hindi)

क्या आप भी इसी सवाल में उलझी हैं कि घरेलू प्रेगनेंसी टेस्ट कब करना चाहिए? जनाब, तय समय पर आपका मासिक धर्म ना आने पर आप घर पर प्रेगनेंसी टेस्ट (pregnancy test in hindi) करके देख सकती हैं कि आप गर्भवती हैं या नहीं।

हालांकि इससे पहले भी आप गर्भावस्था की जांच कर सकती हैं, लेकिन उस स्थिति में आपके शरीर में एचसीजी हॉर्मोन की मात्रा इतनी ज्यादा नहीं होती है कि जांच में उसका स्पष्ट रूप से पता चल सके।

इसलिए, आपको अपने मासिक धर्म का समय गुज़रने तक इंतजार करना चाहिए, क्योंकि तब तक आपके शरीर में इस हॉर्मोन की मात्रा पर्याप्त रूप से बढ़ जाती है। इससे होम प्रेगनेंसी टेस्ट (pregnancy test at home in hindi) में इसका पता आसानी से चल सकता है।

मासिक चक्र अनियमित होने पर प्रेगनेंसी टेस्ट कब करना चाहिए?
(Periods regular na hone par pregnancy test kab karna chahiye)

ज्यादातर होम प्रेगनेंसी टेस्ट, तय समय पर आपका मासिक धर्म ना आने के बाद सटीक परिणाम देने का दावा करते हैं। लेकिन, अगर आपका मासिक चक्र अनियमित है, तो आप असमंजस में होंगी कि प्रेगनेंसी टेस्ट कब करे (pregnancy test kab kare)?

इस स्थिति में, अपने पिछले मासिक धर्म के 36 दिनों बाद या ओवुलेशन के दिनों में किये गए सेक्स के चार हफ़्तों के बाद आपको होम प्रेगनेंसी टेस्ट (pregnancy test at home in hindi) करना चाहिए। अगर आप गर्भवती हैं, तो इस समय तक आपके शरीर में पर्याप्त मात्रा में एचसीजी हॉर्मोन बन चुका होगा, जिससे आपके गर्भवती होने का स्पष्ट ढंग से पता लगाया जा सकता है।

अगर होम प्रेगनेंसी टेस्ट (pregnancy test at home in hindi) के नतीजों में सामने आता है कि आप गर्भवती नहीं हैं, लेकिन आपको लगता है कि आप गर्भवती हैं, तो पांच से दस दिन इंतज़ार करें और दोबारा गर्भावस्था की जांच करें। इसके अलावा, आप डॉक्टर की सलाह भी ले सकती हैं।
होम प्रेगनेंसी टेस्ट कैसे करें?
(How to do pregnancy test at home in hindi)


घर पर गर्भावस्था की जांच करने की प्रक्रिया में आमतौर पर एक विशेष पट्टी पर महिला का पेशाब डाला जाता है, इसके कुछ ही समय बाद नतीजा सामने आ जाता है। यह पट्टी प्रेगनेंसी टेस्ट किट के नाम से किसी भी दवाई की दुकान (मेडिकल स्टोर) पर मिल सकती है और इसकी कीमत विभिन्न ब्रांड्स के अनुसार अलग-अलग हो सकती है।
अलग-अलग कम्पनियों की प्रेगनेंसी टेस्ट किट नतीजों को अलग ढंग से बताती हैं, जैसे कोई किट गर्भवती होने पर दोहरी पट्टी दिखाती है, तो कोई इसके लिए प्लस या माईनस का निशान दिखाती है।

आपको होम प्रेगनेंसी टेस्ट (pregnancy test at home in hindi) निम्न तरह से करना चाहिए -


प्रेगनेंसी की जांच करने से पहले ज्यादा पानी या अन्य तरल पदार्थ ना पीएं। इससे पेशाब में एचसीजी हॉर्मोन की मात्रा कम हो सकती है।


होम प्रेगनेंसी टेस्ट किट की एक्सपायरी डेट देख लें, क्योंकि खराब किट गलत नतीजे दिखा सकती है।


किट के पैकेट पर लिखे निर्देशों को ध्यान से पढ़ें और उनका पूरी तरह से पालन करें।


पैकेट पर दिए निर्देशों के अनुसार स्ट्रिप पर कुछ बूंद पेशाब डालें या उस पर पेशाब करें।


थोड़ी देर इंतज़ार करें और टेस्ट किट के निर्देशों के अनुसार पता लगाएँ कि आप गर्भवती हैं या नहीं।

ध्यान दें - होम प्रेगनेंसी टेस्ट (pregnancy test at home in hindi) के बेहतर नतीजों के लिए आपको सुबह के पहले पेशाब से गर्भावस्था की जांच करनी चाहिए।

होम प्रेगनेंसी टेस्ट का नतीजा आने में कितनी देर लगती है?
(Home pregnancy test ka natija aane me kitni der lagti hai)

घर पर प्रेगनेंसी टेस्ट (pregnancy test in hindi) करने पर आपको टेस्ट किट के निर्देशों में लिखे गए समय तक इंतजार करने के बाद ही परिणाम देखने चाहिए। इसके अलावा, सामान्य से रूप से आपको पट्टी पर पेशाब डालने के पांच से दस मिनट के बीच नतीजे देखने चाहिए। पांच मिनट से पहले और दस मिनट के बाद मिलने वाले नतीजे गलत हो सकते हैं।

होम प्रेगनेंसी टेस्ट के नतीजे कितने सटीक होते हैं?
(Home pregnancy test ke natije kitne sahi hote hai)

ज्यादातर होम प्रेगनेंसी टेस्ट किट, सही उपयोग करने पर आपको 99 प्रतिशत सटीक जानकारी देने का दावा करती हैं। हालांकि कुछ विशेषज्ञ मानते हैं कि इनके सही परिणाम देने की संभावना करीब 75 प्रतिशत के आसपास ही होती है। आपके टेस्ट के नतीजों की स्पष्टता निम्न बातों पर निर्भर करती है -


आप किट का उपयोग कैसे करती हैं - किसी भी किट का उपयोग करने से पहले उसकी एक्सपायरी डेट (ख़राब होने की तारीख़) की जांच करें और सभी निर्देशों को ध्यान से पढ़ें। विशेषज्ञों के अनुसार, पेशाब डालने के करीब 5 से 10 मिनट के बीच में टेस्ट किट सबसे सटीक परिणाम दिखाती है।


आप टेस्ट कब करती हैं - आपके पेशाब में एचसीजी नामक प्रेगनेंसी हॉर्मोन की मात्रा धीरे-धीरे बढ़ती है। आप प्रेगनेंसी टेस्ट (pregnancy test in hindi) जितनी जल्दी करेंगी, उसमें एचसीजी की उपस्थिति का पता चलना उतना ही मुश्किल होगा। इसलिए ज्यादा जल्दी जांच करने पर नतीजे गड़बड़ हो सकते हैं।



सटीक परिणामों के लिए आपको मासिक धर्म ना आने के एक या दो दिन बाद सुबह के पहले पेशाब से होम प्रेगनेंसी टेस्ट (pregnancy test at home in hindi) करना चाहिए।



भ्रूण गर्भाशय से कब जुड़ता है - लगभग 10 प्रतिशत महिलाओं में मासिक धर्म ना आने के बाद भ्रूण गर्भाशय से जुड़ता है। इसका मतलब यह है कि उनके गर्भवती होने के बावजूद, उन्हें टेस्ट में नकारात्मक नतीजा दिखाई देगा। इसलिए आप जितने ज्यादा समय बाद जांच करेंगी, आपको उतना ज्यादा सटीक परिणाम मिलेगा।


टेस्ट किट का ब्रांड कौनसा है - कुछ ब्रांड्स की प्रेगनेंसी टेस्ट किट बाकी किट्स की तुलना में ज्यादा संवेदनशील होती हैं। इसलिए वो पेशाब में एचसीजी की अल्प मात्रा का भी पता लगा लेती हैं और आपको सटीक परिणाम देती हैं। इसके बारे में आप डॉक्टर से सलाह ले सकती हैं कि आपको कौनसे ब्रांड की किट खरीदनी चाहिए।

होम प्रेगनेंसी टेस्ट का नतीजा पॉजिटिव आने पर क्या करें?
(Home pregnancy test ka result positive aane par kya kare)


अगर आपको प्रेगनेंसी टेस्ट (pregnancy test in hindi) करने के बाद पॉजिटिव परिणाम प्राप्त हो, तो मुबारक़ हो! आप गर्भवती हैं। गर्भावस्था की घरेलू जांच का नतीजा सकारात्मक आने के बाद आपको डॉक्टर के पास जांच करवाने के लिए जाना चाहिए। वहां खून की जांच की मदद से आपकी गर्भावस्था की पुष्टि हो पाएगी।

इसके अलावा आपको निम्न स्थितियों में डॉक्टर के पास जाने में देरी नहीं करनी चाहिए -


आपको पहले गर्भपात, एक्टोपिक प्रेग्नेंसी जैसी समस्याएं हो चुकी हैं और इस बार जांच करने पर परिणाम सकारात्मक आया है।


आपको पेट में तेज दर्द हो रहा है।


आप किसी बीमारी की दवाई ले रही हैं।

कुछ मामलों में, आपके गर्भवती ना होने के बावजूद होम प्रेगनेंसी टेस्ट (pregnancy test at home in hindi) आपको गर्भवती बता सकता है। इसे किट का नकली पॉजिटिव परिणाम (फॉल्स पॉज़िटिव रिज़ल्ट) कहा जाता है, ऐसा निम्न कारणों से हो सकता है -


आपके गर्भाशय में खून या प्रोटीन मौजूद है।


आपके ओवुलेशन के समय पीयूष ग्रन्थि ने एचसीजी स्रावित किया है।


अंडे के गर्भाशय से जुड़ने से पहले ही एचसीजी बनने लग गया और बाद में अंडा गर्भाशय से जुड़ने के बजाय पीरियड्स के साथ बाहर आ गया।


आपने पिछले दस दिनों में गर्भधारण करने की क्षमता बढ़ाने वाली दवाएं ली हैं, जिनकी वजह से शरीर में एचसीजी हॉर्मोन की मात्रा बढ़ी हुई है।

होम प्रेगनेंसी टेस्ट का नतीजा नेगेटिव आने पर क्या करें?
(Home pregnancy test ka natija negative aane par kya kare)

प्रेगनेंसी टेस्ट (pregnancy test in hindi) का नतीजा नेगेटिव आने का मतलब यह है कि आप गर्भवती नहीं हैं। अगर आप गर्भवती हैं, तो हर दो से तीन दिन में आपके शरीर में एचसीजी हॉर्मोन का स्तर दोगुना हो जाएगा। ऐसे में आप तीन से चार दिन बाद दोबारा जांच करके देख सकती हैं कि आप गर्भवती हैं या नहीं।

इसके अलावा, अगर एक बार से ज्यादा टेस्ट करने के बावजूद भी परिणाम नेगेटिव आए हैं, जबकि आपको लगता है कि आप गर्भवती हैं, तो एक बार डॉक्टर की सलाह ले लें।
कुछ मामलों में, आपके गर्भवती होने के बावजूद प्रेगनेंसी टेस्ट (pregnancy test in hindi) में नेगेटिव परिणाम दिखाई दे सकता है। इसे फॉल्स नेगेटिव रिजल्ट कहा जाता है, ऐसा निम्न वजहों से हो सकता है -

होम प्रेगनेंसी टेस्ट किट एक्सपायर हो चुकी है।

आपने प्रेगनेंसी किट के निर्देशों का ढंग से पालन नहीं किया।

पेशाब का नमूना आधे घण्टे या इससे ज्यादा समय से रखा हुआ था।

आपने होम प्रेगनेंसी टेस्ट (pregnancy test at home in hindi) ज्यादा जल्दी कर लिया, अभी एचसीजी बनना शुरू नहीं हुआ है।

आपने प्रेगनेंसी टेस्ट करने से पहले चाय, कॉफी, पानी या जूस आदि तरल पदार्थ पीए। इसकी वजह से किट के लिए आपके पेशाब में एचसीजी हॉर्मोन की मौजूदगी का पता लगाना मुश्किल हो गया।

होम प्रेगनेंसी टेस्ट के परिणाम को कौनसी दवाएँ प्रभावित कर सकती हैं?
(Gharelu pregnancy test ke result ko kaunsi davaye prabhavit kar sakti hain)


आपके प्रेगनेंसी टेस्ट का परिणाम निम्न दवाओं की वजह से प्रभावित हो सकता है -
प्रोमेथाज़ीन (promethazine) - कुछ एलर्जियों के इलाज के काम आने वाली दवा।

पार्किंसंस डिज़ीज की दवाएं।

नींद की गोलियां।

मानसिक रोगों की कुछ दवाएँ, जैसे - क्लोरप्रोमेज़ीन (chlorpromazine)

नशीली दवाएँ, जैसे - मेथेडॉन (methadone)

गर्भधारण करने की क्षमता बढ़ाने वाली दवाएं।

पेशाब बढ़ाने वाली दवाएं।
हम जानते हैं कि अपने गर्भवती होने की ख़बर का आप बड़ी बेसब्री से इंतज़ार कर रही हैं। वैसे भी, अब तो आप समझ ही चुकी हैं कि आपको प्रेगनेंसी टेस्ट कब करना चाहिए

कोई टिप्पणी नहीं

Healths Is Wealth. Blogger द्वारा संचालित.