Header Ads

कोरोना वायरस से जुड़ी ये बातें हैं अफवाह,


कोरोना वायरस से जुड़ी ये बातें हैं अफवाह, कहीं आपने तो यकीन नहीं कर लिया इनपर?

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने कोरोनावायरस को ग्लोबल हेल्थ इमरजेंसी घोषित कर दिया है। यह महामारी जंगल की आग की तरह फैल रही है और इसके साथ ही बहुत सारी कोरोना वायरस से जुड़ी अफवाहें भी इन दिनों इंटरनेट पर वायरल हो रही हैं। इन अफवाहों के कारण लोग डरे हुए हैं। मगर क्या है इनकी सच्चाई, जानें हमारे इस लेख में। यहाँ कोरोनोवायरस के बारे में कुछ गलत धारणाओं (coronavirus myths and facts in hindi) के बारे में बताया गया हैं जिन्हें आपको इस वैश्विक स्वास्थ्य आपदा से बचाव के लिए जानना चाहिए।

जैसा कि नोवल कोरोना वायरस ने दुनिया भर के लोगों को संक्रमित करना जारी रखा हुआ है, वैसे ही इसके बारे में समाचार लेख और सोशल मीडिया पोस्ट ऑनलाइन फैलते जा रहें हैं। दुर्भाग्य से, जानकारी की इस अथक बाढ़ से सही तथ्य को कल्पना से अलग करना मुश्किल हो सकता है – और वायरल के प्रकोप के दौरान, अफवाहें और गलत सूचना खतरनाक हो सकती है।


कोरोना वायरस जिस तेजी से दुनियाभर में फैल रहा है, उससे कहीं तेजी से इस वायरस से जुड़ी अफवाहें फैल रही हैं। धीरे-धीरे कोरोना वायरस से होने वाली मौतों का आंकड़ा 4,000 के पार जा चूका है। पूरी वहीं दुनिया में कोरोना वायरस से प्रभावित होने वाले लोगों की संख्या 1,00000 से भी ज्यादा हो चुकी है। भारत में भी अब तक कोरोना वायरस के 62 मामले सामने आ चुके हैं। कोरोना वायरस संक्रमण के लक्षण वाले ये मामले अलग-अलग राज्य के हैं। अगर हम रिकॉर्ड्स की बात करें तो अब तक कोरोना वायरस संक्रमण के मामले 100 से अधिक देशों में देखे जा चुके हैं।
ये वायरस तो खतरनाक है ही, मगर इससे जुड़ी बहुत सारी अफवाहों के कारण लोगों में डर का माहौल है। कोरोना वायरस की अफवाह के उदाहरण के लिए, केवल चीनी लोग कोरोना वायरस (nCoV) से संक्रमित हैं; चीनी खाना खाने से आपको कोरोनोवायरस हो सकता है; कोरोना वायरस का टीका उपलब्ध है, आदि और भी बहुत कुछ। आइए हम आपको बताते हैं कोरोना वायरस से जुड़ी कुछ वायरल बातें और उनकी सच्चाई।
कोरोना वायरस अन्य वायरस की तुलना में अधिक तेजी से फैल रहा है

सोशल मीडिया आग में घी डालने का काम कर रहा है। इससे समस्या को वास्तव में अधिक अनुमानित किया जा रहा है जो लोगों को भयभीत कर रही है। यह वायरस अन्य वायरस की तरह ही है और यह केवल संक्रमित व्यक्ति के साथ निकट संपर्क से फैल सकता है। यह अपनी गति से फैलता है और यह उतना ही खतरनाक है जितना कि अन्य महामारी होती हैं। लोगों को इससे डरने की जगह इससे बचने के तरीकों पर ध्यान देना चाहिए जैसे –

साबुन और पानी, या अल्कोहल-आधारित हैंड रब से कम 20 सेकंड के लिए अपने हाथों को अच्छी तरह से साफ करना सुनिश्चित करें।
खांसने और छींकने पर अपनी नाक और मुंह को कवर करें।
ठंड या फ्लू जैसे लक्षणों के साथ किसी के भी निकट संपर्क से बचें।
मास्क पहनें, और सार्वजनिक परिवहन से यात्रा न करें या किसी भी सार्वजनिक स्थानों पर न जाएँ।
कोरोना वायरस को रोकने के लिए वैक्सीन ढूंढ ली गई है

सोशल मीडिया पर कई दावे किए जा रहे हैं कि इस संक्रमण को नियंत्रित करने के लिए टीका (वैक्सीन) विकसित किया जा चूका है लेकिन यह पूरी तरह सच नहीं है। कुछ लोग तेजी से इस खबर को वायरल कर रहे हैं कि कोरोना वायरस से बचने के लिए वैक्सीन और दवाएं खोज ली गई हैं। आपकी जानकारी के लिए बता दें किसी भी बीमारी का निदान होने के बाद वायरस या संक्रमण के लिए एक टीका विकसित करने में बहुत समय लगता है। (3-6 महीने और इससे भी अधिक) साथ ही, यह उपयोग के लिए उपलब्ध होने से पहले परीक्षण से गुजरता है।
ऐसी खबर है कि थाईलैंड ने एक कोरोनो वायरस की रोकथाम के लिए टीका विकसित किया है, लेकिन अभी तक कुछ भी पुष्टि नहीं की गई है। हालांकि वैज्ञानिक इस बारे में खोज कर रहे हैं। कोरोना वायरस से प्रभावित होने वाले व्यक्ति को विशेष ट्रीटमेंट और देखरेख की जरूरत पड़ती है। किसी भी तरह के घरेलू उपाय और नुस्खे, से इसका इलाज फिलहाल संभव नहीं है।

World Health Organization (WHO)
✔@WHO


Q: Are antibiotics effective in preventing and treating the new #coronavirus (2019-nCoV)?
A: No, antibiotics do not work against viruses, only bacteria.
The 2019-nC0V is a virus and, therefore, antibiotics should not be used as a means of prevention or treatment.


कोरोना वायरस की अफवाह आइसक्रीम, कोल्ड ड्रिंक आदि से कोरोना वायरस फैल सकता है

इंटरनेट पर कोरोना वायरस से जुड़ी एक और अफवाह जो इन दिनों तेजी से फैल रही है वो ये है कि “90 दिनों तक कुल्फी, कोल्ड ड्रिंक, आइसक्रीम आदि चीजों का सेवन न करें क्योंकि इससे कोरोना वायरस फैल सकता है।” मगर इस बात में बिल्कुल भी सच्चाई नहीं है।

हाँ यदि किसी भी प्रकार का भोजन जो “कोरोना वायरस से प्रभावित व्यक्ति के खांसी और छींक के संपर्क में आता है तो उससे ये वायरस फैल सकता है। कहने का मतलब यह है की तब तक खाने की चीजों से कोरोना वायरस नहीं फैल सकता है, जब तक कि इस वायरस से प्रभावित कोई व्यक्ति खाने के ऊपर छींके या खांसे नहीं।” इसलिए खाने से जुड़ी ये बात पूरी तरह से अफवाह है और इस पर विश्वास नहीं किया जा सकता है।
आप अतिरिक्त सावधानी रखने के लिए घर का बना भोजन कर सकतें हैं
चीनी खाद्य पदार्थों या चीन से आयातित खाद्य पदार्थों का सेवन आपको कोरोनावायरस दे सकता है

भले ही यह वायरस चीन में उत्पन्न हुआ है, इसका मतलब यह नहीं है कि यह चीनी भोजन के माध्यम से फैल सकता है। खबर यह है कि यह चीन के वुहान में एक मांस बाजार से फैला है। इसी के चलते इन अफवाहों को हवा दी जा रही है। जब तक भोजन कार्बनिक पदार्थों से बनाया जाता है, तब तक इसका सेवन सुरक्षित होता है।
मिथक: फेस मास्क आपको वायरस से बचा सकते हैं

स्टैंडर्ड सर्जिकल मास्क आपको SARS-CoV-2 से सुरक्षा नहीं दे सकते हैं, क्योंकि वे वायरल कणों को ब्लॉक करने के लिए डिज़ाइन नहीं किए गए हैं। जबकि सर्जिकल मास्क संक्रमित लोगों को वायरस को फैलने से रोकने में मदद कर सकते हैं और किसी भी श्वसन बूंदों को अवरुद्ध कर सकते हैं जिन्हें उनके मुंह से निकाला जा सकता है।
स्वास्थ्य देखभाल सुविधाओं के भीतर, “एन 95 रेस्पिरेटर्स” नामक विशेष फेस मास्क को चिकित्सा कर्मचारियों के बीच वायरस के प्रसार को बहुत कम करने के लिए दिखाया गया है । लोगों को यह सुनिश्चित करने के लिए प्रशिक्षण की आवश्यकता होती है कि उनकी नाक, गाल और चिन के चारों ओर N95 फेस मास्क ठीक से फिट हों, ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि मास्क के किनारों के आसपास कोई हवा न जा सके; और पहनने वालों को प्रत्येक उपयोग के बाद किसी भी क्षति के लिए उपकरणों की जांच करना भी सीखना चाहिए।

चमगादड़ का सूप पीने या सांप खाने से फैला है कोरोना वायरस

इंटरनेट पर इन दिनों एक वीडियो काफी वायरल हो रहा है, जिसमें एक लड़की को चमगादड़ का सूप पीते हुए दिखाया जा रहा है। इस वीडियो के साथ ये मैसेज भी फैलाया जा रहा है कि कोरोना वायरस फैलने के पीछे यही चमगादड़ का सूप है। मगर ये बात कोरी अफवाह है क्योंकि वह वीडियो 4 साल पहले का है।
केवल चीनी लोगों के साथ सीधे संपर्क में आना आपको संक्रमित कर सकता है

यह सोचना गलत है! और कोरोना वायरस की यह अफवाह भी गलत है। सबसे पहले, तो यह वायरस किसी को भी संक्रमित कर सकता है न कि केवल चीनी लोगों को। दूसरा, यह संक्रमित व्यक्ति के निकट संपर्क में आने के बाद ही फैल सकता है। इसका मतलब है कि आपको उन सभी व्यक्ति के साथ दूरी बनाए रखने की आवश्यकता है जो हाल ही में चीन से वापस आए हैं।
घर के पालतू जानवर फैला सकते है कोरोना वायरस

विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार अभी तक इस बात का कोई ठोस सुबूत नहीं मिला है कि कोरोना वायरस घर के पालतू जानवरों से फैल सकता है। हालांकि विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने यह भी कहा है कि अच्छा होगा कि आप पालतू जानवरों को छूने के बाद अपने हाथों को साबुन से धोएं। और मृत जंगली जानवरों के संपर्क से बचें।

एंटीबायोटिक दवाओं से कोरोना वायरस को रोका जा सकता है

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने साफ – साफ कहा है कि एंटीबायोटिक दवाएं सिर्फ बैक्टीरिया को रोकने में कारगर होती हैं। वायरस पर इन दवाओं का कोई असर नहीं होता है। इसलिए कोरोना वायरस को रोकने के लिए एंटीबायोटिक दवाओं का उपयोग नहीं किया जा सकता है। हालांकि यदि आपको बैक्टीरिया के कारण कोई परेशानी है तो आपको एंटीबायोटिक दवा दी जा सकती हैं।
कोरोना वायरस का खतरा बच्चों और बूढ़ों को ज्यादा है और युवाओं को कम

WHO के अनुसार कोरोना वायरस का खतरा सभी उम्र के लोगों को है। हालांकि बच्चे और बूढ़े लोगों को इस वायरस से प्रभावित होने की संभावना अधिक है। विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के अनुसार हर उम्र के व्यक्ति को इस वायरस से सावधान रहने की जरूरत है। इसके बचने के लिए लिए मुंह को ढककर रखना, हाथ को साबुन से 20 सेकंड तक धोना और उचित साफ-सफाई रखना आदि जरूरी है।
मिथक: वायरस शायद एक लैब में बनाया गया था

कोई सबूत नहीं बताता है कि वायरस मानव निर्मित है। SARS-CoV-2 हाल के दशकों में दो अन्य कोरोना वायरस के समान रूप से फैलने वाले प्रकोपों ​​से मिलता जुलता है, SARS-CoV और MERS-CoV, और सभी तीन वायरस चमगादड़ में उत्पन्न हुए लगते हैं। संक्षेप में, SARS-CoV-2 की विशेषताएं उस चीज के अनुरूप होती हैं जो हम स्वाभाविक रूप से होने वाले कोरोना वायरस के बारे में जानते हैं जिसने जानवरों से लोगों में अपनी मौजूदगी दर्ज करायी थी।
मिथक: COVID-19 होना मतलब मौत की सजा है
यह सच नहीं है। चीनी सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन द्वारा 18 फरवरी को प्रकाशित एक अध्ययन के अनुसार , लगभग 81% लोग जो कोरोना वायरस से संक्रमित हैं, उनके पास COVID -19 के हल्के मामले हैं । लगभग 13.8% गंभीर बीमारी की रिपोर्ट करते हैं, जिसका अर्थ है कि उनके पास सांस लेने की तकलीफ है, या पूरक ऑक्सीजन की आवश्यकता है, और लगभग 4.7% महत्वपूर्ण हैं, जिसका अर्थ है कि वे श्वसन विफलता, बहु-अंग विफलता या सेप्टिक सदमे का सामना करते हैं। इस प्रकार के आंकड़ों से पता चलता है कि COVID-19 से संक्रमित लगभग 2.3% लोग वायरस से मर जाते हैं। जो लोग अधिक उम्र के हैं या अंतर्निहित स्वास्थ्य की स्थिति है, उनमें गंभीर बीमारी या जटिलताओं का खतरा सबसे अधिक है। जबकि घबराने की कोई जरूरत नहीं है, लोगों को नए कोरोना वायरस से खुद को और दूसरों को बचाने के लिए तैयार करने के लिए कदम उठाने चाहिए।

मिथक: यदि आपको कोरोना वायरस है, तो “आपको पता चल जाएगा”

नहीं, हो सकता है आप कोरोना वायरस के लक्षण महसूस नहीं करें। COVID-19 लक्षणों की एक विस्तृत श्रृंखला का कारण बनता है, जिनमें से कई फ्लू और आम सर्दी जैसे अन्य श्वसन रोगों में दिखाई देते हैं। विशेष रूप से, COVID-19 के सामान्य लक्षणों में बुखार, खांसी और सांस लेने में कठिनाई शामिल है, और दुर्लभ लक्षणों में चक्कर आना, मतली, उल्टी और नाक बहना शामिल है। गंभीर मामलों में, बीमारी एक गंभीर निमोनिया जैसी बीमारी में प्रगति कर सकती है – लेकिन संक्रमित लोगों में जल्दी कोई लक्षण नहीं दिखाई दे सकते हैं।
विटामिन सी की खुराक आपको COVID-19 से बचा देगी

शोधकर्ताओं ने अभी तक कोई सबूत नहीं पाया है कि विटामिन सी की खुराक लोगों को COVID-19 के संक्रमण से प्रतिरक्षा कर सकती है। वास्तव में, ज्यादातर लोगों के लिए, अतिरिक्त विटामिन सी लेने से आम सर्दी से दूर नहीं होती है , हालांकि यदि आप फ्लू को पकड़ते हैं तो यह सर्दी की अवधि को कम कर सकता है।

विटामिन सी मानव शरीर में आवश्यक भूमिका निभाता है और सामान्य प्रतिरक्षा का समर्थन करता है। एक एंटीऑक्सिडेंट के रूप में, विटामिन फ्री रेडिकल को बेअसर करता है जो शरीर में ऊतकों को नुकसान पहुंचा सकते हैं। यह शरीर को हार्मोन को संश्लेषित करने, कोलेजन का निर्माण करने और रोगजनकों के खिलाफ कमजोर संयोजी ऊतक को सील करने में भी मदद करता है।

तो, यदि आप एक स्वस्थ प्रतिरक्षा प्रणाली को बनाए रखना चाहते हैं, तो विटामिन सी को अपने दैनिक आहार में बिल्कुल शामिल करना चाहिए। लेकिन इसके सप्लीमेंट्स से COVID-19 को पकड़ने के आपके जोखिम को कम करने की संभावना नहीं है। कोई सबूत नहीं बताता है कि अन्य तथाकथित प्रतिरक्षा-बढ़ाने वाले पूरक – जैसे कि जस्ता, ग्रीन टी या इचिनेशिया – COVID-19 को रोकने में मदद करते हैं।
मिथक: चीन के सामान का इस्तेमाल करना सुरक्षित नहीं है

विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार , चीन से पत्र या पैकेज प्राप्त करना सुरक्षित है। पिछले शोध में पाया गया है कि कोरोना वायरस अक्षर और पैकेज जैसी वस्तुओं पर लंबे समय तक जीवित नहीं रहते हैं। MERS-CoV और SARS-CoV जैसे समान कोरोना वायरस के बारे में हम जो जानते हैं, उसके आधार पर, विशेषज्ञों का मानना ​​है कि यह नया कोरोना वायरस संभवतः सतहों पर मुश्किल से जीवित रहता है।

एक पिछले अध्ययन में पाया गया कि ये संबंधित कोरोना वायरस द जर्नल ऑफ हॉस्पिटल इन्फेक्शन में प्रकाशित फरवरी 6 के एक अध्ययन के अनुसार, धातु, कांच या प्लास्टिक जैसे सतहों पर नौ दिनों तक रह सकते हैं। लेकिन पैकेजिंग में मौजूद सतहें वायरस के जीवित रहने के लिए आदर्श नहीं हैं।

एक वायरस के व्यवहार्य बने रहने के लिए, उसे विशिष्ट पर्यावरणीय स्थितियों जैसे तापमान, यूवी एक्सपोज़र और आर्द्रता की कमी के संयोजन की आवश्यकता होती है – एक संयोजन जो आपको शिपिंग पैकेजों में नहीं मिलेगा।

इसलिए उत्पादों या पैकेजिंग से कोरोना वायरस के फैलने की संभावना बहुत कम है, जो परिवेश के तापमान पर दिनों या हफ्तों में भेज दी जाती है।” “वर्तमान में, आयातित वस्तुओं से जुड़े COVID-19 के प्रसारण का समर्थन करने के लिए कोई सबूत नहीं है, और संयुक्त राज्य अमेरिका में COVID-19 के कोई भी मामले आयातित माल के साथ जुड़े नहीं हैं।” बल्कि, कोरोनोवायरस को श्वसन की बूंदों के माध्यम से सबसे अधिक फैलने वाला माना जाता है।

कोई टिप्पणी नहीं

Healths Is Wealth. Blogger द्वारा संचालित.