Header Ads

कोरोना वायरस को लेकर इन


कोरोना वायरस को लेकर इन 14 धारणाएं के बारे में WHO ने बताई सच्चाई

कोरोना वायरस ने दुनिया भर में 134,806 लोगों को संक्रमित किया है। इस भयानक बीमारी के कारण 4984 लोग मारे गए हैं। लेकिन अभी भी दुनिया भर में कोरोना वायरस से बचने और जीवित रहने के बारे में कई अफवाहें उड़ रही हैं। लोगों के दिमाग में कई मिथक (धारणाएं) हैं। जैसे – गर्म पानी से स्नान करने से कोरोना से बचा जा सकता है, कोरोना वायरस ठंड से समाप्त नहीं होता आदि। विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने इन मिथकों को तोड़ने के लिए निर्देश जारी किया है। आइए जानते हैं कि पूरी दुनिया को इनकी सच्चाई बताने के लिए जारी किए गए ये निर्देश क्या हैं। चलिए जानतें हैं कोरोना वायरस से जुड़ी अफवाह और उनकी सच्चाई…

धारणा 1- कोरोना गर्म-आर्द्र वातावरण में फैलता है
मिथक 2- कोरोना वायरस बर्फ और ठंडी जगह में नहीं मरता है
धारणा 3- गर्म पानी में स्नान करने से कोरोना नहीं फैलता है
धारणा 4- मच्छरों द्वारा कोरोना वायरस नहीं फैलता है
धारणा 5 – कोरोना वायरस हैंड ड्रायर्स से मर जाते हैं
धारणा 6- पराबैंगनी लैंप से कोरोना मर जाएगा
धारणा 7 – कोरोना पकड़ने में थर्मल कितना प्रभावी है
धारणा 8- बॉडी पर अल्कोहल या क्लोरीन के छिड़काव से कोरोना मर जाएगा
धारणा 9- निमोनिया का टीका कोरोना से बचाव करेगा
धारणा 10- यदि आप अपनी नाक को सैलाइन से साफ करते हैं, तो आप कोरोना से बचेंगे
धारणा 11- लहसुन खाने से कोरोना संक्रमण नहीं होगा
धारणा 12- बुजुर्ग अधिक जोखिम में हैं या युवा
धारणा 13- कोरोना वायरस को एंटीबॉयोटिक्स के साथ ठीक किया जा सकता है
धारणा 14- कोरोना के लिए दवाएं मौजूद हैं
धारणा 1- कोरोना गर्म-आर्द्र वातावरण में फैलता है


सच्चाई: यह कल्पना है। कोरोना वायरस किसी भी वातावरण में फैल सकता है। जरूरी नहीं कि यह गर्म और नम वातावरण हो। डब्ल्यूएचओ ने कहा है कि आपको माहौल पर ध्यान नहीं देना चाहिए। आपको पूरी तरह से सुरक्षित रहना चाहिए और स्वच्छता बनाए रखनी चाहिए। हाथ साफ करना सबसे अच्छा तरीका है। यह वायरस आपको किसी भी वातावरण में संक्रमित कर सकता है। COVID-19 के खिलाफ खुद को बचाने का सबसे अच्छा तरीका है अक्सर अपने हाथों की सफाई करना। ऐसा करने से आप अपने हाथों पर लगने वाले वायरस को खत्म कर सकते हैं और संक्रमण से बच सकते हैं।
मिथक 2- कोरोना वायरस बर्फ और ठंडी जगह में नहीं मरता है


सच्चाई: यह भी सिर्फ एक कल्पना है। ऐसा कोई कारण नहीं है कि हम माने कि कोरोना वायरस ठंड और बर्फ में नहीं मरते हैं। या कोई और बीमारी। वायरस को किसी भी तापमान पर मारा जा सकता है अगर उसे अपना अनुकूल वातावरण नहीं मिलता है। आम तौर पर मानव शरीर का तापमान 36.5 से 37 डिग्री सेल्सियस तक भिन्न होता है। यह तापमान बाहरी वातावरण से बहुत अधिक नहीं होता है। नए कोरोना वायरस के खिलाफ खुद को बचाने के लिए सबसे प्रभावी तरीका अल्कोहल आधारित हैंड रब या साबुन और पानी के साथ अपने हाथों को अक्सर साफ करना है।

धारणा 3- गर्म पानी में स्नान करने से कोरोना नहीं फैलता है

सच्चाई: यह पूरी तरह से असत्य है। गर्म स्नान करने से आप COVID-19 को पकड़ने से नहीं रोक पाएंगे। जब आप स्नान करते हैं, तो आपके शरीर का तापमान 36.5 से 37 डिग्री सेल्सियस होता है। दरअसल, बेहद गर्म पानी से नहाना हानिकारक हो सकता है, अगर आप ज्यादा गर्म पानी से नहाते हैं तो आपको जलने का खतरा है। इसलिए, यह भूल जाएं कि गर्म पानी में स्नान करने से कोरोना नहीं फैलता है।
धारणा 4- मच्छरों द्वारा कोरोना वायरस नहीं फैलता है

सच्चाई: डब्ल्यूएचओ को अभी तक ऐसे कोई सबूत या जानकारी नहीं मिली है कि कोरोनो वायरस मच्छरों द्वारा फैलता है। कोरोना वायरस एक श्वसन वायरस है। जो हवा में तैरते पानी की बूंदों से फैलते हैं। चाहे जब एक संक्रमित व्यक्ति की छींक हो या खांसी। जब कोई संक्रमित व्यक्ति छींकता है या खांसी करता है, तो उसके मुंह या नाक से निकलने वाली बूंदों से कोरोना वायरस फैल जाता है। इसलिए अपने हाथों को साफ रखें। इसके अलावा, खांसी और छींकने वाले किसी भी व्यक्ति के साथ निकट संपर्क से बचें।
धारणा 5 – कोरोना वायरस हैंड ड्रायर्स से मर जाते हैं



सच्चाई: नहीं। डब्ल्यूएचओ ने स्पष्ट रूप से कहा है कि कोरोना वायरस हैंड ड्रायर्स से नहीं मरता है। हैंड ड्रायर्स इस काम के लिए नहीं हैं। हैंड ड्रायर्स केवल आपको गीले हाथों को सूखने देते हैं। हाथ पर मौजूद बैक्टीरिया या वायरस को अल्कोहल-आधारित सैनिटाइज़र से धोया जाए तभी वह जायेगें। या हाथों को साबुन से अच्छी तरह साफ करें।
धारणा 6- पराबैंगनी लैंप से कोरोना मर जाएगा

सच्चाई: बिलकुल नहीं। शरीर के सामने पराबैंगनी लैंप का उपयोग नहीं किया जाना चाहिए। पराबैंगनी विकिरण के कारण अल्ट्रवॉयलेट रेडिएशन आपकी त्वचा पर जलन पैदा कर सकता है। इसलिए, अल्ट्रावॉयलेट लैंप का उपयोग बिल्कुल भी न करें। यह आपके लिए एक नई समस्या पैदा करेगा।
धारणा 7 – कोरोना पकड़ने में थर्मल कितना प्रभावी है


सच्चाई: डब्ल्यूएचओ ने कहा है कि थर्मल गन या थर्मल स्कैनर कोरोना पकड़ने में बेहद प्रभावी हैं। यह मानव शरीर के बढ़े हुए तापमान को बिना छुए समझाता है। यदि थर्मल स्कैनर बताता है कि आपके शरीर का तापमान अधिक (यानी शरीर के सामान्य तापमान से अधिक है) है, तो इसका मतलब है कि आपके कोरोना से संक्रमित होने की संभावना हो सकती है। यह इंगित नहीं करता है कि आपको कोरोना वायरस संक्रमण है या नहीं। कोरोना वायरस की जांच के बाद ही आप यह जान पाएंगे कि आप इससे संक्रमित हैं या नहीं।


हालांकि, वे उन लोगों का पता नहीं लगा सकते जो इस वायरस से संक्रमित हैं लेकिन अभी तक बुखार से बीमार नहीं हैं। ऐसा इसलिए है क्योंकि कोरोना वायरस से संक्रमित लोगों के बीमार होने और बुखार के विकसित होने से पहले 2 से 10 दिन लगते हैं।
धारणा 8- बॉडी पर अल्कोहल या क्लोरीन के छिड़काव से कोरोना मर जाएगा

सच्चाई: बिलकुल नहीं। अल्कोहल या क्लोरीन का छिड़काव शरीर पर कोरोना वायरस को खत्म नहीं करेगा जो आपकी बॉडी में आलरेडी चला गया है। क्योंकि ये दोनों चीजें शरीर को बाहर से साफ करती हैं। इसका इलाज अल्कोहल या क्लोरीन से नहीं किया जाता है। यह सुरक्षा का एक तरीका है, लेकिन शरीर की बाहरी त्वचा के लिए।

ऐसे पदार्थों का छिड़काव कपड़े या श्लेष्मा झिल्ली (यानी आंख, मुंह) के लिए हानिकारक हो सकता है। ज्ञात रहे कि अल्कोहल और क्लोरीन दोनों ही कीटाणुरहित सतहों के लिए उपयोगी हो सकते हैं, लेकिन उन्हें उपयुक्त सिफारिशों के तहत उपयोग करने की आवश्यकता होती है।
धारणा 9- निमोनिया का टीका कोरोना से बचाव करेगा



सच्चाई: नहीं। निमोनिया के टीके जैसे न्यूमोकोकल वैक्सीन (pneumococcal vaccine) और हीमोफिलस इन्फ्लुएंजा (Haemophilus influenza) टाइप बी (एचआईबी) वैक्सीन कोरोना वायरस का इलाज नहीं कर सकते हैं। इससे कोरोना से बचाव नहीं होगा। कोरोना वायरस पूरी तरह से अलग है। यह नया है और इसकी दवा अभी तक खोजी नहीं गई है। वैज्ञानिक इसका टीका विकसित कर रहे हैं।

हालांकि ये टीके 2019-nCoV के खिलाफ प्रभावी नहीं हैं, लेकिन श्वसन संबंधी बीमारियों के खिलाफ टीकाकरण आपके स्वास्थ्य की रक्षा के लिए अत्यधिक अनुशंसित है।
धारणा 10- यदि आप अपनी नाक को सैलाइन से साफ करते हैं, तो आप कोरोना से बचेंगे


सच्चाई: नहीं। डब्ल्यूएचओ ने कहा है कि इस बात का कोई सबूत अभी तक नहीं मिला है कि सैलाइन के साथ नाक को साफ करने से आपको कोरोना वायरस संक्रमण से छुटकारा पाने में मदद मिलेगी। यह एक आदमी से दूसरे आदमी में फैलता है। वह भी छींकने या खांसने के कारण मुंह और नाक से निकलने वाली बलगम या बलगम की बूंदों के साथ।

कुछ सीमित सबूत हैं कि नियमित रूप से नाक को सैलाइन से साफ करने से लोगों को सामान्य सर्दी से अधिक जल्दी ठीक होने में मदद मिल सकती है। हालांकि, नियमित रूप से नाक को साफ करने से इसे श्वसन संक्रमण को रोकने के लिए नहीं दिखाया गया है।

धारणा 11- लहसुन खाने से कोरोना संक्रमण नहीं होगा

सच्चाई: डब्ल्यूएचओ ने कहा है कि लहसुन एक बहुत ही सेहतमंद भोजन है। इसमें कई एंटी-माइक्रोबियल (antimicrobial) तत्व होते हैं लेकिन अभी तक कोई सबूत नहीं मिला है जिससे पता चलता है कि लोग लहसुन खाकर कोरोना वायरस से बच सकते हैं।
धारणा 12- बुजुर्ग अधिक जोखिम में हैं या युवा


तथ्य: सभी उम्र के लोग कोरोना वायरस से संक्रमित हो सकते हैं। बुजुर्गों के साथ अन्य समस्याएं जैसे अस्थमा, मधुमेह, हृदय रोग कोरोना वायरस के संक्रमण को अधिक शक्तिशाली बनाते हैं। यह उन्हें अधिक जोखिम में डालता है। हालांकि, युवाओं के साथ ऐसा नहीं है।

डब्ल्यूएचओ सभी उम्र के लोगों को सलाह देता है कि वे खुद को वायरस से बचाने के लिए कदम उठाएं, उदाहरण के लिए अच्छे से हाथ को साफ करें और अच्छे श्वसन स्वच्छता का पालन करके।

धारणा 13- कोरोना वायरस को एंटीबॉयोटिक्स के साथ ठीक किया जा सकता है


सच्चाई: बिल्कुल नहीं। डब्लूएचओ ने कहा है कि कोरोना वायरस को ठीक करने के लिए एंटीबॉयोटिक्स काम नहीं करते हैं। ये दवाएं केवल बैक्टीरिया को मारती हैं, वायरस को नहीं। कोरोना के लिए दवाओं का उपयोग नहीं किया जाना चाहिए, क्योंकि COVID-19 नया वायरस है। यदि किसी को अस्पताल में भर्ती किया जाता है, तो ये दवाएं दी जा सकती हैं ताकि कोई जीवाणु संक्रमण न हो।
धारणा 14- कोरोना के लिए दवाएं मौजूद हैं


सच्चाई: डब्ल्यूएचओ के अनुसार, अभी तक कोरोना वायरस दवाएं नहीं हैं। वैज्ञानिक अभी भी वायरस को मारने या इससे बचाने के लिए टीके तैयार कर रहे हैं। हालाँकि, उपचार के कुछ तरीके भी अभी अंडर इन्वेस्टीगेशन में हैं।

World Health Organization (WHO)
✔@WHO


FACT: Taking a hot bath does not prevent the new #coronavirus disease
Taking a hot bath with extremely hot water can be harmful as it can burn you.

http://bit.ly/COVID19Mythbusters … #COVID19 #KnowtheFacts

2,168
7:21 pm - 6 मार्च 2020
Twitter Ads की जानकारी और गोपनीयता
1,441 लोग इस बारे में बात कर रहे हैं






हालांकि, वायरस से संक्रमित लोगों को लक्षणों से राहत और उपचार के लिए उचित देखभाल प्राप्त करनी चाहिए, और गंभीर बीमारी वाले लोगों को अनुकूलित सहायक देखभाल प्राप्त करनी चाहिए। कुछ विशिष्ट उपचारों की जांच चल रही है, और क्लीनिकल ट्रायल्स के माध्यम से उनका परीक्षण किया जाएगा। डब्ल्यूएचओ पार्टनर्स के साथ रिसर्च एंड डेवलपमेंट के प्रयासों में तेजी लाने में मदद कर रहा है।

कोई टिप्पणी नहीं

Healths Is Wealth. Blogger द्वारा संचालित.