Header Ads

जाने क्या है स्वप्नदोष की बीमारी


जाने क्या है स्वप्नदोष की बीमारी। पढ़े स्वपनदोष के मुख्य कारण और घरेलू उपचार
Image result for नाईट फॉल

रिलेटेड जानी जानेवाली तमाम बीमारियों में से एक है नाईट फॉल यानी स्वप्नदोष की बीमारी। सोते समय वीर्य के निकल जाने को नाईट फॉल कहते है। युवावस्था में नाईट फॉल होना एक आम बात है सोने के बाद स्वतः ही वीर्यपात हो जाने को नाईट फॉल के नाम से जाना जाता है। नाईट फॉल खुद में कोई रोग न होकर एक प्राकृतिक क्रिया है। किशोरावस्था से युवावस्था की और बढ़ते हुए नवयुवक अनेक कारणों से नाईट फॉल की समस्या के शिकार हो जाते है। नाईट फॉल से परेशान युवको की यौन रूचि, अश्लील विचार, अश्लील किताबो के पढ़ने से या ऐसी कोई फिल्म देखने से उत्तेजीत हो जाती है, और ऐसे में दिन या रात में सोते समय नाईट फॉल हो जाता है। यौन रोग विशेषज्ञों के मुताबिक़ नाईट फॉल अनेक कारणों से होता है जैसे हस्तमैतुन, मानसिक मैथुन, प्राकृतिक विरुद्ध मैथुन, उष्ण आहार, अश्लील वातावरण और मादक चीज़ो का अधिक सेवन से नाईट फॉल हो जाता है। इसके अतरिक्त कुछ किशोर काम उम्र में अपनी से बड़ी उम्र की औरत की काम वासना करते है और जब उनकी काम वासना नही पूरी होती तो नाईट फॉल का शिकार हो जाते है। अगर महीने में 1 या 2 बार हो जाये तो घबराना नहीं चाहिए। वैसे तो नाईट फॉल की बीमारी विवाह के पश्चात् लगभग समाप्त हो जाती है, लेकिन फिर भी समस्या रहे तो इलाज अवश्य ही करना चाहिए।
Image result for नाईट फॉल
अगर महीने में 2 से अधिक बार नाईट फॉल हो जाये तो इसके क्या कारण हो सकते है आइये जानते है।
स्वपनदोष के क्या कारण होते है
अश्लील कल्पनाएं :नाईट फॉल के प्रमुख कारण अश्लील चिंतन अश्लील फिल्म देखना व नारी स्मरण हैं। मन में भोग-विलास के वासनात्मक ख्याल या मन में काम-वासना के स्‍वप्‍नदोष का कारण बनते हें। हालांकि कई बार बिना सेक्स के बारे में सोचे भी नाईट फॉल हो सकता है।
साथी से दूरी :कभी-कभी प्रेमिका या पत्नी से किसी कारण कफी समय तक दूरी हो जाने पर भी नाईट फॉल प्रारम्भ हो सकता है। प्रेमी-प्रेमिका का आपस में प्रवल आकृषण होने पर भी स्वप्न दोष हो जाता है। देर से शादी होना भी इसका एक कारण हो सकता है।
खराब खान-पान और पेट में कब्ज : पेट मे कब्ज रहना व नाड़ी तन्त्र की दुर्बलता भी इस समस्या के होने का कारण बन सकती है। साथ ही ज्यादा मिर्च मसालों का प्रयोग, सुस्वादु व गरिष्ठ भोजन तथा विलासता पूर्ण रहन सहन भी इस समस्या के लिए उत्तरदायी हैं। सोने से पहले जररूत से ज्यादा भोजन भी इसका कारण हो सकता है। 
मिल्क प्रोडक्ट्स का अधिक सेवन :अधिक मात्रा में घी-दूध मेवे-मिठाई, या कई बार रात को अदिक गर्म दूध पी कर सोने के कारण पुरुषों में नाईट फॉल हो सकता है। खाना खाने के तुरंत बाद सो जाने से भी यह हो सकता है।
मानसिक दबाव के कारण : कभी-कभी अचानक भय लगने के कारण भी शरीर बहुत शिथिल हो जाता है, जिस कारण शरीर के अंग प्रत्यंगो की कार्यप्रणाली पर दिमाग का कंट्रोल कम हो जाता है, फलस्वरुप ऐसे में भी नाईट फॉल हो सकता है।
नाईट फॉल या स्वपनदोष से बचने के लिए कौन सी सावधानी बरतनी चाहिए 
नाईट फॉल की चिकित्सा के लिए दावा से अधिक सयम और विचारों को शुद्ध करना जरूरी है। खुद को अधिकाधिक वस्त रखना चाहिए। अकेले में रहने से नाईट फॉल से परेशान व्यक्ति को अश्लील विचार आते है। नाईट फॉल होने की आदत से पेट में कब्ज होने की संभावनाएं ज्यादा रहती है। इसलिए स्वपनदोष को रोकने के लिए इन कुछ बातों का ध्यान रखें।
यह एक मानसिक बीमारी है, अतः मन को पवित्र रखें।
ठंडे पानी से नहायें
रात्रि को गर्म दुध न पियें।
रात्रि को सोने से पूर्व अपने पांव घुटनों तक ठंडे पानी से धोकर सोएं।
उत्तेजना पैदा करने वाले साहित्य को न पढ़े।
सप्ताह में एक बार हस्त मैथुन कर सकते है।
सोने से तीन घंटे पहले खाना-पीना आदि कर ले।
हमेशा सीधे ही सोने की कोशिश करे।
सोते समय कोई अच्छी पुस्तक पढ़ सकते है, जिससे सोते समय केवल अच्छे विचार ही मष्तिष्क में रहें।
नियमित त्रिबंध प्राणायाम, योगासन, ब्रह्ममुहूर्त में उठने से लाभ मिलता है।
कब्ज होने पर तुरंत इलाज करवाएं।
गुप्तांग के आसपास के बालों को बढ़ने न दिया जाये।
डिनरके बाद पेशाब जरुर करें।
गुप्तांग की चमड़ी को पीछे हटाकर रोजाना साफ़ करना चाहिए।
रात्रि के सोने से पूर्व अंडरवियर खोलकर सोयें और बहुत हल्का या ढीला वस्त्र पहनकर, हाथ पैर धोकर और सीधे कमर के बल सोयें। इससे नाईट फॉल नहीं होगा।
नाईट फॉल या स्वपनदोष से बचने के लिए घरेलू नुस्खे
यदि आपको नाईट फॉल की समस्या है तो इन घरेलू नुस्खों को अपनाएं और नाईट फॉल की परेशानी से छुटकारा पाएं।
सोते समय ४ ग्राम मिश्री में कपूर मिलकर कुछ दिन तक खाने से नाईट फॉल में लाभ होता है।
बनारसी आंवला का मुरब्बा एक ग्राम रोज खाएं इससे गम्भीर से गम्भीर नाईटफॉल की समस्या ठीक हो जाएगी।
इमली के बीज को भूनकर बराबर मात्र में शक्कर मिलाकर रख ले और इस मिश्रण को गाय के दूध के साथ रोजाना पियें इससे नाईट फॉल को रोकने में लाभ होता है।
भोजन के बाद पके हुए २ केले में २-४ बुँदे शहद मिलाकर खाने से नाईट फॉल में लाभ होता है। इससे वीर्य के वृद्धि होती है।
३ ग्राम सूखा धनिया, आधा ग्राम छोटी इलायची के बीज और २ गरम मिश्री पीसकर सुबह शाम पानी के साथ खाना नाईट फॉल को रोकने में मदद करता है।
ताजी नीम कर पत्तो को रोजाना चबाकर खाने से नाईट फॉल की समस्या जड़ से गायब हो जाती है।
लहसुन की ३-४ कलियों को ५ ग्राम शहद के साथ सेवन करके एक ग्लास भैंस का गरम दूध पिए, नाईट फॉल नहीं होगा।
एक चमम्च त्रिफला चूर्ण शहद में मिलकर सोते समय चाटने से नाईट फॉल और धातु का बहना दूर हो जाता है। इस चूर्ण को गरम पानी के साथ भी सेवन किया जा सकता है।


नाईटफॉल के लक्षण, कारण, इलाज, दवा, उपचार और परहेज
के बारे में डॉक्टर कहते हैं: लक्षण उपचार:

नाइटफॉल क्या है?



जब कोई लड़का किशोरावस्था तक पहुंचता है तो शरीर में कई बदलाव होते हैं। मुख्य परिवर्तन में से एक लिंग अंगों और शरीर में हार्मोन में वृद्धि का विकास है। शरीर में हार्मोन में बदलाव के परिणामस्वरूप एक जवान लड़का हस्तमैथुन करना शुरू कर देता है और सेक्स का सपना देखता है। सपने और हस्तमैथुन के कारण वह अनैच्छिक स्खलन से पीड़ित हो सकता है। इस स्थिति को नाइटफॉल कहा जाता है।


हालांकि, युवा लड़कों में नाइटफॉल एक आम समस्या है, किसी भी उम्र के पुरुष इस स्थिति से पीड़ित हो सकते हैं। यह पुरुषों द्वारा पीड़ित एक आम स्थिति है और इसलिए चिंता करने की कोई आवश्यकता नहीं है। परिवार और दोस्तों के साथ चर्चा करना शर्मनाक है। इसलिए रात्रिभोज के बारे में सही जानकारी प्राप्त करने का सबसे अच्छा तरीका डॉक्टर से मिलना है।

आधुनिक जीवन में पोर्नोग्राफ़ी और इंटरनेट जैसी कई विकृतियां हैं। ये विकृतियां सेक्स के लिए गलत कोण प्रदान करती हैं। युवा लोग जो अश्लीलता देखते हैं, रात के कारण नियमित रूप से बहुत सारी समस्याओं का सामना करते हैं। रात के लिए एक और कारण सेक्स के बारे में गलत धारणा है। सेक्स के बारे में बोलना एक वर्जित है और इसलिए केवल फुसफुसाते हुए ही बात की जाती है। किशोरावस्था और युवाओं को सेक्स के बारे में सही जानकारी मिलनी चाहिए और उन्हें सही उत्तरों की तलाश करने में सक्षम करने के लिए उनकी समस्याएं होनी चाहिए।
डॉक्टर कहते हैं:

डॉक्टर कई निवारक उपायों का प्रस्ताव देंगे जो नाइटफॉल की घटनाओं को कम करने में मदद कर सकते हैं। कुछ निवारक उपायों मसालेदार भोजन, उचित आहार और जॉगिंग जैसे व्यायाम, बिस्तर पर जाने से पहले पेशाब करना, अश्लील से बचना, कब्ज से परहेज करना, अच्छी किताबें पढ़ना और बिस्तर पर जाने से पहले सुखदायक संगीत सुनना है। टेस्टोस्टेरोन दवाएं लेने वाले लोग रात के खाने से बचने के लिए दवा लेना बंद कर सकते हैं या इसके खुराक को कम करना चाहिए।

नाईटफॉल के लक्षण:

लोगों को रात के आस-पास की मिथकों को दूर करना चाहिए और समझना चाहिए कि यह पुरुषों द्वारा पीड़ित एक सामान्य स्थिति है।
नाइटफॉल के आस-पास की मिथक में विश्वास शामिल है कि:
नाइटफॉल के कारण निर्माण समस्याएं हो सकती हैं
यह दुर्लभ है
विकृति और नियमित हस्तमैथुन रात का कारण बनता है
यह एक व्यक्ति को यौन रूप से कमजोर कर सकता है।

उपचार:
आयुर्वेद में दी गई दवाएं एक व्यक्ति को बहुत अधिक ताकत हासिल करने में सक्षम बनाती हैं और नाइटफॉल में कमी के कारण आत्मविश्वास भी प्राप्त करती हैं।

कोई टिप्पणी नहीं

Healths Is Wealth. Blogger द्वारा संचालित.