Header Ads

हमें सोना क्यों जरूरी है


हमें सोना क्यों जरूरी है और आपको कितने घंटों की नींद चाहिए – 


Neend kitni leni chahiye in Hindi नींद की क्वालिटी सीधे आपके मानसिक और शारीरिक सेहत और आपकी प्रोडक्टिविटी, इमोशनल बैलेंस, दिमाग और दिल की सेहत, प्रतिरक्षा प्रणाली, क्रिएटिविटी, जीवन शक्ति और यहां तक कि आपके वजन से लेकर आपकी रोजाना ज़िन्दगी को भी प्रभावित करती है। बॉडी भी एक मशीन की तरह है जिसमे टूट फूट होती रहती है और इसकी रिपेयर तब होती है जब आप नींद में होतें हैं।

विषय सूची

नींद क्या है ? What is sleep in Hindi
आयु के अनुसार हमें इतनी नींद लेना आवश्यक है – Sleep requirements as per age in Hindi
पर्याप्त नींद न लेने के लक्षण – Symptoms of less sleep in Hindi
यह संकेत बताते हैं की आप बहुत ज्यादा सो रहे हैं – Symptoms that you are oversleeping in Hindi
यह संकेत बताते हैं की आप बहुत कम सो रहे हैं – Symptoms that you are under sleeping in Hindi
नींद की कमी के प्रभाव – Neend ki kami ke prabhav in Hindi
नींद की कमी के प्रभावों में शामिल हैं – Effects of inadequate sleep in Hindi
आपको कितने घंटों की नींद की आवश्यकता है – 24 ghante me kitna sona chahiye in Hindi
क्या कुछ घंटों की नींद पर्याप्त है – Are a few hours of sleeping sufficient in Hindi
गहरी नींद और आरईएम नींद का महत्व – Importance of Deep sleep and REM sleep in Hindi
प्रतिरक्षा प्रणाली पर नींद का प्रभाव – Effect of sleep on immunity system in Hindi
नींद की समस्याएं और मानसिक विकार – Problems in sleep and mental illness in Hindi
नींद संबंधी विकार – Diseases related to sleep in Hindi
अच्छी नींद लेने के लिए टिप्स – Tips for a better sleep in Hindi
नींद क्या है ? What is sleep in Hindi

नींद सिर्फ एक ऐसा समय नहीं है जब आपकी बॉडी रिलैक्स होती है बल्कि यह वो समय है जब पूरे दिन के काम काज के बाद आपकी बॉडी के अन्दर के सारे जेविक रखरखाव कार्य हो रहे होते है। अगर हम पर्याप्त नींद लिए बिना रहें, तो हम अपनी अपनी वास्तविक क्षमता के हिसाब से काम या संवाद नहीं कर पाएंगे।
आयु के अनुसार हमें इतनी नींद लेना आवश्यक है – Sleep requirements as per age in Hindi

उम्र के अनुसार औसत नींद की जरूरत इस प्रकार है
नवजात शिशु- 3 महीने – 14 से 17 घंटे
4 से 11 महीने – 12 से 15 घंटे
1 से 2 साल – 11 से 14 घंटे
3 से 5 साल – 10 से 13 घंटे
6 से 13 साल – 9 – 11 घंटे
14 से 17 साल – 8 – 10 घंटे
युवा वयस्क (18 से 25 वर्ष) 7 – 9 घंटे
वयस्क (26 से 64 वर्ष पुराना) 7 – 9 घंटे
वृद्ध वयस्क (65+) 7 – 8 घंटे
उम्र के अनुसार नीचे आवश्यक समय दिया गया है इससे भी नींद पूरी हो सकती है
नवजात शिशु- 3 महीने – 11 – 1 9 घंटे
4 से 11 महीने – 10 – 18 घंटे
1 से 2 साल – 9 – 16 घंटे
3 से 5 साल – 8 – 14 घंटे
6 से 13 साल – 7 – 12 घंटे
14 से 17 साल – 7 – 11 घंटे
युवा वयस्क (18 से 25 वर्ष) 6 – 11 घंटे
वयस्क (26 से 64 वर्ष) 6 – 10 घंटे
वृद्ध वयस्क (65+वर्ष) 5 – 9 घंटे

स्रोत: नेशनल स्लीप फाउंडेशन


पर्याप्त नींद न लेने के लक्षण – Symptoms of less sleep in Hindi

यदि आप नीचे लिखी समस्याओं से जूझ रहे हैं तो आप पर्याप्त नींद नहीं ले पा रहें हैं –
समय पर जागने के लिए अलार्म घड़ी की आवश्यकता।
जागने के बाद उठने में परेशानी होना।
दोपहर में सुस्ती।
मीटिंग्स, लेकचर्स या गर्म कमरे में नींद का आना।
भारी भोजन या ड्राइविंग के बाद नींद आना।
दिन में झपकी की जरूरत महसूस करना।
टीवी देखते समय या शाम को आराम करते समय सोने का मन होना।
सप्ताहांत में सोने की जरूरत महसूस होना।
बिस्तर पर जाने के पांच मिनट के भीतर नींद का आ जाना।


यह संकेत बताते हैं की आप बहुत ज्यादा सो रहे हैं – Symptoms that you are oversleeping in Hindi
सोने के लिए आपको 1 घंटे से ज्यादा समय लगता है।
आप नियमित रूप से अपने अलार्म से पहले जागते हैं, लेकिन फिर भी दिन के दौरान नींद महसूस करते हैं।
दिन के दौरान आपके पास कम ऊर्जा है।
आप निराश महसूस करते हैं, और हो सकता है कि हाइपरसोमिया हो।
आप गतिविधि की कमी से वजन बढ़ने का अनुभव करते हैं।

(और पढ़े – ज्यादा सोने के नुकसान और स्वास्थ्य पर पड़ने वाले प्रभाव…)
यह संकेत बताते हैं की आप बहुत कम सो रहे हैं – Symptoms that you are under sleeping in Hindi
आप रात के दौरान तनाव, एक बुरा सपना, या नींद विकार के कारण बार बार जागते हैं।
आप अपने सामान्य जागने के समय से पहले सोते हैं और उठने के बाद कमजोरी या थका हुआ महसूस करते हैं।
आप मूडी और चिड़चिड़ापन महसूस कर रहे हैं।
आप वजन बढ़ने का अनुभव करते हैं।
आपको दिन में नींद जैसा महसूस होती है।
याददाश्त में कमी और काम में कमजोर प्रदर्शन।

नींद की कमी के प्रभाव – Neend ki kami ke prabhav in Hindi
अगर आपको ऐसा लगता है की नींद की कमी का होना कोई बड़ी बात नहीं हैं तो ये जान ले की नींद की कमी होने पर नकारात्मक प्रभावों की एक विस्तृत श्रृंखला है। नींद की कमी आपके निर्णय, संतुलन, और प्रतिक्रिया के समय को प्रभावित करती है। असल में, नींद की कमी आपको नशे में होने जैसा अहसास दिला सकती है।

नींद की कमी के प्रभावों में शामिल हैं – Effects of inadequate sleep in Hindi
थकान, सुस्ती, और प्रेरणा की कमी।
मनोदशा और चिड़चिड़ापन के साथ अवसाद का खतरा।
पारिवारिक जीवन में रूकावटे और रिश्तों की समस्याएं।
दिमाग की कार्य में अवरोध जैसे- सीखना, एकाग्रता, और स्मृति में कमी की समस्याएं।
कम रचनात्मकता और समस्या सुलझाने के कौशल में कमी।
निर्णय लेने में कठिनाई।
तनाव से निपटने में असमर्थता, भावनाओं को सँभालने में कठिनाई।
कम उम्र में ही अधिक उम्र का दिखना।
कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली और लगातार सर्दी और संक्रमण, वजन बढ़ना।
गाड़ी या अन्य वाहन से दुर्घटनाओं का जोखिम।
स्ट्रोक, मधुमेह, उच्च रक्तचाप, हृदय रोग, अलजाईमर रोग, और कुछ कैंसर सहित गंभीर स्वास्थ्य समस्यायें आदि।

आपको कितने घंटों की नींद की आवश्यकता है – 24 ghante me kitna sona chahiye in Hindi

आपको कितने घंटो की नींद की आवश्यकता है ये आपको जानना जरुरी है ताकि आप सही तरीके से अपना काम कर सकें। राष्ट्रीय स्वास्थ्य संस्थान के अनुसार, एक औसत वयस्क व्यक्ति प्रति रात सात घंटे से भी कम सोता है। आज की भाग दोड़ भरी जिन्दगी में, नींद के छह या सात घंटे भी पर्याप्त माने जाते हैं।

अगर आप नींद के 6-7 घंटे लेने में सक्षम हैं तो आप बेहतर महसूस करेंगे और यदि आप ज्यादा नींद ले लेते हैं तो उस दिन अपनी एक्टिविटी भी बढ़ा दीजिये।
क्या कुछ घंटों की नींद पर्याप्त है – Are a few hours of sleeping sufficient in Hindi

कैलिफोर्निया विश्वविद्यालय, सैन फ्रांसिस्को में शोधकर्ताओं ने पाया कि कुछ लोगों के पास एक जीन है जो उन्हें रात में छह घंटे सोने पर अच्छा प्रदर्शन करने में सक्षम बनाता है। लेकिन, यह जीन बहुत दुर्लभ है, जो आबादी के 3% से कम लोगों में दिखाई देता है। हम में से 97% के पास ये जीन नहीं है।
गहरी नींद और आरईएम नींद का महत्व – Importance of Deep sleep and REM sleep in Hindi

हम कितने घंटे सोते हैं यह ज़रूरी नहीं हैं, जरुरी है की उन घंटों में नींद की कितनी गुणवत्ता है। यदि आप स्वयं को सोने के लिए बहुत समय देते हैं लेकिन तब भी सुबह उठने में परेशानी हो रही है या पूरे दिन सतर्क नहीं रह पा रहें है, तो आप नींद के विभिन्न चरणों या स्टेजो में पर्याप्त समय नहीं दे रहें हैं।

आपके नींद चक्र या साइकिल में नींद के प्रत्येक चरण में कई लाभ मिलते हैं। हालांकि, गहरी नींद (वह समय जब शरीर खुद को मरम्मत करता है और आगे के दिन के लिए ऊर्जा बनाता है) और मूड-बूस्टिंग आरईएम यानि रैपिड आई मूवमेंट वाली नींद विशेष रूप से महत्वपूर्ण होती है। शराब या प्रकाश से, रात के दौरान शराब, निकोटीन और जागने से बचकर, आप अधिक गहरी नींद ले सकते हैं। आपकी पूरी नींद में सुधार करने से आरईएम नींद में वृद्धि होगी, आप सुबह में एक घंटे में अतिरिक्त 30 मिनट सोने की कोशिश कर सकते हैं, जब आरईएम नींद के चरण लंबे होते हैं।

प्रतिरक्षा प्रणाली पर नींद का प्रभाव – Effect of sleep on immunity system in Hindi

न्यूरॉन्स जो नींद को कंट्रोल करते हैं वो इम्युनिटी सिस्टम से इंटरैक्ट करते हैं। नींद शरीर को ऊर्जा और अन्य संसाधनों को बचाने में मदद कर सकती है जो प्रतिरक्षा प्रणाली के लिए ज़रूरी है।

नींद की समस्याएं और मानसिक विकार – Problems in sleep and mental illness in Hindi

मानसिक विकारों वाले लगभग सभी लोगों में स्लीपिंग समस्याएं होती हैं, जिनमें अवसाद और स्किज़ोफ्रेनिया भी शामिल हैं। अवसाद वाले लोग, उदाहरण के लिए, अक्सर सुबह के शुरुआती घंटों में जागते हैं और खुद को सोने के लिए वापस पाने में असमर्थ पाते हैं। एक व्यक्ति की नींद की मात्रा मानसिक विकारों के लक्षणों पर भी प्रभाव डालती है। नींद की कमी कुछ प्रकार के अवसाद वाले लोगों के लिए एक प्रभावी चिकित्सा है, जबकि यह वास्तव में अन्य लोगों में अवसाद का कारण बन सकती है। ज्यादा नींद की कमी से स्वस्थ लोगों में भी परेशानियाँ होती हैं, और खराब नींद मैनिक अवसाद वाले लोगों में उन्माद (अति सक्रियता) को ट्रिगर कर सकती है।

अल्जाइमर रोग, स्ट्रोक, कैंसर और सिर की चोट सहित कई अन्य विकारों में भी नींद की समस्याएं आम हैं। ये नींद की समस्याएं मस्तिष्क के क्षेत्रों और न्यूरोट्रांसमीटर में परिवर्तन होने से बनती हैं जो नींद को नियंत्रित करती हैं, या अन्य बिमारियों में उपयोग की गयी दवाओं से उत्पन्न होती हैं। एक बार सोने की समस्याएं विकसित होने के बाद, कोई भी व्यक्ति भ्रम, निराशा या अवसाद का शिकार हो सकता है।मरीज जो सोने में परेशानी महसूस करते हैं वो दवाईयों का इस्तेमाल करते हैं और इसे कुछ हद तक कम कर सकते हैं।

नींद संबंधी विकार – Diseases related to sleep in Hindi

करीब 20 मिलियन लोगो को सोने की समस्याएं होती हैं। यह रोजाना की जिंदगी को प्रभावित करता हैं। डॉक्टरों ने 70 से अधिक नींद विकारों के बारे में बताया है। सबसे आम नींद विकारों में अनिद्रा, स्लीप एपनिया या नींद अवरोधक, रेस्टलेस लेग सिंड्रोम, और नार्कोलेप्सी शामिल हैं।

अच्छी नींद लेने के लिए टिप्स – Tips for a better sleep in Hindi

रोज एक ही समय पर सोने जाएँ और एक ही समय में जागें।
ध्यान रखें की आपका बेडरूम सोने की लिए सही रूप से बना हो
अपने बेडरूम में अंधेरा रखें।
सभी इलेक्ट्रॉनिक्स आइटम को बंद करें। कोई टीवी नहीं कोई सेलफोन नहीं।
कमरे को ठंडा रखें।
सोने के समय से 5 घंटे पहले कैफीन और अल्कोहल से बचें।
सोने से पहले स्नान करें। शांत संगीत सुने या ध्यान लगायें।
बिस्तर में पढ़ने से बचें और न ही टीवी देखें। अपने बिस्तर पर कुछ भी न करें जो जागने से जुड़ा हुआ है।
अगर हम अपनी नींद को सही रखेंगे तो उसका हमारे पूरे शरीर और दिमाग की सेहत पर प्रभाव पड़ेगा जो की हमारे जीवन पर भी दिखेगा।

कोई टिप्पणी नहीं

Healths Is Wealth. Blogger द्वारा संचालित.