Header Ads

: इन 5 आसनों से छूमंतर हो जाएंगी ये 5 बीमारियां

: इन 5 आसनों से छूमंतर हो जाएंगी ये 5 बीमारियां

योग से शरीर निरोग होता है। बीमारियां छूमंतर हो जाती हैं। ऐसी बातें बहुत सुनी होंगी। पर यह कम लोगों को ही पता होता है कि किस बीमारी में योग का कौन सा आसन लाभकारी होता है। विश्व योग दिवस के मौके पर हम आपको पांच रोगों से मुक्त करने वाले पांच आसनों के बारे में बता रहे हैं। ये पांच वे बीमारियां हैं, जिनकी चपेट में हर आमोखास सबसे ज्यादा है।

1- मधुमेह
हमारे देश में मधुमेह बीमारी की तरह नहीं बल्कि एक महामारी की तरह बढ़ रहा है। शरीर में इंसुलिन की कमी होने लगे या इस हार्मोन के बनने में अनियमितता हो तो व्यक्ति को डायबिटीज होती है। योग के आसनों से पैनिक्रियाज के बीटा सेल्स तक रक्त प्रवाह बढ़ जाता है, कोशिकाओं को ज्यादा आॠक्सीजन मिलती है, और मृतपाय: बीटासेल्स में नई ऊर्जा आती है। योग से इंसुलिन की संवेदनशीलता भी बढ़ जाती है।
अर्ध मत्स्येन्द्रासन

-सामने की ओर दोनों पैरों को फैलाकर बैठ जाएं।

-अब दाहिने पैर को मोड़ते हुए बाएं घुटने के बगल में बाहर की ओर रखें।

-इसके बाद बाएं पैर को दाहिने ओर मोडि़ए। एड़ी दाहिने नितम्ब के पास ले जाएं।

-बाएं हाथ को दाहिने पैर के बाहर की ओर रखते हुए दाहिने पैर के टखने या अंगूठे को पकड़ें।

-दाहिना हाथ पीछे की ओर कमर में लपेटते हुए शरीर को दाहिनी ओर मोड़ें।

-अंतिम अवस्था में पीठ को अधिक से अधिक मोड़ने की कोशिश करें।

-एक मिनट इस अवस्था में रुकने के बाद धीरे-धीरे सामान्य अवस्था में आ जाएं।

-अब इसी क्रिया को विपरीत दिशा में करें।

-प्राणायाम भी कर सकते हैं। इसमें सिर्फ सांस धीरे-धीरे लेना और छोड़ना होगा।

श्वास
शरीर को मोड़ते समय सांस छोड़ें और सामने लौटते समय सांस अंदर की ओर खींचे। पूर्णावस्था में सांस सामान्य होनी चाहिए। 
35 करोड़ लोग विश्व में मधुमेह का शिकार हैं

6.3 करोड़ मधुमेह पीडि़त भारत में रहते हैं

2030 तक मधुमेह लोगों की मौत का सातवां बड़ा कारण होगा

2- रक्तचाप
भारत में दिल की बीमारियों का एक बड़ा कारण उच्च रक्तचाप है। देश में एक तिहाई से ज्यादा लोग उच्च रक्तचाप की समस्या से परेशान हैं। यह बात द ग्रेट इंडिया बीपी सर्वेक्षण में सामने आई है। विशेषज्ञों की मानें तो जागरुकता की कमी के चलते भविष्य में लोगों को दिल की बीमारियों का खतरा बढ़ सकता है। रक्तचाप को हमेशा सामान रखने के लिए कुछ योग आसानों का सहारा लिया जा सकता है।

उच्च रक्तचाप
शवासन

-पीठ के बल लेट जाएं

-अंग, मांसपेशियों को ढीला छोड़ दें

-चेहरे का तनाव हटा दें

-अब धीरे-धीरे गहरी और लंबी सांस लें।

-महसूस करें की गहरी नींद आ रही है।

इसका अभ्यास हर दिन दस मिनट तक करें।
उच्च रक्तचाप
प्राणायाम भस्त्रिका

-स्वच्छ और समतल जगह पर चटाई या दरी बिछाकर बैठ जाएं

-सुखासन या पद्मासन में बैठें। मेरुदंड, पीठ, गला और सिर को सीधा रखें और शरीर को बिल्कुल स्थिर रखें

-मुंह बंद रखें

-दोनों नासिक छिद्रों से आवाज करते हुए सांस लें और छोड़ें

-सांस लेते समय पेट फुलाना है और छोड़ते समय पेट अंदर खींचना है

-इस तरह बीस बार करें

-श्वास लेने और छोड़ने का समय बराबर होना चाहिए।

60 फीसदी लोगों को पता ही नहीं होता कि उन्हेंरक्तचाप की समस्या है

42 फीसदी लोगों का रक्तचाप दवा खाने के बाद भी अनियंत्रित रहता है

31-45 साल के रक्तचाप पीडि़त लोग सबसे ज्यादा इस बीमारी से अनजान होते हैं

3- घुटनों का दर्द
घुटने का दर्द ऐसी समस्या है जिससे लगभग हर कोई परेशान है। विभिन्न प्रकार के अस्थिरोग से पीडि़त व्यक्तियों में लगभग 50 फीसदी व्यक्ति गठिया की परेशानी से पीडि़त होते हैं। भारतीयों को घुटने में गठिया की परेशानी सबसे ज्यादा होती है। गठिया जैसी बीमारियों में दवाओं से ज्यादा व्यायाम असर करता है। इस योग आसान से आप गठिया की समस्या से भी निपट सकते हैं।




सुखासन

-इसमें घुटने 90 डिग्री के कोण में मुड़ते हैं।

-यह आसन लगभग हर बीमारी में आराम देता है।

-दोनों पैरों को मोड़कर पालथी की मुद्रा में बैठना होगा।

-इस दौरान अपनी रीढ़ की हड्डी को बिल्कुल सीधा रखें।

-18 करोड़ लोग भारत में इस समस्या से परेशान

-25 साल के लोगों में भी बढ़ रही है परेशानी
4- साइनस

साइनस की समस्या महानगरों में होने वाली प्रमुख बीमारियों में से एक है। इसका सबसे बड़ा कारण शहरों में लगातार बढ़ता प्रदूषण है। दरअसल साइनस हमारे सिर में भरी हुई कैविटी होती है जो हमारे सिर को हल्का बनाए रखती है। साइनस अंदर ली गई हवा को नमी प्रदान करता है। इस प्रक्रिया के प्रभावित होने से शुष्क वातावरण में सांस लेने में दिक्कत होने लगती है।

मत्यासन

-दण्डासन की पोजिशन में बैठकर दाएं पैर को बाएं पैर की जंघा पर रखें अपनी रीढ़ की हड्डी को सीधा रखें

-अब हाथों का सहारा लेते हुए पीछे की ओर अपनी कुहनियां टिकाकर लेट जाएं

-पीठ और छाती ऊपर की ओर उठी हुई तथा घुटने भूमि पर टिकाकर रखें

-अब अपने हाथों से पैर के अंगूठे पकड़ें

-आपकी कोहनी जमीन से लगी होनी चाहिए।



-08 में से एक व्यक्ति इस समस्या से परेशान है

-10 गिलास पानी रोज इस बीमारी से दिलाएगा आराम

-13 करोड़ 40 लाख भारतीय पीडि़त हैं इस बीमारी से




5- दमा

न चाहते हुए भी दुनियाभर में करोड़ों लोग ऐसे हैं जो अपने हिस्से की सांस भी पूरी नहीं ले पाते। शहरों में धुएं और धूल के कारण हर साल अस्थमा मरीजों की संख्या तेजी से बढ़ रही है। यही नहीं पेट्रोल पंप पर काम करने वाला हर दसवां कर्मचारी अस्थमा की चपेट में हैं। इसकी सबसे प्रमुख वजह है प्रदूषण के बीच काम करना। लेकिन योग के कुछ आसनों से इस रोग को फैलने से रोका जा सकता है।

अनुलोम-विलोम प्राणायाम

-सुखासन की मुद्रा में बैठ जाएं और आंखों को बंद रखें।

-बाईं नाक से गहरी सांस भरें और इसी नाक से पूरी सांस धीरे-धीरे बाहर निकालें।

-इसके बाद तीसरी उंगली से नासिका को बंद कर दें।

-पांच बार यही प्रक्रिया दोहराएं। ऐसा ही दाईं नाक के साथ भी करें।

-कुछ दिन दो से तीन मिनट तक करें उसके बाद 15 मिनट करने का अभ्यास करें।

15-20 करोड़ है भारत में अस्थमा रोगियों की संख्या

12 फीसदी भारतीय शिशु अस्थमा से पीडि़त हैं भारत में

01 लाख 80 हजार लोगों की मौत इस बीमारी के कारण वक्त से पहले होती है

कोई टिप्पणी नहीं

Healths Is Wealth. Blogger द्वारा संचालित.