Header Ads

jankari415 जाने संगीत के स्वास्थ्य लाभो के बारे मेंजाने संगीत के स्वास्थ्य लाभो के बारे में


जाने संगीत के स्वास्थ्य लाभो के बारे मेंजाने संगीत के स्वास्थ्य लाभो के बारे में





संगीत साधना फिर चाहे वह किसी भी रूप में जैसे, गायन, वादन आदि के लिए किसी कलाकार को एक ही मुद्रा में घंटों बैठे रहना पड़ता है. ठीक उसी तरह से योग में भी एक अवस्था में बैठने की ज़रूरत होती है. एक ही स्थान पर साधना करने के लिए शरीर, मन व मस्तिष्क शांत और स्वस्थ होता है और एकाग्रता बढ़ती है. 


संगीत के फायदे


1-गायन से हमारे फेफड़ों की एक्सरसाइज होती है. इससे हमारी पसलियों के बीच की मांसपेशियों तथा डायाफ्राम टोन होते हैं.


2-गायन से बेहतर नींद आती है.


3-गायन कर हम अपनी एरोबिक क्षमता में सुधार के द्वारा दिल और रक्त परिसंचरण को बेहतर बना सकते हैं. इससे मांसपेशियों में तनाव भी कम होता है.


4-गायन से चहरे की मांसपेशियों का व्यायाम होता है और वे टोन होती हैं.


5-गाना गाने से हमारी शारीरिक मुद्रा में भी सुधार होता है.


6-हम मानसिक रूप से अधिक सचेत हो सकते हैं.


7-गायन से साइनस और सांस की नलियां खुलती हैं.


8-गायन से एंडोर्फिन नामक रसायन का श्राव होता है, जो दर्द से राहत दिलाता है.


फेफड़ो की समस्या के लिए फायदेमंद है...






जॉगिंग करते वक़्त इन बातो का रखे ध्यानजॉगिंग करते वक़्त इन बातो का रखे ध्यान





जॉगिंग ऐसी एक्सरसाइज है जो आपको कुछ ही हफ्तों में एकदम फिट और चुस्त-दुरूस्त बना सकती है. यह दौड़ने के जैसा ही है. लेकिन उसके लिए जरूरी है सही तरीके से दौड़ लगाना. दौड़ने से पहले आपको कुछ बातों का खास ख्याल रखना होगा. 


आइए जानें जॉगिंग से पहले क्या–क्या सावधानियां बरतनी चाहिए.


1-आप जब भी दौड़ना शुरू करें तो उसे एन्जॉय करें न कि उसे बोझ समझे, संभव हो तो अपने किसी साथी के साथ दौड़े.


2-आप जब भी दौड़ना शुरू करें तो उसे एन्जॉय करें न कि उसे बोझ समझे, संभव हो तो अपने किसी साथी के साथ दौड़े.


3-आप जब भी दौड़ना शुरू करें तो उसे एन्जॉय करें न कि उसे बोझ समझे, संभव हो तो अपने किसी साथी के साथ दौड़े.


4-आप जब भी दौड़ना शुरू करें तो उसे एन्जॉय करें न कि उसे बोझ समझे, संभव हो तो अपने किसी साथी के साथ दौड़े.


5-आप जब भी दौड़ना शुरू करें तो उसे एन्जॉय करें न कि उसे बोझ समझे, संभव हो तो अपने किसी साथी के साथ दौड़े.


6-आप जब भी दौड़ना शुरू करें तो उसे एन्जॉय करें न कि उसे बोझ समझे, संभव हो तो अपने किसी साथी के साथ दौड़े.


7-आप जब भी दौड़ना शुरू करें तो उसे एन्जॉय करें न कि उसे बोझ समझे, संभव हो तो अपने किसी साथी के साथ दौड़े.


निम्बू और बेकिंग सोडा मिलकर कर सकते है कैंसर का इलाज 



जाने बढ़ती उम्र में कैसे बने स्मार्टजाने बढ़ती उम्र में कैसे बने स्मार्ट





उम्र बढ़ने के साथ ही जीवनशैली में बदलाव लाना भी बेहद जरूरी है और बढ़ती उम्र में शरीर को दुरूस्त, स्टाइलिश रखने के लिए उसका ख्याल रखना भी उतना ही जरूरी है. दरअसल, बढ़ती उम्र के साथ शरीर की कार्यप्रणाली खासा प्रभावित होने लगती है. सिटी लाइफ जीने के लिए प्रतिदिन व्यायाम करना आवश्यक है तभी आप 55 के बाद भी रहेंगे फिट और स्मार्ट.


आइए जानें 55 के बाद भी फिट और स्मार्ट रहने के लिए क्या करें. 


1-बढ़ती उम्र के साथ याददाश्त कमजोर होना या दिमाग की कार्यप्रणाली पर प्रभाव पड़ना स्वाभाविक है, लेकिन आप चाहे तो 55 से अधिक उम्र होने पर भी इस कमजोरी को रोक सकते हैं या फिर इसमें कमी कर सकते हैं.


2-उम्र के आखिरी पड़ाव तक आते-आते सुनने की क्षमता कम हो जाती है, इन्हें मजबूत बनाए रखने के लिए जरूरी है कि समय-समय पर हीयरिंग टेस्टा करवाते रहें, इससे बीमारी आने से पहले ही उसे टाला जा सकता है या कम किया जा सकता है.


3-यदि अधिक उम्र में आप तेज आवाज में टीवी, रेडियो इत्यादि सुनते है तो वॉल्यूम का ध्यान रखते हुए 80 फीसदी से अधिक तेज आवाज न हो.


4-डायबिटीज कई बीमारियों की जड़ है. इसीलिए डायबिटीज से बचने के लिए 55 की उम्र में संतुलित भोजन करें, इतना ही नहीं मीठा कम खाएं और समय-समय पर डायबिटीज का चेकअप करवाते रहें. इसके साथ ही ब्लड प्रेशर की भी नियमित जांच कराती रहनी चाहिए.


5-हमेशा सकारात्मक सोचे इससे आप खुद तो खुशहाल और स्वस्थ रहेंगे साथ ही अपने आसपास के माहौल को भी खुशनुमा रखेंगे.


कच्ची हल्दी है गुणों की खान 










: पर्याप्त नींद से आप बढ़ा सकते है अपनी इच्छा शक्तिपर्याप्त नींद से आप बढ़ा सकते है अपनी इच्छा शक्ति





कोई भी काम चाहे मुश्किल हो या आसान, उसे पूरा करने के लिए आपके अंदर इच्छा शक्ति होनी चाहिए. क्या होती है ये इच्छा शक्ति.इच्छाशक्ति को मजबूत बनाने के लिए शुरुआत करने के लिए सबसे पहले हमें तनाव के स्तर का प्रबंधन करने की जरूरत होती है.


तनाव के उच्च होने पर हमारा प्रीफ्रंटल कोर्टेक्स ऊर्जा के लिए लड़ाने में असमर्थ हो जाता है. तनाव महसूस होने पर गहरी सांस लेने से तनाव के स्तर में प्रबंधन और संकल्प शक्ति को बढ़ाया जा सकता है.


1-आत्म प्रतिज्ञान इच्छाशक्ति को मजबूत बनाने में आपकी मदद करता है. पहले से ही किसी काम के लिए ना कह देना जैसे बुरी आदत से खुद को दंडित करना ठीक नहीं है. इसलिए कुछ करने के लिए अपने आप को मजबूर करके आप आसानी से संकल्प शक्ति को मजबूत बना सकते हैं.


2-पर्याप्त नींद प्रीफ्रंटल कॉर्टेक्स को कुशलता से काम करने में मदद करती है. अनिद्रा क्रोनिक तनाव का जन्म देता है जो शरीर और दिमाग द्वारा इस्तेमाल एनर्जी को हानि पहुंचाता है. तनाव प्रतिक्रिया होने पर प्रीफ्रंटल कॉर्टेक्स विशेष रूप से असर पड़ता है. इसलिए संकल्प शक्ति को बढ़ाने के लिए भरपूर नींद लें.


3-ध्यान इच्छाशक्ति को बढ़ाता है. साथ ही ध्यान तनाव प्रबंधन और आत्म जागरुकता में सुधार करने में भी मदद करती है. इसके लिए आपको जीवन भर ध्यान का अभ्यास करने की जरूरत नहीं है क्योंकि आठ सप्ताह के संक्षिप्त दैनिक ध्यान प्रशिक्षण से मस्तिष्क में परिवर्तन देखा जा सकता है.


इस चमत्कारी तेल से चला जायेगा जोड़ो...







: जाने पूर्वाभास के लक्षणों के बारे मेंजाने पूर्वाभास के लक्षणों के बारे में






दिमाग तो सभी के पास होता है लेकिन उसका उपयोग कौन अधिक करता है यह मायने रखता है,


इन तरीको से जानें कि आपके अंदर भी मानसिक क्षमता है या नहीं.


1-फोन की घंटी बजते ही आपको पता चल जाता है कि किसका फोन है, मैसेज बिना देखे ये बताना कि किसने मैसेज किया और घर की चौखट पर कदम रखने वाले इंसान के बारे में बताना ही इंट्यूशन है. अगर आपके अंदर भी ऐसे गुण हैं तो आप यह समझ लीजिए कि आपके अंदर पूर्वानुमान लगाने का गुण है. यह पहला लक्षण है.


2-सपने सच होना भी बड़ी बात होती है. अगर आपके द्वारा देखे गये सभी सपने सच होते हैं तो यकीन मानिये आपके अंदर मानसिक क्षमता है. आपको अगर पहले से पता है कि अगले कुछ दिनों में क्या होने वाला है तो आपके लिए यह उपहार की तरह है.


3-अगर आपको ऐसा लगता है कि आप अपने अंतरात्मा की आवाज सुन सकते हैं. और आपने उसके अनुसार जो भी कहा है या काम किया है वो लगभग सही होता है. तो ये जान लीजिए कि आपके अंदर असीमित मानसिक क्षमतायें हैं. आप किसी के बारे में भी अगर अपनी अंतरात्मा की आवाज सुननकर कुछ भी कहते हैं और वो सही हो जाता है तो मानसिक क्षमता प्रबल होने की यही निशानी है.


4-किसी चौराहे पर कुंडली या हस्तरेखा देखकर भविष्य बताने वाले शख्स को देखने के बाद भले ही आपको वह ढोंगी लगता हो, लेकिन अगर आपको यह पता है कि भविष्य में क्या हो सकता है तो आप जान लीजिए कि आपके अंदर भी भविष्य के बारे में जानने की मानसिक क्षमता है. हालांकि भविष्य की सटीक जानकारी देना सभी के बस की बात नहीं है, यह गुण किसी-किसी में होता है.


घर पर ज़रूर रखे ये प्राकृतिक... 



: घर पर ही बनाये शानदार काफ मसल्सघर पर ही बनाये शानदार काफ मसल्स





काफ मसल्स हमारे पैर की मजबूत मसल्स होती है। आपने बॉडीबिल्डर्स की काफ्स को देखा ही होगा, वो बहुत ही उम्दा शेप में और काफी मजबूत दिखती है लेकिन मजबूत काफ बनाना काफी मुश्किल होता है। इस पर बहुत मेहनत करनी पड़ती है। अगर आप भी अपनी काफ्स को मजबूत और इनशेप करना चाहते हैं तो आपको कुछ एक्सरसाइज बताते हैं जो आपको ऐसा करने में मदद करेगी। सिंगल लेग स्टेंडिंग काफ रेज बहुत ही उम्दा एक्सरसाइज है जिसे आप घर पर भी कर सकते हैं.


दीवार से तकरीबन एक फुट दूर खड़े हो जाएं। दोनों हाथ अपने सीने की ऊंचाई पर दीवार पर रख दें। अब एक पैर पीछे की ओर ही हवा में उठा लें और दूसरे से पंजे के बल जितना ऊपर उठ सकते हैं उठें। ऊपर आने के बाद अपने काफ पर पूरा दबाव बनाते हुए कुछ सेकंड के लिए उसी पोजीशन में रुकें। फिर नीचे चले जाएं।


हम में से लगभग सभी ने कभी ना कभी लंगड़ी टांग खेल ही होगा जिसमे एक टांग हवा में रखकर सामने वाले को पकड़ना होता था। सिंगल लेग हॉप भी ऐसी ही कसरत है जिसमे एक पैर पीछे मोड़कर दुसरे पैर से कूदना पड़ता है। आपको थोड़ी थोड़ी देर में अपने पैर चेंज करने होंगे और जितना हो सके उतना ज्यादा और ऊपर उछलने की कोशिश करनी चाहिए ताकि आपकी काफ मसल्स पर जोर पड़े।


अब चिपचिपी नहीं दिखेगी ऑयली स्किन


जाने खाने में छोंक लगाने के सही तरीके के बारे में 



सिर दर्द के घरेलु उपाय, जो चुटकियों में कर देंगे दर्द को गायबसिर दर्द के घरेलु उपाय, जो चुटकियों में कर देंगे दर्द को गायब






सरदर्द एक बेहद ही आम समस्या है. जो किसी भी समय किसी को भी हो सकती है. ऐसे में आप सरदर्द के चलते किसी और काम पर ध्यान नहीं दे पाते है. इस समस्या के निजात पाने के लिए हम आज कुछ बेहद ही आसान और कारगर घरेलु तरीके बताने जा रेशे है. जो चुटकियों में आपके सरदर्द को गायब कर देंगे.


- सिरदर्द होने पर खीरे काट कर सूंघने और माथे पर रगड़ने से भी राहत मिलती है.


- सिरदर्द की समस्या में कच्चे अमरुद को पीस कर सर पर लगाने से फायदा होता है.


- लोकी का गुड सर पर लगाने से तुरंत सर दर्द की समस्या में आराम मिलता है.


- रोज़ाना सुबह एक सेब खाने से सरदर्द की समस्या में काफी फायदा होता है.


- लेमन जूस से भी सरदर्द की समस्या से निजात पाया जा सकता है.


- अदरक सरदर्द की समस्या का रामबाण इलाज है.


वजन कम करने के लिए इन तरीको से खाये लाल मिर्च


कच्ची हल्दी है गुणों की खान 



जीवन में हो गए हैं व्यस्त, घर में बनाईए होम जिमजीवन में हो गए हैं व्यस्त, घर में बनाईए होम जिम






आज के भागदौड़ भरे जीवन में आपको एक्सरसाईज़ करने का समय नहीं मिलता होगा लेकिन फिट रहना आपके लिए समय की जरूरत भी है और आपके शरीर को एक समय के बाद इसक आवश्यकता लगने लगती है। दरअसल एक्सरसाईज़ के अभाव में आपके शरीर में फैट एकत्रित होने लगता है। कोलेस्ट्राॅल अनियंत्रित हो जाता है और आप कई तरह की परेशानियों से घिर जाते हैं। मगर जब आपको एक्सरसाईज़ करने का समय भी न मिले तब क्या करेंगे ऐसे में हम आपके लिए एक विकल्प लेकर आए हैं आप बिल्कुल भी मत घबराईये। आपका होम जिम और आपके घर में ही छोटे से स्थान पर विकसित किया गया फिटनेस सेंटर ।


मल्टी एक्सरसाईज़ मशीन


इसका यह अर्थ है कि अब फिटनेस सेंटर खुद ही चलकर आपके घर पहुंच गया है। कभी आपने कल्पना की है। मगर अब यह पाॅसिबल है। जिम में मिलने वाली ट्रेड मिल, मल्टी एक्सरसाईज़ मशीन, साइकिल, डंबल्स और अन्य मशीनें आपको बहुत ही कम कीमत में उपलब्ध हो सकती हैं जिस पर आप क्षमता अनुसार वेट लेकर मसल्स को स्ट्रांग बना सकते हैं और क्षमता के अनुसार और समय के अनुसार रनिंग, जाॅगिंग और वाॅकिंग कर सकते हैं।


सिर दर्द के घरेलु उपाय, जो चुटकियों में कर देंगे दर्द को गायब


पर्याप्त नींद से आप बढ़ा सकते है अपनी इच्छा 



घर में बनाऐं पैट्रोलियम जैलीघर में बनाऐं पैट्रोलियम जैली






सर्दियों के इस सीज़न में जब आप नहाकर निकलते होंगे तो कुछ ही देर में आपको अपनी त्वचार रूखी सी नज़र आने लगती है। चेहरे की त्वचा में कुछ खिंचाव होने लगता है मगर अब चिंता की कोई जरूरत नहीं है। यदि आप इस परेशानी से बचने के लिए कोई कोल्ड क्रीम नहीं लगाना चाहती हैं तो कोई बात नहीं आप अपने घर में ही पैट्रोलियम जैली जैसा तत्व बना सकती हैं।


नींबू से बनता है साॅल्युशन


जी हां, नींबू बड़े काम का है। आपने बहुत बार एक साबुन निर्माता कंपनी का विज्ञापन देखा होगा। एक माॅडल नेचुरल शाॅवर लेती है और इसमें नींबू उसके लिए बड़ा उपयोगी होता है। अरे नहीं हम आपको नींबू के रस से नहाने के लिए नहीं कह रहे हैं और न ही हम आपको कहीं खड़ा करके आप पर नींबू नीचोड़ना चाहते हैं हम तो आपको इसकी खूबी बता रहे हैं


दरअसल नींबू के साथ ग्लिसरीन और गुलाबजल के उपयोग से आप पैट्रोलियम जैली जैसा साॅल्युशन तैयार कर सकते हैं जो कि बहुत उपयोगी होता है। आप दो से तीन बूंद ग्लिसरीन और दो से तीन बूंद नींबू का रस लीजिए इसके साथ में आप गुलाबजल कुछ ही मात्रा में डालिए। जो साॅल्युशन तैयार होगा उसे त्वचा पर लगा लीजिए। आपको ठंड में खुष्क हो चुकी त्वचा को निखारने में लाभ मिलेगा।


सिर दर्द के घरेलु उपाय, जो चुटकियों में कर देंगे दर्द को गायब


चुटकियों का काम हैं हेल्थी और शाइनी हेयर 



भूलकर भी ना करे अपने शरीर से छेड़छाड़, पड़ सकती है भारीभूलकर भी ना करे अपने शरीर से छेड़छाड़, पड़ सकती है भारी






कई लोगो को अपने शरीर से छेड़खानी करने की आदत होती है, जो काफी खतरनाक साबित हो सकती है. आज हम आपको कुछ ऐसी ही शरीर से जुडी गलतियां बताने जा रहे है. जो आपको बिलकुल नहीं करना चाहिए.


- कई लोग अपने कण में नुकीली चीज़ डाल कर खुजली करते है. इससे हमारे कानो को भारी नुकसान हो सकता है.


- गलती से भी हमे बत्तीस को छूने की गलती नहीं करना चाहिए. इस करने पर आप बैक्टीरिया के शिकार हो सकते है.


- बार बार अपने हाथो को मुह पर नहीं लगाना चाहिए. इससे बैक्टीरिया फैलने के साथ ही हमारी त्वचा को भी नुकसान पहुचता हैं.


- कुछ लोगो को नाक में ऊँगली डालने की आदत होती है. ऐसा करने से कई बीमारियां होने खतरा बढ़ जाता है.


- कई बार हम बेवजह आँखों को रग़डने लगते है. ऐसा बिलकुल नहीं करना चाहिए. इससे हमारी आँखों के रेटिना को नुकसान पहुचता है.


झट से सिरदर्द दूर करेंगे यह तरीके


पर्याप्त नींद बनाएगी सेहतमंद 



एक्यूप्रेशर थेरेपी से बढ़ाएं अपनी Sex इच्छाएक्यूप्रेशर थेरेपी से बढ़ाएं अपनी Sex इच्छा





कई लोगो की सेक्स इच्छा में काफी कमी आजाती है. जिस वजह से सेक्स सम्बन्ध बनाने में कई परेशानियों का सामना करना पड़ता है. अगर आप भी ऐसी ही किसी परेशानी से जूझ रहे है तो हम आपको इस समस्या से निजात दिलाने के लिए एक बेहद ही कारगर तरीका बताने जा रहे है. जिसकी मदद से आपकी कामेच्छा में जबरदस्त इजाफा होगा.


हम बात कर रहे है एक्यूप्रेसर थेरेपी की, जिसकी मदद से कामेच्छा बधाई जा सकती है. दरअसल हमारे शरीर में ऐसे दो पॉइंट होते है. जहाँ एक्यूप्रेसर थेरेपी करने से कामेच्छा में जबरदस्त इजाफा होता है. और आपको कई सेक्स समस्याओ में फायदा पहुचता है. आईये जानते है, कोनसे है वह दो एक्यूप्रेसर पॉइंट.......


1. stomach point: यह हिस्सा हमारी नाभि के आसपास होता है. जहाँ उँगलियों से 4 से 5 मिनट तक मसाज करने से कामेच्छा में इजाफा होता है.


2. kidney point: महिलाओ में कामेच्छा की कमी लिबिडो हार्मोन की कमी के चलते होता है. यह एक्यूप्रेसर पॉइंट इस हार्मोन की कमी को पूरा करने के लिए सबसे बेहतर उपाय है. इस पॉइंट पर उँगलियों से पैरो को पुश करने पर काफी फायदा होता है.


पुरुषों की अपनी पार्टनर से यह होती है ख्वाहिश


शादी से पहले लड़कियां इस बात को लेकर होती है सबसे ज्यादा उत्साहित 



तो इसलिए सेक्स के दौरान कंडोम नहीं पहनते पुरुषतो इसलिए सेक्स के दौरान कंडोम नहीं पहनते पुरुष





यह बात सभी को पता है और कई अध्ययन में इसकी पुष्टि भी की जा चुकी है की पुरुषो को कंडोम पहन कर सेक्स करना बिलकुल भी पसंद नहीं होता है. वह हमेशा कंडोम के बिना सेक्स करने को अहमियत देते है. आज हम आपको इसके पीछे के कारण बताएंगे.


- कई पुरुषो का कहना है की उन्हें सेक्स के दौरान प्लास्टिक का इस्तेमाल पसंद नहीं है. इसी वजह से वह कंडोम का इस्तेमाल नहीं करते है.


- अगर पुरुषो की पार्टनर के मंथली पीरियड हाल ही में ख़त्म हुए है तो वह सेक्स के दौरान कंडोम का इस्तेमाल बिलकुल नहीं करेंगे,. उन्हें इससे सेफ सेक्स का बहाना मिल जाता है.


- कई पुरुषो का मन्ना है की कंडोम के साथ सेक्स करने से रिश्तो से चार्म ख़त्म होता है.


- पुरुषो को खुद पर अधिक विश्वास होता है. उनके अनुसार वह सेक्स के दौरान खुद को अपनी पार्टनर के अंदर डिस्चार्ज होने रोक सकते है. इसी वजह के चलते वह कंडोम पहन कर सेक्स नहीं करते है.


आओ आओ पान खाओ, मुफ्त में...


पिज़्ज़ा की तरह आर्डर करे कंडोम, 30... 



ये है पुरुषो की मर्दानगी की लिए सबसे बड़ा खतराये है पुरुषो की मर्दानगी की लिए सबसे बड़ा खतरा






सेक्स हर किसी के लिए काफी ज़रूरी होता है. ख़ास कर पुरुषो के लिए. कई अध्ययन में इस बात की पुष्टि हो चुकी है की पुरुष एक दिन में कई बार सेक्स के बारे में सोचते है. हालाँकि यह मॉडर्न लाइफ का कड़वा सच है की पुरुषो में आजकल कई सेक्स समस्याए होती है. जिसके पीछे कई कारण हो सकते है. आज हम कुछ ऐसी ही चीज़ों के बारे में बताने जा रह है जो पुरुषो की मर्दानगी के लिए सबसे बड़ा खतरा है.


- अधिकतर पुरुषो को बॉडी बनाने का शौक होता है. जिसके चलते वह एस्टेरॉइड्स का सेवन करते है. जिसके ज्यादा इस्तेमाल से पुरुष नपुंसक हो सकते है.


- पुरुष शादी से ज्यादा अपने कैरियर कियो महत्त्व देते है. जिस वजह से ज्यादातर पुरुष शादी की उम्र निकालने के बाद शादी करते है. ऐसा करने वाले पुरुषो की सेक्स लाइफ ज्यादा प्रभावी नहीं रहती है.


- पोषक तत्वो की कमी के चलते भी पुरुषो की मर्दानगी को नुकसान पहुच सकता है.


- अल्कोहल और धूम्रपान के सेवन से पुरुषो में नपुंसकता के सबसे ज्यादा मामले देखे गए है.


पुरुषो के लिए खतरा है SEX


गलत सेक्स बन सकता है कैंसर का कारण​







: महिलाओं की संतुष्टि के लिए सटीक है यह सेक्स पोसिशन्समहिलाओं की संतुष्टि के लिए सटीक है यह सेक्स पोसिशन्स





सेक्स के दौरान पुरुषो की संतुष्टि महिलाओ की संतुष्टि से जुडी होती है. पुरुष अपनी मर्दानगी को भी महिलाओ की संतुष्टि से जोड़कर देखते है. ऐसे में आज हम आपको कुछ बेस्ट सेक्स पोसिशन्स के बारे में बताने जा रहे है. जिनसे महिलाए काफी जल्दी संतुष्ट हो जाती है.


- इस पोजीशन में पुरुष महिला पार्टनर के ऊपर होते है. साथ ही महिलाओ के पैर पुरुष के कंधे के उप्पर होते है. इस पोजीशन में सेक्स करने से महिलाए काफी जल्दी और पूर्ण रूप से संतुष्ट हो जाती है. इस पोजीशन में महिला के हिप्स के नीचे तकिया रखना ना भूले. इससे सेक्स करने में आसानी होगी.


- 'वीमेन ऑन टॉप' महिला और पुरुष दोनों की पसंदीदा सेक्स पोजीशन है. इस महिला पुरुष के उप्पर चढ़ कर सेक्स करती है. जिसमे दोपनों को ही अत्यंत सुख की प्राप्ति होती है. साथ ही यह पोजीशन महिलाओ को संतुष्ट करने में भी काफी सटीक है.


- टेबल या बेड के कोने पर महिला को लेता कर पुरुषो को खड़े होकर सेक्स करना चाहिए. इस पोजीशन से बेहतर सेक्स और संतुष्टि की प्राप्ति होती है. साथ ही यह महिलाओ की पसंदीदा सेक्स पोसिशन्स में से एक है.


ये है बेस्ट योगा सेक्स पोसिशन्स


संस्कारी कामसूत्र पोसिशन्स











अनेक परेशानियों में रामबाण है ये घरेलु नुस्खेअनेक परेशानियों में रामबाण है ये घरेलु नुस्खे






वैसे तो हम हमेशा ही इस कॉलम में आपको घरेलु नुस्खों के बारे में बताते रहते हैं लेकिन वो किसी रोग विशेष को ठीक करने के बारे में होते हैं लेकिन आज हम आपको कुछ ऐसे नुस्खों के बारे में बता रहे है जिनका प्रयोग कई सालों से किया जा रहा है और विभिन्न बीमारियों और तकलीफों को दूर करने में सहायक है. आइये जानते हैं कुछ रामबाण घरेलु नुस्खों के बारे में। मक्खन में थोड़ा सा केसर मिलाकर रोजाना लगाने से काले होंठ भी गुलाबी होने लगते हैं।

मुंह की बदबू से परेशान हों तो दालचीनी का टुकड़ा मुंह में रखें। मुंह की बदबू तुरंत दूर हो जाती हैं। बहती नाक से परेशान हों तो युकेलिप्टस का तेल रूमाल में डालकर सूंघे। आराम मिलेगा। कुछ दिनों तक नहाने से पहले रोजाना सिर में प्याज का पेस्ट लगाएं। बाल सफेद से काले होने लगेंगे। चाय पत्ती के उबले पानी से बाल धोएं, इससे बाल कम गिरेंगे। संतरे के रस में थोड़ा सा शहद मिलाकर दिन में तीन बार एक-एक कप पीने से गर्भवती की दस्त की शिकायत दूर हो जाती हैं।


गले में खराश होने पर सुबह-सुबह सौंफ चबाने से बंद गला खुल जाता हैं। सवेरे भूखे पेट तीन चार अखरोट की गिरियां निकालकर कुछ दिन खाने मात्र से ही घुटनों का दर्द समाप्त हो जाता हैं। ताजा हरा धनिया मसलकर सूंघने से छींके आना बंद हो जाती हैं। प्याज का रस लगाने से मस्सो के छोटे–छोटे टुकड़े होकर जड़ से गिर जाते हैं। प्याज के रस में नींबू का रस मिलाकर पीने से उल्टियां आना तत्काल बंद हो जाती हैं। गैस की तकलीफ से तुरंत राहत पाने के लिए लहसुन की 2 कली छीलकर 2 चम्मच शुद्ध घी के साथ चबाकर खाएं फौरन आराम होगा। मसालेदार खाना खाएं मसालेदार खाना आपकी बंद नाक को तुरंत ही खोल देगा।


योग से पाए दमकती त्वचा


मन को शांत करता है गौमुख आसन 



आपका बेली फैट घटाता है मंडूकासनआपका बेली फैट घटाता है मंडूकासन





कुछ आसन ऐसे होते हैं जो करने में बहुत ही सरल होते हैं लेकिन उनका असर और फायदा बहुत ज्यादा होता है। एक ऐसा ही आसन है जिसका नाम है मंडूकासन। इस आसन का सही अभ्यास करने से पैंक्रियास से इन्सुलिन का स्राव में मदद मिलती है जिससे डायबिटीज या मधुमेह को बहुत हद तक रोक जा सकता है। इस योगाभ्यास से एंजाइम एवं हॉर्मोन का ठीक तरह से स्राव होने लगता है जो भोजन को पचाने में मदद करता है और कब्ज एवं अपच जैसी परेशानियों से आपको निजात दिलाता है।


यह पेट पर दबाब डालता है और इस आसन को ज्यादा वक्त तक अभ्यास करने से पेट की चर्बी कम की जा सकती है. पेट में अगर कोई विकार या ऑपरेशन हुआ हो तो इस आसन को न करें। आयी जानते हैं इस आसान को सही ढंग से कैसे किया जाता है. इस आसान को करने के लिए पहले आप वज्रासन में बैठ जाएं। अब आप मुठ्ठी बांधे और इसे आपने नाभि के पास लेकर आएं।


मुट्ठी को नाभि एवं जांघ के पास ऐसे रखें कि मुट्ठी खड़ी हो और ऊँगलियाँ आपके पेट की तरफ हो।सांस छोड़ते हुए आगे झुकें, छाती को इस प्रकार नीचे लाएं कि वह जांघों पर टिकी रहे।आप इस तरह से आगे झुकें कि नाभि पर ज्यादा से ज्यादा दबाब आए। ध्यान रखे कि आपका सिर और गर्दन उठे हुए हों और आपकी नजर सामने की तरफ हो । धीरे धीरे सांस लें और धीरे धीरे सांस छोड़े और यथासंभव इस स्थिति को बनाये रखें। फिर सांस लेते हुए अपनी सामान्य अवस्था में आएं और आराम करें। आप शुरुआत में इस आसन को 3 से 5 बार दोहरा सकते हैं।


मनचाही बॉडी चाहते हैं तो आजमाइये ये


योग से पाए दमकती त्वचा 



आप भी याद रखिये ये जिम बेसिक्सआप भी याद रखिये ये जिम बेसिक्स






जरूरी नहीं है की जिम में जाने का मकसद सिर्फ बॉडीबिल्डिंग ही है. बहुत से लोग सिर्फ फिटनेस के लिए भी जिम जाना पसंद करते हैं. उम्र और शरीर के अनुसार सबके शरीर अलग प्रकार के होते हैं। उनके फिटनेस लेवल में भी फर्क होता है। कुछ हार्ट पेशेंट, हाई ब्लडप्रैशर, आस्टिियोपोरोसिस के पेशेंट होते हैं। जिम में ऐसे तमाम लोगों के लिए अलग-अलग प्रकार के प्रोग्राम होने चाहिए इसलिए ट्रेनर का उच्च प्रशिक्षित होना बेहद जरूरी है।


जिम में इस्तेमाल होने वाले इक्विपमेंट भी ब्रांडेड तथा उच्च क्वालिटी के होने चाहिए। इक्विपमेंट सुरक्षित होने चाहिए ताकि इससे किसी प्रकार की दुर्घटना होने की आशंका न रहे।इस तरह के इक्विपमेंट द्वारा ही एक्सरसाइज का सही तकनीकी ढंग से विकास किया जा सकता है। हमेशा छोटे लक्ष्य बनाये ताकि उन्हें पाने में आसानी हो.पहली बार जिम ज्वाइन कर रहे हैं तो जिम में ऐसी एक्सरसाइज रूटीन और डाइट अपनाएँ जो कि शॉट टर्म हों, जिन्हें आप अपनी शारीरिक क्षमता के अनुसार पूरा कर सकने में सफल हो सकें।


जिम की साफ-सफाई, वहाँ काम करने वाले स्टाफ की पॉजिटिव अप्रोच और वहाँ एक्सरसाइज करने आने वाले लोगों से भी काफी फर्क पड़ता है इसलिए इन बातों पर जरूर गौर करना चाहिए सिर्फ एक्सरसाइज से काम नहीं चलता. अगर जिम वाले आपको सोना,स्टीम, मसाज जैसी सुविधा दे रहे हों तो यह सोने पे सुहागे वाली बात है क्योंकि ये चीजे आपकी बॉडी को रिलैक्स करती हैं . हमेशा ऐसे जिम को चुने जहाँ पर एक्सपर्ट मौजूद हों. प्रोफेशनल्स को हर चीज की सही जानकारी होती हैं और वो अपने अनुभव से आपको सही तड़के से आपके लक्ष्य प्राप्त करने में काफी मददगार हो सकते हैं.


ये है पुरुषो की मर्दानगी की लिए सबसे बड़ा खतरा


मनचाही बॉडी चाहते हैं तो आजमाइये ये 



महिलाओं के स्तन बोलते है कितना कुछमहिलाओं के स्तन बोलते है कितना कुछ





महिलाओ की सुंदरता को हमेशा से उनके स्तनों से जोड़कर देखा जाता है. साथ ही महिलाओ के स्तनों का आकर उनके स्वास्थ्य के बारे में कई अहम जानकारी देते है. आईये जानते है कैसे?


- कम उम्र की महिला के बड़े स्तन बिमारियों का संकेत होते हैं. ऐसी महिलाओ में कैंसर जैसी गंभीर बीमारी होने की संभावनाए काफी अधिक बढ़ जाती है.


- महिलाओ के छोटे स्तन, उनमे होने वाली हार्मोन्स की कमी को दर्शातें है.


- कई महिलाओ के स्तन उम्र से पहल ही ढीले पड़ने लग जाते है. ऐसी महिलाओ में खून की कमी और शुगर जैसी बिमारियों होने की संभावनाए बानी रहती है.


- महिलाओ के स्तनों को छूनेभर से होने वाला दर्द महिलाओ में आयरन की कमी और कैंसर जैसी जानलेवा बीमारी का संकेत देता है.


- स्तनों का अचानक कम होना या बढ़ना किसी गंभीर बीमारी का संकेत हो सकता है. इस होने पर तुरंत डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए.


स्तनों को सुडोमन और आकर्षक बनाने के तरीके 



Video :लड़कियों के 'मास्टरबेशन सीक्रेट्स'Video :लड़कियों के 'मास्टरबेशन सीक्रेट्स'






हस्थमैथुन को लेकर भारत में खुल कर बिलकुल भी बात नहीं की जाती है. जबकि यह महिला और पुरुषो द्वारा की जाने वक्लि एक नेचुरल क्रिया है. यह बात तो सभी को मालूम है की पुरुष नियमित रूप से अपनी कामोत्तेजना को शांत करने के लिए हस्थमैथुन का इस्तेमाल करत्ते है.


लेकिन क्या आपको पता है, महिलाए भी अपनी कामउत्तेजना को शांत करने के लिए हस्थमैथुन करती है. इससे जुड़ा एक विडियो यूट्यूब पर 'So Effin Crazy' द्वारा अपलोड किया गया है. जिसमे लड़कियों ने मास्टरबैशन से जुड़े अपने कुछ सीक्रेट्स कैमरें के सामने शेयर किये हैं.


आप भी इस विडियो को देख कर लड़कियों के मास्टरबैशन सीक्रेट्स का पता लगा सकते हैं.


पुरुष अक्सर मास्टरबैशन के दौरान करते है यह अहम गलतियां

इन तरीकों से पाएं हस्तमैथुन की लत से छुटकारा 



सर्दियों में इन बातों का रखें ध्यानसर्दियों में इन बातों का रखें ध्यान






सर्द मौसम ऐसा मौसम जब नेचर अपने शबाब पर होता है। आसमान खुला खुला और खुले आसमान के नीचे धरती पर पेड़ों के इर्द गिर्द से चलती ठंडी हवा जब शरीर को लगती है तो फिर बस जैसे सूर्य देवता ही याद आने लगते हैं। सर्दियों में हर किसी को ठंड सताती है। मगर कुछ ऐसे उपाय हैं जिन्हें अपनाकर आप सर्दियों में होने वाली परेशानी और बीमारियों से बच सकते हैं ये कुछ उपाय इस तरह हैं -


शरीर को दें गर्माहट - शरीर को ऊनी परिधानों से आप गर्माहट दें। यदि खुली हवा में बाहर निकलें तो स्वेटर, शाॅल आदि पहनकर रखें। बेहरत होगा कि आप आपका सिर, नाक, मुंह, गला आदि ढांककर रखें। कान के पास मौजूद कनपटियों को भी सर्द हवाओं से बचाकर रखें।


गर्म तासीर का करें सेवन - आप अपने नाश्ते में गर्म प्रकृति के पदार्थों का सेवन करें। जिन पदार्थों की तासीर गर्म होती हो और जो शरीर के तापमान को नियंत्रित करने में सर्द मौसम में कारगर हों ऐसे तत्वों का सेवन करें। मसलन काजू, बादाम, अंजीर,खसखस आदि का सेवन आप करते रहें। इससे आपके शरीर की प्रकृति अच्छी रहेगी। यदि आपको गुड़, तिल की रोटी का सेवन करने को मिले तो वह भी आपके लिए बेहतर होगा।


बुजुर्ग रखें ध्यान - सर्द मौसम में बुजुर्गों को विशेष ध्यान रखना होगा। बुढ़ापे में शरीर कमजोर हो जाता है और कहा जाता है कि इस अवस्था में ब्लड जवानी में जितना नया होता है उतना नहीं होता। अर्थात् रक्त में अपेक्षाकृत कम गर्मी रहती है ऐसे में बुजुर्ग सर्द मौसम में सुबह अधिक जल्दी बाहर न निकलें।


गुनगुनी धूप में शाॅल, मफलर, स्वेटर आदि पहनकर बाहर निकलें और सदैव सिर, कान, मुंह व नाक ढांककर रखें। नियमित करवाऐं चैकअप - सर्दियों में ब्लड प्रेशर को नियमित चैक करवाऐं। इतना ही नहीं आपका हेल्थ चैकअप भी करवाते रहें। यह रेग्युलरली होना चाहिए। ब्लड प्रेशर को चैक करवाने के ही साथ आप अपने डाॅक्टर से आवश्यक सलाह लें। इस मौसम में शरीर के तापमान, इम्युन सिस्टम का भी विशेष ध्यान रखें।

क्या आपको भी अच्छी लगती है ऊन पर दौड़ती सलाईन

कोई टिप्पणी नहीं

Healths Is Wealth. Blogger द्वारा संचालित.