Header Ads

स्‍ट्रेच मार्क्‍स दूर करने के उपाय


स्‍ट्रेच मार्क्‍स दूर करने के उपाय

शरीर पर पड़ी सफेद रेखाएं पुरूषों एंव महिलाओं दोनों को हो सकती हैं। लेकिन इससे ज्यादातर महिलायें ही परेशान देखी गई हैं। ये हमारे शरीर पर मोटापे के दौरान खीचाव पड़ने से होती है। हमारी त्वचा दो सतहों से बनी होती है। बाहरी एंव आंतरिक, मोटापा बढ़ने से या गर्भावस्था के दौरान जब हमारा शरीर बढ़ने लगता है तो त्वचा में खिचाव पड़ने लगता है। ऐसे समय में त्वचा की बाहरी सतह खींच जाती है। लेकिन आंतरिक त्वचा इस खींचाव को ज्यादा दिनों तक नहीं सहन कर पाती जिससे उसके टिशू टूट जाते हैं जो स्ट्रेच मार्क्स का कारण बनते हैं।
स्ट्रेच मार्क्स होने के और भी कई कारण है जैसेः-

किशोरावस्था – इस दौरान शरीर में कई परिवर्तन होते हैं। इन दिनों शरीर में हॉर्मोन्स में बदलाव बहुत ही तीव्र गति से होता है। यही कारण है कि किशोरावस्था के पूर्व और किशोरावस्था के दौरान स्ट्रेच मार्क्स मोटापे के चलते नहीं वरन हार्मोन सम्बंधी बदलाव के चलते होते हैं। कुछ बीमारियों में भी स्ट्रेच मार्क्स हो सकते हैं जैसे मार्फन सिंड्रोम, कशिंग सिंड्रोम आदि।

गलत दवाइयों के सेवन करने से- दवाओं के गलत या अत्याधिक खुराक की मात्रा का उपयोग करने से शरीर पर खिंचाव होता है। जिससे ये निशान पड़ने लगते हैं।

जेनेटिक- ये जेनेटिक भी होते हैं। अगर परिवार में किसी को इस तरह के लक्षण हैं तो ये दूसरे को भी हो सकते हैं।
स्ट्रेच मार्क्स को दूर करने के उपाय
क्रीम और मॉश्चराइज़र लोशन : ऐसी क्रीम और लोशन का इस्तेमाल करें, जो स्किन में खिंचाव या कसाव लाने में मदद करे। पुराने स्ट्रेच मार्क्‍स दूर करने के लिए लोशन और क्रीम बेस्ट ऑप्शन है।
सर्जीकल उपाय

डायमंड माइक्रोडर्मेब्रेशन- लेजर ट्रीटमेंट और थर्मेज जैसी आधुनिक तकनीकें हैं जो स्ट्रेच मार्क्स को हटाती है। इसमें डायमंड माइक्रोडर्मेब्रेशन एक ऐसी तकनीक है जो खिंचाव के निशानों को फैलाव देते हुए हल्का करते हैं।

रेडियोफ्रीक्वेंसी – शरीर में बढ़ रही चर्बी को खत्म करने के लिये थर्मेज जैसी आधुनिक तकनीक से त्वचा के तनाव और सिकुड़न को कम करने के लिए रेडियोफ्रीक्वेंसी का इस्तेमाल किया जाता है। जिससे पेट का थुलथुलापन और चर्बी कम होती है और खिंचाव के निशान भी कम नजर आते हैं।

ब्लू लाइट ट्रीटमेंट- यह हल्के लेजर ट्रीटमेंट जैसे रेड लाइट और ब्लू लाइट ट्रीटमेंट के लिए उपयोग में नाई जाने वाली फोटोथेरेपी है। हल्के लेजर की होने के कारण इस थेरेपी पर काफी जोर दिया जाता है जिससे किसी तरह के साइड एफेक्ट की आशंका कम रहे। इसी तरह चेहरे के दाग धब्बे हों या फिर किसी भी प्रकार के शरीर पर पड़ने वाले स्ट्रेच सभी तरह के इलाज के लिए उपयोग की जाने वाली फ्रैक्शनल लेजर थेरेपी काफी ‌किफायती है क्योंकि इसके बाद किसी अन्य तरह के ट्रीटमेंट की गुंजाइश नहीं रहती।
स्ट्रेच मार्क्स को हटाने के कुछ घरेलू उपचार

खूब पानी पीयें-

त्वचा की नमी को बरकरार रखने के लिए शरीर में पानी का होना बहुत जरूरी है। पानी त्वचा को हाइट्रेड रखता है और स्ट्रेच मार्क्स को दूर करने में सहायता भी करता है।

चीनी-

चीनी एक प्राकृतिक त्वचा exfoliater के रूप में जानी जाती है। यह त्वचा की मृत कोशिकाओं को निकालकर शरीर के खिंचाव से पड़ने वाले निशान को कम करती है।

एक चम्मच चीनी लें उसमें नींबू का रस और बादाम के तेल की कुछ बूंदें डालकर उन जगहों पर रगड़ें जहां पर निशान दिख रहे हैं और फिर कुछ ही मिनटों के बाद इसे धो लें।

एलोविरा-

एलोवेरा में औक्सिन और गिब्‍बेरोल्लिंस जैसे कंपाउड्स पाये जाते हैं जो नए सेल्‍स के विकास को उत्तेजित कर त्‍वचा के निशान को जल्‍दी और स्‍वाभाविक तरीके से बहुत कम कर देते हैं। इसलिए कहा जाता हैं कि एलोवेरा स्किन क्लींजर का भी काम करता है।

आलू का रस-

आलू का रस बेजान त्वचा में जान डालने वाला खनिज और विटामिन का एक बहुत ही अच्छा स्रोत माना जाता है। इसमें स्टार्च की भरपूर मात्रा होती है जो एजिंग की तरह काम कर चेहरे पर पड़ रही झुर्रियों को दूर करता है और त्वचा को निखारने का काम करता है।

जैतून का तेल-

जैतून के तेल में प्राकृतिक रूप से एंटीऑक्सीडेंट की भरपूर मात्रा पाई जाती है जो त्वचा की बहुत सी समस्याओं का निदान कर सकती है। जैतून के तेल को हल्का गुनगुना करके स्ट्रेच मार्क्स की जगह पर लगाएं और हल्की मालिश करें। इससे ब्लड सर्कुलेशन सही होता है और स्ट्रेच मार्क्स हल्के होते हैं। जैतून के तेल को आधा घंटा या उससे ज्यादा देर के लिए त्वचा पर लगा रहने दें। इससे त्वचा तेल में मौजूद विटामिन ए, डी और ई को अच्छे से सोख लेती है।

कैस्टर ऑयल-

कैस्टर ऑयल का उपयोग स्ट्रेच मार्क्स से छुटकारा पाने का बेहद कारगार उपाय माना गया है। इससे आप अच्छी तरह से मालिश करें। गर्म पानी को एक बोटल में भरकर उस सतह की सिकाई करें और हल्की मालिश भी करती जायें।

सफेद अंडे-

अडां खाने में जितना उपयोगी है चेहरे की त्वचा पर लगाने के लिये भी उतना ही फायदेमंद होता है। यदि आप एक अंडे को दही और शहद में मिलाकर फेटें और इस घरेलू फेस पैक को उस जगह पर लगाये जहां पर स्ट्रेच मार्क्स है। यह पैक त्वचा की उपरी सतह यानी एपिडर्मिस को साफ़ रखता हैं और निखारता हैं एंव स्ट्रेच मार्क्स से छुटकारा पाने का बेहद कारगार उपाय साबित हुआ है।

खुबानी का तेल –

स्ट्रेच मार्क्स के निशान दूर करने में खुबानी का तेल काफी असरदार साबित होता है। यह प्राकृतिक तेल आपकी त्वचा को कसावट देने में अहम भूमिका निभाता है तथा त्वचा के खिंचाव के स्तर को नियंत्रित रखने के लिए भी इसका प्रयोग किया जाता है।

अच्छे और असरदार टिप्स-

स्‍ट्रेच मार्क्स से जल्द झुटकारा पाने के लिये व्‍यायाम एक असरदार तरीका है जो त्‍वचा को ठोस बनाकर स्‍ट्रेच मार्क को धीरे-धीरे दूर करता है।
उचित खान-पान

अपने खान-

पान को सही रखने के लिये अपने आहार में विटामिन सी और ई वाले फल और सब्‍जियों को शामिल करें। यह आहार नए टिशू की ग्रोथ में मदद करके खराब हो चुके टिशू की मरम्‍मत करते हैं। जिंक वाले आहार जैसे नट्स और बीज स्‍ट्रेच मार्क्‍स को बढ़ने से रोकते हैं।

कोकोआ बटर-

प्रेग्नेंसी में पडे़ स्‍ट्रेच मार्क्‍स को दूर करने के लिए कोकोआ बटर का प्रयोग सबसे ज्‍यादा होता है। यह त्‍वचा को नम कर के डैमेज हुए टिशू को सही करता है।

हमने आपको स्‍ट्रेच मार्क्‍स दूर करने की जो जानकारी दी हैं आप इसका फायदा उठाये और अपने शरीर की खूबसूरती बढ़ाएं।

कोई टिप्पणी नहीं

Healths Is Wealth. Blogger द्वारा संचालित.