Header Ads

बेवजह वजन बढ़ रहा है, ज्यादा भूख लगती है?

बेवजह वजन बढ़ रहा है, ज्यादा भूख लगती है? कहीं इसका कारण ये तो नहींइन दस लक्षणों से पहचानें कि आपकी नींद नहीं हुई पूरी


क्या रात को दस घंटे सोने के बाद भी आप सुस्त रहते हैं? अच्छी नींद के बावजूद हर समय होने वाली थकान और आलस को नजरअंदाज नहीं करना चाहिए। इसका मतलब ये हो सकता है कि आपका शरीर सही नहीं है। खैर, अगर आप इन दस लक्षणों में से एक भी महसूस करते हैं, तो इसका मतलब है कि आप पर्याप्त नींद नहीं ले पाए हैं।

ज्यादा भूख लगना- अगर आप दिनभर अपने पसंदीदा फास्ट फूड खाने की इच्छा करती रहती है, तो इसका मतलब है कि आपकी नींद पूरी नहीं हुई है। जर्नल ऑफ स्लीप रिसर्च में प्रकाशित एक अध्ययन के अनुसार, नींद की कमी से तनाव पैदा हो सकता है जिससे ज्यादा भूख लगती है।



वजन बढ़ना- अगर बिना वजह आपका वजन बढ़ रहा है, तो जांच कर लें कि आप कितने घंटे सोते हैं। नींद की कमी से घरेलिन (ghrelin) बढ़ता है, ये हर्मोन भूख बढ़ाता है। जाहिर है ज्यादा खाने और कैलोरी बर्न नहीं करने से वजन बढ़ सकता है।
जल्दी जागना- अलार्म बजने से पहले ही जागना सिरकेडियन रीदम (circadian rhythm) का बिगड़ना हो सकता है। ऐसा इनसोम्निया वाले लोगों के साथ हो सकता है, जिसमें रात में नींद नहीं आती और सुबह जल्दी आंख खुल जाती है।

सुबह जल्दी सो जाना- तनाव की वजह से देर रात तक जागने वाले लोग नींद पूरी करने के लिए सुबह जल्दी सो जाते हैं। ऐसा उन लोगों के साथ हो सकता है, जो हाई स्ट्रेस जॉब करते हैं।
जागने के बाद सिरदर्द- नींद पूरी नहीं होने का एक लक्षण सुबह जागने के बाद सिरदर्द भी है। नींद से बार-बार जागना या नींद से जुड़ा कोई विकार सिरदर्द का कारण बन सकते हैं।

मुंह का सूखना- ऑब्सट्रक्टिव स्लीप एपनिया (ओएसए) से पीड़ित अधिकतर लोगों का सुबह जागने के बाद मुंह सूखा रहता है, उन्हें सांस लेने के पर्याप्त हवा नहीं मिल पाती है और उन्हें सुबह जल्दी सोने का मन करता है।

पेशाब आने पर नींद से जागना- प्रेगनेंट महिलाएं और बढ़े हुए प्रोस्टेट से पीड़ित लोग रात में कई बार पेशाब के लिए उठते हैं। इससे उनकी नींद पूरी नहीं हो पाती है।

ज्यादा गुस्सा आना- सोने से मन शांत रहता है और आप फ्रेश महसूस करते हैं। कम सोने के कारण आप आक्रामक होने लगते हैं औए ज्यादा गुस्सा करने लगते हैं।

सेक्स लाइफ पर असर- ऑब्सट्रक्टिव स्लीप एपनिया और सोने से जुड़ी अन्य समस्याओं के कारण पुरुषों में टेस्टोस्टेरोन हार्मोनल में परिवर्तन हो सकता है, जिससे सेक्स लाइफ प्रभावित हो सकती है।
कार्यक्षमता में कमी- रात में कम सोने के कारण दिमाग पर असर पड़ता है, जिससे ध्यान और सतर्कता प्रभावित हो सकती है। नींद की कमी से युवाओं को सीखने में बाधा, परीक्षा में फेल, मूड खराब और वाहन दुर्घटनाओं का

कोई टिप्पणी नहीं

Healths Is Wealth. Blogger द्वारा संचालित.