Header Ads

जल्द गर्भवती होने के लिए

जल्द गर्भवती होने के लिए 15 सर्वश्रेष्ठ संभोग स्थितियाँ

क्या गर्भवती होने के लिए संभोग स्थितियाँ महत्वपूर्ण हैं?
क्या गर्भधारण के लिए चरम सुख पाना आवश्यक हैं?
गर्भावस्था के लिए सर्वश्रेष्ठ संभोग अंगस्थिति
क्या लड़का या लड़की होने के लिए गर्भधारण के लिए कोई विशेष स्थिति है?
गर्भधारण करने का सही समय क्या हैं?

यदि आप गर्भधारण करने की कोशिश कर रहीं हैं, तो आप निश्चित रूप से इस प्रक्रिया को तेज करने के लिए ऐसे तरीकों की तलाश कर रही हैं जिनसे आप जल्द गर्भधारण कर सकें। कुछ का मानना हैं कि अगर विशिष्ट अंगस्थिति का प्रयोग कर संभोग किया जाए तो आप जल्द ही गर्भवती हो सकती है। इस लेख में संभोग करने की अंगस्थितियों के बारें में चर्चा की गई है जो आपको जल्द गर्भवती होने में मदद कर सकती हैं।
क्या गर्भवती होने के लिए संभोग स्थितियाँ महत्वपूर्ण हैं?

सहवास मानव जाति के आगमन से चला आ रहा है और आप इस बात को माने या ना माने, लेकिन अभी तक कोई भी ऐसा वैज्ञानिक प्रमाण नहीं मिला है जो यह साबित करता हो कि गर्भवती होने के लिए कौन सी संभोग स्थिति बेहतर है। दुनिया भर में कई धारणाएं और अफवाहें है कि गर्भधारण करने के लिए कुछ संभोग अंगस्थितियां दूसरों की तुलना में बेहतर है या कुछ निश्चित संभोग अंगस्थितियों आपके हिसाब से लिंग का गर्भधारण करने में मदद कर सकती है। वैसे, इस बात को सच साबित करने के लिए कोई अध्ययन मौजूद नहीं है।

हालांकि, अगर आप गर्भवती होने की कोशिश कर रही हैं और चाहती हैं कि यह जल्दी हो, तो व्याकुल न हो । गर्भवती होने के लिए प्रमुख नियम यह है कि पुरुष के शुक्राणु को स्खलित किया जाना चाहिए और जितना मुमकिन हो उतना महिला के गर्भाशय ग्रीवा के पास जमा किया जाना चाहिए। इसलिए, जो दंपति गर्भधारण करना चाहता है, उसे उन अंगस्थितियों से बचना चाहिए जो पुरुष के शुक्राणु को गर्भाशय ग्रीवा के पास जाने में बाधा डालते हैं या पहुँचने में बाधक होते हैं।
क्या गर्भधारण के लिए चरम सुख पाना आवश्यक हैं?

चरम सुख पुरुष और महिला, दोनों के लिए तीव्र आनंद की अनुभूति है। यह भावना हर व्यक्ति के लिए अलग होती है और इसका वर्णन करना बहुत कठिन हो सकता है। कुछ इसे सिहरन की अनुभूति के रूप में विवरण करते हैं, और अन्य इसे पूरे शरीर में विस्फोटक भावना के रूप में वर्णित करते हैं। पुरुषों में, चरम सुख से शुक्राणुओं का स्खलन हो जाता है जबकि महिलाओं में योनि की दीवारें गीली हो जाती है और क्लाइटॉरिस में तनाव के साथ यह आनंदमय ऊर्जा के प्रसरण का अनुभव करती हैं।


महिला चरम सुख के बिना भी गर्भवती हो सकती हैं क्योंकि गर्भवती होने के लिए महिला को सिर्फ शुक्राणु को उसकी योनि में प्रवेश करने की ज़रूरत होती है। एक पुरुष पूर्ण चरम सुख के बिना एक महिला की योनि में स्खलन कर सकता है और उसे गर्भवती कर सकता है।

कई महिलाओं को आश्चर्य होता है कि क्या वे बिना चरम सुख को पाए गर्भवती हो सकती हैं या क्या चरम सुख पाने से वह आसानी से गर्भवती हो सकती हैं । इसका जवाब है ‘नहीं’ गर्भवती होने के लिए महिलाओं में चरम सुख आवश्यक नहीं है, महिलाएं इसके बिना भी गर्भधारण कर सकती हैं। चरम सुख महिलाओं को सिर्फ सुकून देता है और वह उससे संभोग का आनंद लेती है, हालांकि चरम सुख के परिणामस्वरूप गर्भाशय में बहुत धीमा संकुचन, शुक्राणु को योनि में स्थानांतरित करने में मदद कर सकता है। लेकिन ये संकुचन चरम सुख के बिना भी होते है। इसलिए, महिलाओं को गर्भधारण करने के लिए चरम सुख पाना ज़रुरी नहीं है।
गर्भावस्था के लिए सर्वश्रेष्ठ संभोग अंगस्थिति
गर्भावस्था के लिए विभिन्न संभोग अंगस्थितियों पर बहुत धारणाएं और बहस मौजूद है, लेकिन यह वैज्ञानिक रूप से सिद्ध नहीं हुआ हैं। इसलिए आप सिर्फ अनुमान लगा सकती हैं और गर्भवती होने के लिए विभिन्न अंगस्थितियों को अपनाने की कोशिश कर सकती हैं। निम्नलिखित संभोग अंगस्थितियां है जिन्हें आप आजमा सकती हैं:

1. मिशनरी मुद्रा


यदि आप सबसे लोकप्रिय और आम संभोग अवस्था को आज़माना चाहती हैं तो आप गर्भवती होने के लिए मिशनरी अंगस्थिति को आज़मा सकती हैं। ऐसा भी कहा जा सकता है कि दुनिया में ज्यादातर बच्चे इसी संभोग मुद्रा के कारण पैदा होते हैं। इस संभोग स्थिति में महिला पीठ के बल लेटी होती है जबकि पुरुष उसके ऊपर होता है। यह शुक्राणुओं को गर्भाशय ग्रीवा तक बेहतर तरीके से पहुँच प्राप्त करने में मदद करते है और आपके गर्भधारण करने की संभावना को बढ़ाता है।
2. ग्लोईंग ट्रैंगल मुद्रा


यह संभोग मुद्रा मिशनरी मुद्रा के समान हैं लेकिन थोड़े परिवर्तन के साथ। इस स्थिति में भी, महिला नीचे और पुरुष उसके ऊपर रहता है, लेकिन इसके लिए पुरूष अपने हाथ और पैर दोनों का इस्तेमाल पैरों को फैलाने के लिए करता है। इस अवस्था में महिला अपनी श्रोणि को थोड़ा ऊपर उठती है, और पुरूष की कमर को अपने पैरों से जकड़ लेती है। यह स्थिति गहरा प्रवेश संभव बनाती हैं क्योंकि महिला का श्रोणि क्षेत्र ऊपर की ओर उठी हुई होती है। इस प्रकार गर्भाधान की संभावना बढ़ जाती हैं।
3. डॉगी स्टाईल

गर्भधारण करने के लिए डॉगी मुद्रा भी बहुत प्रभावशाली होती है और गर्भावस्था की संभावना को बढ़ाती है, क्योंकि इस मुद्रा में गहरा प्रवेश शामिल होती है। यह स्थिति गर्भाशय ग्रीवा को अन्य संभोग मुद्राओं की तुलना में अधिक खोलने में मदद करती है। खुली गर्भाशय ग्रीवा शुक्राणुओं को निषेचन करने के लिए अपना रास्ता बनाने में मदद करता है। इस स्थिति में पुरुष और महिला दोनों को अपने हाथ और पैर दोनों का उपयोग करना पड़ता हैं, जिसमें पुरुष पीछे से महिला की योनि के भीतर जाता है।

4. मैजिक माउन्टेन मुद्रा

यह स्थिति डॉगी स्टाईल का एक प्रकार है। इसमें पुरुष महिला के ऊपर इस तरह से झुकता है कि महिला की पीठ पुरुष के सीने से स्पर्श करें। बेहतर संतुलन और सिर को बेहतर संभालने के लिए, महिला कुशन या तकिए का उपयोग कर सकती हैं। मैजिक माउन्टेन मुद्रा शुक्राणुओं की गहरी आवाजाही की अनुमति देता है। यह मुद्रा महिला के लिए एक चरम सुख प्राप्त करने और गर्भवती होने के लिए भी प्रभावी है।
5. एनविल मुद्रा

एनविल मुद्रा भी क्लासिक मिशनरी स्थिति के प्रकार में से एक है। मिशनरी के विपरीत, इस स्थिति में, महिला को अपने पैरों को सिर के ऊपर उठाना पड़ता हैं। ये अंगस्थिति प्रभावी गहरा प्रवेश के कारण गर्भधारण की अच्छी संभावनाएं पैदा करती है। उठे हुए पैर महिला के जी-स्पॉट को भी उत्तेजित करने में मदद करते हैं।
6. प्लाउ मुद्रा

यह स्थिति न केवल गर्भधारण की बेहतर संभावना देती हैं, बल्कि आपके यौन जीवन में भी आनंद देती हैं। महिला हवा में अपने पैरों को व्हील बरो के समान रखती है और उसका साथी उसमे प्रवेश करते हुए उसके पैरों का समर्थन करता हैं। गुरुत्वाकर्षण इस स्थिति में अपना काम करता हैं, शुक्राणुओं को गर्भाशय ग्रीवा में गहराई तक खींचकर ले जाता हैं।

7. स्पूनिंग मुद्रा
यह स्थिति एक बहुत ही रोमांटिक स्थिति हैं, इस अवस्था में पुरुष स्‍त्री के हर अंग को आसानी से स्‍पर्ष कर सकता है। यह ऐसी अवस्था है जिसमें दोनों शरीरों का स्पर् भाग सबसे अधिक होता है। इस स्थिति में महिला का गर्भाशय ग्रीवा 90 डिग्री पर रहता हैं, जो साथी के शुक्राणुओं को बेहतर रूप से पहुँचाने का अवसर प्रदान करती हैं। स्पूनिंग की स्थिति गर्भधारण करने के लिए बहुत प्रभावी हैं।
8. स्प्लिटिंग बांबू मुद्रा

स्प्लिटिंग बांबू स्थिति एक अत्यंत साहसिक मुद्रा हैं जो न केवल दोनों भागीदारों को बड़ी यौन संतुष्टि प्रदान करती हैं, बल्कि गर्भाधान की संभावनाओं को भी बेहतर बनाती हैं। इस प्रसिद्ध कामसूत्र मुद्रा में महिला अपना एक पैर अपने साथी के कंधे पर रखती हैं। पैठ के दौरान समर्थन के लिए अपने पैर का उपयोग करते हुए, पार्टनर महिला की जांघ पर बैठ जाता है।
9. तितली मुद्रा
आप इस स्थिति से अपनी यौन यात्रा में कुछ उत्साह और रोमांच प्राप्त कर सकती हैं और गर्भधारण भी कर सकती हैं। तितली की स्थिति में महिला को एक मेज पर लेटने की आवश्यकता होती है, और उसका साथी महिला की योनि में प्रवेश करते हुए उसके कूल्हों को उठाता हैं। यह गर्भधारण के लिए सबसे अच्छे और सबसे प्रभावी अंगस्थिति में से एक हैं क्योंकि यह शुक्राणुओं को महिला की योनि के अंदर अधिक समय तक रहने की अनुमति देता है।

10. युनियन ऑफ ओयस्टर

जब आप बच्चा पैदा करने की योजना बना रहीं हों तो सहवास आपको उबाऊ और थकाऊ लग सकता है। आप रोमांचक यौन मुद्रा को आज़माने की कोशिश करके अपने यौन जीवन में अतिरिक्त उत्साह और जोश भर सकती हैं, और युनियन ऑफ ओयस्टर एक ऐसी ही अवस्था है। इस स्थिति में महिला को संभोग के दौरान अपने पीठ के बल लेटकर घुटनों को मोड़ना पड़ता हैं और साथी को घुटने के बल झुकना पड़ता हैं। यह स्थिति महिलाओं को गर्भधारण करने की अच्छी संभावना देती हैं।
11. युनियन ऑफ द वुल्फ

संभोग की इस स्थिति मे लिए महिला को अपने साथी की ओर पीठ करके खड़े होने की आवश्यकता होती है। महिला की कमर को पकड़ते हुए साथी पीछे से उसकी योनि में प्रवेश करता हैं। शुक्राणुओं को गर्भाशय ग्रीवा तक सही से पहुँचने के लिए महिला इस स्थिति में आगे झुक जाती हैं। यह मुद्रा बेहतर पैठ के कारण जल्द गर्भाधारण करने में मदद करती है।
12. इंद्र मुद्रा
यह क्लासिक मिशनरी स्थिति की विविधताओं में से एक हैं। इंद्र स्थिति में महिला को अपनी पीठ के बल लेटने की आवश्यकता होती हैं, और उसका साथी ऊपर होता है। फ़र्क केवल इतना हैं कि इस स्थिति में महिला को अपने कूल्हों को ऊपर उठाना होता है (कूल्हो को उठाने के लिए तकिए का इस्तेमाल किया जा सकता हैं)। यह स्थिति जल्द गर्भवती होने में मदद करती है।


13. स्फिंक्स मुद्रा

इस यौन स्थिति के लिए जरूरी है कि महिला अपने हाथों पर अपना वजन डालते हुए अपने पेट के बल लेट जाए, और एक तरफ पैर को मोड़ लें और दूसरा पैर सीधा रखें । फिर अपने हाथों पर अपना वज़न डालते हुए साथी पीछे से महिला की योनि में प्रवेश करता है । यह एक उत्कृष्ट स्थिति हैं जो जल्दी गर्भाधान करने में मदद करती है।
14. पेग मुद्रा

संभोग की इस स्थिति में महिला ऊपर होती है, जबकि उसका साथी पीठ के बल लेटा होता है। यह स्थिति न केवल महिला को पूरा चरम सुख देती हैं, बल्कि यह गर्भधारण करने में भी बहुत प्रभावशाली है। यह स्थिति उन महिलाओं के लिए भी अच्छी हैं जिनके साथी भारी वज़न के होते हैं।
15. रिवर्स काउगर्ल मुद्रा

इस मुद्रा में भी महिला ऊपर की ओर होती है। यह मुद्रा उन लोगों के लिए उत्कृष्ट हैं जो बच्चा पैदा करना चाहते है। रिवर्स काउगर्ल स्थिति में पुरुष को अपनी पीठ के बल लेटता है और महिला उसके ऊपर बैठती है। यह मुद्रा महिला को नियंत्रण प्रदान करती है।


गर्भधारण करने की कोशिश के लिए विभिन्न यौन मुद्राओं के अलावा, ऐसे और भी तरीके हैं जो आपको तेजी से गर्भधारण करने में मदद कर सकते हैं। निम्नलिखित कुछ कारक हैं जो आपको गर्भधारण करने में मदद कर सकते हैं:
शराब का सेवन करने से बचें क्योंकि यह आपके अंडोत्सर्ग, मासिक धर्म चक्र को और हार्मोन को प्रभावित करता है और जिसकी वजह से आपका गर्भधारण करना मुश्किल हो सकता है।
बहुत अधिक चाय या कॉफी का सेवन न करें, क्योंकि यह प्रजनन के स्वास्थ्य को प्रभावित करता हैं और गर्भधारण करने में कठिनाई पैदा करता है।
धूम्रपान से बचें, क्योंकि इससे बांझपन होने की संभावना होती है या आनुवंशिक रूप से विकृत अंडे भी हो सकते हैं।
अपने शरीर और दिमाग को स्वस्थ रखें क्योंकि स्वस्थ शरीर में गर्भधारण करने की बेहतर संभावना होती है।
क्या लड़का या लड़की होने के लिए गर्भधारण के लिए कोई विशेष स्थिति है?

यह एक आदर्श स्थिति होती अगर माता-पिता अपने बच्चों के लिंग को खुद तय कर पाते । हालांकि लोग लड़के या लड़की का गर्भ धारण करने के लिए सर्वश्रेष्ठ संभोग स्थितियों का पता लगाने की कोशिश कर रहे हैं, लेकिन कोई वैज्ञानिक प्रमाण या अध्ययन अभी तक नहीं मिला है जिसमें किसी संभोग मुद्रा को अपनाकर आपके बच्चे के लिंग को प्रभावित किया जा सके। लेकिन कुछ अध्ययनों के अनुसार कुछ यौन मुद्राएं हैं जो किसी विशेष लिंग के गुणसूत्र को आसान बना सकती हैं। ऐसा माना जाता है कि लड़का पैदा करने वाला शुक्राणु लड़की पैदा करने वाले शुक्राणु की तुलना में तेज लेकिन कमजोर होते हैं। इसलिए, संभोग के दौरान लड़का पैदा करने वाला शुक्राणु तेजी से तैरता है, लेकिन थोड़े ही समय के लिए। इस प्रकार, यौन स्थिति में गहरा प्रवेश होने से लड़के शुक्राणु के अंडे तक पहुँचने की संभावना अधिक हो जाती है। जबकि लड़की पैदा करने वाले शुक्राणु धीमे लेकिन मजबूत होते हैं और अंडे को पूरी तरह से निषेचित करने के लिए आगे बढ़ते हैं। इस प्रकार, हलके या सीमित भेदन से लड़की पैदा करने वाले शुक्राणुओं को बेहतर मौके मिलेंगे और गहरा प्रवेश ने से लड़का पैदा करने वाले के शुक्राणुओं को अंडे को निषेचित करने के बेहतर अवसर मिलेंगे।

कई लोग मानते हैं कि कुछ ऐसी यौन मुद्राएं हैं जो आपके बच्चे के लिंग का चयन करने में प्रभावी होती हैं। इस प्रकार निम्नलिखित मुद्राओं को अपनाया जा सकता है, जो अपने पसंद के लिंग चुनने की लिए लोगों के बीच लोकप्रिय हैं:

एक लड़के को गर्भ में लाने के लिए सबसे अच्छी मुद्रा:

पीछे से प्रवेश या डॉगी अवस्था:

यह स्थिति लड़के का गर्भधारण करने में प्रभावी होती है, क्योंकि इससे लड़का पौदा करने वाला शुक्राणु तेजी से अंडे के पास पहुँच जाता है। जब महिला अपने घुटनों पर झुकती है तो पुरुष पीछे से अंदर की ओर प्रवेश करता है।

सीधे खड़े होने वाली मुद्रा:


यह मुद्रा लड़के के शुक्राणु को ज़्यादा अंदर जाने की अनुमति देती है जिससे शुक्राणु तेज़ी से अंडे तक प्रवेश करता है। इस मुद्रा में दोनों भागीदारों को खड़े होने की अवस्था में होना चाहिए, ताकि शुक्राणु को योनि में ऊपर की ओर तैर सकें ।

लड़की पैदा करने वाले शुक्राणु के लिए सर्वश्रेष्ठ मुद्रा :

महिला जब ऊपर की ओर हो: महिला पैठ की तीव्रता को संचालित कर सकती हैं। यदि पैठ हलकी है, तो लड़की होने की संभावना अधिक होती हैं, लेकिन अगर यह गहरी है, तो आपको लड़का हो सकता है।

स्पूनिंग: इस मुद्रा में दोनों भागीदारों को गले लगाएं हुए लेटना होता है और आदमी महिला को पीछे से गले लगाता है इस स्थिति में महिला के पैरों की अवस्था इस प्रकार से होती है कि इसमें पैठ हलके से होता है और इस प्रकार लड़की होने की संभावना बढ़ जाती है।

मिशनरी: इस मुद्रा में में संभोग के दौरान महिला के ऊपर पुरुष होता है। यह स्थिति में हरी पैठ भी दिए जासकतें है। लेकिन यदि यह हलके पैठ तक सीमित हो, तो लड़की होने की संभावना बढ़ जाती है।

एक विशेष लिंग का गर्भधारण करने के लिए ऊपर्युक्त संभोग मुद्राओं के अलावा, अपने अंडोत्सर्ग चक्र को ध्यान में रखना बहुत ज़रूरी हैं। ऊपर्युक्त संभोग मुद्राएं केवल सूचक के तौर बताई गई हैं लेकिन यह आपकी पसंद के लिंग की ज़िम्मेदारी नहीं देती हैं। आप जब भी बच्चा पैदा करने की योजना बनाएं, तो आपका स्वस्थ, खुश और तनाव मुक्त रहना अनिवार्य है, क्योंकि यह आपके गर्भधारण करने में बहुत संयोग करता है।
गर्भधारण करने का सही समय क्या हैं?

बच्चा पैदा करना आसान नहीं हैं क्योंकि इसके लिए सही समय पर गर्भधारण करने की आवश्यकता होती हैं। गर्भधारण करने का सही समय या प्रजनन की अवधि एक महीने में छह दिनों तक रह सकती हैं। इन छह दिनों में अंडोत्सर्ग वाला दिन और अंडोत्सर्ग वाले दिन के पहले के पांच दिन शामिल रहते हैं। अंडोत्सर्ग वाले दिन जारी किया गया अंडा केवल एक दिन के लिए जीवित रहता है, लेकिन शुक्राणु आपके शरीर के अंदर सात दिनों तक जीवित रह सकता है। इसलिए, शुक्राणुओं के पास अंडे की प्रतीक्षा करने और इसके साथ निषेचन करने के लिए छह दिन का समय होता है।

यदि आपको अपने अंडोत्सर्ग के दिन के बारे में अधिक सटीकता की ज़रूरत है, तो यह आपके मासिक धर्म चक्र की अवधि और इसकी नियमितता पर निर्भर करेगा। आपके मासिक धर्म चक्र की अवधि के बावजूद, आमतौर पर अंडोत्सर्ग आपके अगले मासिक धर्म से 14 दिन पहले होता है।

यदि आप अपने अंडोत्सर्ग से एक या दो दिन पहले संभोग करती हैं तो आपके गर्भवती होने की संभावना सबसे ज्यादा है। लेकिन गर्भधारण करने के लिए यौन संबंध बनाने का सटीक दिन तय करना आसान नहीं है। इसलिए, यदि आप बच्चे करने की योजना बना रहीं है, तो हर दो से तीन दिनों में संभोग करना आपके लिए अच्छा रहेगा।
गर्भवती होने का एहसास सबसे बड़ी खुशियों में से एक है, और हर जोड़ा माता-पिता बनने के लिए उत्सुक होता है। बच्चे की योजना बनाने से पहले आपका स्वस्थ रहना आवश्यक हैं। गर्भधारण करने के लिए आप अलग-अलग संभोग मुद्राओं को भी आज़मा सकती हैं। इससे पहले कि आप एक परिवार शुरू करने बारे में सोचे, आपको एक पूर्ण स्वास्थ्य परिक्षण कराने की सलाह दी जाती है।



कोई टिप्पणी नहीं

Healths Is Wealth. Blogger द्वारा संचालित.