Header Ads




शादी के बाद लड़कियों के इस अंग पर पड़ता है सबसे ज्यादा असर

आपने देखा होगा की किसी भी लड़की की शादी होते ही उसकी कमर पर सबसे ज्यादा असर पड़ता है। और जिसके ऊपर सभी लोगों की अपनी अलग-अलग राय होती है जिसे हम लोग सुनते हैं। लेकिन क्या वजह है जिसके कारण महिलाओ की कमर ज्यादा चौड़ी हो जाती है। और शादी के बाद ही ऐसा क्यों होता है। तो आइये जानते है इसके पीछे का कारण।

इस बात को अच्छी तरीके से जानने के लिए हम आपको एक शोध के बारे में बताने जा रहे हैं। जो सैन फ्रांसिस्को के शोधकर्ताओं ने 18 से 26 साल की उम्र तक की 162 महिलाओं पर 6 महीने तक किया। इसके बाद कई चौंकाने वाले परिणाम सामने आए। शोधकर्ताओं ने महिलाओं के समूह को दो भागों में बांट दिया। यह जानने के लिए की आखिर परिणाम क्या आते है।जिनमें से एक समूह की महिलाओं से शोधकर्ताओं ने केवल एक पुरुष के साथ ही संबंध बनाने को कहा गया।

इस शोध में यह पाया गया कि पहले समूह की महिलाएं जिन्होंने सिर्फ एक पुरुष के साथ संबंध बनाएं उनकी कमर कम चौड़ी थी। वहीं दूसरी समूह की महिलाएं जिन्होंने अलग-अलग पुरुषों के साथ संबंध बनाएं उनकी कमर ज्यादा चौड़ी थी।

शोधकर्ताओं ने यह भी खुलासा किया कि जिन महिलाओं की कमर शादी के बाद चौड़ी हो जाती है। उनका यह मुख्य कारण हो सकता है कि जब वे बच्चों को जन्म देती है तो उसके बाद कमर उनकी चौड़ी हो जाती है।
18 वर्ष की उम्र होते ही हर लड़की को करवाने चाहिए ये 5 टेस्ट !!

आप सभी ने यह देखा होगा की महिलाये पुरुषो की तुलना में ज्यादा बीमार होती है। इसलिए दोस्तों लड़कियों को यह पांच टेस्ट जरुर करवा लेना चाहिए ताकि आगे के विवाहित जीवन में ऐसी कोई भी परेशानी का सामना नहीं करना पड़े। इन वजह से 18 वर्ष की उम्र पार होते ही लड़कियाँ यह 5 टेस्ट जरूर करवाना चाहिए।तो आइये जानते है इन टेस्ट के बारे में..... 

पेल्विक टेस्ट, पेप टेस्ट - यह टेस्ट यूटेरस की सही स्थिति पता लगाने के लिए किया जाता है। इसके अलावा एक और टेस्ट है जिसका नाम है पेप टेस्ट, वह भी करवा लेना चाहिए जो कि सर्वाइकल कैंसर की जांच के लिए किया जाता है। इसीलिए लड़की की उम्र 18 होते ही लड़की को पेल्विक टेस्ट करवा लेना चाहिए।

त्वचा की जांच - महिलाओं में त्वचा कैंसर का खतरा अधिक होता है इसके लिए महिलाओं को इसकी जांच करवाना भी जरूरी है।

आंखों की जांच - जैसे की आप सबको पता है कि आजकल बहुत कम उम्र में ही बच्चों की आंखें खराब होने लग जाती हैं तो इसलिए आंखों का टेस्ट भी करवा लेना चाहिए।

ब्रैस्ट कैंसर आपको बता दें कि यह जांच करवाना भी जरूरी है क्योंकि इसमें शुरुआती लक्षणों का कोई भी पता नहीं चलता और यह एक घातक बीमारी है इसलिए आप दो-तीन साल में यह जांच जरूर करवाएं।

ब्लड प्रेशर और कोलेस्ट्रॉल - जैसा कि आप सब को पता है कि हमारे शरीर के रक्त में कोलेस्ट्रॉल का स्तर सामान्य रहना बेहद ही जरूरी है, अगर इस कोलेस्ट्रॉल के स्तर में थोड़ी सी भी ऊंच या निच पाई जाती है तो हमारे शरीर में गंभीर बीमारियां पैदा हो सकती हैं।इसीलिए लड़की की उम्र 18 होते ही लड़की को पेल्विक टेस्ट करवा लेना चाहिए।


लवमेकिंग के समय लड़किया नहीं बल्कि लड़के करते है यह काम

महिलाओं से ज्‍यादा पुरुष लव बाइट को देना बहुत पसंद करते हैं। कई बार ऐसा होता है कि महिलाये इस प्‍यार की निशानी को लेने से बचती है, वहीं पुरुष लव बाइट करना बेहद पसंद करते हैं। लवबाइट करने के पीछे वैसे तो बहुत सारे कारण है। तो आइये जानते है लव बाइट के ये कारण... 

कुछ अलग करने की चाह - आजकल सेक्‍स लाइफ को ज्‍यादा स्‍पाइसी बनने और कुछ नया करने के जोश में ज्यादातर युवा पुरुष अपने पार्टनर को अपने प्यार की निशानी के तौर पर उसकी गर्दन, ब्रेस्‍ट या कमर पर लव बाइट करना पसद करते हैं। जिसके लिए वह पार्टनर की बॉडी पर जोर से काट लेते हैं जो उस दोनों के लिए काफी रोमांचक और नया अनुभव होता है।

अपनी निशानी देने के लिए लव बाइट या लव मार्क - जैसे नाम से मालूम चल रहा है कि निशान देने का मतलब सिर्फ दांत से काटना ही नहीं होता है, बल्कि इसे प्‍यार से देना होता है। अक्‍सर लड़के अपने पार्टनर को लव बाइट इसलिए देते है क्‍योंकि इस प्‍यार भरी निशानी से वो उन्‍हें पिछली रात का अहसास करवा सकें और उन्‍हें याद दिला सकें।

ज्यादा उत्तेजित होना - कई बार होता है कि लव सेशन के दौरान अचानक से लड़के एकदम जोश में आ जाते है और अपनी पार्टनर की किसी बॉडी पार्ट से अट्रेक्‍ट हो जाते है जैसे गर्दन या शोल्‍डर। जोश में आके में वो अपनी पार्टनर को लवबाइट दे देते हैं।

प्‍यार दर्शाने का तरीका - वहीं कुछ लड़के सोचते है कि पार्टनर को लवबाइट करना प्‍यार दर्शाना का एक तरीका है, जिससे वो अपने पार्टनर को अहसास करवा सकते है कि वो उनके लिए कितने गम्‍भीर या उतेजित है।

कोई टिप्पणी नहीं

Healths Is Wealth. Blogger द्वारा संचालित.