Header Ads

कुर्मासन योग करने का सही तरीका,


कुर्मासन योग करने का सही तरीका, फायदे और सावधानियां
https://www.healthsiswealth.com/


कुर्मासन (Kurmasana or Tortoise Pose) एक संस्कृत भाषा से लिए गया शब्द है, जो दो शब्दों से मिलकर बना है, जिसमें पहला शब्द “कुर्मा” का अर्थ “कछुआ” है और दूसरा शब्द “आसन” जिसका अर्थ “मुद्रा या स्थिति” है। यह कछुए के समान दिखने वाली स्थिति है। जिस तरह कछुआ किसी भी प्रकार का खतरा महसूस होने पर अपने खोल या आवरण के अंदर चला जाता है, उसी तरह कुर्मासन करने से आप अंदर की ओर आकर्षित हो जाते हैं और बाहरी दुनिया की अव्यवस्था से बच सकते हैं। 

इस आसन को अंग्रेजी में Tortoise Pose के नाम से जाना जाता है। यह आसन आपको अपनी आंतरिक दुनिया से जुड़ने की एक शानदार भावना देगा। यह मुद्रा आंतरिक जागरुकता और विश्राम के लिए रूपांकित की गई है। 

इस आसन को करने पर आपके हाथ पैर कछुए के समान बाहर निकले दिखाई देते हैं। कुर्मासन योग आसन को करने से हमारे शरीर का एक अच्छा व्यायाम हो जाता है। शरीर को चुस्त और तंदुरुस्त रखने के लिए कुर्मासन एक अच्छा आसन है। 
यह मुद्रा हमारे शरीर के लिए अनेक प्रकार से लाभदायक हैं। यह आसन पीठ और कमर पर अच्छा खिंचाव देता है, साथ में यह रीढ़ की हड्डी में भी रक्त-संचार को बढ़ाता है। कुर्मासन पेट में बनाने वाली गैस और कब्ज से राहत देने में मदद करता है। 
कुर्मासन करने के फायदे (Health Benefits of Kurmasana Yoga Asana)

कुर्मासन के लाभ इस प्रकार हैं :

1. तनाव को कम करने में : प्रत्येक व्यक्ति को कभी ना कभी अपने जीवन में तनाव का सामना करना पड़ता हैं चाहे वह छात्र हो या जॉब करने वाला सभी को टेंशन होती हैं। तनाव को कम करने के लिए कुर्मासन बहुत ही अच्छा आसन है। यह मस्तिष्क में रक्त प्रवाह को बढ़ाकर आपकी याददाश्त में सुधार करता है। यह आसन एक टेंशन बस्टर (buster) है, जो तनाव को कम करता है। कछुआ पोज़ आपके दिमाग को शांत रखता हैं और उसे ध्यान के लिए तैयार करता है।

2. दीर्घायु के लिए : शास्त्रों में कहा गया है कि जिस तरह से कछुए का जीवन बहुत दिन तक का होता है, उसी तरह से इस आसन के अभ्यास से आदमी दीर्घायु जीवन प्राप्त कर सकता है।
3. घुटने के लिए : यह घुटनों के दर्द के लिए एक उपयुक्त योगाभ्यास है। घुटने के साथ साथ यह कूल्हों, पीठ एवं टांगों की मांसपेशियों को फैलाता है और इसको स्वस्थ रखता है।

4. एकाग्रता के लिए : यह आसन आपको शांत करते हुए आपके मस्तिष्क को एकाग्रता की ओर लेकर जाता है।

5. कुंडलिनी जागरण में : कुंडलिनी शक्ति के जागरण के लिए इस योग का अहम योगदान है।

6. पेट के लिए उत्तम योग : कछुआ पोज़ करने से आपके पेट की मांसपेशियों पर खिंचाव पड़ता हैं जो पेट में होने वाली समस्या को खत्म करता हैं और हमारे पाचन तंत्र को स्वस्थ रखता है। कुर्मासन पेट के अंगों को उत्तेजित करता हैं और पेट में गैस बनाना, कब्ज और अपच जैसी समस्या से छुटकारा दिलाने में मदद करता हैं। यह आसन मधुमेह और पेट के वसा से पीड़ित लोगों के लिए फायदेमंद हैं। यह आसन पाचन और श्वसन प्रणाली के कामकाज में सुधार करता है।

7. शरीर तरोताजा रखने के लिए : यह पूरे शरीर के विभिन्न अंगों को उत्तेजित करते हुए आपको तरोताजा रखता है। धीरे धीरे यह पीठ के दर्द को कम करते हुए शरीर को लचीलापन देता है। इस तरह से यह आसन नृत्य कलाकारों के लिए महत्वपूर्ण योगाभ्यास है।

8. हिप्स की गतिशीलता में : यह हिप्स की जकड़न को कम करते हुए इसकी गतिशीलता को बढ़ाता है।

9. कब्ज कम करने के लिए : यह पेट के कब्ज को कम करने में सहायता करता है।

10. डायबिटीज योग : कुर्मासन पैंक्रियास को उत्तेजित करता है और सही मात्रा में इंसुलिन के स्राव में मदद करता है। इस तरह से डायबिटीज के कंट्रोल में यह लाभकारी है।

11. हर्निया के लिए : इस आसन के नियमित अभ्यास से हर्निया हमेशा हमेशा के लिए खत्म हो जाता है।

12. पेट की चर्बी कम करने के लिए : यह पेट की चर्बी को कम करने में भी बहुत लाभदायक है।

13. नाभि के लिए : यह आसन नाभि को केंद्र में रखने के लिए अहम भूमिका निभाता है।

14. पीठ को लचीला बनाता है : कुर्मासन को करने के लिए आपको पूरी तरह से सामने की ओर झुकना पड़ता है, जिससे पीठ की मांसपेशियों पर खिंचाव पड़ता हैं, यह खिंचाव हमारी पीठ को लचीला बनाने में मदद करता है। यह आसन पीठ से संबंधित सभी प्रकार की समस्या को दूर करने में मदद करता हैं। इसके अलवा कछुआ पोज़ रीढ़ की हड्डी को और कंधे को खोलता है। यह आसन पूरे शरीर में लचीलापन लाने पर केंद्रित हैं।
कुर्मासन करने का सही तरीका (How To Do Kurmasana aka Tortoise Pose With Right Technique And Posture)

कुर्मासन योग के लाभ जानने के बाद प्रत्येक व्यक्ति इस आसन को करना चाहता हैं। नीचे कुछ स्टेप्स दिए जा रहे हैं जिसकी मदद से आप इस योग को आसानी से कर सकते हैं।
कुर्मासन करने की विधि (Step by Step Instructions)

कुर्मासन या कछुआ पोज़ करने के लिए आप एक योगा मैट को लेकर उसे किसी साफ स्थान पर बिछा कर दोनों पैर को अपने सामने की ओर सीधा करके बैठ जाएं।

1. इस आसन को करने के लिए आप दण्डासन में भी बैठ सकते हैं।
2. अब अपने दोनों पैरों को जितना हो सके फैला लें, अर्थात एक दूसरे से दूर-दूर कर लें।

3. दोनों पैरों को घुटनों के यहां से थोड़ा मोड़ लें और पैरों की एड़ियों को फर्श पर रखा रहने दें।

4. अब सांस को बाहर की ओर छोड़ते हुए आगे की ओर थोड़ा सा नीचे झुकें और अपने दोनों हाथों को पैरों के घुटने के यहां से नीचे डालें।

5. दोनों हाथों को घुटनों के नीचे से बाहर की ओर सीधा कर लें।

6. अब अपने पूरे शरीर को धीरे-धीरे करके पूरा झुका लें और अपने मुंह को फर्श पर रख दें।

7. अब अपने हाथों को जितना अधिक हो सकता बाहर की ओर खींचें।

8. अपने दोनों पैरों को पूरी तरह से सीधा करने का प्रयास करें।

9. इस स्थिति में आपके दोनों पैर दोनों हाथों के ऊपर होंगे और आपके मुंह की ठुड्डी और छाती जमीन पर होगी।

10. कुर्मासन करने के लिए अगर आप इस स्थिति में आराम महसूस करते हैं तो आप इसे और आगे भी कर सकते हैं। इसके लिए अपने दोनों हाथों को घुटनों के नीचे से पीछे की ओर ले जाएं और कूल्हों के ऊपर पकड़ लें।

11. अपनी सांस को सामान्य रखें और कुछ देर इस आसन में रहने का प्रयास करें।

12. अपनी प्रारंभिक स्थिति में आने के लिए अपने दोनों हाथों को घुटने से बाहर करे और सीधे हो जाएं।
कुर्मासन करने के लिए इस वीडियो की मदद लें (Kurmasana aka Tortoise Pose Video)


कुर्मासन करने से पहले ध्यान रखने वाली बातें (Important Notes)

कुर्मासन एक उन्नत श्रेणी का योगासन है। इसलिए इस आसन को करने में आपको थोड़ा समय लग सकता है। आप इस योगासन को करने के लिए योग प्रशिक्षक का मार्गदर्शन लें। अगर आपको इस आसन को करते समय पैरों को जमीन पर रखने में कठिनाई होती है, तो आप अपने पैरों के नीचे तकिये को रखें, इससे आपको आसानी होगी।
कुर्मासन करने में क्या सावधानी बरती जाए (Precautions for Kurmasana or Tortoise Yoga Pose)

1. अगर आपको घुटनों में दर्द हैं तो आप इस आसन को ना करें

2. जो महिलाएं गर्भवती हैं उनको इस आसन को नहीं करना चाहिए।

3. मासिक धर्म के दौरान महिलाओं को इस आसन को करने से बचना चाहिए।

4. क्षतिग्रस्त डिस्क (हर्निएटेड डिस्क) में आपको इस आसान को नहीं करना चाहिए।

5. यदि आप कंधे के दर्द, कूल्हे के दर्द और हाथ के दर्द से परेशान हैं तो आपको इस आसन को नहीं करना चाहिए।

6. सायटिका या पुराना गठिया रोग से पीड़ितों को यह आसन नहीं करना चाहिए।

7. जिनको कमरदर्द की परेशानी होती है, उनको यह योग नहीं करना चाहिए।

8. इस आसन को वह लोग न करें, जिन्हें रीढ़ की हड्डी में दर्द हो।
कुर्मासन करने से पहले ये आसन करें

कुर्मासन करने से पहले आप नीचे दिए गए कुछ आसन को करें जिससे आपको कुर्मासन करने में आसानी होगी।

1. उत्तानासन

2. गरुड़ासन

3. परिवृत्त पार्श्वकोणासन

4. बद्ध कोणासन
हमारा ये आर्टिकल आपको कैसा लगा? कोई भी सलाह, सुझाव या राय आप हमसे कॉमेंट बॉक्स में शेयर कर सकते हैं।

कोई टिप्पणी नहीं

Healths Is Wealth. Blogger द्वारा संचालित.