Header Ads

पेट कैस साफ करे।


पेट कैस साफ करे।
इन -इन चीजो को करके आप अपना पेट को साफ रख सकते है।कब्ज और बदहजमी से छुटकारा।
पेट को कैसे साफ रखें बदहजमी और कब्ज से छुटकारा इन इन चीजों को घर क्या आप अपना पेट साफ रख सकते हैं।

नमस्कार दोस्तों स्वागत है आपका हेल्थ एंड फिटनेस में आजकल पूरी तरह से पेट साफ ना होने के चलते पेट खराब होना आम बात है।हमारी पाचन तंत्र यानी कि डाइजेस्टिव सिस्टम के जरिए हमारे दूसरे अंगों को ताकत मिलती है इसलिए जब भी हमें और हमें पाचन से संबंधित कोई समस्या होती है तो इसका सीधा असर शरीर के दूसरे अंग जैसे कि किडनी लिवर दिल पैंक्रियास फेफड़े हड्डियों तो असर पड़ता है
 इसलिए सही भोजन करने के साथ-साथ पेट अच्छी तरह से साफ होना बहुत जरूरी है जीवन जिन लोगों का पेट सुबह से समय साफ नहीं होता है या फिर जिन्हें अक्सर कब्जे की समस्या बनी रहती है तो ऐसे में हमारे खाए हुए भोजन का कुछ अवशेष हमारी आंखों में ही रह जाता है जो कि धीरे-धीरे हमारे शरीर में सडकर्र शरीर में एसिड और गैस की मात्रा को बढ़ाता है पेट पूरी तरह साफ नहीं होने से हमें पूरे दिन शरीर में थकान और भारीपन महसूस होता है। जिसके कारण में लगातार आलस आता रहता है और काम में बिल्कुल भी मन नहीं लगता है। ।पेट साफ नहीं होने की वजह से कई बार हमें ठीक से भूख भी नहीं लगती है और रात के समय अच्छी नींद भी नहीं आती है और धीरे-धीरे इसका असर हमारी बालों और त्वचा पर भी दिखाई देने लगता है जो लोग एक लंबे समय से इस समस्या से परेशान है उन्हें मोटापा पेट में गैस होना त्वचा पर तिल या मस्से होना पाइल्स बवासीर और पेट में अल्सर और लीवर में खराबी आने की जैसी गंभीर समस्या होने की बहुत अधिक संभावना रहती है और खासकर महिलाओं में खराब पेट के चलते इनका सीधा असर उनकी मानसिक धर्म और रिप्रोडक्टिव सिस्टम अंग उस पर भी होता है आज मैं इस पोस्ट में आपको बताऊंगा कि पेट साफ करने कब्ज खत्म करने के लिए सबसे असरदार घरेलू नुस्खा के बारे में। 
हरड़:- हरड़ का चूर्ण में मिलाकर सेवन करने से बात रक्त को निवाद के कारण होने वाला पेट का दर्द दूर होता है छोटी हरड़ का आधा चम्मच चूर्ण सुबह-शाम भोजन के बाद और सोते समय एक चम्मच की मात्रा में जल के साथ सेवन से पेट साफ होता है छोटी हरड़ एक से एक की मात्रा में दिन में तीन बार चूसने से गैस की बीमारी खत्म हो जाती है हरड़ बहेड़ा और आंवले को बराबर मात्रा में लेकर कूट पीसकर बारीक चूर्ण बनाकर रख लें इस चूर्ण को त्रिफला चूर्ण कहते हैं रात्रि को 5 ग्राम त्रिफला चूर्ण गर्म दूध के साथ सेवन करने से पोस्ट बता नष्ट होती है पानी के साथ खाने से क्या फायदा मिलता है इससे मिलता है और गुलाब की गोलियां 1040 भाग आधी रात को सोते समय दूध या पानी के साथ लेने से लाभ होता है और एक सोने से पहले लाभ होता है जाती है बड़ी हरड़:-बड़ी हरड़ को पीस कर रख ले फिर 5 ग्राम चूर्ण को हल्के गर्म पानी के साथ सेवन करने से कब रिक्वेस्ट बसता दूर हो जाती है बड़ी पी ली हालत का छिलका दर्ज हो ग्राम काला नमक या लोहारी आधा ग्राम मिलाकर कूट कर रख ले इसे सोने से पहले पानी के साथ लेने से पेट साफ होता है 
एरांड:- एरंड का तेल 30 ग्राम को गर्म दूध में मिश्री के साथ पीने से कब्ज में लाभ होता है एक कप दूध में दो चम्मच अरंड के तेल को मिलाकर सोते समय पिलाने से पेट की कब्जी नष्ट हो जाती है सोते समय दो चम्मच अरंड का तेल पीने से कभी दूर होती है दस्त साफ होता है इससे गर्म दूध या गर्म पानी में मिलाकर पी सकते हैं एरंड के तेल की 10 बूंदों को रात में सोते समय पानी में मिलाकर सेवन करने से कब्ज कोस्ट बदलता की बीमारी में लाभ होती है एरंड के तेल के 204 गुणों को माता के दूध में मिलाकर देना चाहिए अरंड का तेल की पीठ पर मालिश करने से पेट साफ हो जाता है कि तेल में मिलाकर पीने से हमेशा के लिए समाप्त हो जाता है रांड का तेल 20 ग्राम पानी और अदरक का रस मिश्रा मिलाकर पी लें फिर ऊपर से थोड़ा सा गर्म पानी पीने से वायु गोला में तुरंत होता है रांड का तेल और उसकी दो से तीन कलियां खाने से पेट साफ हो जाती है रांड के पत्ते और औरत की चाल को मिलाकर काढ़ा बनाकर पीने से बंद पेट फूल जाता है और शौच खुलकर आ जाती है अरंड का तेल 3 चम्मच बादाम रोगन एक चम्मच को सुबह सो कर उठते ही एक गिलास पानी पीने तथा भोजन करते समय घुट घुट कर के पानी पीने से क्या मिलता है ध्यान देने योग्य बात ठंडी के दिनों में रोजाना डेढ़ से 2 किलो और गर्मी में लगभग 3 किलो पानी पीना चाहिए भोजन के 1 घंटे पहले और लगभग 2 घंटे बाद पानी पीना चाहिए। 
काबुली हरड़:- काबुली भरत को रातों में पानी में डालकर भी वह दे सुबह इसी औरत को पानी में रगड़ का नमक मिलाकर 1 महीने तक लगातार पीने से पुरानी से पुरानी कब्ज मिट जाती है। अमरूद:-अमरूद को खाने के बाद ऊपर से दूध पीने से पेट में कभी नहीं होती है अमरूद खाने से दांतों में तारआवट आती है और कब्ज दूर हो जाती है इसे खाना खाने से पहले ही खाना चाहिए क्योंकि खाना खाने के बाद खाने से कभी बनती है कब जो वालों को नाश्ते में अमरुद लेना चाहिए पुरानी कब्ज के रोगियों को सुबह शाम अमरुद खाना चाहिए इससे पेट साफ हो जाता है अमरूद खाने से यह अमरुद के साथ किशमिश खाने से कब्ज की शिकायत नहीं रहती है नाश्ते में अमरूद का सेवन करें सख्त कब्जे में सुबह शाम अमरुद अमरुद को काली मिर्ची काला नमक और अदरक के साथ खाने से अजीर्ण गैस अफारा की तकलीफ दूर हो कर भूख बढ़ जाएगी अच्छी किस्त में तरोताजा बड़े बड़े दूध लेकर उसके छिलकों को निकाल के टुकड़े कर लें और धीमी आग पानी में उबालें अवरुद्ध हो जाएंगे तब नीचे उतारकर कपड़े में डालकर पानी निकालने उसके बाद उसके उससे 3 गुना शक्कर लेकर उस की चाशनी बनाएं और अमरूद के टुकड़े उसमें डाल दें फिर उस में इलायची दानों का चूर्ण और केसर इच्छा अनुसार डालकर मुरब्बा बनाना होने पर इस मुरब्बे को चीनी मिट्टी का बर्तन में भर कर उसका मुंह बंद कर के थोड़े दिनों तक रख दिया छोड़ दे यह मुरब्बा भी से 25 ग्राम की मात्रा में रोजाना खाने से कॉस्ट बदलता कब्जियत दूर होती है अमृत का कुछ दिनों तक नियमित सेवन करने से 3 से 4 दिनों में ही मल शुद्धि होने लगती है कॉस्ट बाध्यता मिटती है और कब्जियत के कारण होने पर ढाई सौ ग्राम खाकर ऊपर से गर्म दूध पीने से कब्ज दूर होती है। अमरुद को नाश्ते में समय काली मिर्च काला नमक और अदरक के साथ खाने से अजीर्ण गैस अफारा और कब्ज की तकलीफ दूर हो कर भूख बढ़ जाएगी अमृत के कोमल पत्तों के 10 ग्राम रस में थोड़ी शक्कर मिलाकर प्रतिदिन केवल एक खुराक सुबह सेवन करने से 7 दिनों में अर्जुन पुरानी कब्ज में लाभ होता है। गुलकंद:- गुलकंद 30 ग्राम को दूध के साथ रोजाना पीने से कब्जी कॉस्ट बाध्यता समाप्त होती है गुलकंद को खाकर ऊपर से दूध पी जाएं ऐसा 7 दिनों तक करने से कब्ज की शिकायत दूर हो जाती है गुलकंद गुलाब की पंखुड़ियों से प्राप्त रस 10 से 20 ग्राम सुबह-शाम सेवन करने से शौच साफ आती है भूख बढ़ती और शरीर में ताकत आती है दो चम्मच गुलकंद को ढाई सौ ग्राम हल्के गर्म दूध के साथ सोने से पहले लेने से पेट की गैस में लाभ होता है * 2 बड़ा चम्मच का आधा चम्मच को मिलाकर एक कप पानी में उबालकर गुलाब की सूखी ताल मिश्री 40 ग्राम को मिलाकर गर्म दूध के साथ पीने से लाभ होता है आंवला का मुरब्बा आदि में छोटी-छोटी गोलिया मना ले रोजाना तीन बार सुबह दोपहर शाम एके गोली गर्म दूध या गर्म पानी के साथ कुछ दिन तक सेवन करने से कब्ज मिलती है। नींबू का रस:- नींबू का रस 5 ग्राम अदरक का रस और 10 ग्राम साथ मिलाकर गर्म पानी के साथ सेवन करने से कब्ज को सफलता नष्ट होती है शॉट शॉट 10 ग्राम अजवायन 10 ग्राम और 3 ग्राम काला नमक मिलाकर मिश्रण बना लें रोजाना दो 2 ग्राम की मात्रा में थोड़े से पानी के साथ सुबह-शाम पीने से लाभ होता है लोंग लौंग 10 ग्राम काली मिर्च 10 ग्राम 10 ग्राम लोहारी नमक 50 ग्राम मिश्री 50 ग्राम को पीसकर नींबू का रस में डाल दें सूखने पर 5 से 5 ग्राम पानी में खाना खाने के बाद के रूप में लाभ होता है।  
अदरक अदरक का रस 10 ग्राम को थोड़े से शहद मिलाकर सुबह पीने से शौच खुलकर आती है एक कप पानी में एक चम्मच भर अदरक को कूटकर पानी में 5 मिनट तक उबालने फिर इसे छानकर पीने से कब्जी दूर होती है अदरक फुला हुआ चना और सेंधा नमक मिलाकर सेवन करने से लाभ होता है। अजवायन:-अजवायन 10 ग्राम त्रिफला 10 ग्राम और सेंधा नमक 10 ग्राम को बराबर मात्रा में लेकर कूटकर चूर्ण बना लें रोजाना 3 से 5 ग्राम चूर्ण को हल्के गर्म पानी के साथ सेवन करने से काफी पुरानी कब समाप्त हो जाती है 5 ग्राम अजवायन 10 काली मिर्च और 2 ग्राम पीतल को रात में पानी में डाल दे सुबह उठकर साद में मिलाकर ढाई सौ ग्राम पानी के साथ पीने से वायु गोला के दर्द को नष्ट करता है। अजवाइन 20 ग्राम और सेंधा नमक 10 ग्राम काला नमक 10 ग्राम को पुदीना के लगभग 1 ग्राम का चौथा भाग रस में कूट लें फिर इसे छानकर 5 से 5 ग्राम सुबह-शाम खाना खाने के बाद गर्म पानी के साथ सेवन करने से आराम मिलता है ।।।।बालू रेत की एक चुटकी को फोन करे क्लास पानी पीने के साथ भी कब्ज को आराम मिलता है।। पालक:-कच्ची पालक का रस रोज सुबह पीते रहने से कभी दूर होती है पालक और बथुआ की सब्जी खाने से भी पेट की गैस कम होती है अंगूर खाना खाने के बाद लगभग 200 ग्राम अंगूर खाने से कभी ना तो देखा बजे में अंगूर खाने से लाभ होता है शलगम का शलगम को खाने से पेट साफ हो जाता है धनिया धनिया 20 ग्राम और 20 ग्राम सहायक को रात में लड़ाई 100 ग्राम पानी में भिगो दें सुबह इसे छानकर मिश्री मिलाकर पीने से कब्ज पेट में गैस को कम कर देता है हरे धनिया की चटनी में काला नमक मिलाकर सेवन करने से लाभ होता धनिया करने में सहायता करता है धनिया के पुराना से पुराना कब्ज दूर हो जाता है । Carrot:- गाजर मूली प्याज टमाटर खीरा व चुकंदर का सलाद बनाकर नींबू का रस और सेंधा नमक मिलाकर सेवन करने से कब्ज को सत्ता से लाभ मिलता है गाजर के रस का रोजाना सेवन करने से किस्टबढ़ता तक अभी ठीक हो जाती है ऐसे व्यक्ति इंसान बवासीर रोग से सुरक्षित रहते हैं गाजर या संतरे का 200 ग्राम रस को 2 दिन में दो तीन बार पीने से कब्ज होती है रोजाना खाली पेट खाने से कभी नहीं होती है गाजर का मुरब्बा खाने से पेट नहीं हो पाता 

कोई टिप्पणी नहीं

Healths Is Wealth. Blogger द्वारा संचालित.