Header Ads

वज़न घटाने के लिए खाएं ये 5 कार्बोहाइड्रेट!

वज़न घटाने के लिए खाएं ये 5 कार्बोहाइड्रेट!
वज़न घटाने की तमन्ना रखनेवाले सबसे पहले कार्ब्स यानी कार्बोहाइड्रेट पर कंट्रोल करना शुरू करते हैं. उन्हें लगता है कि कार्ब्स में कटौती किए बिना बात नहीं बननेवाली है, पर यहां हम जिन पांच कार्ब्स के बारे में बता रहे हैं वे आपका वज़न बढ़ाते नहीं, बल्कि घटाने में तेज़ी लाते हैं. तो आइए, जान-पहचान बढ़ाएं उन चमत्कारी कार्ब्स से.
शकरकंद 
आलू की इस वरायटी को वज़न कम करने की इच्छा रखनेवालों को जमकर खाना चाहिए. यह नॉर्मल आलू की तुलना में कई गुना ज़्यादा सेहतमंद है. सबसे पहले तो यह फ़ैट फ्री है और इसमें कैलोरीज़ व सोडियम की मात्रा भी काफ़ी कम होती है. हालांकि एक सामान्य आकार के शकरकंद में 27 ग्राम कार्बोहाइड्रेट होता है, पर शोधकर्ताओं ने पाया है कि यह एडिपोनेक्टिन नामक हार्मान के स्तर को बढ़ा देता है, जो ब्लड शुगर लेवल को नियंत्रित करता है और मेटाबोलिज़्म दर को बढ़ाता है.
जौ 
आज भी देश के ग्रामीण भागों में जौ यानी बार्ली लोगों के नाश्ते का एक अहम् हिस्सा है. ब्रिटिश जरनल न्यूट्रिशन में प्रकाशित एक शोध के मुताबिक़ फ़ाइबर्स से समृद्ध जौ खाने से गट हार्मोन्स का प्रोडक्शन अचानक बढ़ता है, जिससे मेटाबॉलिज़्म दर भी बढ़ती है. इतना ही नहीं इससे भूख भी नि‌यंत्रित होती है. आप जौ की रोटी खा सकते हैं. इसका सूप बना सकते हैं या सैलेड में इसका इस्तेमाल कर सकते हैं. और एक तरीक़ा है इसे भूनकर खाने का. 
ओट्स 
ओट्स एक कॉम्प्लेक्स कार्ब है. ओट्स खाने से आपका पेट भरा हुआ महसूस होगा. यानी आपको भूख नहीं सताएगी. चूंकि इसे पचने में समय लगता है इसलिए यह मेटाबॉलिज़्म को भी ऐक्टिव रखता है. देर से पचने के कारण ब्लड शुगर का स्तर भी स्टेबल बना रहता है.
कीन्वा
आधा कप पके कीन्वा में क़रीब 20 ग्राम कार्बोहाइड्रेट होता है. एक अच्छा कार्ब होने के साथ-साथ कीन्वा डायटरी फ़ाइब, प्रोटीन, एसेंशियल अमीनो एसिड्स, आयरन और विटामिन बी-12 का भी अच्छा स्रोत है. यह तो आप जानते ही होंगे कि वज़न घटाने में आयरन और विटामिन बी-12 की कितनी महत्वपूर्ण भूमिका होती है. जहां आयरन ऊर्जा के स्तर को बरक़रार रखता है, वहीं विटामिन बी-12 थकान महसूस नहीं होने देता. और शरीर को पोषक तत्वों के अवशोषण में भी मदद करता है.
होल ग्रेन ब्रेड
द अमेरिकन जरनल ऑफ़ क्लीनिकल न्यूट्रिशन में छपी एक स्टडी में ओबीस वयस्कों को दो ग्रुप्स में बांटा गया था. पहले ग्रुप के लोगों को 12 हफ़्तों तक होल ग्रेन खाने दिया गया था, वहीं दूसरे ग्रुप के लोगों को प्रोसेस्ड ग्रेन. 12 हफ़्तों के बाद यह देखा गया कि जिस ग्रुप को होल ग्रेन खाने दिया गया था उनका बेली फ़ैट दूसरों की तुलना में ज़्यादा कम हुआ था. तो हम कह सकते हैं कि नियमित रूप से होल ग्रेन ब्रेड खाने से आप अच्छा ख़ासा वज़न कम कर सकते हैं.

कोई टिप्पणी नहीं

Healths Is Wealth. Blogger द्वारा संचालित.