Header Ads

खाना खाने के बाद यह गलतियां पड़ जाती हैं सेहत पर भारी



खाना खाने के बाद यह गलतियां पड़ जाती हैं सेहत पर भारी


खाना खाने के बाद यह गलतियां पड़ जाती हैं सेहत पर भारी


यह तो हम सभी जानते हैं कि स्वस्थ रहने के लिए हेल्दी फूड का सेवन करना बेहद जरूरी है। कई बार आपने फूड काॅम्बिनेशन के बारे में भी सुना होगा। अमूमन देखने में आता है कि लोग खाने में तो हेल्दी चीजों का तो सेवन करते हैं, लेकिन फिर भी उन्हें कई तरह की स्वास्थ्य समस्याएं होती हैं। इसके पीछे मुख्य कारण होता है भोजन को लेकर उनकी कुछ गलत आदतें। अगर आप सच मंे हेल्दी जीवन बिताना चाहते हैं तो जरूरी है कि भोजन के चयन के साथ-साथ उसे खाने के तरीके पर भी ध्यान दिया जाए। तो चलिए आज हम आपको ऐसी ही कुछ गलत आदतों के बारे में बता रहे हैं, जिन्हें अगर भोजन के बाद किया जाए तो इससे आपको कई तरह की समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है-

पानी का सेवन


आपने यह तो सुना ही होगा कि भोजन करने के तुरंत बाद पानी का सेवन नहीं करना चाहिए। इससे भोजन के पाचन में परेशानी होती है। अगर आपको पानी पीना भी है तो भोजन और पानी के बीच में कम से कम आधे घंटे का गैप अवश्य रखें। वहीं कुछ गर्मियों के मौसम में ठंडा पानी पीना पसंद करते हैं। अगर आप भी ऐसा करते हैं तो समझ लीजिए कि इससे पेट में भारीपन की समस्या हो सकती है। बेहतर होगा कि आप आधे घंटे के बाद ही पानी पीएं और वहाी हल्का गुनगुना या सामान्य।

एक्सरसाइज से तौबा


यह सच है कि व्यायाम करना सेहत के लिए काफी अच्छा होता है, लेकिन व्यायाम करने का भी अपना एक समय होता है। कभी भी भोजन के तुरंत बाद एक्सरसाइज नहीं करनी चाहिए। इससे डाइजेशन पर तो विपरीत असर पड़ता है ही, साथ ही आपको उल्टी, पेट में दर्द, सूजन या दस्त आदि भी हो सकते हैं। इसलिए हमेशा कहा जाता है कि व्यायाम और भोजन के बीच मंे एक से दो घंटे का गैप होना अनिवार्य है। न तो एक्सरसाइज के तुरंत बाद हैवी भोजन करें और न ही भोजन के बाद एक्सरसाइज। हालांकि अगर आपको थोड़ा हैवी लग रहा है तो आप भोजन करने के कुछ देर बाद हल्की चहलकदमी कर सकते हैं। इससे भोजन के पाचन में आसानी होती है। लेकिन दौड़ने से परहेज करें।

न नहाएं

नहाने से भले ही बाॅडी रिलैक्स और शरीर का तापमान सामान्य होता हो लेकिन खाने के तुरंत बाद नहाने की गलती नहीं करनी चाहिए। जब आप ऐसा करते हैं तो रक्त संचार

की दिशा बदल जाती है। जिससे डाइजेश की प्रक्रिया में मदद करने वाला रक्त शरीर के तापमान को मेनटेन करने में लग जाता है, जिससे खाने के पचने में दिक्कत आती है।

न करें यह गलती


आपने अक्सर घरों में देखा होगा कि महिलाएं भोजन करने के बाद लेट जाती है या लंचटाइम के बाद उन्हें सोने की आदत होती है, लेकिन यही आदत आपके लिए सीने में जलन व एसिडिटी की समस्या खड़ी कर सकती है। कभी भी भोजन करने के तुरंत बाद न लेंटे। ऐसा करने से भोजन को पचने में तो परेशानी होती है ही, साथ ही भोजन वापिस उपर की तरफ आने लगता है, जिससे हार्टबर्न या एसिडिटी की परेशानी होती है।

इन्हें कहें नो

कुछ ऐसी चीजें भी होती हैं, जिन्हें भोजन के तुरंत बाद सेवन करने से बचना चाहिए। उदाहरण के तौर पर, हेल्दी होने के बावजूद भी फलों का सेवन भोजन के तुरंत बाद करने की सलाह नहीं दी जाती। दरअसल, फलों में मौजूद शुगर खाने के प्रोटीन और कार्ब्स से फर्मेंट हो जाता है जिससे डाइजेशन की प्रक्रिया धीमी हो जाती है। इससे आपको पेट में दर्द हो सकता है। ठीक इसी तरह, खाना खाने के बाद चाय पीने से भी बचना चाहिए। दूध वाली चाय पीने से बॉडी में आयरन का अवशोषण ठीक प्रकार से नहीं होता। ऐसे में आपको भोजन में मौजूद पोषक तत्व पर्याप्त मात्रा में नहीं मिलते। वहीं भोजन के बाद स्मोकिंग काफी नुकसानदेह होती है, इसलिए ऐसी भूल करने से भी बचें।

पेट को आराम


कई बार ऐसा होता है कि लोग खाना खाने के बाद या खाना खाते समय बेल्ट या पैंट की बटन को ढीला कर देते हैं। ऐसा करना भले ही आपको सुविधाजनक लगता हो लेकिन इससे आपको दो तरह के नुकसान होते हैं। सबसे पहले तो आप इस चक्कर में ओवरईटिंग कर लेते हैं। वहीं दूसरी ओर, इसके कारण अग्नाशय में चल रही प्रक्रिया भी प्रभावित होती है जिससे पेट के निचले हिस्से में तेज दर्द होता है।


मुंहासों से लेकर टैनिंग दूर करता है एलोवेरा, बस जानिए इस्तेमाल का तरीका


बेदाग और खूबसूरत त्वचा यकीनन हर किसी का ध्यान अपनी ओर खींचती है और इसे पाने की चाहत आप मन ही मन करते होंगे। कई महिलाएं तो अपनी इस ख्वाहिश को पूरा करने के लिए ब्यूटी पार्लर के चक्कर ही काटती रहती हैं या फिर ब्यूटी प्राॅडक्ट्स पर हजारों रूपए खर्च कर देती हैं। अगर आप भी ऐसा ही करती हैं तो अब इसे बंद कर दीजिए। आपको अपने आसपास ऐसी कई चीजें मिल जाएगीं तो प्राकृतिक रूप से आपकी खूबसूरती को निखारेंगी ही, साथ ही इससे आपके पैसे खर्च भी नहीं होंगे। ऐसी ही एक चीज है एलोवेरा। इसकी खासियत यह है कि यह हर तरह की स्किन के लिए उपयुक्त है और साथ ही अगर इसका प्रयोग सही तरह से किया जाए तो हर तरह की स्किन समस्या से निजात पाई जा सकती है। तो चलिए जानते हैं इसके बारे में- 

हटाए दाग-धब्बे


स्किन पर मौजूद कील-मुंहासे व दाग-धब्बे आपकी नेचुरल ब्यूटी को कहीं छिपा देते हैं। इसे हटाने में एलोवेरा की मदद लें। इसके लिए आप ताजा एलोवेरा की पत्ती तोड़कर उसमें से जेल निकालें। अब इसमें ऑलिव ऑयल और नींबू का रस मिलाएं। इसके बाद इस पैक को दाग-धब्बों और मुंहासों पर लगाकर 10-15 मिनट के लिए छोड़ दें। अंत में चेहरे को पानी से धोएं।

निखारे रंगत


अगर आप अपनी स्किन की रंगत को निखारना चाहते हैं तो इसके लिए एलोवेरा जेल आपके काम आ सकता है। इसके इस्तेमाल के लिए एलोवेरा जेल में गुलाबजल को बराबर मात्रा में लेकर मिक्स करें। अब इसे चेहरे पर लगाकर करीबन 20 मिनट के लिए छोड़ दें। अंत में पानी से चेहरा वाॅश करें।

हटाए टैनिंग

गर्मी के मौसम में स्किन की जो समस्या सबसे अधिक देखने को मिलती है वह है टैनिंग। सनस्क्रीन लगाने के बाद भी तेज धूप के चलते टैनिंग हो ही जाती है। ऐसे में आप नींबू के रस में एलोवेरा जेल मिलाकर चेहरे पर लगाएं। नींबू एक ब्लीचिंग एजेंट की तरह काम करता है, जो टैनिंग को दूर करता है। वहीं एलोवेरा जेल की सूदिंग प्राॅपर्टीज स्किन को ठंडक पहुंचाती है। इसके कारण सनबर्न की समस्या से भी राहत मिलती है।

करे स्किन की सफाई


आज के समय मंे जिस तरह प्रदूषण बढ़ रहा है, उसके कारण सेहत के साथ-साथ स्किन पर भी असर पड़ता है। धूल-मिट्टी व गंदगी के कारण स्किन एकदम डल व बेजान नजर आती है। ऐसे में स्किन की भीतर से सफाई करने के लिए एलोवेरा जेल की मदद लीजिए। स्किन को क्लीन करने के लिए फेस पैक बनाने के लिए ऐलोवेरा जेल मंे दही व नींबू मिक्स करें। अगर आपकी स्किन ड्राई है तो इसमें नींबू के स्थान पर शहद का प्रयोग करें। अब इस पैक को 15 मिनट तक चेहरे पर लगाएं और बाद में धो लें। आपको तुरंत ही अपनी स्किन में बदलाव नजर आएगा।

जवां-जवां लगेगी त्वचा

उम्र बढ़ने के साथ-साथ उसका असर स्किन पर नजर आता है। बढ़ती उम्र में स्किन में ढीलापन, झुर्रियां व झाइयां नजर आने लगती है। इस समस्या से निजात पाने के लिए एलोवेरा जेल का प्रयोग करें। चेहरे में कसावट लाने के लिए एलोवेरा और गुलाब जल को मिलाकर पेस्ट तैयार करें। 15 मिनट चेहरे पर लगाने के बाद ठंडे पानी से चेहरे को धो लें। नियमित रूप से इस पैक को लगाने से धीरे-धीरे झाइयों के निशान चले जाते हैं।

अगर है सेंसेटिव स्किन


जिन लोगों की स्किन सेंसेटिव होती है, उन्हें किसी भी चीज का इस्तेमाल करने से पहले सौ बार सोचना पड़ता है। अगर आपकी स्किन सेंसेटिव है और आपकी स्किन को क्लीन व क्लीयर बनाना चाहते हैं तो उसके लिए एलोवेरा जेल में खीरे का रस, दही और गुलाब का तेल मिलाये। अब इसे अपने चेहरे पर लगाकर 15-20 मिनट के लिए छोड़ दें। अंत में ठंडे पानी से चेहरा साफ करें।

हटाए डेड स्किन

शरीर में मौजूद डेड स्किन सेल्स के कारण स्किन बेजान नजर आती है। इसके लिए भी एलोवेरा जेल काफी काम आता है। आप इसकी मदद से एक बेहतरीन स्क्रब बना सकती हैं। इसके लिए सबसे पहले ऑलिव ऑयल और एलोवेरा जेल लेकर मिक्स करें। अब इसमें ओट्स की बराबर मात्रा मिलाकर पेस्ट बना लें। इसके बाद आप इस स्क्रब को चेहरे पर लगाकर हल्के हाथों से मसाज करें। फिर दस मिनट के लिए यूं ही छोड़ दें। अंत में साफ पानी से चेहरे को धो लें।




इन तरीकों से चुटकियों में करें फ्रिज की सफाई



अब जैसे-जैसे गर्मियों ने दस्तक देनी शुरू कर दी हैं, हर किसी को एक चीज की सबसे ज्यादा जरूरत महसूस होगी, वह है फ्रिज। ठंडा पानी पीने से लेकर खाना खराब होने से बचाने के लिए फ्रिज का इस्तेमाल किया जाता है। खासतौर से, गर्मी के मौसम में तो इसकी जरूरत हर घर में महसूस होती है। जहां फ्रिज आपकी जरूरतों का ध्यान रखता है, ठीक उसी तरह यह भी आवश्यक है कि आप भी फ्रिज का सही तरीके से ख्याल रखें। अक्सर देखने में आता है कि लोग फ्रिज तो खरीद लेते हैं, लेकिन उसके रख-रखाव पर किसी का ध्यान ही नहीं जाता। कुछ लोग तो कई-कई महीनों तक इसकी सफाई ही नहीं करते। जिसके कारण उसमें बदबू आने लगती है और उसमें बैक्टीरिया पनपने लगते हैं। इसलिए यह बेहद आवश्यक है कि आप सप्ताह या दस दिन में एक बार फ्रिज को अवश्य साफ करें। वैसे अगर आप यह सोचते हैं कि फ्रिज साफ करना एक सिरदर्द है तो आप बिल्कुल गलत हैं। आज हम आपको फ्रिज की सफाई करने के कुछ आसान तरीकों के बारे में बता रहे हैं-

जरूरी है सफाई
सबसे पहले तो हम आपको यह बता दें कि फ्रिज की समय समय पर सफाई करना बेहद आवश्यक है। अरग आप आलस के कारण ऐसा करने से बचते हैं तो आप अपनी ही सेहत के साथ खिलवाड़ करने लगते हैं। फ्रिज की सफाई न करने के कारण फ्रिज से महक तो आती है ही, साथ ही फ्रिज में रखा सारा सामान खराब हो जाता है और जो सामान साफ होता है, उसमें से भी महक आने लगती है। इस प्रकार फ्रिज की सफाई न करने से बड़ी मात्रा में खाने का नुकसान होता है। वहीं इसके कारण व्यक्ति बीमार भी रहने लगता है क्योंकि जब खराब खाना लंबे समय तक फ्रिज में रहता है तो फ्रिज के ठंडे तापमान में छोटे-छोटे बैक्टीरिया पनपने लगते हैं। जिसका आपकी सेहत पर विपरीत प्रभाव पड़ता है।

समझें स्टोरिंग का विज्ञान

फ्रिज भले ही आपके भोजन को लंबे समय तक खराब होने से बचाता है, लेकिन यह केवल तभी संभव है, जब आप उसमें सामान सही तरह से रखें। सबसे पहले तो आप फ्रिज में सामान स्टोर करने के तरीके पर ध्यान रखें। मसलन, अगर आप फ्रिज में मीट रख रहे हैं तो उसे उपर की शेल्फ पर न रखें। इससे उसका रस नीचे टपकता है और अन्य खाने का सामान खराब होता है। बेहतर होगा कि आप इसे किसी प्लास्टिक बैग या बाउल आदि में रखकर नीचे की ओर रखें। ठीक इसी तरह, आप अपने फूड आइटम्स को एयरटाइट कंटेनर में बंद करके रखें। इससे खाने के सामान का जल्दी खराब नहीं होता, साथ ही उसकी महक फ्रिज में नहीं फैलती।

फ्रिज में सामान को सही तरह से रखने से वह जल्द खराब नहीं होता और आप उसे आसानी से खा सकते हैं। उदाहरण के तौर पर, फलों, सब्जियों और जल्दी खराब होने वाले सामान को फ्रिज में इस तरह रखें कि आपकी नजर उस पर आसानी से पड़ जाए। इस तरह आप उनके खराब होने से पहले ही उसे इस्तेमाल कर लें।

न करें यह गलती


कुछ लोग फ्रिज में सामान रखते समय कुछ ऐसी छोटी-छोटी गलतियां करते हैं, जिसका हर्जाना उनकी सेहत को चुकाना पड़ता है। उदाहरण के तौर पर फ्रिज को ओवरलोड नहीं करना चाहिए। आपको शायद यकीन न हो लेकिन इससे आपको डायरिया भी हो सकता है। दरअसल, फ्रिज की ठंडी हवा को सर्कुलेट होने के लिए थोड़े स्पेस की आवश्यकता होती है। लेकिन जब कोल्ड एयर को वह स्पेस नहीं मिलता तो फ्रिज मंे बैक्टीरिया पनपने लगते हैं और चीजें जल्दी खराब होती है।

आसान होगी सफाई

एक हेल्दी जीवन का राज कहीं न कहीं आपके भोजन में छिपा होता है और भोजन काफी हद तक फ्रिज पर निर्भर करता है। इसलिए जरूरी है कि आप सप्ताह में कम से कम एक बार फ्रिज की क्लीनिंग अवश्य करें। फ्रिज की सफाई करने के लिए आप सबसे पहले उसे खाली करें। आप फ्रिज की क्लीनिंग का काम वीकेंड पर करें ताकि आप आसानी से फ्रिज को क्लीन कर पाएं। वैसे फ्रिज को क्लीन करने के लिए आप बाजार में मिलने वाले क्लीनर या गर्म पानी और साबुन का इस्तेमाल कर सकते हैं।

वहीं अगर आपके पास समय कम है और आप फ्रिज को क्लीन करना चाहते हैं तो फिर होममेड चीजों का प्रयोग करना अच्छा विचार हो सकता है। उदाहरण के तौर पर, बेकिंग सोडा फ्रिज को बेहद आसानी व जल्दी से साफ कर सकता है। इसके लिए आप एक कटोरी में बेकिंग सोडा भरकर उसे फ्रिज में रख दें। सोडा धीरे−धीरे सारी बदबू को अब्जॉर्ब कर लेगा। ठीक इसी तरह, नींबू के स्लाइस को काटकर फ्रिज में रखने से उसकी स्मेल खत्म हो जाती है। इसके अतिरिक्त सिरका भी फ्रिज क्लींिनंग में काम आता है। इसके इस्तेमाल के लिए आप सिरके और पानी को मिलाकर उससे फ्रिज साफ करें। ठीक इसी तरह, फ्रिज की बदबू दूर करने के लिए आप कॉफी के बीजों को भरकर फ्रिज में रख दें।
जरूरी टिप्स


आप सप्ताह या पंद्रह दिन में तो फ्रिज क्लीनिंग करते हैं ही, लेकिन साथ ही जब भी आप फ्रिज खोलें और आपको फ्रिज में कोई खराब चीज जैसे दो दिन पहले की बनी हुई सब्जी या फिर ऐसी कोई चीज दिखती है, जिसे आप अब इस्तेमाल नहीं करने वाले तो उसे तुरंत बाहर का रास्ता दिखा दें। ऐसी चीजें अगर फ्रिज में रखी रहती हैं तो इससे बाकी सामान भी खराब हो जाता है।



एक्ने से छुटकारा दिलाते हैं यह होममेड पैक्स


जिन महिलाओं की स्किन एक्ने प्रोन होती है, वह मुंहासों को छिपाने के लिए तरह-तरह के उपाय अपनाती हैं। यह उपाय भले ही कुछ देर के लिए इन मुंहासों को छिपा दें लेकिन इस तरह इनसे निजात नहीं मिलती। अगर आपकी स्किन भी ऐसी ही है तो अब आपको इन्हें छिपाने की जरूरत नहीं है। बल्कि जरूरत है कि आप इन्हें जड़ से ही मिटा दें। इसके लिए आप कुछ होममेड पैक्स की मदद ले सकती हैं। तो चलिए जानते हैं इन होममेड पैक्स के बारे में-


शहद व नींबू


इस फेसमास्क को बनाने के लिए एक बाउल में एक टेबलस्पून शहद में आधा नींबू मिक्स करें। अब इस मिश्रण को अपने चेहरे पर लगाकर करीबन 15-20 मिनट के लिए छोड़ दें। अब पानी की मदद से स्किन को साफ करें और टाॅवल की मदद से हल्के हाथों से पोंछें। आप इस फेस मास्क को प्रतिदिन अप्लाई कर सकती हैं। शहद एक एंटी-बैक्टीरियल और प्राकृतिक एंटी-आॅक्सीडेंट है। यह बैक्टीरिया को खत्म करने के साथ-साथ त्वचा को माॅइश्चराइज और पोषित करता है। वहीं नींबू त्वचा को एक्सफोलिएट करता है और ब्लैकहेड्स को भी साफ करता है।

एलोवेरा व हल्दी

एक बाउल में एक टेबलस्पून एलोवेरा जेल लेकर उसमें थोड़ी सी हल्दी मिलाएं। अब इस पैक को चेहरे पर लगाकर 15-20 मिनट के लिए छोड़ दें। अंत में साफ पानी से स्किन को क्लीन करंे। आप सप्ताह में दो से तीन बार इस पैक को अप्लाई कर सकते हैं। जहां एलोवेरा त्वचा को पोषित करने के साथ-साथ उसे विषाक्त पदार्थों से बचाता है, वहीं हल्दी में भी एंटी-बैक्टीरियल और एंटी-इंफलेमेटरी प्राॅपर्टीज पाई जाती हैं। जो स्किन को भीतर से साफ करने में मदद करती हैं।

नीम व गुलाब जल


एक बाउल में एक टेबलस्पून नीम पाउडर लेकर उसमें दो टेबलस्पून गुलाब जल मिक्स करें। अब इस पैक को अपने चेहरे व गर्दन पर लगाएं। करीबन बीस मिनट बाद साफ पानी से स्किन की सफाई करें। आप एक दिन छोड़कर इस पैक का इस्तेमाल कर सकती हैं। यह पैक कील-मुंहासों से छुटकारा दिलाने में बेहद प्रभावी है। दरअसल, नीम मुंहासे पैदा करने वाले बैक्टीरिया को खत्म करता है, जिससे स्किन एक्ने फ्री हो जाती है।

मुल्तानी मिट्टी व नींबू


इस पैक को बनाने के लिए सबसे पहले एक बाउल में एक टेबलस्पून मुल्तानी मिट्टी में आधा नींबू मिक्स करें। अब इस मिश्रण को चेहरे पर लगाकर आधे घंटे के लिए छोड़ दें। अंत में पानी से साफ करें। आप सप्ताह में एक बार इस पैक का इस्तेमाल कर सकती हैं। मुल्तानी मिट्टी त्वचा के अतिरिक्त तेल को सोख लेता है। स्किन का अतिरिक्त आॅयल भी मुंहासों का एक कारण होता है। इसके अतिरिक्त मुल्तानी मिट्टी मैग्नीशियम क्लोराइड का भी एक बेहतरीन स्त्रोत है, जिसके कारण यह मुंहासों को रोकने में मददगार है।

खीरा व टमाटर


खीरा व टमाटर को तो आप अक्सर सलाद के रूप में खाते होंगे लेकिन अब इसकी मदद से मुंहासों को दूर करें। इसके लिए एक बाउल में दो टेबलस्पून टमाटर का पल्प लेकर उसमें एक टेबलस्पून खीरे का पल्प मिक्स करें। अब इस मिश्रण को चेहरे पर लगाकर आधे घंटे के लिए छोड़ दें। करीबन आधे घंटे बाद चेहरे को साफ करें। आप एक दिन छोड़कर इस पैक का इस्तेमाल कर सकते हैं। खीरा मंुहासे के निशानों को हल्का करता है। साथ ही यह स्किन के डेड सेल्स और अशुद्धियों को दूर करता है। वहीं टमाटर में विटामिन ए पाया जाता है, जो स्किन को नरिश और रिजुविनेट करता है।

तुलसी व पुदीना


एक मिक्सी के जार में दस तुलसी की पत्तियां और दस पुदीने की पत्तियां डालकर उसमंे थोड़ा सा पानी मिक्स करके एक पेस्ट बनाएं। अब इस पेस्ट को चेहरे व गर्दन पर लगाकर आधे घंटे के लिए छोड़ दें। इसके बाद पानी की मदद से स्किन साफ करें। आप सप्ताह में दो से तीन बार इसका प्रयोग करें। तुलसी एक एंटी-बैक्टीरियल है जो पिंपल्स पैदा करने वाले बैक्टीरिया को खत्म करती है। वहीं पुदीने में सैलिसिलिक एसिड होता है, जो मुंहासों को ठीक करता है।

दालचीनी व नींबू

इस फेस पैक को बनाने के लिए एक टेबलस्पून दालचीनी पाउडर में दो टेबलस्पून नींबू का रस मिलाकर पेस्ट बनाएं। अब इस पेस्ट को अपने चेहरे पर लगाकर बीस मिनट के लिए छोड़ दें। उसके बाद पानी की मदद से स्किन को साफ करें। आप इस पैक का इस्तेमाल सप्ताह में दो बार कर सकती हैं। दालचीनी में एंटी-माइक्रोबियल प्रापर्टीज पाई जाती हैं, जो एक्ने को कम करने में मददगार है।



तेजी से कम करना है वजन, रात में अपनाएं यह आदतें


आज के समय में अधिकतर लोगों के पास इतना समय ही नहीं है कि वह अपनी सेहत का ध्यान रख सकें। सुबह की भागदौड़ और पूरा दिन काम करने की जद्दोजहद में उनकी सेहत की अनदेखी होती है और कब उनकी कमर का आकार बढ़ने लगता है, इसका उन्हें पता ही नहीं चलता। यह मोटापा अपने साथ अन्य भी कई समस्याएं लेकर आता है। यह सच है कि पूरा दिन काम की व्यस्तता में आपको अपना ध्यान रखने का समय नहीं मिलता लेकिन रात में आप कुछ आसान उपाय अपनाकर बढ़ते वजन को नियंत्रित कर सकते हैं। तो चलिए जानते हैं इन उपायों के बारे में-


नहाने को बनाएं आदत


यह तो हम सभी जानते हैं कि रात को सोने से पहले नहाने से नींद काफी अच्छी आती है और इससे पूरी थकावट भी मिट जाती है। लेकिन क्या आप इस बात से वाकिफ हैं कि अगर आप इस आदत को अपनाते हैं तो इससे वजन भी कम होता है। दरअसल, सोने से पहले नहाने से तन-मन रिलैक्स व रिफ्रेश होता है। जिससे आप खुद को तनावमुक्त महसूस करते हैं। वजन बढ़ने के मुख्य कारणों मंे से एक तनाव भी होता है।

जरूरी है अच्छी नींद

आपको शायद जानकर हैरानी हो लेकिन अच्छी नींद सिर्फ हेल्दी रहने के लिए ही जरूरी नहीं है, बल्कि यह वजन घटाने में भी अपनी एक अहम भूमिका निभाती है। दरअसल, जो लोग रात में अच्छी व पर्याप्त नींद लेते हैं, उनका मेटाबाॅलिज्म बेहतर तरीके से काम करता है। जब बाॅडी का मेटाबाॅलिज्म सही तरह से काम करता है तो वजन भी तेजी से घटने लगता है।

स्किप न करें डिनर

जो लोग जल्दी वजन कम करना चाहते हैं, वह अक्सर रात में डिनर नहीं करते। अगर आप भी ऐसा ही करते हैं तो समझ लीजिए कि आप अपनी ही सेहत से दुश्मन है। इससे आपका वजन तो बढ़ेगा ही, साथ ही अन्य भी कई तरह की स्वास्थ्य समस्याएं पैदा होंगी। सबसे पहले तो डिनर न करने से देर रात तेज भूख लगती है और व्यक्ति कुछ भी उल्टा-सीधा खा लेता है, जिससे पूरा वेट लाॅस प्रोग्राम बिगड़ जाता है और कई बार तो इसके चलते वजन भी बढ़ने लगता है। वहीं जो लोग रात को खाना नहीं खाते और सीधे सुबह ही नाश्ता करते हैं, उनके दो मील के बीच में काफी गैप हो जाता है। कई बार इसके चलते व्यक्ति मधुमेह पीड़ित भी हो जाता है।

जरूरी है टहलना


अक्सर लोगों की शिकायत होती है कि सुबह आॅफिस जाने की जल्दी में वह वाॅक या अन्य कोई फिजिकल एक्टिविटी नहीं कर पाते। अगर आपके साथ भी ऐसा है तो आप रात में वाॅक करने को अपनी आदत बनाएं। प्रतिदिन डिनर के बाद कुछ देर टहलने के लिए निकल जाएं। इससे भोजन अच्छी तरह पचता है और शरीर पर फैट जमा नहीं होता। इसके अतिरिक्त टहलकर आप कुछ कैलोरी भी बर्न करते हैं। इस प्रकार शरीर में स्टोर फैट उर्जा मंे तब्दील हो जाता है।

इनसे करें तौबा

यह सच है कि रात में डिनर करना बेहद आवश्यक है लेकिन आप डिनर में क्या खा रहे हैं, इस पर नजर रखना बेहद जरूरी है। रात के समय आप लो फैट व आसानी से पचने वाले भोजन को ही डाइट में शामिल करें। साथ ही इस दौरान चीनी या चावल आदि लेने से बचें। रात में इन चीजों का सेवन वजन कम करने के स्थान पर बढ़ाता है। वहीं कुछ लोग वेटलाॅस करने के चक्कर में रात में ग्रीन टी का सेवन करते हैं, लेकिन इसमें मौजूद कैफीन आपकी नींद पर विपरीत प्रभाव डालता है। इसलिए इसकी जगह कैमोमाइल टी या गरमा-गरम दूध का सेवन करें।

अन्य टिप्स



जो लोग वजन कम करना चाहते हैं, उन्हें भोजन के समय पर भी ध्यान देना चाहिए। कभी भी भोजन करने के तुरंत बाद न सोएं। भोजन और बेडटाइम में दो घंटे का गैप होना आवश्यक है।
गर्मी के मौसम में बहुत अधिक ठंडे कमरे में सोने से परहेज करें। ऐसा करने से आपके शरीर को कैलोरीज बर्न करने में परेशानी होती है और आपका वजन जल्द कम नहीं होता।
अंधेरे कमरे में सोने की कोशिश करें। अगर आप अंधेरे कमरे में नहीं सो सकते तो कम से कम अपने कमरे की लाइट डिम ही रखें।



बेटियां अच्छी, लेकिन चाह फिर भी एक बेटे की ही


आज अंतरराष्टीय महिला दिवस के दिन जब पूरे विश्व में महिलाओं की कामयाबी, उनके गुणों व क्षमताओं का बखान किया जा रहा है, वहीं दूसरी ओर फिर भी लोग मन ही मन एक बेटे की ही आस करते हैं। यह सच है कि आज के समय में स्त्रियों ने अपनी क्षमताओं का प्रदर्शन हर मोर्चे पर किया है। मैरी काॅम से लेकर मानुषी छिल्लर, हिमा दास, आंचल ठाकुर, अवनि चतुर्वेदी, फोगाट सिस्टर्स, साक्षी मलिक, पीवी सिंधु, साइना नेहवाल और न जाने कितनी ही लड़कियों ने यह साबित करके दिखाया है कि अगर उन्हें मौका मिले तो वह भी आसमान छूने की ताकत रखती हैं। लेकिन इसे पित्तृसत्तात्मक समाज की सोच की उपज ही कहा जाएगा कि आज भी लड़की पैदा होने के बाद हर घर में लोग एक बेटा होने की उम्मीद लगाए रहते हैं और इसके लिए किसी भी तरह की अमानवीय हरकत करने से नहीं चूकते। ऐसी कितनी ही घटनाएं भारत में देखने सुनने और पढ़ने को मिलती हैं, जब एक स्त्री पर लड़की पैदा करने के बाद लड़का जन्म देने के लिए अत्यधिक दबाव डाला जाता है। पिछले दिनों महाराष्ट में भी एक ऐसी ही घटना देखने को मिली, जब एक परिवार की बेटे की चाह ने एक महिला की जान ही ले ली।

महाराष्ट के बीड जिले में एक स्त्री को उसके परिवारजनों ने दस बार इसलिए गर्भाधान के लिए मजबूर किया ताकि एक बेटे को जन्म दे सके और प्रसव के दौरान उस महिला की अधिक खून बहने से मौत हो गई। इतना ही नहीं, उसका शिशु भी मृत ही पैदा हुआ। उस स्त्री की पहले से ही सात बेटियां हैं, जिसमें से एक की मौत भी हो चुकी है और दो बार उसका गर्भपात भी करवाया जा चुका था। उस स्त्री के उपर बेटा पैदा करने का दबाव कुछ इस कदर था कि न चाहते हुए भी उसने फिर से गर्भधारण किया। पुलिस ने इसे दुर्घटनावश मौत का मामला दर्ज किया है लेकिन अगर सही मायनों में देखा जाए तो यह दुर्घटनावश मृत्यु नहीं बल्कि एक हत्या है। परिवार के बेटे की चाह को पूरा करने के चक्कर में एक स्त्री ने सालों मानसिक और शारीरिक दर्द सहा और अंततः उन्हीं की इच्छा की बलि चढ़ गई।


यह कोई पहला वाक्या नहीं है। भारत में पुत्र को परिवार का वंश आगे बढ़ाने वाला माना जाता है और इसकी मानसिकता से जकड़े अनपढ़ और पढे़-लिखे लोग हमेशा ही एक पुत्र की कामना करते हैं। पुत्र न होने पर यही चाह कब टीस और फिर टीस से अपराध में तब्दील हो जाती है, इसका पता ही नहीं चलता। अगर गहराई से आकलन किया जाए तो पता चलता है कि महिलाओं के साथ होने वाले कई प्रकार के अत्याचारों की जड़ में कहीं न कहीं एक बेटा पाने का मोह ही छिपा हुआ है। सबसे पहले तो इसके लिए स्त्री को कई बार शारीरिक व मानसिक यातनाएं दी जाती हैं। उस पर एक बेटा पैदा करने का मानसिक दबाव बनाया जाता है और बेटा न होने पर उसे ही कोसा जाता है। कभी-कभी स्त्री को तब तक गर्भधारण करना पड़ता है, जब तक वह परिवार को एक पुत्र न दे। इसके अतिरिक्त भारत में बच्चे के जन्मपूर्व गर्भपरीक्षण प्रतिबंधित होने के बावजूद भी अवैध तरीकों से लिंग जांच करवाई जाती है और लड़की होने पर उस नन्हीं सी जान को गर्भ में ही मार दिया जाता है। कभी-कभी अवैध रूप से किया गया अबार्शन स्त्री को भी मौत के मुंह में धकेल देता है। वहीं अगर बच्ची घर में जन्म ले लेती है तो भी अधिकतर घरों में उसे वह प्यार व आगे बढ़ने के मौके नहीं मिलते, जिसकी वह वास्तव में हकदार होती है।


इसके अतिरिक्त पुत्र मोह ही देश में लिंगानुपात में असमानता का कारण बनता है, जो अन्य कई तरह के अपराधों को जन्म देता है। देश में प्रति एक हजार लड़कों पर केवल 940 लड़कियां ही है। वहीं कुछ राज्यों में तो स्थिति और भी अधिक बदतर है। इन राज्यों में लड़कों को विवाह के लिए लड़कियां ही नहीं मिलतीं। लिंगानुपात में यही असमानता लड़कियों की जबरन शादी या एक से अधिक पुरूषों से शादी, लड़कियों की तस्करी या फिर लड़कियों को खरीदकर उनसे शादी करना जैसे कई अपराधों का कारण बनती है।

इस प्रकार, अगर महिलाओं के साथ होने वाले अपराधों पर लगाम लगानी है तो सबसे पहले पुत्र मोह का दामन छोड़ना होगा। बेटियों की सुरक्षा के लिए मोदी सरकार ने साल 2015 में बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ अभियान की शुरूआत की। यहां पर यह समझना बेहद आवश्यक है कि यहां सवाल सोच का है अैर सरकार भले ही कितने भी कानून बना ले लेकिन अगर समाज में लोगों की मानसिकता नहीं बदलती, तो किसी भी कानून, नियम या योजनाओं से कोई विशेष लाभ नहीं होने वाला। इसे दुखद ही कहा जाएगा कि आज जब हर क्षेत्र में लड़कियों ने अपनी काबिलियत का बखूबी प्रदर्शन किया है, तब भी लोग अपने मन में एक बेटे की कसक लेकर जीते हैं। घर में लड़की होने पर मातम का माहौल रहता है, वहीं बेटा होने पर मिठाईयां बांटी जाती हैं। समाज में लोगों की सोच है कि बेटा बुढ़ापे का सहारा है। अगर वास्तव में ऐसा है तो शायद देश में इतने वृद्धाश्रम नहीं होते। वृद्धाश्रम में बुजुर्गों को छोड़ने वाली एक बेटी नहीं, बल्कि वास्तव में बेटा ही होता है। तो बेटे के मोह में बेटी के साथ अत्याचार। आखिर क्यों?








सुबह जल्दी उठने में होती है परेशानी, यह टिप्स आएंगे काम

हम सभी ने बचपन में यह सुना है कि सुबह जल्दी उठना चाहिए। सुबह जल्दी उठने वाला व्यक्ति न सिर्फ स्वस्थ रहता है, बल्कि उसे कभी भी समय की कमी का रोना नहीं रोना पड़ता। ऐसे बहुत से लोग होते हैं, जो सुबह जल्दी उठना तो चाहते हैं लेकिन फिर भी ऐसा नहीं कर पाते। अगर आपका नाम भी ऐसे ही लोगों की लिस्ट मंे शुमार है तो अब आपको परेशान होने की जरूरत नहीं है। आज हम आपको ऐसे कुछ आसान तरीके बता रहे हैं, जिसकी मदद से आप सुबह जल्दी उठ पाएंगे-

तय करें समय

अगर आप वास्तव में जल्दी उठने को अपनी आदत बनाना चाहते हैं तो इसके लिए सबसे जरूरी है कि आप एक निश्चित समय तय करें। मसलन, आपको हर दिन एक निश्चित समय पर सोना व जागना है। हो सकता है कि शुरूआत में आपको निर्धारित समय पर नींद न आए या फिर आपकी आंख न खुले लेकिन फिर भी अपने नियम को न तोडे़। आप चाहें तो अच्छी नींद के लिए बेड पर जाने के बाद टेक्नोलाॅजी को खुद से दूर कर दें और स्लीप हाईजीन का भी ध्यान रखें।


नींद हो पूरी

सुबह केवल वही लोग जल्दी उठ पाते हैं या फिर उठने के बाद खुद को तरोताजा महसूस करते हैं जिनकी नींद रात में अच्छी तरह पूरी होती है। इसलिए नींद के साथ किसी प्रकार का समझौता न करें। समय पर सोएं। काम को अपनी नींद पर हावी न होने दें।

खानपान का ख्याल
आपका खानपान स्वास्थ्य के साथ-साथ जागने व सोने की प्रक्रिया को भी प्रभावित करता है। रात में हमेशा हल्का भोजन करने की कोशिश करंे। इससे रात को आराम से व जल्द नींद आ जाती है और सुबह भी आप आराम से उठ पाते हैं। वहीं दूसरी ओर गरिष्ठ भोजन से रात में नींद आने में कठिनाई होती है और फिर सुबह उठना भी काफी मुश्किल हो जाता है।

नशीले पदार्थों को कहें नो


अगर रात में सोने से पहले आप शराब, सिगरेट, बियर और दूसरे नशीले पदार्थों का सेवन करते हैं, तो उसे आज ही अलविदा कह दें। इससे सुबह उठने में परेशानी तो होती है ही, साथ ही यह पदार्थ सेहत पर भी कई तरह के विपरीत प्रभाव डालते हैं। नशीले पदार्थों के कारण व्यक्ति कई गंभीर बीमारियों की चपेट में आ जाता है।

अलार्म आएगा काम
सुबह जल्दी उठने में अलार्म घड़ी आपकी मदद कर सकती हैं। हालांकि ऐसा देखने में आता है कि लोग अलार्म तो लगाते हैं, लेकिन सुबह उसे बंद करके फिर से सो जाते हैं। इस परेशानी से बचने के लिए अलार्म घड़ी को खुद से थोड़ा दूर रखें। ऐसा करने का लाभ यह है कि जब अलार्म बजेगा तो उसे बंद करने के लिए आपको बिस्तर  ही पड़ेगा और फिर आपकी नींद भी खुल जाएगी।
खुद को करें रिलैक्स

आज के तनावपूर्ण जीवन में व्यक्ति रात को भी ठीक से नहीं सो पाता और हरदम करवट बदलता रहता है। इसलिए सोने से पहले खुद को तन-मन से रिलैक्स करने की कोशिश करें। इसके लिए चाहें तो सोने से पहले बाथ लें या फिर मनपसंद संगीत सुनें या फिर कुछ देर ध्यान आदि भी किया जा सकता है। इससे व्यक्ति का मन शांत होता है और एक अच्छी नींद आती है। साथ ही सुबह जल्दी उठना भी आसान हो जाता है।

छोड़ दें जरूरी काम
आपने कभी नोटिस किया होगा कि जब भी बच्चों को स्कूल जाना होता है या फिर आपको सुबह कोई जरूरी काम होता है तो व्यक्ति की नींद खुद-ब-खुद खुल जाती है, वहीं छुट्टी के दिन व्यक्ति को समय का पता ही नहीं चलता। आपको शायद पता न हो लेकिन आपके भीतर भी एक घड़ी है। इसलिए सुबह जल्दी उठने के लिए आप यह ट्रिक अपना सकते हैं। बस, अपना कोई जरूरी काम छोड़ दें और खुद से कहें कि आप पांच बजे या छह बजे उठना चाहते हैं ताकि वह काम कर सकें। देखिएगा, आपकी आंख ठीक उसी समय खुल जाएगी।

ऐसे सोएं

जब व्यक्ति की आंखों में रोशनी पड़ती है तो आंख खुल जाती है। इसलिए आप भी ऐसी जगह सोने की कोशिश करें, जहां से सूरज की रोशनी सीधे आपके कमरे में आती हो। ऐसा करने से जब बाहर उजाला होगा तो आपको भी पता चलेगा और आपकी आंखें अपने आप खुल जायेंगी। इस ट्रिक को अपनाने के लिए आप खिड़की के पास या छत पर सो सकते हैं।

कोई टिप्पणी नहीं

Healths Is Wealth. Blogger द्वारा संचालित.