Header Ads

वाकिंग करना क्यों फायदेमंद है


8 वजहें : वाकिंग करना क्यों फायदेमंद है
इस तथ्य के बावजूद कि वाकिंग करना फायदेमंद है, पर जिम बूम ने इस एक्टिविटी को बैक सीट पर डाल दिया है। इस आर्टिकल में हम आठ कारण बताएँगे कि आपको क्यों पैदल चलना चाहिए।

स्प्रे पेंट से अपने घर को नया लुक दीजिये
मेनिस्कस ऑपरेशन के बाद घुटने का पुनर्वास
प्राकृतिक रूप से एलोपेसिया का इलाज करें


क्या आपको लगता है, एक्टिव लाइफस्टाइल बनाए रखने के लिए आपको जिम जाना होगा? वास्तव में ऐसा नहीं है! रोज वाकिंग करना बहुत फायदेमंद होता है। इस आर्टिकल में ऐसे आठ कारणों की जानकारी पाइए।
वाकिंग की पॉपुलरिटी

भले ही मौसल बहुत अच्छा हो, आउटडोर एक्टिविटी करने वालों की संख्या लगातार कम से कमतर हो रही है। इन दिनों वाकिंग को पीछे धकेल दिया गया है और बहुत से लोग जिम जाना पसंद करने लगे हैं।

हालांकि जिम को डिच करके टहलने जाने के पीछे वाकई बहुत मजबूत कारण हैं।

लेटेस्ट यूरोपियन यूनियन हेल्थ एंड फिटनेस मार्केट रिपोर्ट बताती है कि जिम फिटनेस यूरोप में सबसे ज्यादा प्रैक्टिकल की जाने वाली फिजिकल एक्टिविटी बन गई है। हालाँकि स्वस्थ रहने के लिए आपको जिम का सदस्य बनने की ज़रूरत नहीं है।

हर दिन सैर करना बेहद फायदेमंद है। इस आर्टिकल में ऐसे आठ कारणों की जानकारी पाइए।
बॉडी फैट को कम करने में मदद करता है वाकिंग

चलना बॉडी फैट को जलाने के लिए सही फिजिकल एक्टिविटी है। क्योंकि यह लोगों को अपनी अधिकतम हृदय गति की 65% (पुरुषों में 220-आयु और महिलाओं में 226-आयु) हार्ट रेट (HR) बनाए रखने की सहूलियत देता है।

इस तरह यह बॉडी फैट को प्राइमरी फैट के रूप में शरीर में फैटम के इस्तेमाल की गारंटी देता है। इसके अलावा दूसरी कार्डियोवैस्कुलर एक्टिविटी के विपरीत यह मांसपेशियों को सुरक्षित रखता है।


इसे भी पढ़ें : 5 आसान व्यायाम, शरीर को सही शेप में लाने के लिए इन्हें घर पर करें
वाकिंग सेरोटोनिन लेवल बढ़ाता है



सामाजिक व्यवहार, भावना, मनोदशा और नींद, भोजन व मसल कॉन्ट्रैक्शन जैसे कुछ शारीरिक कार्यों को रेगुलेट करने के लिए एक मौलिक न्यूरोट्रांसमीटर है सेरोटोनिन। सेरोटोनिन की कमी डिप्रेशन और खाने-पीने में गड़बड़ी जैसे कई मानसिक विकारों से जुड़ी है।
धूप में एक्सपोजर और फिजिकल एक्टिविटी से शरीर में सेरोटोनिन का उत्पादन बढ़ जाता है।
इसका नतीजा बेहतर मूड और डिप्रेशन व कॉग्निटिव समस्याओं के जोखिम में कमी के रूप में सामने आता है।
प्रैक्टिकल आउटडोर फिजिकल एक्टिविटी से डिप्रेशन और डिमेंशिया का खतरा कम होता है।
यह विटामिन D सिंथेसिस को बढ़ाता है

विटामिन D हड्डियों, मस्तिष्क और इम्यून सेहत को बनाए रखने के लिए ज़रूरी है। विटामिन D का हमारा प्रमुख स्रोत हमारी त्वचा है, क्योंकि यह सूरज की धूप के संपर्क में आने पर 7-डिहाइड्रोकोलेस्ट्रोल को विटामिन डी 3 में बदल देती है।
इसलिए पर्याप्त विटामिन D पाने के लिए सूर्य के प्रकाश के संपर्क में आना ज़रूरी है, और आउटडोर वाकिंग सूरज के संपर्क में आने का सही तरीका है!

आदर्श रूप से आपको अपने शरीर का कम से कम 10% हिस्सा हर दिन 30 मिनट तक बिना सनस्क्रीन लगाए धूप में रखना चाहिए।

हालांकि यह नोट करना बहुत अहम है कि आपको सिर्फ ऊपर बताए गए समय तक ही बिना सनस्क्रीन लगाए सूरज की रोशनी में एक्सपोज करना चाहिए। इससे ज्यादा एक्सपोज़र के लिए सनस्क्रीन ज़रूर लगाएं।
वॉकिंग ब्लड प्रेशर घटाता है

पैदल चलना एक एरोबिक एक्टिविटी है। यह रक्तचाप (बीपी) को हेल्दी रेंज में बनाए रखने का एक आदर्श तरीका है। एल्वारेज द्वारा की गयी एक स्टडी (2013) ने 60 मिनट के एरोबिक सेशन के बाद बच्चों, किशोरों और वयस्कों की बीपी में महत्वपूर्ण गिरावट का पता लगाया है।

स्पैनिश हार्ट फाउंडेशन इसे ब्लडप्रेशर को कंट्रोल करने की सबसे अच्छी एक्टिविटी में से एक मानती है। इसके अलावा, विश्व स्वास्थ्य संगठन सप्ताह में कम से कम 150 मिनट पैदल चलने की सलाह देता है।

किसी एरोबिक फिजिकल एक्टिविटी का अभ्यास ब्लडप्रेशर को सामान्य सीमा के भीतर बनाए रखने में मदद करता है।
यह नॉर्मल ब्लड शुगर लेवल को बनाए रखने में मदद करता है



पैदल चलना ब्लड शुगर लेवल को नॉर्मल बनाए रखने में मदद करता है। इसकी वजह प्रैक्टिकल फिजिकल के बाद अगले 24-48 घंटों तक ऊर्जा का व्यय और इंसुलिन सेंसिटिविटी में बढ़ोतरी है।

इस प्रकार यह टाइप 2 डायबिटीज के जोखिम में कमी और उसे कंट्रोल कर सकता है।
इसे भी पढ़ें : टाइप 2 डायबिटीज के मरीज़ों के लिए 7 फायदेमंद जड़ी-बूटियाँ
यह हार्ट और ब्लड वैसेल हेल्थ में सुधार लाता है
मध्यम शारीरिक गतिविधि, जैसे चलना, मायोकार्डियल सिकुड़न में सुधार लाती है। यह हार्ट के कामकाज को बेहतर बनाता है और इसलिए लंबे समय तक सही स्थिति में रहता है।
इसके वैसोडाइलेटर प्रभाव के कारण वाकिंग से ब्लड सर्कुलेशन बढ़ता है, सर्कुलेटरी कोलैप्स का जोखिम कम होता है, और इसलिए दिल के दौरे या स्ट्रोक का रिस्क भी कम करता है।
नेशनल हार्ट, लंग्स और ब्लड इंस्टिट्यूट बताता है कि आपको फिजिकल एक्टिविटी के फायदे पाने के लिए इसे रेगुलर करना चाहिए।
नियमित वाकिंग से ह्रदय के कामकाज में सुधार होता है और हार्ट अटैक और स्ट्रोक का जोखिम कम होता है।
वॉकिंग कोलेस्ट्रॉल और ट्राइग्लिसराइड लेवल कम करने में मदद करता है

सैर करना कोलेस्ट्रॉल और ट्राइग्लिसराइड लेवल को कम करने में मदद करता है और एलडीएल प्रोटीन के मुकाबले एचडीएल के अनुपात को बढ़ाता है।

वजन घटाने पर इसके असर के कारण यह कोलेस्ट्रॉल में कमी लाने वाली दवाओं के एक्शन में सुधार लाता है।

साथ ही यह रक्त अल्पता के जोखिम को कम करता है।
यह फिजिकल एक्टिविटी के लिए आपके कमिटमेंट की क्षमता को बढ़ाता है
वाकिंग नि: शुल्क है, इसके लिए बहुत अच्छी शारीरिक कंडीशन की ज़रूरत नहीं है, और इसे कहीं भी, कभी भी किया जा सकता है। यह फिजिकल एक्टिविटी के प्रति आपके कमिटमेंट को बढ़ाता है। इसका मतलब है, आप इसे किसी के साथ भी कर सकते हैं!

जैसा कि आप देख सकते हैं, वाकिंग करने से आपको एक्टिव लाइफस्टाइल बनाए रखने और इसके सभी फायदे हासिल करने में मदद मिल सकती है। अब जब आप जान चुके हैं, तो आपको किसका इंतज़ार है? आज ही वाकिंग पर निकल चलिए!

कोई टिप्पणी नहीं

Healths Is Wealth. Blogger द्वारा संचालित.