Header Ads

लाभकारी केला,


मुंह के छालों से लेकर एचआईवि तक लाभकारी केला, जाने ऐसे 8 तथ्य
केले के बारे में दुनिया जानती है। किसी शहर या कस्बे का कोई भी बाजार ऐसा नहीं जहां केला बिकते हुए ना मिलें। घर-घर में पसंद किया जाने वाला केला 10 हजार साल से हमारे जीवन का हिस्सा है और आने वाले सैकड़ों हजारों सालों तक इस फल को हम सराहते रहेंगे। महज एक फल के तौर पर जाने वाले केले के बारे में बहुत कम लोग ही जानते हैं कि इसके पौधे में औषधीय गुणों का खज़ाना है। चलिए आज जानते हैं आधुनिक औषधि विज्ञान जगत ने केले के किन-किन गुणों को क्लिनिकल तौर पर प्रमाणित किया है। क्या सिर्फ स्टार्च से भरपूर होने के अलावा केले में और भी कुछ है जो आम तौर पर ज्यादा लोगों को नहीं पता?

मुंह के छाले ठीक करता है
कई आर्टिफिसल और केमिकल्स वाली दवाएं जैसे एस्पिरिन, इण्डोमेथासिन, सिस्टियामाइन, हिस्टामाइन आदि के सेवन के बाद कई लोगों को मुंह में छाले आ जाते हैं। आधुनिक शोधों से जानकारी मिलती है कि कच्चे केले को सुखाकर चूर्ण बना लिया जाए और इस चूर्ण को चाटा जाए, तो मुंह के छालों को ठीक कर देता है।

पथरी बाहर निकालता है
केले के तने का रस पथरी में बेहद कारगर है। एक शोध के अनुसार केले के तने का रस किडनी में होने वाली पथरी, खास तौर से ओक्सालेट की बनी पथरी को तोड़कर पेशाब मार्ग से बाहर निकाल देता है।
एचआईवी कंट्रोल करता है
अनेक शोधों के परिणामों पर नजर डाली जाए, तो जानकारी मिलती है कि केले में वायरस नियंत्रण के जबरदस्त गुण होते हैं। कुछ शोध तो इसे MRSA और HIV के नियंत्रण तक के लिए उपयोगी मानते हैं।

नई कोशिकाओं के निर्माण में सहायक
शोधों से यह भी जानकारी मिलती है कि केले का चूर्ण ना सिर्फ छालों की जगहों पर नई कोशिकाओं के निर्माण को प्रोत्साहित करता है, बल्कि इसमें पाया जाने वाला फ़्लेवेनोयड ल्युकोसायनायडिन अल्सर (छाले) बनाने वाले अल्सरोजेन को भी रोकता है।

टाइप 1 डायबिटीज़ के रोगियों के लिए फायदेमंद
केले के फूल टाइप 1 डायबिटीज़ के रोगियों के लिए कारगर उपाय है। अनेक शोधों के जरिए यह निष्कर्ष निकाला गया है कि इसके फूल का रस तैयार करके टाइप 1 डायबिटीज रोगियों को दिया जाए, तो यह रक्त में शर्करा की मात्रा कम करने में मदद करता है।

डायबिटीज़ नियंत्रण करता है
केले की जडों और कच्चे केले में भी डायबिटीज़ नियंत्रण के लिए जबरदस्त गुण होते हैं। अनेक वैज्ञानिकों ने केले के पौधे के इन हिस्सों को डायबिटीज़ नियंत्रण के लिए उपयोग में लाई जाने वाली औषधि ग्लिबेनक्लेमाईड के समान पाया है।
त्वचा रोगों को ठीक करता है
कई क्लिनिकल स्टडीज़ से यह भी ज्ञात हुआ है कि केले की पत्तियां त्वचा पर होने वाले खतरनाक बैक्टीरियल इन्फेक्शन्स को रोकने के लिए कारगर साबित हुई हैं। पत्तियों का रस अनेक तरह के त्वचा विकारों को दूर करने में सक्षम है।

दस्त रोकता है
ताजा हरा केला दस्तरोधी होता है। केला पकने से पहले जब हरा होता है, तो इसमें ऐसे स्टार्च पाए जाते हैं जो दस्त रोकने में मदद करते हैं। बांग्लादेश के देहाती इलाकों में आज भी नवजात शिशुओं को दस्त होने पर कच्चे केले को कुचलकर चटाते हैं।

टेस्टोस्टेरोन को सक्रिय नहीं होने देता
केले का छिलका प्रोस्टेट ग्रंथि की वृद्धि को रोकता है। टेस्टोस्टेरोन की वजह से अक्सर प्रोस्टेट ग्रंथि का आकार बढ़ जाता है और अनेक शोध बताती हैं कि केले का छिलका टेस्टोस्टेरोन को सक्रिय नहीं होने देता।




पेट अंदर करने के आसान उपाय

आजकल के भागदौड़ भरे माहोल में व्यायाम के लिए समय निकालना थोड़ा मुश्किल हो गया है। और व्यायाम ना करने से हमारे शरीर में वासा जमा होने लगता है। जिसका सबसे बड़ा उदहारण है हमारा बाहर निकलता हुआ पेट| इसके कारण हमारा शरीर तो बुरा लगता ही है साथ ही बढ़ता हुआ पेट कई बीमारियो को भी न्योता देता है।


कुछ लोग पेट कम करने के लिए जिम में घंटो एक्सरसाइज करते है लेकिन फिर भी उन्हें परिणाम नहीं मिलता| एक्सरसाइज के अलावा जीवनशैली और आहार में भी उचित परिवर्तन करना जरुरी है। यहाँ हम आपको कुछ ऐसे ही तरीको के बारे में बताएँगे जिसके द्वारा सपाट पेट प्राप्त किया जा सकता है। लेकिन आपको यह बात भी समझना होगी की रातो रात आपका पेट अंदर नहीं होगा| इसमें थोड़ा वक्त लगता है। तो आइये जानते है Flat Tummy Tips in Hindi.
इन तरीको से लगाये अपने बढ़ते पेट पर लगाम



फ़ास्ट फ़ूड से करिये तोबा
अगर आपने अपना पेट अंदर करने का सोच ही लिया है तो सबसे पहले फ़ास्ट फ़ूड को अपनी जीवन शैली से हटा दे। फ्लैट टमी पाने की दिशा में ये आपका सबसे पहला कदम है। जंक फ़ूड के स्थान पर पोषक तत्वों और फाइबर से भरपूर पदार्थ जैसे फल, सब्जियां, अंडे, कम वसा वाला मांस, साबुत अनाज, कम वसा वाले डेयरी उत्पाद, बीन्स, सूखे मेवे, आदि खाएं। अपने सिस्टम को साफ़ करने के लिए तथा अपने शरीर से फैट(वसा) को दूर करने के लिए दिन में 10-12 गिलास पानी पीयें।
सोडियम की मात्रा कम करे
फ्लैट पेट पाने के लिए आपको सोडियम की मात्रा और कार्बोनेटेड पेय को कम कर देना चाहिए क्‍योंकि इनसे आपका पेट कम होने की बजाय बढ़ने लगता है।
रोजाना सुबह नाश्ता करे
सपाट पेट पाने के लिए एक काम हमेशा करना चाहिए वह है सुबह का नाश्ता। क्‍योंकि नाश्ता न करने से पेट कम होने की जगह बढ़ने लगता है और आपको प्राप्त होता है एक उभरा हुआ पेट। कोशिश करें कि किसी भी समय का भोजन न छोड़ें। साथ ही प्रतिदिन एक ही समय में बहुत सारा खाने की बजाय थोड़ा-थोड़ा भोजन समय पर लें।
अदरक की चाय
वैसे तो अदरक(Ginger) की चाय सबको ही पसंद आती है। लेकिन क्या आप जानते है की अदरक से आप अपने पेट की चर्बी भी घटा सकते है? अदरक खाने से हमारे शरीर में गर्मी पैदा होती है और हमारे शरीर का तापमान बढता है और इस प्रकार से अदरक पेट की चरबी को कम करता है। आपके पेट पर चरबी कई कारणों से जमा हो सकती है लेकिन उसे इस एक विकल्प द्वारा बड़ी आसानी से हटाया जा सकता है। अदरक का सेवन शरीर में कोर्टिसोल के उत्पादन को घटाता है तथा आपके शरीर की ऊर्जा को नियंत्रित रखता है। इसलिए यदि आप सब्जी में अदरक का इस्तेमाल नहीं करते है तो चाय में अदरक ड़ाल कर पिएं।
खूब पानी पिए
शायद आप ये नहीं जानते होंगे की सिर्फ पानी पीकर भी आप अपना पेट कम कर सकते है। वजन कम करने में पानी अहम भूमिका निभाता है। पानी विषैले पदार्थों को शरीर से बाहर निकालता है। नतीजनत् मेटाबोलिज्म तेज हो जाता है और वजन कम होने लगता है। इसलिए दिन में कम से कम 12 गिलास पानी जरुर पिये।
रोजाना व्यायाम करे
सप्ताह में कम से कम तीन बार एक्सरसाइज करें। इससे शरीर पर अतिरिक्‍त चर्बी जमा नहीं होती। और आपकी फिटनेस भी कायम रहेगी। बेली फैट कम करने के लिए कोई भी कार्डियोवास्कुलर एक्सरसाइज फायदेमंद होगी।
अच्छी नींद लें
वजन बढ़ने का संबंध नींद से होता है। कम सोने वालों का वजन भरपूर सोने वालों से ज्यादा होता है। शोधकर्ताओं ने पाया है कि पांच घंटे की नींद लेने वाले लोगों में भूख बढ़ाने वाला हार्मोन 15 फीसदी अधिक बनता है। वहीं आठ घंटे की नींद लेने वाले लोगों में यह हार्मोन सामान्य मात्रा में ही बनता है। हार्मोन के बढ़ने से लोग ज्यादा खाते हैं और मोटापे का शिकार होते हैं। यानि की अगर आप फिट बॉडी पाना चाहते है तो रोजाना 8 घंटे सोये।
निम्बू पानी भी असरदारक
नींबू पानी आपकी कमर के आस पास इकट्ठा हुई चरबी को घटाने में मदद करता है। इसके अलाव, नींबू पानी आपके शरीर में चरबी को घटाने वाले एंजाइम को भी बढ़ाता है। अगर आपको सर्दी झुकाम ज्यादा रहता हो तो आप गुनगुने पानी में शहद मिलाकर उसमे निम्बू निचोड़ के पिजिये। ऐसे में आपको सर्दी भी नहीं होगी और प्राणायाम
मछली का सेवन
पेट पर जमी चरबी को कम करने के लिए मछली के तेल का सेवन करना चहिये। मछली के ओमेगा 3 फैटी एसिड में मौजूद आईकोसिपेंटिनोइक एसिड, डोकोसुहेक्सीनोइक एसिड व लिनोलेनिक एसिड़ पेट की चरबी को घटाने में मदद करते हैं।
फलों का रस पिए
कुछ लोग हमेशा कहते है की वजन घटाने के लिए फलों का रस पिने के बजाय फलों का प्रत्यक्ष सेवन करना चहिये। लेकिन कुछ शोधो से यह बात साबित हो चुकी है की फलों का रस भी वजन घटाने में मदद करता है। परन्तु उसमे शक्कर न मिली हो| सॉफ्ट ड्रिंक, कोल्ड ड्रिंक जैसे पेय पदार्थों से जहां वजन बढ़ता है वही दूध, पानी, नारियल पानी, जूस इत्यादि वजन कम करने में लाभकारी होते हैं।
रोज सुबह सैर करे
रोज सुबह की सैर करना भी पेट के आसपास की चर्बी को दूर करने में सहायक है। नियमित तौर पर सैर पे जाने से 25 फीसदी अधिक कैलोरीज बर्न कर सकते है| रात के बाद भी थोड़ी देर टहलना ना भुले

कोई टिप्पणी नहीं

Healths Is Wealth. Blogger द्वारा संचालित.