Header Ads

स्वप्नदोष के बारे में जानकारी जानें नाईट फॉल क्यों होता है कारण लक्षण और उपचार


स्वप्नदोष के बारे में जानकारी जानें नाईट फॉल क्यों होता है कारण लक्षण और उपचार
https://www.healthsiswealth.com
https://www.healthsiswealth.com
Nightfall In Hindi अपने नाम के विपरीत नाईट फॉल या स्वप्नदोष (Nocturnal emission) कोई दोष न होकर एक स्वाभाविक शारीरिक क्रिया है जिसके अंतर्गत एक पुरुष या लड़के (लड़की को भी स्वप्नदोष हो सकता है) को नींद के दौरान वीर्यपात या वीर्य स्खलन (Semen Ejaculation) हो जाता है। इस लेख में स्वप्नदोष के बारे में जानकारी दी गई है, जानें नाईट फॉल क्यों होता है कारण लक्षण और उपचार के बारे में सम्पूर्ण जानकारी।

नाईट फॉल या स्वप्नदोष, जिसे अनौपचारिक रूप से गीले सपने (wet dream) या सेक्स सपने के रूप में जाना जाता है, नींद के दौरान एक सहज ऑर्गेज्म है जिसमें एक पुरुष के लिए स्खलन, या एक महिला के लिए योनि गीलापन या एक ऑर्गेज्म (या दोनों) शामिल है।
किशोरावस्था और शुरुआती युवा वयस्क वर्षों के दौरान स्वप्नदोष सबसे आम है, लेकिन वे यौवन के बाद किसी भी समय हो सकते हैं। पुरुषों के लिए एक गीले सपने के दौरान जागना या केवल इसके माध्यम से सोना संभव है, लेकिन महिलाओं के लिए, कुछ शोधकर्ताओं ने यह आवश्यक जोड़ा है कि वह ऑर्गेज्म के दौरान भी जागें और अनुभव करें। केवल योनि स्नेहन का मतलब यह नहीं है कि महिला को एक ऑर्गेज्म या चरम सुख मिला है।

महीने में कभी कभी या 1 या 2 बार स्वप्न दोष होना सामान्य बात है। और माना जा सकता है कि उसे कोई रोग या बीमारी नहीं है। आमतौर पर महीने में कभी कभी या 3 या 4 बार स्वप्न दोष होने से किसी तरह की शारीरिक हानि नहीं होती है अपितु इससे मानसिक तनाव दूर होता है और यौन इन्द्रियों में स्फूर्ति एवं ताजगी का एहसास होता है। किन्तु यदि यह हर रात या जरुरत से ज्यादा बार होता है तो इससे पुरुष के वीर्य या शुक्राणु (Semen or sperm) की हानि हो सकती है। और व्यक्ति अपने अंदर शारीरिक कमजोरी का अनुभव कर सकता है। इससे उसकी नींद भी बाधित हो सकती है।

अक्सर जवान लड़के इस बात को लेकर चिंतित रहते हैं की कहीं नाईट फॉल या स्वप्नदोष होना कोई बीमारी तो नहीं है। इसका सीधा और आसन सा जवाब यह है की महीने में एक या दो बार स्वप्नदोष होना कोई बीमारी नहीं मानी जाती है।
नाईट फॉल या स्वप्नदोष की शिकायत ज्यादातर युवास्था में कदम रखने वाले लड़कों को ही अधिक होती है लेकिन आपको यह जानकर हैरानी होगी की किसी लड़की को भी स्वप्नदोष होता है। आपको बता दें की रात में लड़की ही नहीं बल्कि लड़कियाँ भी स्वप्नदोष की शिकार होती हैं। और लड़की को भी स्वप्नदोष होता है।

लेकिन जिस तरह से नाईट फॉल या स्वप्नदोष होने पर लड़कों को इस बात पता चल जाता है की वे स्वप्नदोष का शिकार हुए हैं लेकिन लड़कियों को इस बात का पता कम ही बार लगता हैं की उन्हें नाईट फॉल या स्वप्नदोष हुआ है। लड़कियों में नाईट फॉल या स्वप्नदोष की यह स्थिति तब पैदा होती है जब वह तीव्र यौन उत्तेजना से गुजरती है। लड़की की किशोरावस्था या युवाअवस्था में ऐसा होना आम बात होती है। इस अवस्था में लड़की की योनि अन्दर से गीली एवं चिकनी हो जाती है। कुल मिलाकर देखा जाय तो महिलाओं एवं पुरुषों दोनों में स्वप्नदोष होने के अलग-अलग लक्षण और कारण होते हैं। लेकिन इससे पहले की हम नाईट फॉल या स्वप्नदोष के कारणों एवं लक्षणों के बारे में आपको बताएं आइये जानते हैं की नाईट फॉल या स्वप्नदोष क्या होता है।
नाइटफॉल या स्वप्नदोष क्या है – What is Nightfall in Hindi
स्वप्नदोष कैसे होता है – Swapandosh kaise hota hai in hindi
नाइटफॉल या स्वप्नदोष में क्या बाहर आता है – Composition of Nightfall in Hindi
नाईट फॉल या स्वप्नदोष कितना कॉमन है – Nightfall Frequency in Hindi
स्वप्न दोष के लक्षण – Nightfall Symptoms in Hindi
स्वप्नदोष के नुकसान – Nightfall side effects in Hindi
नाईट फॉल के मिथक – Myth about Night Fall in Hindi
स्वप्नदोष के कारण – Nightfall Causes In Hindi
नाईट फॉल या स्वप्नदोष का आयुर्वेदिक उपचार – Swapandosh ka ayurvedic upchar in Hindi
स्वप्न दोष में क्या खाएं – What to eat in wet dream in Hindi
स्वप्नदोष से बचने के उपाय – How to control nightfall in hindi
नाइटफॉल या स्वप्नदोष क्या है – What is Nightfall in Hindi

जब एक लड़का किशोरावस्था (adolescence) में पहुंचता है तो उसके शरीर में कई तरह के बदलाव होते हैं। जिसमे शरीर के मुख्य परिवर्तनों में से एक यौन अंगों (sex organs) की वृद्धि और शरीर में हार्मोन परिवर्तन शामिल है। शरीर में हार्मोन के परिवर्तन के कारण एक युवा लड़का हस्तमैथुन करना (masturbate) शुरू कर देता है और सेक्स के सपने देखने लगता है। सेक्स के सपने (dreams of sex) और हस्तमैथुन (masturbation) के कारण वह अनैच्छिक स्खलन से पीड़ित हो सकता है। इस स्थिति को नाइटफॉल या स्वप्नदोष (Nocturnal emission) कहा जाता है।
यद्यपि युवा लड़कों में नाइटफॉल या स्वप्नदोष (nightfall) एक आम समस्या है, किसी भी उम्र के पुरुष इस स्थिति से पीड़ित हो सकते हैं। यह पुरुषों द्वारा सामना की जाने वाली एक सामान्य स्थिति है और इसलिए इसकी चिंता करने की आवश्यकता नहीं है। यदि आपको परिवार और दोस्तों के साथ नाइटफॉल या स्वप्नदोष (nightfall) के बारे में चर्चा करने में शर्म आ रही है। तो एक डॉक्टर के पास जाकर नाइटफॉल या स्वप्नदोष के बारे में सही जानकारी प्राप्त करना का सबसे अच्छा तरीका है।

सोते समय तीव्र कामोत्तेजना के कारण जब सपने में किसी सुंदर लड़की या गर्लफ्रेंड के साथ रोमांस करना या उसके साथ सेक्स करने के दौरान जब आपको वीर्यपात या वीर्य स्खलन (Semen Ejaculation) हो जाता है। तो उसे ही स्वप्नदोष कहा जाता है।

यदि कोई युवा लड़का हफ्ते में एक बार या महीने में चार से पांच बार तक स्वप्नदोष का शिकार होता है जब वह यौन उत्तेजित होता है तो यह किसी बीमारी का लक्षण नहीं है बल्कि जवानी के दिनों में ऐसा होना स्वभाविक है।

नाइटफॉल या स्वप्नदोष तब होता है जब शुक्राणु शरीर में जमा हो जाते है। एवं इन्हें सेक्स या हस्तमैथुन के द्वारा शरीर से बाहर नहीं किया जाता है। इस स्थिति में नींद में जब सेक्स के सपने आते हैं और व्यक्ति सपने में ही सेक्स या हस्तमैथुन करने लगता है तो उस क्रिया के अंत के दौरान मस्तिष्क वीर्य को सच में शरीर से बाहर निकाल देता है।

आधुनिक जीवनशैली में पोर्नोग्राफी (pornography) और इंटरनेट जैसी कई विकृतियां (distractions) हैं। ये विकृतियां सेक्स के लिए एक गलत कोण प्रदान करती हैं। नियमित रूप से पोर्न देखने वाले युवाओं को नाइटफॉल के कारण काफी समस्याओं का सामना करना पड़ता है। नाइटफॉल का एक और कारण सेक्स के बारे में गलत धारणाएं हैं। भारत जैसे देश में सेक्स के बारे में बोलना एक टैबू (वर्जित) है और इसलिए केवल फुसफुसाहट में इसके बारे में बात की जाती है। किशोरों और युवाओं को सेक्स के बारे में सही जानकारी और उन सेक्स समस्याओं के बारे में सही जानकारी प्राप्त करनी चाहिए जो उन्हें सही उत्तर की तलाश करने में सक्षम बनाती हैं।

स्वप्नदोष कैसे होता है – Swapandosh kaise hota hai in hindi

किशोरावस्था में पुरुषों में नाइटफॉल या गीले सपने आना एक बहुत ही सामान्य घटना है। यह स्थिति रात में सोते समय या सुबह के शुरुआती घंटों में वीर्य के अनैच्छिक स्खलन के कारण होती है। स्वप्नदोष की समस्या कभी-कभी युवा पुरुषों के लिए निराशा का कारण बन सकती है क्योंकि वे इसके कारण को समझने में विफल रहते हैं और अपने माता-पिता या साथियों के साथ इस पर चर्चा नहीं कर पाते हैं। इन रात को होने वाले स्खलन की आवृत्ति व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में भिन्न हो सकती है। कुछ लोग केवल अपने किशोरावस्था में इसका अनुभव करते हैं और कुछ लोग जीवन भर इसका अनुभव करते हैं।

नाइटफॉल या स्वप्नदोष में क्या बाहर आता है – Composition of Nightfall in Hindi


स्वप्नदोष के दौरान उत्पन्न स्खलन को इकट्ठा करने में कठिनाई के कारण, अपेक्षाकृत कुछ अध्ययनों ने इसकी संरचना की जांच की है। सबसे बड़े अध्ययन में, जिसमें स्वप्नदोष के साथ 10 पुरुषों से स्वप्नदोष के उत्सर्जन के नमूने शामिल थे, वीर्य की संरचना (semen concentration) समान पुरुषों द्वारा प्राप्त किए गए नमूनों के बराबर थी जिन्होंने शिश्न कंपन उत्तेजना (penile vibratory stimulation) या हस्तमैथुन कर इसका सैंपल दिया था।

नाईट फॉल या स्वप्नदोष कितना कॉमन है – Nightfall Frequency in Hindi

एक विस्तृत अध्ययन में, पुरुषों और महिलाओं ने बताया कि उनके रोजमर्रा के लगभग 8% सपने किसी न किसी रूप में यौन-संबंधित गतिविधि के होते हैं। पुरुषों और महिलाओं दोनों के बीच चार प्रतिशत सेक्स के सपने ऑर्गैज़्ममें खत्म हुए। ”
पुरुषों में नाईट फॉल या स्वप्नदोष कितना कॉमन है


स्वप्नदोष में शुक्राणु उत्सर्जन की आवृत्ति अत्यधिक परिवर्तनशील होती है। कुछ ने बताया कि यह 1-2 सप्ताह की अवधि के लिए यौन रूप से निष्क्रिय होने के कारण होता है, जिसमें संभोग या हस्तमैथुन में कोई जुड़ाव नहीं होता है। कुछ पुरुषों ने बड़ी संख्या में स्वप्नदोष को किशोरों के रूप में अनुभव किया है, जबकि अन्य ने कभी अनुभव नहीं किया है। अमेरिका में, 83% पुरुष अपने जीवन में किसी समय स्वप्नदोष का अनुभव करते हैं। उन पुरुषों के लिए, जिनके पास स्वप्नदोष का अनुभव है, इसकी आवृत्ति एकल 15 वर्षीय पुरुषों के लिए प्रति सप्ताह 0.36 गुना (लगभग हर तीन सप्ताह में)।
40 वर्षीय एकल पुरुष, प्रति सप्ताह 0.18 बार (लगभग हर पांच-साढ़े पांच सप्ताह में एक बार) होती है।
विवाहित पुरुषों के लिए प्रति सप्ताह 0.23 बार प्रति माह (लगभग प्रति माह एक बार),
50 वर्षीय विवाहित पुरुषों के लिए प्रति सप्ताह 0.15 बार (लगभग हर दो महीने में)।
दुनिया के कुछ हिस्सों में स्वप्नदोष अधिक सामान्य है। उदाहरण के लिए, इंडोनेशिया में सर्वेक्षणों से पता चला है कि 97% पुरुष 24 वर्ष की आयु तक स्वप्नदोष का अनुभव करते हैं।

कुछ पुरुषों में एक निश्चित उम्र में ही स्वप्नदोष होता है, जबकि अन्य में यौवन के बाद उनके जीवन भर होता है। जिस आवृत्ति के साथ स्वप्नदोष होता है वह निर्णायक रूप से हस्तमैथुन की आवृत्ति से जुड़ा नहीं होता है। अल्फ्रेड किन्से ने पाया “हस्तमैथुन की आवृत्तियों और स्वप्नदोष की आवृत्तियों के बीच कुछ संबंध हो सकते हैं। सामान्य तौर पर जिन पुरुषों में स्वप्नदोष की सबसे अधिक आवृत्तियां होती हैं, उनमें हस्तमैथुन की दर कुछ कम हो सकती है।”

एक कारक जो पुरुषों में स्वप्नदोष की संख्या को प्रभावित कर सकता है, वह यह है कि क्या वे टेस्टोस्टेरोन-आधारित दवाएं लेते हैं। 1998 में फिंकेलस्टीन एट अल द्वारा किए गए एक अध्ययन में, रात में टेस्टोस्टेरोन की खुराक बढ़ानेवाले लड़कों में स्वप्नदोष की संख्या में वृद्धि हुई, क्योंकि उनके टेस्टोस्टेरोन की मात्रा 17% से अधिक थी।

तेरह प्रतिशत पुरुष स्वप्नदोष के परिणामस्वरूप अपने पहले स्खलन का अनुभव करते हैं।

लड़कियों में नाईट फॉल या स्वप्नदोष कितना कॉमन है


महिलाओं या लडकियों में स्वप्नदोष की आवृत्ति लड़को के समान ही परिवर्तनशील होती है। 1953 में, सेक्स शोधकर्ता अल्फ्रेड किन्से ने पाया कि उनके द्वारा साक्षात्कार की गई लगभग 40% महिलाओं में एक या एक से अधिक स्वप्नदोष या गीले सपने शामिल थे। जिन महिलाओं ने इनका अनुभव किया, उन्होंने बताया कि उन्हें स्वप्नदोष आमतौर पर साल में कई बार होता हैं और यह पहली बार तेरह साल की उम्र में शुरू हो जाता है, और आमतौर पर 21 साल की उम्र तक चलता है। किन्से ने नींद के दौरान महिला स्वप्नदोष को संभोग की तीव्र इक्षा या यौन उत्तेजना के रूप में परिभाषित किया।

1986 के जर्नल ऑफ सेक्स में बारबरा एल वेल्स द्वारा प्रकाशित शोध बताता है कि 85% महिलाओं ने 21 वर्ष की आयु तक स्वप्नदोष का अनुभव किया है। यह शोध स्वप्नदोष या ओर्गस्म के दौरान जागने वाली महिलाओं पर आधारित था।

अध्ययनों में पाया गया है कि पुरुषों में महिलाओं की तुलना में अधिक और लगातार स्वप्नदोष का अनुभव होता हैं। महिला में स्वप्नदोष का अनुभव या गीले सपने पुरुष के स्वप्नदोष का अनुभव या गीले सपनों की तुलना में निश्चितता के साथ पहचानना अधिक कठिन हो सकता है क्योंकि स्खलन आमतौर पर पुरुष स्खलन से जुड़ा होता है जबकि योनि स्नेहन सही से स्वप्नदोष संकेत नहीं दे सकता है।

स्वप्न दोष के लक्षण – Nightfall Symptoms in Hindi


नाईट फॉल या स्वप्नदोष से संबंधित लक्षण और संकेत:
बेचैनी (restlessness)
अनिद्रा (insomnia)
हल्का रात में पसीना आना (mild night sweats)
शरीर में सुस्ती एवं कमजोरी (weakness in the body)
शीघ्रपतन की समस्या (Premature Ejaculation)
पेशाब करने में कठिनाई (difficult urination)
पेशाब करने पर लसदार स्राव निकलना।

स्वप्नदोष के नुकसान – Nightfall side effects in Hindi

नाईट फॉल या स्वप्नदोष उन पुरुषों में अधिक आम है जो कम बार हस्तमैथुन करते हैं। नाईट फॉल या स्वप्नदोष शरीर को गंभीर नुकसान पहुंचा सकता है। यह यौन, मानसिक या शारीरिक कमजोरी का कारण बनता है। यदि यह रोज रोज होता है और लम्बे समय तक चलता है तो इससे निम्न नुकसान हो सकते हैं-
यह चक्कर आना, घुटने में दर्द और अनिद्रा का कारण बन सकता है।
यह भी स्मृति समस्याओं, गरीब दृष्टि / दृष्टि का कारण बन सकता है।
कभी-कभी यह शैक्षणिक उपलब्धियों में गिरावट का कारण भी बनता है।
इससे शुक्राणुओं की संख्या में कमी हो सकती है।
बच्चे पैदा करने में असमर्थता हो सकती है।
गंभीर मामलों में यह सेक्स करने में असमर्थता का कारण बन सकता है।
और इसमें हल्की भावनात्मक गड़बड़ी (emotional disturbances) शामिल हो सकती हैं।

नाईट फॉल के मिथक – Myth about Night Fall in Hindi


लोगों को नाइटफॉल के मिथकों को दूर करना चाहिए और समझना चाहिए कि यह पुरुषों में होने वाली एक सामान्य स्थिति है।

मिथक जो नाईट फॉल या स्वप्नदोष से संबंधित हैं उनमें यह विश्वास शामिल है कि:
नाईट फॉल या स्वप्नदोष की वजह से लिंग के खड़े होने की समस्या (Erection problems) हो सकती है
नाईट फॉल या स्वप्नदोष होना दुर्लभ है।
नियमित रूप से हस्तमैथुन करने से स्वप्नदोष होता है।
यह किसी व्यक्ति को यौन रूप से कमजोर कर सकता है।
लड़कियों को नाईट फॉल या स्वप्नदोष नहीं होता है।

स्वप्नदोष के कारण – Nightfall Causes In Hindi


कम उम्र में नाईट फॉल या स्वप्नदोष होना आम बात है जब कोई व्यक्ति सेक्स से परहेज करता है।

नाईट फॉल या स्वप्नदोष के प्रमुख कारण नीचे दिए गए हैं…..
कमजोर नसों, अधिक भरी हुई प्रोस्टेट ग्रंथि (congested prostate gland) और भावनाओं को नियंत्रित करने में असमर्थता को अक्सर नाईट फॉल या स्वप्नदोष का प्राथमिक कारण माना जाता है।
बार-बार सेक्स करने या सेल्फ स्टिमुलेशन (self-stimulation) करने वाले पुरुषों को नाइट फॉल होने का खतरा हो सकता है।
दवाओं के साइड इफेक्ट्स जैसे ट्रेंक्विलाइज़र (tranquilizers), हाई ब्लड प्रेशर की दवाएँ, दर्द मिटाने वाली औषधि या शामक दवाएं (sedatives) आदि भी नाईट फॉल या स्वप्नदोष की आवृत्ति को बढ़ा सकते हैं।
नाईट फॉल या स्वप्नदोष का आयुर्वेदिक उपचार – Swapandosh ka ayurvedic upchar in Hindi


आयुर्वेद में नाईट फॉल या स्वप्नदोष के उपचार के लिए बहुत कुछ है। आयुर्वेद सुझाव देता है कि नाईट फॉल या स्वप्नदोष की स्थिति एक ऐसी स्थिति है जो आधुनिक जीवन के तनाव, चिंता और व्यस्त जीवन शैली का कारण बनती है। इसे आसानी से हटाया जा सकता है। आयुर्वेद योग और ध्यान के साथ-साथ रात को सोने से पहले ठन्डे पानी से स्नान करने की बात करता है।
बिस्तर पर जाने से पहले आवश्यक तेलों के साथ स्नान करना सहायक होता है क्योंकि यह शरीर और मन को शांत करता है और अच्छी नींद की अनुमति देता है।
आहार में बदलाव से नाईट फॉल या स्वप्नदोष को रोका जा सकता है। जो पुरुष इस समस्या से पीड़ित हैं उन्हें अम्लीय भोजन (acidic food) से बचना चाहिए। दूध और दूध से बने उत्पाद से परहेज जरुरी है।
यूनानी चिकित्सा पद्धति के अन्य नियमों और सिद्धांतों के साथ-साथ मध्यम व्यायाम बहुत फायदेमंद है।
यौन व्यायाम में शामिल होने से भी लाभ होता है।

स्वप्न दोष में क्या खाएं – 

आंवला शरीर की प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने में मदद करता है। ऐसा माना जाता है कि एक गिलास आंवले का जूस पीने से नाइटफॉल से छुटकारा मिलता है।
प्याज और लहसुन कई स्वास्थ्य संबंधी स्थितियों को ठीक करने के लिए जाने जाते हैं। 3-4 लहसुन की कच्ची कलि और सलाद के रूप में प्याज का रात में सेवन करना चाहिए।
पहले से भिगोए हुए बादाम, केला और अदरक के साथ दूध इस समस्या को खत्म करने में मदद करता है। केले में शीतलन गुण होता है जो समस्या को नियंत्रित करने में मदद करता है। इसके अलावा, दही खाना फायदेमंद होता है क्योंकि इसमें हीलिंग गुण होते हैं जो शरीर को ठंडा करते हैं और इम्यूनिटी बढ़ाते हैं।
अजवाइन और मेथी का रस नाइटफॉल के साथ-साथ शीघ्रपतन में भी बहुत मददगार है। इन रसों को शहद के साथ 2: 1 के अनुपात में मिलाया जा सकता है।

स्वप्नदोष से बचने के उपाय 
– How to control nightfall in Hindi

व्यायाम और टहलना शरीर को चुस्त दुरुस्त रखता है और सोने से पहले स्नान करने से मन और मस्तिष्क को आराम देने में मदद मिलती है, इसलिए नींद ना आने की संभावना कम हो जाती है और स्वप्नदोष होने की संभावना कम हो जाती है।
बिस्तर पर जाने से ठीक पहले मूत्रत्याग करना स्वप्नदोष को रोकने में मदद कर सकता है।
दिन में दो या तीन बार दही खाने से स्वप्नदोष होने या गीले सपने आने से बचा जा सकता है।
बिस्तर पर जाने से पहले पोर्न (watching porn) या सेक्सुअल विजुअल्स देखने से परहेज करना भी नाइटफॉल से आपको दूर रखेगा।
लापरवाह स्थिति में सोने से बचना चाहिए। हमेशा अपनी पीठ के बल सोएं।
नरम और रेशमी बिस्तर से बचा जाना चाहिए। साथ ही ढीले ढाले कपड़े पहनें।
अत्यधिक यौन उत्तेजना से बचा जाना चाहिए।
अपने तनाव के स्तर को कम करें।
मसालेदार भोजन से बचें और छोटे-छोटे कौर में रात को कम खाना खाएं।
पोर्नोग्राफी, मोबाइल और अन्य मीडिया पर यौन प्रोग्रामिंग देखने से बचें।
अपना दिमाग दूसरी चीजों पर केंद्रित करें। अपना समय समृद्ध, गतिविधियों को पूरा करने के साथ व्यतीत करें।
अपने साथी के साथ एक स्वस्थ यौन संबंध विकसित करें और अत्यधिक हस्तमैथुन से बचें।
घरेलू नुस्खे आज़माएं, जैसे कि तेजपत्ते (sage leaf) या मुलेठी की जड़ (liquorice root) वाली चाय।
सोने जाने से पहले किताबें पढ़ने से गीले सपने आने की संभावना कम हो सकती है। हालांकि, कामुक विषयों वाली पुस्तक इसे और बदतर बना सकती है। यदि आप किसी विशेष समस्या के बारे में चर्चा करना चाहते हैं, तो आप एक सेक्सोलॉजिस्ट से परामर्श कर सकते हैं।
अगर नाईट फॉल या स्वप्नदोष की समस्या अभी भी बनी रहती है, तो आपको एक सेक्सोलॉजिस्ट (sexologist) से परामर्श करने की आवश्यकता है और अंतर्निहित कारण को जानकर उसके उचित उपचार के साथ आप अपनी खोई हुई शारीरिक और यौन शक्ति के साथ अपनी समस्या को पूरी तरह से ठीक कर सकते हैं।

कोई टिप्पणी नहीं

Healths Is Wealth. Blogger द्वारा संचालित.