Header Ads

वज़न घटाने के 6 आसान तरीक़े!


वज़न घटाने के 6 आसान तरीक़े!

अक्सर काम के बोझ तले महिलाएं अपनी सेहत पर ध्यान नहीं दे पातीं, जिसकी वजह से वे मोटापे का ‌शिकार होने लगती हैं. आमतौर पर महिलाओं की कमर और पेट के आसपास चर्बी ज़्यादा चढ़ती है, जो कई बीमारियों को जन्म देने के साथ-साथ शरीर को बेडौल और भद्दा भी बना देती है. कमर और बेली फ़ैट की चर्बी को कम कर फ़्लैट टमी पाने के लिए इन आसान उपायों को आज़माकर आप ख़ुद को हेल्दी रख सकती हैं.


1. आराम फ़रमाएं, वज़न घटाएं: बेहतर स्वास्थ्य के लिए कम से कम 8 घंटे की नींद ज़रूरी होती है. ल‌ेकिन देर रात तक सोशल मीडिया पर लगे रहना आजकल की लाइफ़स्टाइल में शुमार हो गया है, जिसका असर सिर्फ़ हमारी आंखों या शरीर पर ही नहीं पड़ता, बल्कि कम नींद लेने की वजह से शरीर में फ़ैट भी बढ़ता है. इसलिए बेहतर और हेल्दी स्वास्थ्य के लिए कम से कम आठ घंटे की नींद ज़रूर लें.

2. योग, भगाए मोटापा रोग: योग करना शरीर के लिए सबसे लाभप्रद है. यदि आप सच में मोटापे को दूर भगाकर फ़िट बॉडी चाहती हैं, तो बिना आलस किए, योग शुरू कर दें. योग के अलग-अलग आसन आपको तरोताज़ा रखने के साथ-साथ आपके मेटाबॉलिज़्म को भी बेहतर बनाते हैं. योग करने से स्ट्रेस हार्मोन कॉर्टिसोल कम होते हैं, जो पेट की चर्बी से सीधे तौर पर ज़ुड़े होते हैं. इसलिए यदि आप फ़्लैट टमी चाहती हैं, तो कम से कम 15 से 20 मिनट तक रोज़ योग करें.


3. ग्रीन टी की चुस्की, लाएगी चुस्ती: आज की रफ़्तार भरी ज़िंदगी में ख़ुद को हेल्दी रखने की तमाम कोशिशों के बाद भी मोटापा महिलाओं को अपनी चपेट में ले रहा है. इसलिए यदि आप रोज़ाना वर्कआउट नहीं कर पातीं, तो सुबह-सुबह दूध वाली चाय की बजाय ग्रीन टी प‌िएं. ग्रीन टी में कैटच‌िन नामक ऐंटीऑक्सिडेंट पाया जाता है, जो पेट पर जमी चर्बी को घटाने में मदद करता है.



4. सीढ़‌ियां चढ़ें, ताकी मोटापा ना बढ़े: यदि आप ऑफ़िस जा रही हैं, तो लिफ़्ट की बजाय सीढ़‌ियों ‌का प्रयोग करें. सिर्फ़ ऑफ़िस में ही नहीं, बल्कि कही भी आपको लिफ़्ट, एस्कलेटर या सीढ़ी में से यदि कोई एक विकल्प चुनना हो, तो सीढ़‌ियों की ओर ही अपने क़दम बढ़ाएं. साथ ही रोज़ाना तीस मिनट तक साइ‌क‌िलिंग करें, ऐसा करने से एक तो आपका वर्कआउट हो जाएगा, दूसरा मोटापा भी धीरे-धीरे कम होने लगेगा.


5. पानी, यानी सेहत की ज़िंदगानी: अक्सर काम की आपा-धापी में महिलाएं पानी पीना ही भूल जाती हैं, जो शरीर के लिए काफ़ी हान‌िकारक होता है. बता दें, रोज़ाना कम से कम तीन लीटर पानी पीने से शरीर का मेटाबॉलिज़्म बढ़ता है, जिससे कैलोरीज़ बर्न होती हैं. इसलिए पेट की चर्बी को घटाने के लिए पानी पीने में कोई कोताही ना बरतें. सादा पानी पीने का मन ना करे, तो बीच-बीच में डीटॉक्स वॉटर पिएं.



6. फ़ाइबरस फ़ूड खाएं, फ़िट हो जाएं: जब बात खाने को पचाने की आती है तो उसमें फ़ाइबर को सबसे अहम् पोषक तत्व माना जाता है. घुलनशील फ़ाइबर का सेवन करने से वज़न घटाने में मदद मिलती है, क्योंकि घुलनशील फ़ाइबर पाचन को बेहतर बनाते हैं और आंतों की चर्बी घटाते हैं. फल, ओट्स या मूंग दाल जैसे अनाज फ़ाइबर के काफ़ी बेहतरीन स्रोत हैं, जिन्हें अपनी डायट में लेने से आप अपने बाहर निकले पेट को कम कर सकती हैं.

लाजवाब ऐंटी-एजिंग ट्रीटमेंट है पानी

पानी हमारी त्वचा और बाल दोनों को सेहतमंद और साफ़-सुथरा बनाए रखने में अहम् भूमिका निभाता है. पानी से न केवल आपका शरीर, बल्कि आपकी त्वचा और बाल भी हाइड्रेटेड रहते हैं. यह एक अच्छा डीटॉक्स करनेवाला घटक है. अपने वज़न के मुताबिक़, हर दिन दो से चार लीटर पानी पिएं और फिर देखें कमाल. 


अपनी मां से जानें कैसे की जाती है त्वचा की देखभाल

श्वेता बच्चन नंदा की ख़ूबसूरती और आकर्षण को देखकर इस बात का अंदाज़ा लगाना मुश्क़िल है कि वे दो टीनएज बच्चों की मां हैं. भले ही वे बॉलिवुड की जगमगाहट से दूर रहीं, ल‌ेकिन उनकी बेटी नव्या नवेली हर मायने में बॉलिवुड दीवाज़ को टक्कर दे रही हैं. जाहिर-सी बात है नव्या ने यह ख़ूबसूरती अपनी मां श्वेता से ही पाई है. स्किन केयर के बारे में नव्या अपनी मां श्वेता की सलाह मान‌ती हैं. आप भी अपनी मां की सलाह मानकर दमकती त्वचा पा सकती हैं. 
भले ‌ही आप महंगी क्रीम और फ़ेसपैक लगाती हों, लेकिन हमारी दादी और मम्मी घर पर बने फ्रूटपैक, मुल्तानी मिट्टी का फे़सपैक, बेसन से बनें फेशियल स्क्रब और मलाई से त्वचा को मॉइस्चराइज़ करके बेदाग़ ख़ूबसूरती पाती थीं.




आप जो भी खाती हैं, उसका असर चेहरे पर दिखाई देता है. खाने के बारे में अपनी मां क‌ी इन सलाह को ज़रूर माने, जैसे खाना कम खाएं उसकी जगह फल और हरी सब्ज़‌ियां ज़्यादा खाएं. ज़्यादा मीठा और तली हुई चीज़ों को खाने से चेहरे पर मुहांसे आते हैं. हाइड्रेटेड रहने के लिए नारियल पानी और ताज़ी सब्ज़‌ियों ‌का जूस रोज़ाना पीएं.

स्वस्थ और दमकती त्वचा के लिए 7 से 8 घंटे की नींद बेहद ज़रूरी होती है. भरपूर नींद लेने से त्वचा में चमक तो आती ही है, साथ ही आंखों के डार्क सर्कल्स भी दूर हो जाते हैं. जिसकी वजह से आप तरोताज़ा महसूस करने लगती हैं.

ज़्यादा समय मोबाइल पर बात करने से हाथों में पसीना आता है, जिसकी वजह से वहां बैक्टीरिया जमा हो जाते हैं, जो त्वचा के लिए हानिकारक होते हैं. इसलिए जब भी घर पर हों, तो मोबाइल की जगह हैडफ़ोन्स व इयरफ़ोन्स इस्तेमाल करें. ज़्यादा देर मोबाइल पर रहने से जीवनशैली भी प्रभावित होती है. ख़ाली समय में एक्सासाइज़ करें और जमकर पसीना बहाएं. इससे सेहत भी बनी रहेगी और आप जवां भी नज़र आएंगी.


आपकी त्वचा, कोशिकाएं सभी कुछ पानी से बनी होती हैं. अब इतना ही काफ़ी है, आपको बताने के लिए कि पानी की अहमियत क्या है. पानी की कमी से आपकी त्वचा पर काले दाग़-धब्बे दिखाई देने लगते हैं. क्योंकि आपकी त्वचा की कोशिकाएं दुरुस्ती का काम नहीं कर पातीं और न ही त्वचा में नई कोशिकाएं बन पाती हैं.


महंगी ऐंटी-एजिंग क्रीम्स और ट्रीटमेंट्स की जगह पानी का इस्तेमाल करें. कैसे? ज़्यादा से ज़्यादा पानी पीकर अपनी त्वचा को हाइड्रेट करें. बढ़ती उम्र में त्वचा रूखी हो जाती है और दाग़-धब्बों से भर जाती है. इसकी मुख्य वजह त्वचा में नमी की कमी होती है. पानी झुर्रियों को कम करता है. त्वचा को हाइड्रेट कर मुलायम और चिकना बनाता है. हर दिन सुबह उठते ही सबसे पहले कम से कम एक लीटर सादा पानी पिएं. नतीजे आपको कुछ ही हफ़्तों में दिखाई देंगे. 
https://www.healthsiswealth.com


पानी मेटाबॉलिज़्म को बढ़ाता है, जिससे आपका पेट साफ़ रहता है. पेट साफ़ यानी शरीर से टॉक्सिन्स रिलीज़ हो रहे हैं. इससे त्वचा में दमक आती है और त्वचा अंदर से निखरती है. इसके अलावा सोराइसिस, एक्ज़िमा जैसी त्वचा संबंधी समस्याओं से भी छुटकारा मिलता है.



चेहरे पर बर्फ़ मलने या ठंडे पानी से चेहरा साफ़ करने पर रोमछिद्र में कसाव आता है, जिससे आपकी त्वचा कसी हुई नज़र आती है. यह मेकअप के लिए भी उम्दा बेस तैयार करता है और मेकअप को लंबे समय तक टिकाए रखता है.


हमारे बाल हाइड्रोजन बॉन्ड्स से बने हैं. इसलिए बालों के लिए पानी सबसे बेहतरीन है. आपके बाल का ¼ वज़न पानी से बनता है. इसलिए दिन में दो से तीन लीटर पानी पीना सेहतमंद बालों के लिए बहुत ज़रूरी है. ठंडे पानी से बाल धोने पर स्कैल्प सेहतमंद होता है और बाल मज़बूत बनते हैं.


पेशाब और पसीने से हमारे शरीर से हर दिन औसतन 2.5 लीटर पानी नष्ट होता है, इसलिए हमें रोज़ इतने पानी की ज़रूरत पड़ती है. ज़रूरी नहीं कि हम केवल सादा पानी ही पिएं. डीटॉक्स वॉटर आपके पानी पीने की इच्छा को बढ़ाएगा और आपको हाइड्रेटेड रखने में मदद करेगा.



बॉलिवुड अभिनेत्री दिशा पटानी अपनी फ़िटनेस और ख़ूबसूरती के लिए जानी जाती हैं. हाल ही में उन्होंने अपने इंस्टाग्राम अकाउंट पर एक पोस्ट साझा की, जिसमें वे धूप का आनंद उठा रही हैं. उस पोस्ट पर उन्होंने कैप्शन लिखा है ‘सनकिस्ड’. इस तस्वीर में सूरज की रौशनी से विटाम‌िन डी लेते हुए, दिशा पटानी बला की ख़ूबसूरत नज़र आ रही हैं. चलिए बताते हैं कि आख़िर सूरज की रौशनी स्वास्थ्य और दमकती त्वचा के लिए ज़रूरी क्यों होती है.
हालांकि, इसमें कोई दो राय नहीं कि सूरज की चिलचिलाती धूप और पराबैंगनी किरणों के प्रभाव से हमारे शरीर को नुक़सान पहुंचता है, लेकिन यह बात भी उतनी ही सही है कि सुबह-सुबह सूरज की रौशनी से शरीर को विटामिन डी मिलता है. शहरों में रहनेवाले ज़्यादातर लोगों को भरपूर मात्रा में धूप नहीं मिल पाती, इसलिए उनमें आमतौर पर विटामिन डी की कमी पाई जाती है. बेहतर स्वास्थ्य के लिए सुबह उठ कर गुनगुनी धूप में प्राणायाम करें. शरीर को विटामिन डी की खुराक मिलने से त्वचा और शरीर में काफ़ी बदलाव आएंगे.
जो लोग रोज़ाना नियंत्रित रूप से सूरज की रौशनी लेते हैं, उन्हें मुहांसों और दाग़-धब्बों की समस्या बहुत कम होती है. धूप के ऐंटीबैक्टीरियल और कीटाणुनाशक गुण त्वचा के जर्म्स को नष्ट करते हैं.
एक्ज़‌िमा जैसी गंभीर त्वचा की बीमारी के लिए आप रोज़ाना सुबह-सुबह धूप सेंकें. साथ ही बाहर निकलते वक़्त एसपीएफ़ वाली सनस्क्रीन का भी उपयोग करें.

सुबह-सुबह गुनगुनी धूप लेने से ना केवल आपकी त्वचा में दमक आएगी, बल्कि इससे आपके शरीर में कई तरह के सकारात्मक बदलाव आएंगे. जैसे आपको बेहतर नींद आएगी, आपका ब्लड प्रेशर कंट्रोल में होगा साथ ही यदि आप अवसाद में हैं, तो उससे धीरे-धीरे बाहर निकल पाएंगी.
10 घिसे-पिटे ब्यूटी मंत्र, जिन्हें बदलने की ज़रूरत है



सौंदर्य से जुड़ी कई परिभाषाएं और उम्मीदें होती हैं, जिनका सामना महिलाओं को करना पड़ता है. तय रूप से आपके साथ भी ऐसा हुआ होगा, जब किसी रिश्तेदार ने आपके बालों की लंबाई के आधार पर आपको कहा होगा,‘तुम लड़कों की तरह दिख रही हो.’ या आप मोटी न हो जाएं इसलिए आपको बेहद चुनौतीपूर्ण डायट का अनुसरण करना पड़ा हो. कहने का मतलब यह है कि सौंदर्य काफ़ी नियमों और बंधनों में बंध गया है. लेकिन इसे बदलने की ज़रूरत है, क्योंकि हर महिला अनूठी है. हो सकता है आपकी बहन को डिम्पल्स आते हों, या आपकी दोस्त के बाल कमर तक लंबे हों, तो क्या हुआ, आपकी मुस्कान आपका प्लस पॉइंट हो सकती है. हम यहां सौंदर्य से जुड़ी कुछ ऐसी ही घिसी-पिटी धारणाओं के बारे में बात कर रहे हैं, जिन्हें तोड़ना बहुत ज़रूरी है. 

लंबे बाल लड़कियों पर जंचते हैं, वहीं छोटे बाल उन्हें लड़कों जैसा लुक देते हैं.



मोटी लड़कियां अच्छी नहीं दिखतीं.



कोई भी लड़की बिना मेकअप या प्लास्टिक सर्जरी के ख़ूबसूरत नज़र नहीं आ सकती.




गोरी रंगत ही मोहक और आकर्षक लगती है.




कर्ली बाल अनूठे लगते हैं.



40 के पार की महिलाओं को रेड लिपस्टिक नहीं लगानी चाहिए, क्योंकि ये उनकी उम्र के लिए ठीक नहीं.



तिल और मस्सों को कंसील करना चाहिए.




लंबी लड़कियों को हील्स नहीं पहननी चाहिए.


र भी दिखने न दें.


चश्मे बेवकूफ़ या पढ़ाकू किस्म के लोगों पर ही जंचते हैं. 


कोई टिप्पणी नहीं

Healths Is Wealth. Blogger द्वारा संचालित.