Header Ads

वजन कम करने के लिए नहीं खाएं ये 5 फल


वजन कम करने के लिए नहीं खाएं ये 5 फल

वजन कम करने के लिए धैर्य की आवश्यकता होती है, और वांछित लक्ष्य प्राप्त करने के लिए बहुत मेहनत की आवश्यकता होती है। अधिकांश स्वास्थ्य विशेषज्ञ मोटापा कम करने के लिए आपको आहार में फाइबर और प्रोटीन समृद्ध खाद्य पदार्थ शामिल करने की सलाह देंगे, ताकि लंबे समय तक आपको भूक न लगे और आप ओवरईटिंग के शिकार न हो।

वजन घटाना चाहते हैं तो आपको ज्यादा-ज्यादा फिजिकल एक्सरसाइज और कैलोरी से भरपूर आहारों का कम से कम सेवन करना चाहिए। आइए आज हम आपको उन 5 फलों के बारे में बताते है जिनका सेवन वजन कम करने के दौरान नहीं करना चाहिए।
#अंगूर


वैसे तो अंगूर समग्र स्वास्थ्य के लिए बहुत अच्छा हैं, लेकिन अंगूर में शुगर और फैट पाया जाता है, जो आपकी वजन घटाने की यात्रा को रोक सकता है। आपको बता दें 100 ग्राम अंगूर में 67 कैलोरी और 16 ग्राम शुगर पाया जाता है। इसका मतलब यह है कि इस छोटे से फल का नियमित सेवन वजन बढ़ा सकता है।
#एवोhttps://www.healthsiswealth.com/काडो


एवोकाडो एक गहरे हरे रंग का फल है जिसमें विटामिन ए, विटामिन बी, विटामिन ई, फाइबर, मिनरल्स, प्रोटीन और मोनोसैचुरेटेड पाया जाता है। इसका सेवन आपको बीमारियों से निजात दिलाता है, लेकिन आपको बता दें कि एवोकाडो हाई कैलोरी वाला फूड है। ऐसा कहा जाता है कि 100 ग्राम एवोकाडो में लगभग 160 कैलोरी पाई जाती है।

इसका मतलब यह नहीं है कि आप इसे अपने आहार से पूरी तरह खत्म कर दें। एवोकाडो स्वस्थ वसा का एक अच्छा स्रोत है, इसलिए इसका सीमित मात्रा में सेवन कीजिए।
#ड्राई फ्रूट

प्रोटीन, विटामिन, खनिजों और आहार फाइबर में समृद्ध ड्राई फ्रूट एक स्वादिष्ट और स्वस्थ स्नैक्स के लिए जाना जाता है, लेकिन सूखे आलूबुखारा, किशमिश जैसे ड्राई फ्रूट में अधिक कैलोरी होता हैं क्योंकि इसमें पानी की मात्रा कम पाई जाती है। ऐसा कहा जाता है कि अंगूर की तुलना में एक ग्राम किशमिश में अधिक कैलोरी पाई जाती है।

लगभग एक कप किशमिश में 500 कैलोरी होता है और एक कप सूखे आलूबुखारा में 450 कैलोरी से भी ज्यादा कैलोरी होता है, जिसका ज्यादा सेवन करने से वजन बढ़ सकता है। इसलिए सीमित मात्रा में ड्राई फ्रूट खाना सेहत के लिए बहुत ही अच्छा है। – ड्राई फ्रूट के सेवन के फायदे
#आम

गर्मियों में लोग आम को बड़े ही चाव से खाते हैं। इसके साथ ही लोग इसका जूस भी बनाकर पीते हैं। आम जैसे उष्णकटिबंधीय फल में हिडन कैलोरी पाई जाती है जो आपके वजन घटाने के प्लान में बाधा डाल सकती है। इस फल में शुगर की मात्रा भी बहुत पाई जाती है, जो वजन को बढ़ा सकती है।
#केला

विटामिन, आयरन और फाइबर से भरपूर केला खाने वालों का एनर्जी लेवल साधारण व्यक्ति से ज्यादा होता है। जैसा कि हम सभी जानते हैं कि केला स्वास्थ्य के लिए बहुत ही गुणकारी है लेकिन इसका अधिक सेवन आपके वजन को बढ़ा सकता है। केले में ज्यादा मात्रा में कैलोरी होने के साथ नेचुरल शुगर भी होता है। आपको बता दें कि एक केले में लगभग 150 कैलोरी पाई जाती है, जो लगभग 37.5 ग्राम कार्बोहाइड्रेट के बराबर होती है।

इसलिए, यदि आप ऐसे व्यक्ति हैं जो हर दिन 2-3 केले खाते हैं, संभावना है कि इससे आपका वजन बढ़ सकता है। वजन कम करने वाले लोगों के लिए दिन में सिर्फ एक केला खाना सबसे अच्छा माना जाता है। हां, केला उन लोगों के लिए सही है जो दूबले हैं।
उपरोक्त सभी फल शरीर के लिए पूरी तरह से हेल्दी है, लेकिन इसका ज्यादा या किसी भी समय सेवन करने से बचना चाहिए। ये आपकी वज़न कम करने की यात्रा धीमा कर सकते हैं।



नाश्ते में केला खाने के फायदे


नाश्ते में केला खाना शरीर के लिए बहुत ही फायदेमंद है। यदि आप ब्रेकफास्ट या नाश्ते में बहुत सारे केले का सेवन करते हैं तो आप दिन में बहुत ही कम आहार का सेवन करेंगे। इससे आप वजन को कम करने में भी सफल हो पाएंगे। विशेष रूप से जापानी लोग सुबह के नाश्ते के रूप में केले के सेवन के लिए क्रेजी हैं।

आपको बता दें कि जापानी लोग वजन कम करने के लिए सुबह की शुरुआत गुनगुने पानी और केले से करते हैं। विशेषज्ञ के मुताबिक इससे वजन तेजी से कम होता है और यह वैज्ञानिक रूप से सिद्ध तरीका है।
केले के औषधीय गुण

1. केले फाइबर के साथ भरपूर है। इसमें दोनों घुलनशील और अघुलनशील फाइबर है जो पाचन के लिए सही है और आपको लंबे समय तक पूर्ण महसूस करा सकता है।

2. यूके में लीड्स विश्वविद्यालय के मुताबिक, केले जैसे फाइबर युक्त खाद्य पदार्थों के सेवन से कार्डियोवास्कुलर बीमारी (सीवीडी) और कोरोनरी हार्ट रोग (सीएचडी) दोनों का जोखिम कम हो सकता है।

3. केले में पाए जाने वाले फाइबर से पाचन शक्ति सही रहती है। पाचन शक्ति सही रहने का परिणाम यह होता है कि आप कई बीमारियों से दूर रहते हैं। यदि आप भी नियमित रूप से केले का सेवन करते हैं तो आपकी पाचन क्रिया अच्छी रहेगी। – क्या खाली पेट केला खाना चाहिए?

4. पोषण की बात आती है तो केले में में पौष्टिक तत्वों की भरमार है। यह आवश्यक विटामिन और खनिजों जैसे पोटेशियम, कैल्शियम, मैंगनीज, मैग्नीशियम, आयरन, फोलेट, नियासिन, रिबोफ़्लविन और विटामिन बी6 जैसे पौष्टिक तत्वों से भरपूर है।

5. केला अपने पोटेशियम स्रोत के लिए जाना जाता है। यह खनिज दिल की धड़कन, रक्तचाप को नियंत्रित करने आदि में मदद करता है।

6. यह एक ज्ञात तथ्य है कि उच्च रक्तचाप के लिए नमक बुरा होता है। केले में कम नमक सामग्री और उच्च पोटेशियम सामग्री होती है, और ये गुण उच्च रक्तचाप के हालत से गुजर रहे लोगों के लिए आदर्श है।
केले के सेवन से भी ब्लड प्रेशर को कंट्रोल करने सहायता मिलती हैं। इसमें मौजूद पोटैशियम की अधिक मात्रा हाइपरटेंशन के मरीजों के लिए बहुत गुणकारी है।


7. एक दिन में एक केला अस्थमा को दूर रखने में मदद मिलती है। अनुसंधान के अनुसार, दिन का एक केला बच्चे में 34 फीसदी तक अस्थमा के जोखिम को कम कर देता है।

8. केला में कब्ज की समस्या को दूर करने की क्षमता है। केला कब्ज के लिए रामबाण साबित होता है, जो कब्ज को दूर करने की बहुत बड़ी क्षमता रखता है।

9. केले में पाया जाने वाला विटामिन बी6 शरीर में ब्लड ग्लूकोज के लेवल को अच्छा रखता है। आयरन की कमी से एनीमिया रोग का सामना करना पड़ता है। यदि आप भी एनीमिया के शिकार हैं, तो आपको केले का सेवन करना चाहिए।

10. नाश्ते में केला खाने से ऊर्जा बढती है और सूक्रोज, फु्रक्टोज व ग्लूकोज जैसे आवश्यक पोषक तत्व भी प्राप्त होते हैं। जो लोग जो व्यस्तता के कारण भरपूर खाना नहीं खा पाते, अगर केला खा लें तो उन्हें तुरंत उर्जा मिलेगा।



ड्राई फ्रूट के सेवन के फायदे


ड्राई फ्रूट्स हमारे शरीर और दीमाग के लिए बहुत ही लाभदायक हैं। इसका सेवन करने से शरीर तो बेहतर होता ही है साथ ही दिमाग भी तेज होता है। प्रोटीन, कैलोरी और कार्बोहाइड्रेट समेत कई अन्य पोषक तत्वों से भरपूर मेवा वजन घटाने में भी मदद करता है। यही नहीं ये हृदयरोग, डायबिटीज और उच्च रक्तचाप के खतरों से भी निजात हैं। आइए शरीर को उर्जा प्रदान करने वाले इन फ्रूट्स के बारे में बात करते हैं।

बादाम : विटामिन ई, मैग्नीशियम और कैल्शियम से भरपूर बादाम हमेशा से ही लोगों के लिए पसंदीदा ड्राई फ्रूट रहा है। इसका निरंतर सेवन करने से रक्तचाप कम करने और हड्डियों को मजबूत करने में मदत मिलती है। अमेरिका में हुए एक अध्ययन के मुताबिक रोजाना 42 ग्राम बादाम का सेवन करने से बैड कॉलेस्ट्रोल कम होता है, जिससे हृदयरोग और उच्च रक्तचाप नियंत्रित होता है।
पिश्ता : एक अध्ययन के अनुसार रोजाना 60 पिश्ते खाने से ब्लड शुगर कंट्रोल में रहता है। पोटेसियम और एंटीऑक्सीडेंट की भरपूर मात्रा पिश्ता को सेवन टाइप टू डायबिटीज में काफी फायदेमंद माना जाता गया है।

अखरोट : निरंतर अखरोट के सेवन से धमनियों के ब्लॉकेज को ठीक किया जा सकता है। अध्ययन बताते हैं प्रतिदिन मुट्ठी भर अखरोट आपके शरीर को मिनरल्स, एंटीऑक्सिडंट, विटामिन्स और प्रोटीन्स प्रदान करते हैं जो ब्रैस्ट कैंसर, कोलोन कैंसर और प्रोस्टेट कैंसर से बचाव करता है।

काजू : काजू को उर्जा का एक अच्छा स्रोत माना जाता है। इसका प्रतिदिन सेवन करने से थकान भी दूर होता है। तंत्रिका तंत्र, हड्डियों और प्रतिरक्षा प्रणाली को यदि आप मजबूत करना चाहते हैं तो काजू का सेवन करते रहिए क्योंकि इसमें कॉपर की भरपूर मात्रा पाई जाती है।
मूंगफली : हर तरह के पौष्टिक तत्वों से भरपूर मूंगफली को प्रोटीन के लिए अच्छा स्रोत माना जाता है इसमें मौजूद एंटीऑक्सिडेंट्स, विटामिन्स, मिनिरल्स आदि तत्व पाए जाते हैं जो शरीर के लिए लाभदायक है। 

कोई टिप्पणी नहीं

Healths Is Wealth. Blogger द्वारा संचालित.