Header Ads

हस्तमैथुन करने वाली लड़कियों को शादी के बाद होती है ये समस्याएं


हस्तमैथुन करने वाली लड़कियों को शादी के बाद होती है ये समस्याएं


पुरुषों द्वारा हस्तमैथुन करना आम बात है। लेकिन आपको यह जानकर हैरानी होगी कि महिलाएं भी अपनी यौन उत्तेजना को शांत करने के लिए अक्सर हस्थमैथुन करती हैं। कई लड़कियां शादी से पहले रोज हस्थमैथुन करती हैं जिसके कारण उन्हें शादी के बाद कई तरह की समस्याओं का सामना करना पड़ता है। आज हम आपको बताएंगे कि रोज हस्तमैथुन करने वाली लड़कियों को शादी के बाद किस तरह की समस्याएं होती हैं।
हस्तमैथुन करने वाली लड़कियों को शादी के बाद होते है ये साइड इफेक्ट्स

किशोरावस्था में हस्तमैथुन करने वाली लड़कियां अपने पति के साथ शारीरिक संबंध सम्बन्ध स्थापित करने को लेकर सजग नहीं रहती है। क्योकि उन्हें उत्तेजित होने में काफी अधिक समय लगता है और उनका पार्टनर उनसे पहले ही शांत हो जाता है, जिस वजह से उनके रिश्तों में तनाव आ जाता है।

तीन ऐज में रोज हस्थमैथुन करने से ज्यादातर लड़कियों को हस्थमैथुन की लत सी लग जाती है। जिसका असर शादी के बाद तनाव के रूप में सामने आने लगता है।

किशोरावस्था में हस्तमैथुन करने वाली महिलाओं को अकेलेपन की आदत हो जाती है। और वह अक्सर हस्तमैथुन करने के लिए अकेली जगह की तलास में रहतीं हैं।

लड़कियों द्वारा जरूरत से ज्यादा हस्तमैथुन करने पर उनमे अनियमित पीरियड, मासिक धर्म अथवा मेंस्ट्रुअल साइकिल या एमसी (Menstrual Cycle) संबंधी समस्याएं आने लग जाती है।

किशोरावस्था में हस्तमैथुन करने वाली लड़कियों के गुप्तांग में सूखापन आ जाता है और योनि में खुजली एवं दर्दजैसी समस्याए भी होने लगती है।

हीमेच्यूरिया, स्त्रियों में होने वाली एक तरह की बीमारी है, इस बीमारी में यूरीन में ब्‍लड आने लगता है। जो ज्यादा हस्तमैथुन करने से हो सकती है। इस बीमारी में महिलाओं का यूरीन गाढ़ा हो जाता है और उसमें से रक्त और गंध आने लगती है। गुप्‍त रोग विशेषज्ञों के मुताबिक हस्तमैथुन की वजह से इस रोग के लगने की आशंका बढ़ जाती है। इससे महिलाओं में काफी कमजोरी भी आती है साथ ही महिलाओ को खून की कमी भी होने लगती है।
हस्तमैथुन करने वाली लड़कियों की शादी के बाद पति से संबंधों पर प्रभाव

जो महिलाएं किशोरावस्‍था में हस्थमैथुन करना शुरू कर देती हैं, उन्‍हें शादी के बाद अपने पति के साथ संभोग के दौरान ज्‍यादा अच्‍छा अनुभव नहीं होता। इसका मुख्य कारण पति के पेनिस में वह कड़ापन न मिलना जो महिला को सेक्स टॉय या अन्य चीज से हस्थमैथुन करने पर मिलता था। इससे वह अपने पति के साथ संबंध बनाने से बचने लगतीं हैं और इस वजह से उनका शादी-शुदा जीवन भी प्रभावित होता है।

अंत में सबसे अहम बात यह कि किशोरावस्‍था में हस्तमैथुन करने से महिलाओं में यौन इच्‍छाएं कम होने लगती हैं। रोज हस्तमैथुन करने पर उन्‍हें संभोग के दौरान ज्‍यादा मजा नहीं आता जिससे उन्‍हें सेक्‍स की चरम सीमा या चरम सुख (ऑर्गेज्म) तक पहुंचने में दिक्‍कत होती है।

अपने पति के साथ सेक्स करने में उन्हें कम समय तक यौन आनंद मिलता है जिससे वह असंतुष्ट रह जाती है और फिर कई स्त्रियां अपनी यौन संतुष्टी के लिए हस्तमैथुन करने का एक समय सेट कर लेती हैं, यदि उस दौरान उन्‍हें अकेलापन नहीं मिलता तो उन्‍हें तनाव होने लगता है और गुस्‍सा भी आने लगता है। ऐसे में उनकी अपने पति से झगड़े होने की संभावना बढ़ जाती है।

कोई टिप्पणी नहीं

Healths Is Wealth. Blogger द्वारा संचालित.