Header Ads

अनियमित मासिक धर्म की समस्या से छुटकारा


अनियमित मासिक धर्म की समस्या से छुटकारा

अगर किसी महिला का पीरियड्स हर महीने ठीक से आ रहे हैं तो उस महिला को अनियमित मासिक धर्म की समस्या नहीं होती है और उन्हें किसी भी प्रकार की परेशानियों का सामना नहीं करना पड़ता है | लेकिन कई बार महिलाओं के पीरियड्स आने वाले समय के 15-20 दिन बाद भी नहीं आते हैं और इसी के कारण महिलाओं को डर लगने लगता है की उनके शरीर में क्या हो रहा है |अनियमित मासिक धर्म क्या होता है

महिला का मासिक चक्र यदि नियमित समय पर आ रहा है तब उन्हें किसी भी प्रकार की परेशानियां नहीं होती है |


इर्रेगुलर पीरियड्स क्यों होते हैं -:
जिस तरह हमने ऊपर देखा कि प्राकृतिक तरीके की जीवन शैली ना होने के कारण इर्रेगुलर पीरियड्स का सामना करना पड़ता है | जो महिलाएं दिन भर काम करती रहती है और खुद को वक्त नहीं दे पाती है उन महिलाओं ने सबसे पहले खुद को वक्त देना सीखना चाहिए | आप खुद को जितना ज्यादा वक्त दोगे उतना ओवुलेशन साइकिल ठीक तरह से रहेगी |
मनुष्य के शरीर को लगभग ७ से ८ घंटे की नींद होना जरूरी होता है | जो महिला ७ से ८ घंटे की नींद नहीं लेती है उस लड़की को या महिला को अनियमित पीरियड्स का सामना करना पड़ता है | इसलिए महिलाओं ने पूरी नींद लेना चाहिए, पूरी नींद लेने से शरीर को पर्याप्त मात्रा में आराम मिलता है और शरीर की सारी गतिविधियां ठीक तरह से काम करती है |
इर्रेगुलर पीरियड्स होने के कारण कई बार महिलाएं अधिक मात्रा में तनाव ले लेती है | खासकर प्रेग्नेंसी के समय जिस महिला को पीरियड्स के बारे में नॉलेज नहीं होता है और महिलाओं को अधिक तनाव आ जाता है अगर आप प्रेगनेंसी के दिनों से गुजर रही हो तो आपने हमेशा ध्यान रखना है कि प्रेगनेंसी में पीरियड्स नहीं आते हैं |
अनियमित मासिक धर्म होने का कारण क्या है ?अनियमित मासिक धर्म होने का कारण
महिला के पीरियड्स में देरी होने के दो प्रमुख कारण है एक ओवरी में पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम यानी कि पीसीओएस होना यह अनियमित मासिक धर्म का सबसे प्रमुख कारण है |
पीरियड्स नहीं आ रही है इसके पीछे का कारण क्या है ?
पीरियड्स नहीं आ रहे हैं तो इसके पीछे बहुत सारे कारण हो सकते हैं, कई बार महिलाओं के शरीर की सारी गतिविधियां पूरी तरह से बिगड़ जाती है जिसके कारण मासिक धर्म नहीं आता है |
महिला को जब पीरियड्स नहीं आते हैं तब महिला के दिमाग में सबसे पहला विचार आता है कि मैं प्रेग्नेंट हुई हूं | लेकिन जिस महिला ने अपने पार्टनर के साथ संभोग नहीं किया है फिर भी उस महिला की पीरियड्स नहीं आती है तो पीरियड्स न आने पर अन्य कारण कारणीभूत है |
इस तरह प्रेगनेंसी के अलावा मासिक धर्म में देरी के कारण बहुत सारे है, जिसके कारण हर महिला ने अपने अपने स्वास्थ्य को समझकर पीरियड्स ना आने के कारण जान लेना चाहिए |

पीरियड्स ना होने का प्रमुख कारण है –
बाहरी बदलाव जैसे कि अचानक वजन बढ़ना या फिर अचानक से वजन कम होना |
हमेशा तनाव में रहने के कारण भी पीरियड्स में अनियमितता आती है |
अधिक मात्रा में यात्रा करने से महिलाओं का शरीर में थकान आती है और इसी थकान के कारण उन्हें अनियमित मासिक धर्म का सामना करना पड़ता है|
मासिक धर्म ना आने का सबसे बड़ा और प्रमुख कारण है गर्भवती होना | यह मासिक धर्म में देरी के प्रमुख कारण है |
एमसी सही समय पर आना क्यो जरूरी होता है ?एमसी सही समय पर आना
हर महिला के शरीर की गतिविधियां अलग अलग होती है, लेकिन जिस तरह से हर महिला को पीरियड आती है उसी तरह से उम्र में आने वाली लड़कियों को भी पीरियड्स आते हैं |
एमसी सही समय पर लाने के लिए महिलाओं द्वारा विभिन्न प्रकार के उपाय इस्तेमाल किए जाते हैं, लेकिन हर उपाय इस्तेमाल करने से महिलाओं को पीरियड्स वक्त पर आएंगे ऐसा नहीं होता है |
एमसी सही वक्त पर आने से महिलाओं के शरीर की सारी गतिविधियां सही रहती है, जो महिलाएं बच्चा पैदा करने के बारे में सोच रही है उन महिलाओं के शरीर की सारी गतिविधियां उचित होना चाहिए खासकर महावरी |
जो महिलाएं अनियमित मासिक धर्म को नियमित करती है उन महिलाओं को बच्चा पैदा करते समय और संभोग करते समय किसी प्रकार की समस्या का सामना नहीं करना पड़ता है | इसलिए पीरियड सही वक्त पर रहना जरूरी है |
रेगुलर पीरियड करने के लिए क्या इलाज करें ?
रेगुलर पीरियड करने के लिए
पीरियड्स में अनियमितता को दूर करने के लिए योगा करें :

ऐसा पाया गया है कि योगा पीरियड्स के संबंधित प्रॉब्लम्स में एक असरदार उपाय माना गया है | रोजाना 30 से 40 मिनट तक योगा करने से और हफ्ते में 5 दिन योगा करने से पीरियड्स का दर्द कम होता है और इसके कारण हमारे शरीर में होने वाला खून का प्रभाव अच्छे से बना रहता है |
पीरियड की समस्या से बचने के लिए अपने वजन को नियंत्रित रखें :

अगर आपके शरीर में अचानक से कोई बदलाव आता है तो इसका आपके तबीयत पर बहुत बुरा प्रभाव पड़ता है, ठीक इसी तरह अगर आपका वजन अचानक से घटने लगता है या फिर अचानक से बढ़ने लगता है | तो इसका कारण आप क्या पीरियड्स में बदलाव आ सकता है | इसलिए आपको अपने खानपान की तरफ अच्छी तरह से ध्यान रखना चाहिए और हो सके तो अपने वजन को संतुलित करना चाहिए |
पीरियड्स की समस्या से बचने के लिए अदरक का सेवन करें :

अदरक को पीरियड्स के लिए होम रेमेडी की तरह माना गया है क्योंकि पीरियड्स की समस्या में अदरक एक असरदार दवा की तरह काम करता है | हो सके तो आपको रोजाना चायमें थोड़ा अदरक मिलाकर पीना चाहिए जिससे आपके पीरियड्स के दर्द कम होने लगते हैं |
शरीर में विटामिन सी की मात्रा संतुलित रखें अनियमित मासिक धर्म के लिए :

अगर आपको अनियमित मासिक धर्म हो रहे हैं, तो आपको शरीर में विटामिन डी की मात्रा अधिक रखनी चाहिए| क्योंकि विटामिन डी के कारण हमारे शरीर में ज्यादा बीमारियां नहीं होती है, विटामिन डी हमें दूधिया डेरी प्रोडक्ट के अंदर मिल जाएंगे इसलिए दूध का सेवन करना पीरियड्स के लिए लाभदाई है |
पीरियड्स के दर्द के लिए एप्पल साइडर विनेगर का इस्तेमाल करें :

एप्पल साइडर विनेगर यानी कि सेब का सिरका उचित मात्रा में पीने से हमारा वजन संतुलित रहता है और इससे पीरियड्स सही समय पर आते हैं |
अनानास का सेवन करना मासिक धर्म में लाभदाई है :

अगर आप होम रेमेडी फॉर मेंस्ट्रुअल साइकिल ढूंढ रहे हो, तो आपको अनानास का सेवन करना ठीक रहेगा |

अनानास में ब्रोमेलिन होने के कारण यह पीरियड्स में होने वाले दर्द को कम करता है और आपको मेंस्ट्रुअल क्रेम्पस के साथ साथ मासिक धर्म में सर दर्द होने का छुटकारा मिल जाता है |
पीरियड्स में देरी होने से कैसे बचें ?पीरियड्स में देरी होने से कैसे बचें
किसी महिला के और लड़की के शरीर का मासिक धर्म चक्र लगभग २८ दिनों का होता है, ऐसा जरूरी नहीं है कि मासिक धर्म का चक्र २८ दिनों का ही होना चाहिए |
पीरियड्स में देरी होने से अगर आपको बचना है तो सबसे पहले आपने प्राकृतिक जीवनशैली का इस्तेमाल करना चाहिए |
जो महिलाएं प्राकृतिक जीवनशैली से जिंदगी बिताती है उस महिला के शरीर की सारी गतिविधियां संतुलित रहती है, जिससे पीरियड्स वक्त पर आना तय होता है |
बहुत सारी महिलाओं को हमेशा मानसिक तनाव में रहने की आदत होती है, लंबे समय तक मानसिक तनाव में रहने से पीरियड्स का वक्त बदल सकता है | इसलिए महिलाओं ने कभी भी मानसिक तनाव में नहीं रहना चाहिए |
मानसिक तनाव का बुरा असर महिलाओं के शरीर के हार्मोन पर पड़ता है, जिससे हार्मोन का संतुलन बिगड़ता है और पीरियड्स आने में देरी हो जाती है |
मासिक धर्म को सही समय पर लाने के लिए महिलाओं ने ज्यादा मात्रा में नशीली चीजों का सेवन नहीं करना चाहिए |
पीरियड्स आने मे देरी होने के कारण क्या है ?
पीरियड्स आने मे देरी होने के कारण क्या
पीरियड्स हर 23 से 35 दीनो के अंतराल मे होती है | कई महिलाओ मे या लड़कियो में मासिक धर्म साल में चार बार ही होता है, तो कई महिलाओ और लड़कियो का महीने में 2 बार भी हो सकता है |
किसी का जल्दी आता है तो किसी को समय से पहले जल्दी आती है | पीरियड्स समय पर ना आने के कई सारे कारण हो सकते है जैसे की-
ज़्यादा तनाव मे रहने से |
बच्चे को दूध पिलाने से |
गर्भाशय मे खराबी होने के कारण से |
नशा करने से दारू सिगरेट तंबाखू खाने से |
ख़ान पान पर ध्यान ना देने से आपके अनियमित मासिक धरम की तकलीफ़ हो सकती है |
ज़्यादा कड़ी मेहनत करना या एक्सर्साइज़ करने से |
आपके वजन एकदम कम होने से या बढ़ने से |
मासिक धर्म सही समय पर कैसे बनाए रखें ?मासिक धर्म सही समय पर

बहुत सारी महिलाएं ऐसी होती है जो हमेशा एंटीबायोटिक दवाइयों का सेवन करती है, लंबे समय तक और ज्यादा मात्रा में एंटीबायोटिक दवाइयों का सेवन करने से इसका गलत असर महिलाओं के शरीर पर पड़ता है |

महिला अगर स्वस्थ जीवनशैली और प्राकृतिक जीवनशैली का इस्तेमाल करती है तो इससे महिला के शरीर में होने वाली गतिविधियां संतुलित रहती है |

मासिक धर्म सही समय पर बनाए रखने के लिए महिलाओं ने कम से कम ७ घंटे की नींद लेना चाहिए | दिन भर में सही समय पर खाना खाना चाहिए, रोजाना एक्सरसाइज करना चाहिए, जिससे पीरियड्स में देरी नहीं होगी और पीरियड सही समय पर आएगी |

शारीरिक संबंध बनाते समय महिलाओं ने अपने पति के साथ शारीरिक सुख लेना चाहिए, महिला के शरीर को अगर परम सीमा तक सुख मिलता है तो इससे पीरियड्स संतुलित रहती है |
नियमित पीरियड्स लाने के उपाय :नियमित पीरियड्स लाने के उपाय
अनियमित पीरियड्स होने के कारण महिलाओं को बहुत ही तनाव का सामना करना पड़ता है | कई बार महिलाओं को लगता है कि अनियमित महावारी आना आम बात होती है, हम जानते हैं कि अनियमित महावारी आना आम बात है लेकिन अनियमित पीरियड्स अगर हर महीने आती है तो यह आम बात बिल्कुल नहीं है | इसलिए अनियमित पीरियड्स आने पर बिल्कुल नजरअंदाज ना करें |
जिन महिलाओं की जीवन शैली पूरी तरह से आर्टिफिशियल तरीके की होती है उन महिलाओं को अक्सर अनियमित पीरियड्स का सामना करना पड़ता है | अगर आपको सचमुच लगता है कि आपको हर महीने वक्त पर पीरियड्स आना चाहिए तो सबसे पहले आपने जीवन शैली को सुधारना चाहिए जो महिलाएं प्राकृतिक तरीके की जीवन शैली अपनाती है उन महिलाओं को अक्सर इस समस्या का सामना नहीं करना पड़ता है |
इस आधुनिक दुनिया में हम देखते हैं कि महिलाओं को धुम्रपान करने की आदत होती है, शराब पीने की आदत होती है इन नशीली चीजों का अधिक मात्रा में सेवन करने से भी अनियमित पीरियड्स का सामना करना पड़ता है | शरीर में अल्कोहल की मात्रा अधिक मात्रा में होने के कारण पीरियड्स का वक़्त बढ़ता है और महिलाओं का शरीर पूरी तरह से खराब हो जाता है | इसलिए अधिक मात्रा में नशीली चीजों का सेवन ना करें |
समय पर पीरियड आने के लिए क्या खाना चाहिए ?
समय पर पीरियड आने के लिए क्या खाना
तिल :

एक सीमित मात्रा मे तिल खाना सेहत के लिए अच्छा है | मगर इस को सही मात्रा मे ही खाना ठीक है क्यूंकी ज़्यादा तिल खाने से शरीर मे गर्मी पैदा होती है |
अंडे :

उबले हुए अंडे मे प्रोटीन्स कॅल्षियम और विटामिन की भरपूर मात्रा होती है | प्रोटीन युक्त अंडे का सफेद भाग खाने से आपके पीरियड्स आने मे देरी नही होगी और पीरियड्स समय पर आएँगे |
बादाम :

बादाम मे अच्छी मात्रा मे फाइबर्स होने के कारण इस से आपके बॉडी मे हॉर्मोन्स बॅलेन्स हो जाते है और आपको वीकनेस भी नही आती है |
दही :

दही खाने के कारण आप की बॉडी मे ठंडक पैदा होती है इसलिए आपके पीरियड्स समय पर आने मे देरी नही होगी |
लाल या काले अंगूर :

रोजाना एक गिलास काले या लाल अंगूर का ज्यूस बनाकर पीने से आपके मासिक धरम कभी भी आने की शिकायत दूर हो जाएगी ये एक आयुर्वेदिक घरेलू नुस्खे की तरह है |
हरी पत्तेदार सब्ज़िया :-

पालक और बैंगन जैसे सब्जिया खाने से पीरियड्स जल्दी से आते है | और पीरियड्स आने के बाद कमर दर्द पैर दर्द जैसे दर्द आपको कम हो होते है |
अंजीर :

रोजाना ४-५ अंजीर खाने से आपको इर्रेग्युलर पीरियड्स के प्राब्लम का घरेलू इलाज हो जाएगा | पीरियड आने के लिए क्या करे का जवाब है अंजीर जिस में भरपूर लोह यानिकी आइर्न्स ज़्यादा मात्रा मे होता है | इसीलिए रोजाना 4 तो 5 अंजीर का सेवन करे |
मूली के रस का सेवन करे :

अगर आपको इर्रेग्युलर पीरियड्स प्रोब्लेम है तो आप मूली का रस को निकाल कर जीरा के साथ छाछ बनाकर मिला के सेवन करने से आपकी कभी भी महावरी का आने का इलाज घरेलू आयुर्वेदिक तरीके से जो जाएगा |

अगर आपके मन मे किसी भी प्रकार की शंका है या सवाल है तो आप नीचे कमेंट बॉक्स मे लिखकर आपके सवाल का जवाब पा सकते हो |
एमसी की डेट में बदलाव होने से कैसे बचना चाहिए ?
सामान्य रूप से जिन महिलाओं को हर महीने अलग-अलग तारीख को पीरियड आते हैं उन महिलाओं ने खुद के शरीर पर ध्यान देना जरूरी होता है |
बहुत सारी महिलाएं ऐसी होती है जो लगातार गर्भनिरोधक गोली का सेवन करती है, लंबे समय तक और लगातार गर्भनिरोधक गोली का सेवन करने से महिला की पीरियड्स हर महीने अलग अलग तारीख को आती है |https://www.healthsiswealth.com/
शादी के बाद महिला जब बच्चे को स्तनपान करवाती है तब भी महिला को अनियमित मासिक धर्म का सामना करना पड़ता है | ऐसे वक्त महिलाओं ने सही समय पर खाना खाना चाहिए और सही वक्त पर सोना चाहिए जिससे शरीर संतुलित रहेगा और एमसी की डेट में बदलाव होना मुश्किल हो जाएगा |
पीरियड्स को लाने के लिए क्या खाएं ?
पीरियड्स को वक्त पर लाने के लिए महिलाओं ने स्वस्थ जीवनशैली अपनाने के साथ साथ पोषक तत्व से भरा हुआ खाना खाना चाहिए |
इन दिनों में महिलाओं ने अपने भोजन में विटामिन, प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट इन सारे पोषक तत्व को खाना चाहिए जिससे महिला का शरीर स्वस्थ रहेगा और महिला अनियमित मासिक धर्म का सामना नहीं करेगी |
पीरियड को लाने के लिए महिला ने अपने भोजन में विटामिन बी, प्रोटीन इन पोषक तत्वों को खाना चाहिए | जिससे महिला के खून में सही पोषक तत्व रहेंगे और महिला को सही वक्त पर पीरियड आएंगे |
जिन चीजों को खाने से महिला के शरीर का संतुलन बिगड़ता है उन चीजों को महिलाओं ने नहीं खाना चाहिए खासकर पीरियड्स संतुलित रखने के लिए नशीली चीजों का सेवन ना करें |
पीरियड्स को जल्दी लाने के आसान उपाय :
पीरियड्स को जल्दी लाने के लिए महिलाओं ने प्याज, गाजर और चुकंदर का जूस पीना चाहिए |
महावारी जल्दी लाने के लिए गुनगुने पानी में थोड़ी मात्रा में दालचीनी पाउडर, शहद और नींबू मिलाकर इस पानी का सेवन करना चाहिए जिससे महिला को पीरियड्स जल्दी आएगी |
रात को सोते समय गुनगुने दूध में थोड़ी मात्रा में केसर डालकर इस दूध को पीना चाहिए, जिससे महिला के शरीर का पोषण होगा और पीरियड्स जल्दी आएगी |
पीरियड्स आने के लिए अपने आहार में हरी सब्जियां, ब्रोकली, पालक, अंडे, कैल्शियम से बनी चीजें प्रोटीन युक्त चीजों को और पोषक तत्व को खाए |
डॉक्टर की सलाह कब लेना सही रहेगा ?
अगर आपको सही समय पर पीरियड नहीं आ रहे हैं और आपको ज्यादा परेशानियां नहीं हो रही है, तो आप घरेलू उपाय का इस्तेमाल कर सकते हो लेकिन हम आपको सुझाव देंगे कि आपको डॉक्टर की सलाह लेनी जरूरी है |
अगर आप के पीरियड्स अचानक से अनियमित हो रहे हैं तो आपको डॉक्टर की सलाह लेनी जरूरी है |
कई सारी महिलाओं के पीरियड 3 महीने के ऊपर हो गए फिर भी नहीं आते हैं तो उन्हें डॉक्टर की सलाह लेनी आवश्यक |
अगर आपके पीरियड्स 21 दिनों के अंदर एक से ज्यादा बार आ रहे हैं तो आपको डॉक्टर की सलाह की सख्त जरूरत है |
पीरियड्स का स्त्राव 1 हफ्ते से ज्यादा बहने से भी आपको बहुत सारी परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है, इसलिए आपको डॉक्टर की सलाह लेनी बहुत जरूरी है|

कोई टिप्पणी नहीं

Healths Is Wealth. Blogger द्वारा संचालित.