Header Ads

अच्छी नींद नहीं आती है


अच्छी नींद नहीं आती है ? अपनाएं ये सरल उपाय

रात को अच्छी नींद नहीं आती है ? सेहत के लिए बेहतर नींद सबसे जरूरी होता है. अच्छी नींद से हेल्दी बॉडी के साथ माइंड भी हेल्दी रहता है. कई शोधों में यह बात सामने आ चुकी है कि मानसिक स्वास्थ्य के लिए अच्छी नींद बहुत जरूरी है. नींद की कमी की वजह से हृदय रोग, मानसिक परेशानी, डिप्रेशन, तनाव, डायबिटीज और बांझपन का खतरा बढ़ जाता है. रात में अगर आप ठीक से नींद नहीं लेते हैं, तो पूरा दिन थकान का अनुभव करते हैं. आइए जानते हैं कुछ फैक्ट्स और अच्छी नींद के बेहतर तरीके.


कुछ लोगों को नींद न आने की बीमारी हो जाती है. उनके लिए रात में सोना बहुत कठिन लगने लगता है. इसकी मुख्य वजह होती है उनके बॉडी क्लॉक का अनियमित हो जाना. बॉडी क्लॉक को सर्कैडियन लय भी कहते हैं. यही वो चीज है जो हमारे शरीर को यह बताती है कि कब सोना है, कब उठाना है. अगर आप भी अपनी बॉडी क्लॉक को रीसेट करना चाहते हैं, तो आपको कुछ बातों पर अमल करना होगा.
सुबह की धूप इंसान के स्वास्थ्य के लिए जितनी जरूरी है, उतनी ही यह अच्छी नींद के लिए जरूरी है. सुबह उठते ही आपको धूप में निकलना चाहिए. अगर आपके घर में सुबह की धूप आती है तो आप अपनी खिड़कियों को खोलकर भी ऐसा कर सकते हैं. सुबह की धूप आपके बॉडी क्लॉक को भी सेट करती है.

रात का खाना हल्का होना चाहिए यह बात हम सभी जानते हैं. लेकिन क्यों होना चाहिए इसे जानना जरूरी है. रात में जब अधिक या भारी खाना खाते हैं तो अपच की समस्या होती है. इसके अलावा आंत पर ज्यादा जोर पड़ने से सेरोटोनिन हार्मोन का उत्पादन ठीक से नहीं हो पाता है. सेरोटोनिन हमारी नींद और बॉडी क्लॉक को नियंत्रित करने वाला हार्मोन होता है.

अच्छी नींद के लिए मेलाटोनिन की जरूरत होती है. बेहतर नींद के लिए सोने से पहले मेलाटोनिन युक्त फूड खाना अच्छा होता है. सोने से पहले आप ट्रिप्टोफेन वाले खाद्य पदार्थ भी खा सकते हैं. इसके लिए आप अंडे, पनीर, बीन्स, कद्दू के बीज को अपनी डाइट में शामिल कर सकते हैं.

नींद न आने का मुख्य कारण तनाव भी हो सकता है. तनाव की वजह से बॉडी क्लॉक भी ठीक से काम नहीं करती है. तनाव या स्ट्रेस लेवल को कम करने के लिए आपको अपनी लाइफस्टाइल में बदलाव करना चाहिए. रोजाना व्यायाम करें, सुबह टहलने जाएं, किताब पढ़ने की आदत डालें, इसके अलावा बागवानी भी कर सकते हैं.
रात में नीली रोशनी से दूर रहना जरूरी है. क्योंकि कई शोध में यह बात सामने आ चुकी है कि जो लोग रात में मोबाइल, लैपटॉप और टीवी देखते हैं उनको ठीक से नींद नहीं आती है. यह शरीर के बॉडी क्लॉक को भी बदलता है. इसलिए सोने से 1 घंटे पहले या 2 घंटे पहले नीली रोशनी से दूर रहना चाहिए.

कोई टिप्पणी नहीं

Healths Is Wealth. Blogger द्वारा संचालित.