Header Ads

मोटापा कम करने के १० योगासन

मोटापा कम करने के १० योगासन 
मोटापा कम करने के लिए १० योगासन करके आप कुछ ही दिनों में अपना मोटापा कम (Weight Loss Fast And Naturally) कर सकते हैं. मोटापा कम करने के १० योगासन से आप अपनी बढ़ी हुई तोंद को भी कम कर सकते हैं. स्वस्थ व निरोगी रहने के लिए योग बहुत ज़रूरी है. हम आपको बता रहे हैं मोटापा कम करने के लिए १० योगासन, जिन्हें नियमित रूप से करने से जल्दी ही आपका मोटापा कम हो जाएगा और आपकी तोंद भी कम हो जाएगी.

मोटापा कम करने के लिए कौन-से योगासन करने चाहिए, जानने के लिए देखें ये वीडियो:
* टॉप 4 योगा पोज़ेज़ फॉर वेट लॉस (Top 4 Yoga Poses For Weight Loss)
1) मार्जरासन
2) हस्त दंडासन-चतुरंगा-भुजंगासन
3) नवासन
4) सेतु बंध आसन


बढ़ी हुई तोंद को कम करने के लिए यानी पेट की चर्बी घटाने के लिए कौन-से योगासन करने चाहिए, जानने के लिए देखें ये वीडियो:

) टॉप 4 योगा पोज़ेज़ फॉर फ्लैट टमी (Top 4 Yoga Poses For Flat Tummy)
1) उत्थित द्विपादासन-नवासन
2) उत्थित द्विपादासन-बद्धकोणासन-सुलभ हलासन
3) हस्तदंडासन-अधोमुख श्‍वानासन
4) अधोमुख श्‍वानासन


सीखें सूर्य नमस्कार करने का सही तरीक़ा 
* स्वास्थ्य के दृष्टिकोण से सूर्य नमस्कार को सर्वोत्तम अभ्यास माना गया है.
* इससे समस्त अंगों में क्रियाशीलता आती है तथा हार्मोंस संतुलित होते हैं.
* सम्भव हो सके, तो पूर्व दिशा की ओर मुख करके खड़े हो जाएं.
* दोनों हाथों को प्रणामासन की स्थिति में लाएं.
* दोनों पैरों के टखने व अंगूठे मिलाकर रखें.
* श्‍वास अंदर भरकर, हाथों को खोलते हुए कंधे के ऊपर से पीछे की ओर जितना ले जा सकें, ले जाएं (चित्र देखें).
* श्‍वास छोड़ते हुए हाथों को पीछे से सामने की ओर झुकाते हुए पैरों के पास रखें (अगर रख सकें तो).
* पैर घुटने से मुड़ने नहीं चाहिए.
* सिर को घुटने से स्पर्श करने का प्रयास करें.
* नीचे झुकते हुए हाथों को मजबूती से ज़मीन पर लगाएं.
* बाएं पैर को पीछे की ओर ले जाएं. सिर ऊपर की तरफ़ तथा दाहिना घुटना सीने के पास दोनों हाथों के बीच में रहे.
* दाएं पैर को भी पीछे ले जाएं.
* दोनों घुटनों को, चेस्ट को और ठुड्डी को ज़मीन से टच करें.
* श्‍वास भरते हुए आगे की तरफ़ आते हुए सिर को ऊपर की ओर उठाएं. भुजंगासन की तरह श्‍वास छोड़ते हुए सिर को नीचे की ओर करते हुए पेट व कमर के भाग को ऊपर उठाएं और पर्वतासन की स्थिति में आएं (चित्रानुसार).
* एड़ियां ज़मीन से टच होनी चाहिए.
* दाहिने पैर को आगे की ओर करें, दोनों हाथों के बीच लाकर रखें. सिर ऊपर की ओर रहे.
* बाएं पैर को भी आगे लाएं.
* सिर को पुनः घुटनों से स्पर्श करने का प्रयास करें.
* श्‍वास लेते हुए दोनों हाथों को ऊपर ले जाते हुए पीछे की ओर करें.
* और फिर पूर्ववत् यानी प्रणामासन की स्थिति में आ जाएं.
* नीचे झुकते हुए हाथों को मजबूती से ज़मीन
पर लगाएं.
* दायां पैर दोनों हाथों के बीच रखें. घुटना छाती के सामने रखें.
* सिर ऊपर की तरफ़ रखें, अर्द्ध भुजंगासन की तरह.
* दाएं पैर को भी पीछे ले जाएं.
* सिर व गर्दन दोनों हाथों के बीच में रखें.
* इस समय शरीर का सारा वज़न दोनों हाथों और पैरों पर रखें.
* श्‍वास छोड़ते हुए दोनों हाथों को सामने की ओर लाएं और पूर्ववत् प्रणामासन की स्थिति में आ जाएं.
* 3 राउंड से शुरू करें और अपनी क्षमतानुसार राउंड्स बढ़ाएं.

सूर्य नमस्कार करने का सही तरीक़ा जानने के लिए देखें ये वीडियो:

हेल्थ बेनिफिट्स
* सूर्य नमस्कार पेट की चर्बी कम करने के साथ ही कई बीमारियों को दूर करने की क्षमता रखता है.
* विशेषकर मधुमेह, मेरुदण्ड, पाचन संबंधी, समस्त प्रकार के पेट संबंधी विकारों, आमाशय, अग्नाशय, फेफड़ों व हृदय संबंधी विकारों तथा मोटापे से संबंधी समस्या हेतु बहुत उपयोगी है.
* संपूर्ण शरीर में रक्त परिभ्रमण को
सुचारू करता है.
* बल और तेज की वृद्धि करता है.
* मानसिक शांति प्रदान करता है.
* रीढ़ का लचीलापन बढ़ाता है.



पेट की चर्बी कम करने के लिए ऐसे करें साइक्लिगं: (Weight Loss Fast And Naturally)
* पीठ के बल लेट जाएं.
* बाएं पैर के घुटने को पेट तक लाएं.
* दाहिने पैर को सीधा रखें.
* बाएं पैर को इस तरह घुमाएं, जैसे साइकिल चला रहे हों और फिर सीधा कर लें.
* अब दाहिने पैर से यही क्रिया करें.
* इस प्रकार इस साइक्लिगं की क्रिया को करते रहें.
* 21 से 51 राउंड्स.
* धीरे-धीरे क्षमतानुसार ज़्यादा भी कर सकते हैं.
* फिर विपरीत दिशा में साइक्लिगं करें यानी पहले क्लॉकवाइज़, फिर एंटी क्लॉकवाइज़ करें.

हेल्थ बेनिफिट्स (Weight Loss Fast And Naturally)
* यह पेट के विकारों के साथ-साथ पेट व कमर की अतिरिक्त चर्बी को कम करता है.
* कूल्हे व घुटने के जोड़ों के दर्द लिए लाभदायक है.
* पैर व जंघा को पुष्ट करता है.
* तेज़ी से वज़न घटाता है.
रेडी फॉर योगा क्लासेस? 
एक्सरसाइज़ करने के १० चमत्कारी फ़ायदे जानने के लिए देखें वीडियो:
गर आप योगा क्लासेस ज्वॉइन करने की सोच रहे हैं और समझ में नहीं आ रहा कि शुरुआत कहां से और कैसे की जाए, तो परेशान न हों. चलिए, आपको देते हैं कुछ टिप्स, जिससे आपके योगा क्लासेस का सेशन बन जाएगा और भी दिलचस्प.

घर के पास हो योगा क्लास


– योगा करते व़क्त दिमाग़ शांत होना चाहिए. आपकी कोशिश यही होनी चाहिए कि योगा क्लास आपके घर के आसपास ही हो, ताकि ट्रैवेलिंग की थकावट न हो.

– योग्य योगा प्रशिक्षक से ही ट्रेनिंग लें.

क्लासेस जाने के पले की शॉपिंग

– योगा आरामदायक कपड़ों में करना चाहिए.

– ऐसे कपड़े ख़रीदें, जो न ़ज़्यादा टाइट हों और न ही ज़्यादा ढीले. टाइट कपड़ों में रक्तसंचार बाधित हो सकता है, जबकि ढीले-ढाले कपड़ों में फंसकर गिरने का ख़तरा तो रहता ही है और टीचर को आपके पॉश्‍चर भी ठीक से नज़र नहीं आएंगे.


– कपड़ों की शॉपिंग के दौरान यह भी ध्यान रखें कि आपके कपड़े ज़्यादा रिविलिंग न हों. कई आसान काफ़ी कठिन होते हैं, इसलिए शालीन कपड़े पहनें. स़फेद रंग के टाइट पैंट्स न पहनें, क्योंकि स़फेद पैंट्स काफ़ी रिविलिंग लगते हैं.


– मार्केट में योगा के लिए ख़ास कपड़े भी मिलते हैं.


– वैसे क्लासेस में योगा मैट्स तो होते ही हैं. लेकिन आप अपनी योगा मैट भी साथ ले जा सकते हैं. इसके लिए एक बार क्लासेस में पूछ लें. योगा मैट ऐसी हो, जो फ्लोर पर फिसले न.


– पानी की बॉटल भी साथ ले जाएं.


– किसी भी प्रकार के एक्सरसाइज़ के दौरान पसीना बहुत निकलता है. पसीने की वजह से इंफेक्शन न हो, इसलिए एक तौलिया भी पास रखें और पसीना पोंछते रहें.



इन बातों का रखें ख़्याल


-समय से 15 मिनट पहले पहुंचने की कोशिश करें.


– क्लास के भीतर जाने से पहले अपने फुटवेयर बाहर ही या जहां शू रैक हो वहां उतार दें.


– योगा सेंटर ध्यान लगाने की जगह है. अगर आप क्लास के लिए लेट हो गए हैं तो अंदर शांती से प्रवेश करें, ताकि किसी को ध्यान लगाने में परेशानी न हो.


– योगा टीचर को अपने बारे में सारी जानकारियां दें, जैसे- शरीर में किसी प्रकार का दर्द या हाल ही में लगी चोट के बारे में सारी जानकारियां दें, ताकि टीचर आपके आसान में परिवर्तन कर सकें और आपको किसी तरह की चोट न लगे.


– क्लास के बीच में दोस्तों से बात करके दूसरों को परेशान न करें.


– अगर कोई आसान समझ न आ रहा हो, तो विनम्रता से टीचर से पूछ लें.


– क्लास में जाने से पहले अपना फोन बंद कर दें या फिर साइलेंट मोड पर रख दें.


– अपनी जगह तक ध्यान से जाएं. ध्यान रखें कि दूसरों के मैट पर आपका पैर न पड़े.


-योगा करते व़क्त काफ़ी पसीना आता है, जिसकी दुर्गंध दूसरों को परेशान कर सकती है. योगा क्लास नहाकर और डियोड्रेंट लगा कर जाएं. एक बात का ख़्याल रखें कि डियो की सुंगध ज़्यादा स्ट्रॉन्ग न हो.


– तनाव योगा क्लास के बाहर ही छोड़ दें. जितना आप तनावमुक्त रहेंगे, उतने ही अच्छे से योगासन कर पाएंग और लाभ भी ज़्यादा होगा.


– अपने योगा टीचर पर भरोसा करें. टीचर द्वारा सिखाए गए आसन को ध्यान से देख कर करें.


योग मुद्रा
थकान दूर करने के उपाय – करें यह योग


भागती-दौड़ती जिंदगी में लोग तनावों और दुश्चिंताओं से ग्रसित हो चुके हैं। ऐसे लोग इतने दबाव में हैं कि उन्हें सुकून की नींद भी नसीब नहीं है। ऐसे लोगों को शिथिलीकरण के आसन करना चाहिए।


शिथिलीकरण के आसन जिसे हम शरीर के थकान को दूर करने वाला आसन भी कहते हैं। इसमें कई तरह के आसन है। किसी भी स्वस्थ्य व्यक्ति के लिए इन आसनों का बहुत ही महत्व है। जो लोग योग और प्राणायाम को समझते हैं उन्हें इन आसनों की जानकारी है। ज्यादातर ये आसन व्यायाम या प्राणायाम के बाद किया जाता है।

देखने में यह आसन बहुत ही सरल लगते हैं लेकिन जब तक आप इसे उचित तरीके से नहीं करेंगे तो आपको इसका सही परिणाम देखने को नहीं मिलेगा। इस आसन में शरीर की सभी मांसपेशियों को चेतन रूप में शिथिल करना पड़ता है।




थकान दूर करने के लिए उपयोगी योग आसन
शवासन
इस आसन को करने के लिए पीठ के बल लेट जाइए और अपने पैरों को थोड़ा दूर करते हुए पूरे शरीर को ढ़ीला छोड़ दीजिए। इसमें श्वास को सहज होने दीजिए। इस आसन को करते समय एकाग्र होना बहुत ही जरूरी है।


शवासन के लाभ

शारीरिक और मानसिक रूप से थकान को दूर करता है।

सोने से पूर्व इस आसन का अभ्यास एक आदर्श माना जाता है।


शवासन की विधि और लाभ
अद्वासन
इस आसन को करने के लिए पेट के बल लेट जाइए और दोनों हाथों को सामने की ओर सिर को जमीन पर टिकाते हुए फैला दीजिए। इसमें शवासन की तरह पूरे शरीर को ढीला छोड़ दीजिए तथा श्वास सहज और स्वाभाविक होना चाहिए।


अद्वासन के लाभ

रीढ़ संबंधी रोग, कड़ी गर्दन तथा सामने की ओर झुके शरीर में यह आसन बहुत ही उपयोगी है।
ज्येष्टिकासन
पैरों को सीधे रखते हुए पेट के बल लेट जाइये। हाथों की अंगुलियों को एक-दूसरे में फंसाकर सिर के पिछले भाग पर रख दीजिए। इसमें भी आप पूरे शरीर को ढ़ीला छोड़ दीजिए।


ज्येष्टिकासन के लाभ

गर्भ के समय महिलाओं के लिए यह आसन को बहुत ही लाभकारी है।

गर्भाशय में यह आसन मांसपेशियों को शिथिल करता है।


ज्येष्टिकासन और अद्वासन की विधि और फायदे
मकरासन
पेट के बल सपाट लेट जाइए तथा कुहनियों के सहारे सिर और कंधों उठाइये और हथेलियों पर ठुड्डी को टिका दीजिए। और आखों को बंद करके पूरे शरीर को ढीला छोड़ दीजिए।


मकरासन के लाभ

यह आसन उन लोगों के लिए बड़ा उपयोगी है जो स्लिप डिस्क या रीढ़ की हड्डी की किसी भी गड़बड़ी से पीड़ित हैं।

दमा तथा फेफड़ों के रोगों से पीड़ित लोगों को इस आसन को करना चाहिए।
मत्स्य क्रीड़ासन
चटाई बिछाकर पेट के बल लेट जाइए और अंगुलियों को फंसाकर सिर के नीचे रख लीजिए। इसके बाद बायें पैर को बगल की ओर मोड़ लीजिए और जमीन से लगे हुए बायें घुटने को अपनी पसलियों की तरफ ले जाइए। अपनी भुजाओं को बायीं ओर घुमाकर ले जाइये और बायी कोहनी को बायीं जांघ पर रख लीजिए। अपने सिर के दायें भाग को अपने दाएं हाथ के मुड़े भाग पर रखें।

मत्स्य क्रीड़ासन के लाभ 
अतिरिक्त चर्बी को हटाने में यह आसन सहायक है।

आंतों को फैलाकर उनके अंदर की गतिशीलता को बढ़ाता है।

यह विश्राम का श्रेष्ठ आसन है जो कब्ज के निदान में सहायक है।

कोई टिप्पणी नहीं

Healths Is Wealth. Blogger द्वारा संचालित.