Header Ads

कमर के नीचे का दर्द आपको भी कर रहा है परेशान


कमर के नीचे का दर्द आपको भी कर रहा है परेशान तो इन आसान तरीको से पांए समाधान
कमर के नीचे दर्द होने की सम्सया आज हर तीसरे इसांन में देखने को मिलती है। ऐसा होना लाज़मी भी है क्योंकि आज के समय में हर तीसरा इंसान नौकरी करता है, फिर चाहे वो महिला हो या पुरूष। ऐसे में नौकरी के 8 या 9 घंटो में एक जगह बैठे रहना कमर के नीचे दर्द पैदा करता है। इसके अलावा जो लोग ज़्यादा यात्रा करते हैं उन्हें भी कमर के निचले हिस्से में दर्द होने की संभावना बढ़ जाती है।
क्यों होता है कमर के निचले हिस्से में दर्द



इस बात से तो आप सब वाकिफ होंगे कि हमारे शरीर का ज़्यादातर वज़न रीढ़ं का निचला हिस्सा उठाता है। ऐसा सिर्फ एक जगह बैठे रहने से ही नहीं होता है बल्कि किसी प्रकार की भारी वस्तु उठाने, झुकने और मुड़ने से भी होता है क्योंकि इन सब गतिविधियों के दौरान भी रीढ़ के निचले हिस्से में भार पड़ता है। जिसकी वज़ह से रीढ़ को सहारा देने वाली मांसपेशियां, टिश्यू और लिगामेंटस पर पड़ता है दबाव और होता है कमर में दर्द। कमर के निचले हिस्से में दर्द होने वाली सम्सया को कहते हैं स्ट्रेस इंजरी।
कमर के निचले हिस्से में दर्द होने के लक्षण
अचानक से शरीर का तापमान बढ़ना
लगातार खड़े रहने या बैठे रहने पर दर्द का बढ़ जाना
पीठ में सूजन का आ जाना
नितंबो और पीठ के पास सुन्नपन का होना
उठते या बैठते वक्त कमर में दर्द महसूस होना
पुरूषों में कमर के नीचे दर्द

पुरूष नौकरी पर जाने की वज़ह से सुबह से शाम तक एक जगह ही बैठे रहते हैं जिसकी वज़ह से उनके शरीर का ज़्यादातर भार उनके नीचे की रीढ़ की हड्डी पर पड़ने लगता है और फिर उन्हें कमर के निचले हिस्से के दर्द की समस्या का सामना करना पड़ता है। इसी के साथ पुरूषों का एक ही जगह बैठे रहने से वज़न का बढ़ना भी कमर दर्द का मुख्य कारण बन सकता है।
महिलाओं में कमर के नीचे दर्द
देखा जाए तो पुरुषों की अपेक्षा महिलाओं में कमर दर्द की समस्या ज़्यादा देखने को मिलती है। खासतौर से उन महिलाओं में कमर दर्द या कमर के नीचे दर्द ज्यादा होता है जिनको अनियमित मासिक धर्म की समस्या होती है या जो गर्भअवस्था से गुज़र रही होती हैं।
कमर के नीचे दर्द होने के पहले रोकथाम

जितना हो सकें पौष्टिक आहार खांए
दिनभर के खाने में हरी सब्जियों, फल, ड्राई फ्रूट दूध, दही जैसी चीजों को शामिल करें
हो सके तो रोज़ योग को 15 मिनट दें
समय-समय पर कमर के नीचे हल्के हाथों से मालिश करें
जितना हो सके पानी पिंए। पर्याप्त मात्रा में पानी पीने से रीढ़ की हड्डी हाइड्रेटेड रहेगी।
सोने के लिए अच्छे गद्दे का इस्तेमाल करें
कमर के नीचे दर्द होने के बाद रोकथाम
इस बात से तो आप सब वाकिफ होंगे कि आपके शरीर की सारी गतिविधियों का संबंध आपकी कमर से होता है। ऐसे में कमर के निचले हिस्से में दर्द से होने की संभावनांए बढ़ जाती हैं। अब सवाल ये है कि इसको दूर कैसे करें? कमर के निचले हिस्से के दर्द को कई तरीको से दूर किया जा सकता है। इसमें योगा, घरेलू उपचार, फिय़िजोथेरोपीजैसे इलाज शामिल हैं।
घरेलू इलाज से दूर करें कमर के नीचे का दर्द

किसी भी बीमारी या शारीरिक समस्या को घरेलू उपाय से दूर करना सबसे अच्छा माना जाता है। लेकिन आज के समय में लोग घरेलू उपाय से ज़्यादा प्राथमिकता दवाइयों को देते हैं जो की गलत नहीं है लेकिन दवाइयों की अपेक्षा घरेलू तरीके से किए गए उपाय ज़्यादा असरदार होते हैं। अगर आपको घरेलू तरीको से कमर के नीचे के दर्द को दूर करना है तो नीचे दिए गए तरीके अपनांए।
एसेंशियल तेल करेगा असर

यह तेल कई औषिधियों को मिलाकर बनता है जो ऐंठव और दर्द को दूर करने में मदद करता है। ऐसे में एसेंशियल ऑयल को कमर के नीचे हिस्से में जहां दर्द है वहां लगांए और हल्के हाथों से मालिश करें।
तुलसी के पत्ते हैं फायदेमंद

तुलसी में मौजूद एंटी-इंफ्लेमेटरी दर्द से राहत दिलाने में मदद करता है। गर्म पानी में तुलसी के 4-5 पत्ते डाल लें और उसमें शहद मिला लें। इसका नियमित रूप से सेवन कमर दर्द में आराम देगा।
सेंधा नमक भुला देगा कमर दर्द

सेंधा नमक में मौजूद मैग्नीशियम सल्फेट कमर के दर्द को दूर भगाने में सहायक है। नहाते वक्त बाल्टी में एक या दो कप सेंधा नमक को मिला लें और फिर नहांए। इससे आपके कमर दर्द की समस्या जल्द दूर होगी।
हल्दी देगा कमर के नीचे होने वाले दर्द से जल्द राहत

हल्दी गहरे से गहरे दर्द को दूर करने के लिए जानी जाती है। ऐसे में अगर आप हल्दी का आधा या एक चम्मच दूध में मिलाकर सेवन करेंगे तो यह कमर दर्द में राहत दिलाएगा।
योग कैसे करेगा कमर के नीचे होने वाले दर्द को भगाने में सहयोग?

योगा प्राचीन समय से ही हर तरह के रोग को जड़ से मिटाने और दर्द को दूर भगाने के लिए जाना गया है। इतिहास गवाह है कि योगा हर परेशानी का रामबाण इलाज है। ऐसे में अगर आप कमर के नीचे होने वाले दर्द से परेशान हैं तो कंधरासन, भुजंग आसन, चक्रासन और मक्रासन जैसे योगासनों को नियमित रूप से करके इससे पीछा छुड़ा सकते हैं।
फिज़ियोथेरेपी देगा कमर दर्द से निजात
आप में से कई लोग ये समझते होंगे कि फिज़ियोथेरेपी ज़्यादातर खेल कूद करने वाले लोग ही लेते हैं। या किसी गहरी चोट के लगने पर ही फिज़ियोथेरेपी करवानी चाहिए। लेकिन क्या आपको पता है कि फिज़ियोथेरेपी की महत्वता इससे कई ज़्यादा है। अब सवाल ये उठता है कि कमर के नीचे होने वाले दर्द में आखिरकार फिज़ियोथेरेपी कैसे मददगार रहेगी। तो आपको बता दें कि कमर के दर्द को दूर करने के लिए फिजियोथेरेपी तरीके अपनांए जाते हैं। जैसे इसकी मदद से शरीर के वजन को कम करना, ताकि जोड़ों में अधिक भार ना पड़े। दूसरे तरीके की बात करें तो इसमें फिज़ियोथेरेपी की मदद से मांसपेशियों को मजबूत करना शामिल है और तीसरा उपाय है, री-पैटर्निग ऑफ मसल्स जिसका मतलब होता है जहा दर्द हो उस हिस्से की मांसपेशियों के पैटर्न को व्यायाम की मदद से ठीक करना।
कमर के नीचे दर्द होने पर क्या करें क्या ना करें
एक जगह लगातार बैठे रहने से बचें
बीच-बीच में पैरों को हिलाते रहें
किसी भी भारी वस्तु को गलत तरीके से ना उठांए
कोशिश करें कि गलत मुद्रा में ना बैठे, ना लेटे ना चलें, ना खड़ें होंए
धूम्रपान ना करें
महिलांए मासिक धर्म के दौरान लगातार कमक की सिकाई करें
महिलांए जितना हो सके हील वाली सैंडल्स को पहनने से बचें
वज़न के बढ़ने पर उसे कम यीकरने का प्रयास करें

कोई टिप्पणी नहीं

Healths Is Wealth. Blogger द्वारा संचालित.