Header Ads

बकरी योग डिप्रेशन


बकरी योग डिप्रेशन और तनाव दूर करने में है असरदायक, जानें योग करने की विधि



यह योग करने का एक प्राकृतिक तरीका है। इस योगा की उत्पत्ति एल्बेनी से ताल्लुक रखने वाली लेनी मोर्से की देन है। इस योग का आरंभ मोर्से ने अपने छोटे से फार्म से किया था। आइए इस लेख से जानते हैं इसके फायदे के बारे में

बकरी योग, जो काफी लोकप्रिय हो रहा है।
इस योग को बकरी के साथ किया जाता है।
यह योग करने का एक प्राकृतिक तरीका है।



आज के समय में योग काफी प्रचलित हो रहा है। अलग-अलग आसन से एक्‍सपर्ट व्‍यक्ति के स्‍वस्‍थ की गारंटी लेने लगे हैं। इन्‍हीं में से एक है बकरी योग, जो काफी लोकप्रिय हो रहा है। अधिकांश योगा हम खुद से ही करते है लेकिन इस योग को बकरी के साथ किया जाता है| इसलिए इसे गोट योगा कहा जाता है। यह योग करने का एक प्राकृतिक तरीका है। इस योगा की उत्पत्ति एल्बेनी से ताल्लुक रखने वाली लेनी मोर्से की देन है। इस योग का आरंभ मोर्से ने अपने छोटे से फार्म से किया था। आइए इस लेख से जानते हैं इसके फायदे के बारे में

कैसे करें बकरी योग
इसमें व्यक्ति को एक जगह पर योग करना होता है और साथ ही वहां पर छोटे कद की बकरियों को रखा जाता है। योगा करते समय से ये बकरियां व्यक्ति को चाटने लगती है या फिर उनके ऊपर भी चढ़ जाती है। गोट योगा के दौरान योगा करने वाले व्यक्ति के ऊपर बकरी का बच्चा या फिर बकरी उछलती है या फिर चलती है। इससे योगा करता हुआ व्यक्ति बकरी के साथ खेलने लगता है और खुद को प्रकृति के करीब महसूस करता है और कुछ देर के लिए सही लेकिन दुनिया के सारे तनाव से दूर हो जाता है।
बकरीयोग के फायदे
डिप्रेशन, तनाव और फ्रस्ट्रेशन से शिकार लोगो के लिए गोट योगा असरदायक होता है। इसे करने से ख़ुशी मिलती है।
मोर्से के मुताबिक, जो लोग तनाव से घिरे रहते है उनके लिए यह प्राकृतिक तरीके से तनाव से निजात दिलाता है।
इसके अतिरिक्त जिन लोगों को किसी न किसी तरह का विकार होता है या फिर कोई शारीरिक कमी है वे भी इसकी सहायता ले सकते हैं।
इस योग को करने से किसी भी तरह की बीमारी को जड़ से खत्म नहीं किया जा सकता है। साथ ही किसी बीमारी को ठीक करने में इसकी कोई खास भूमिका नहीं होती है। परन्तु इसे करने से लोग मानसिक रूप से खुश रहते है जिसके कारण आने वाली बीमारी कोसो दूर रहती है।


योग के लिए ही हैं ये जगहें


परफेक्ट नाम की कोई चीज नहीं होती। पूरी प्रकृति परफेक्ट और सुंदर है। सूरज की गर्मी, चांद की शीतलता, पानी की नमी, फूलों की महक... यही तो कुदरत है। लेकिन इनके अलावा कुदरत की एक और इनायत है योग, जो ऐसी जगहों पर करके और अधिक फायदेमंद हो जाती है। इस लेख में ऐसे ही पांच बेस्ट जगहों के बारे में जानिए जो केवल योगा करने लिए बनी है औऱ आप यहां योगा करके पूरी तरह से रिफ्रेश हो जाएंगे।



शिवनंदा योगा वेदांता धनवंतरी आश्रम


केरल में नैय्यर डेम के पास ही स्थित खूबसूरत शिवनंदा योगा वेदांता धनवंतरी आश्रम पूरी तरह से योगा के लिए ही बनी है। यहां की जलवायु और नजारे आपके मन को तरोताजा कर देंगे और योगा आपके शरीर को। ये आश्रम पूरे विश्व में योगा के लिए प्रसिद्ध है। यहां योगा की क्लासेस केवल दो हफ्तों के लिए चलती है और इन दो हफ्तों में सुबह साढ़े पांच बजे से योगा क्लास शुरू होकर रात दस बजे तक चलती है।






डंटन हॉट स्प्रिंग्स


कॉलोराडो का अद्भुत और पर्यटकों द्वारा काफी पसंद किया जाने वाला डंटन हॉट स्प्रिंग्स एक होटल है। इस होटल में पर्यटकों की लॉग केबिन में रहने की व्यवस्था होती है। यहां आष्टांग योगासन और ऑर्गेनिक ब्रेकफास्ट के साथ दिन शुरू होता है। उसके बाद पहाड़ों पर ट्रैकिंग के लिए निकला जाता है। ये बहुत ही शांत जगह है जहां आप खुद के साथ समय बिता पाएंगे।



योग हॉल

ग्रीस के सुंदर गांवों में स्थित एंजेला औऱ विक्टर का योगा हॉल पर्यटकों के बीच एंजेला फार्मर एंड विक्टर वेन कूटन्स योगा हॉल के नाम से प्रसिद्ध है। यहां एंजेला और विक्टर पिछले पच्चीस सालों से योगा सिखा रहे हैं। बीच से पांच मिनट की दूरी पर इप्टॉलॉ वैली में स्थित है ये योगा हॉल जहां हर सुबह तीन घंटे विभिन्न तरह के योगासन कराए जाते हैं। शाम को मेडिटेशन और प्राणायाम कराए जाते हैं। यहां आपको भेड़ों की घंटियों की आवाजों के अलावा कोई आवाज नहीं सुनाई देगी।


डॉलफिन्स के साथ योग

अगर आप रेग्युलर योग करने से बोर हो गए हैं तो करेबियन आइलैंड के बह्मास में जाइए। यहां आपको डॉलफिन्स के साथ बीच-बास्किंग, स्वीमिंग और योगा करने का मौका मिलेगा जो आपको काफी रोमांचित कर देगा। खासकर यहां की ग्रीनरी आपको पूरी तरह से रिचार्च कर देगी।


मायान पेनिनसुलर, मेक्सिको

अंत में बेस्ट जगह जो योगियों और योगा करने वाले लोगों को काफी पसंद है। ये जगह मेक्सिको के मायान पेनिनसुलर के प्राचीन चीनी सफेद समुद्र तट पर स्थित है। माया टुलुम नाम की ये जगह समुद्र से थोड़ी दूरी पर हटकर है जो यहां आने वालों को अपने आपमें सराबोर होने का मौका देती है। यहां सुबह की शुरुआत योगा क्लासेस से होती है और साथ में स्पा ट्रीटमेंट भी दिया जाता है। खाने में लोकल हेल्दी फुड और फलों के जूस दिए जाते हैं।

इनकी फिटनेस देखकर युवा खुद पर तरस खाएंगे! जानें क्‍या है राज़





नानाम्‍मल आज भी 20 से ज़्यादा आसनों को बहुत ही आसानी से करती हैं, जो हर कोई शायद ही कर सकता है।

कोयंबटूर की नानाम्‍मल 97 साल की उम्र में सिखा रही हैं योग।
नानाम्‍मल बचपन से आज तक योग कर रही हैं। 
वह आज भी 20 से ज़्यादा आसनों को बहुत ही आसानी से करती हैं।

अक्‍सर लोगों में ये देखने को मिलता है कि वह उम्र के साथ-साथ तन और मन दोनों से खुद को कमजोर मान लेते हैं। और जीवन को जीने से ज्‍यादा बोझ ढो रहे होते हैं। जबकि उम्र को लेकर अक्‍सर एक फिलॉसफ़ी सुनने को मिलती है कि, उम्र महज एक संख्‍या है जो आपके म‍न-मस्तिष्‍क तक ही सीमित होती है, इस फिलॉसफ़ी को 97 साल की एक बुजुर्ग महिला ने साबित किया है। उन्‍होंने अपनी बढ़ती उम्र की कमजोरी को ताकत में बदल दिया है। हम बात कर रहे हैं कोयंबटूर की वी नानाम्‍मल की जो इन दिनों काफी फेमस हो रही हैं। संभवतः इनको देश की सबसे वृद्ध योग प्रशिक्षक माना जा रहा है। इस उम्र में भी वो हर रोज़ योग करती हैं। खास बात यह है कि, नानाम्‍मल आज भी 20 से ज़्यादा आसनों को बहुत ही आसानी से करती हैं, जो हर कोई शायद ही कर सकता है।


इसे
बचपन से करती आ रही हैं योग

नानाम्‍मल बचपन से ही योग करती आ रही हैं जो अभी भी बरकरार है, उन्‍होंने अप ने पिता से से योग की बारीकियां सीखी थी। इसके अलावा इनके पति सिद्ध चिकित्‍सक थे। अपनी दिनचर्या के बारे में बात करते हुए नानाम्‍मल कहती हैं कि वो प्रतिदिन सुबह जल्‍दी उठकर सबसे पहले वह आधा लीटर पानी पीती हैं। टूथब्रश और पेस्‍ट के बजाए वह नीम के दातून से दांतों को साफ करती हैं। इसके बाद वह अपने छात्रों को योग सिखाती हैं। खाने में फाइबर और कैल्शियम युक्‍त चीजों का सेवन अधिक मात्रा में करती हैं। रात का खाना शाम को 7 बजे ही कर लेती हैं। इनके खाने में ज्‍यादातर फल और शहद होते हैं।

देश भर में हैं 600 छात्र

फ़िलहाल पूरी दुनिया में लगभग इनके 600 छात्र हैं। पहले वो अपने घर में कुछ लोगों को ही योग सिखाती थीं, पर एक प्रतियोगिता में भाग लेने के बाद इनको प्रसिद्धि मिली। उसके बाद ये सौ से ज़्यादा प्रतियोगिताओं में हिस्सा ले चुकी हैं। इनके अलावा इनके परिवार के 36 अन्य सदस्य भी योग सिखाने लगे हैं, अब योग इनके परिवार की विरासत बन चुका है।


आयुर्वेद की देती हैं जानकारी

योग प्रशिक्षक होने के साथ ही साथ ये प्राकृतिक और आयुर्वेद से भी उनका लगाव ज्‍यादा है। उनका मानना है कि प्रकृति के नजदीक रहने से हर आदमी स्वस्थ रहता है और उसमें एनर्जी भरी रहती है। इनसे जो भी मिलने आता है, उसको प्राकृतिक औषधियां और उसके फ़ायदे बताना नहीं भूलतीं। तो अगर आप उम्र को अपनी बाधा मानकर अपने सपनों को साकार नहीं कर पा रहे हैं तो इसलिए उम्र को बहाना बताकर पीछे हटने वाले लोग मन से हार मान चुके होते हैं। नानाम्‍मल सहारे की तलाश में फिर रहे बुज़ुर्गों के लिए एक मिसाल हैं।

अच्‍छे फीगर नहीं बल्कि अच्‍छा महसूस करने के लिए जाती हूं जिम : शिल्‍पा शेट्टी


बेटे 'विआन' के जन्म के बाद होने वाले पोस्ट प्रगनेंसी वेट गेन को कम करना इस फिटेस्ट अभिनेत्री के लिए एक चुनौती था। आज हम इनकी फिटनेस के कुछ रहस्यों से पर्दा उठाने जा रहे हैं। 
एक्सरसाइज और फिटनेस 

शिल्‍पा शेट्टी की फिटनेस का राज़


मां बन जाने के बाद तक भी शिल्‍पा शेट्टी बॉलीवुड की सबसे फिट हिरोइनों में गिनी जाती हैं। इसमें कोई शक नहीं कि दिनों-दिन शिल्पा ज्यादा फिट और सेक्सी दिखती जा रही हैं। हालांकि 'विआन' के जन्म के बाद होने वाले पोस्ट प्रगनेंसी वेट गेन को कम करना इस फिटेस्ट अभिनेत्री के लिए एक चुनौती था। आज हम इनकी फिटनेस के कुछ रहस्यों से पर्दा उठाने जा रहे हैं, तो चलिये जानें शिल्पा शेट्टी की फिटनेस के राज़ वो भी उनकी की जुबानी -



आपका फिटनेस मंत्र क्या है और आप क्या फिटनेस प्लान फॉलो करती हैं?



मेरी फिटनेस का मंत्र है कि हमेशा अच्छा खाओ और ठीक से एक्सरसाइज करो। जहां तक बात है मेरे फिटनेस प्लान की तो मेरे वीकली रुटीन में दो दिन वेट ट्रेनिंग (एक दिन अपर बॉडी और एक दिन लोअर बॉडी), दो दिन योगा और एक दिन फंक्शनल ट्रेनिंग और कार्डियो शामिल है। मैं ट्रेडमील पर दौड़ती हूं, बाज़ुओं को टोन करने के लिये लाइट वेट डम्बल करती हूं और पैरों पर हेवी वेट से एक्सरसाइज करती हूं ताकि उन्हें सही शेप मिले। मैं योग की एक बड़ी प्रशंसक हूं, खासतौर पर अष्टांग योग।
I
आपके लिये फिटनेस के क्या मायने हैं और फिटनेस आपके लिये जरूरी क्यों है?

मेरा मानना है कि जीवन में सफल होने या कुछ पाने के लिये आपका फिट होना बेहद ज़रूरी है, वरना आप उतनी मेहनत कर ही नहीं पाएंगे, जितनी की आप करना चाहते हैं। 'मैं वर्कआउट बेहतर लुक्स पाने के लिये नहीं करती, मैं वर्कआउट करती हूं क्योंकि इसके कई सारे फायदे होते हैं। मैं जिम अच्‍छे फीगर के लिये नहीं बल्कि अच्‍छा महसूस करने के लिए जाती हूं।'

आप अपने आप को कैसे प्रेरित करती हैं?

मैं चिकित्सा के अतिरिक्त उद्देश्य के साथ वर्कआउट करती हूं, बजाए शरीर को मजबूत बनाने के लिए। योग करने के लिए मेरी भक्ति मेरी फिटनेस का पीछे का एक बड़ा कारण है। मैं अपने प्रशंसकों से प्रेरित महसूस करती हूं, जो मुझ से मेरे डेली रुटीन के बारे में पूछते हैं।

आप अपने फैन्स को क्या फिटनेस टिप्स देना चाहेंगी?

हेल्दी डाइट फॉलो करें। अगर आपके पास वर्काउट करने का टाइम नहीं है तो स्टेशन तक पैदल जाएं, इके अलावा लिफ्ट का इस्तेमाल करने की जगह सीड़ियों का उपयोग किया करें।
आप अपने वर्कआउट के साथ अपनी डाइटको सप्लीमेंट कैसे करती हैं?
मैं एक फिक्स्ड कैलोरी डाइट मैंटेन करती हूं और अधिकतर दिनों में इसे ही फॉलो करती हूं। इसके अलावा में सभी सफेद इटेबल्स को ब्राउन से बदलने में भी विशवास रखती हूं। मैंने सफेद चीनी, ब्रैड और चावल को ब्राउन से बदला हुआ है। मैं वीक में एक दिन खुद को थोड़ी आज़ादी देती हूं, लेकिन वह भी कंट्रोल में। मैं शाम को 8 बजे के बाद खाना नहीं खाती हूं और सोने के कम से कम 3 घंटे पहले ही खाना खा लेती हूं।

कोई टिप्पणी नहीं

Healths Is Wealth. Blogger द्वारा संचालित.