Header Ads

इन संकतों को न करें नजरअंदाज, हो सकता है Blood Clot

इन संकतों को न करें नजरअंदाज, हो सकता है Blood Clot
ब्लड क्लॉट की तरफ इशारा करते हैं ये संकेत


शरीर में ब्लड क्लॉट का बनना स्वास्थ्य की दृष्टि से अच्छा माना जाता है क्योंकि यह ब्लीडिंग को रोकता है, लेकिन जब यही ब्लड क्लॉट शरीर के अंदर या नसों में बनने लगे तो फिर खतरनाक साबित हो सकता है। फेफड़ों में ब्लड क्लॉट के बनने पर पल्मोनरी एंम्बॉलिजम (Pulmonary Embolism) की स्थिति पैदा हो सकती है और अगर यही क्लॉट बाजू में बन जाए तो डीप वेन थ्रॉम्बोसिस (DVT) के नाम से जाना जाता है।

थ्रॉम्बस और एम्बोलस

नसों के अंदर बनने वाले क्लॉट को थ्रॉम्बस कहा जाता है और जब यह थ्रॉम्बस फूटकर बिखर जाता है व शरीर के एक हिस्से से दूसरे हिस्से में ट्रैवल करता है तो उसे एम्बोलस (emblous) कहा जाता है। कुल मिलाकर ब्लड क्लॉट यानी खून का थक्का जमना कई बार जानलेवा भी हो सकता है। इसलिए इसके लक्षणों को समझना जरूरी है।
​बाजू या टांग में दर्द और रंग

जब बाजू या टांग में ब्लड क्लॉट होता है तो उसे डीप वेन थ्रॉम्बोसिस (Deep Vein Thrombosis) कहा जाता है। इसमें नसों की गहराई में खून का थक्का जम जाता है। अगर बाजू या टांग में खिंचाव या दर्द महसूस हो, एक हिस्से में सूजन दिखे या छूने पर वह गर्म महसूस हो या फिर स्किन का रंग गहरा लाल या नीला पड़ जाए तो क्लॉट हो सकता है।


​खांसी के दौरान खून निकलना

अगर फेफड़ों में खून का थक्का जम जाए तो खांसी के दौरान खून निकलने लगता है। कुछ लोग इसे खांसी का ही लक्षण मान लेते हैं लेकिन ऐसा सोचना खतरनाक हो सकता है। 

​पैनिक अटैक


अगर आपको एंग्जाइटी या फिर पैनिक अटैक जैसी स्थिति महसूस हो तो हो सकता है कि आप पल्मोनरी एम्बॉलिजम (Pulmonary Embolism) का शिकार हों यानी हो सकता है कि आपके फेफड़ों में खून का थक्का जम गया हो। आमतौर पर इसके लक्षण पैनिक अटैक के लक्षण जैसे होते हैं। इसके अलावा अचानक ही छाती में तेज दर्द होने लगे तो यह भी फेफड़ों में ब्लड क्लॉट बनने का लक्षण हो सकता है।

​पेट में असहनीय दर्द

कॉमेंट लिखें


जब नसों के अंदर खून का थक्का जमता है तो उससे नसों के साथ-साथ आंत भी ब्लॉक हो जाती हैं। ऐसी स्थिति में पेट में तेज दर्द होने लगता है। यह दर्द असहनीय होता है और वक्त के साथ गंभीर रूप ले लेता है।

​आंखों की रोशनी कम होना

कई बार आंखों में भी खून का थक्का बन जाता है। ऐसी स्थिति में आंखों में सही तरह से ऑक्सीजन की सप्लाई नहीं हो पाती और रोशनी धीरे-धीरे कम हो जाती है।(डिस्क्लेमर: ऊपर बताए गए लक्षण जानकारी हेतु दिए गए हैं। इन लक्षणों के अलावा और भी कई लक्षण हैं जो ब्लड क्लॉट की निशानी हो सकते हैं। इसलिए किसी भी स्थिति को नजरअंदाज न करें और तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें।)




कोई टिप्पणी नहीं

Healths Is Wealth. Blogger द्वारा संचालित.