Header Ads

बिस्‍तर में आपकी ये शरारती हरकतें पार्टनर को आती हैं खूब पसंद



बिस्‍तर में आपकी ये शरारती हरकतें पार्टनर को आती हैं खूब पसंद, आप भी कर सकती हैं ट्राय!

बिना सेक्स के लाइफ बोरिंग और बेकार हो जाती है। बेहतर सेक्स लाईफ के लिए दोनो ही पार्टनर को एक दूसरे की समझ होनी चाहिए। हर पुरुष की चाहत होती है कि बिस्तर उनकी महिला पार्टनर कुछ ऐसी हरकतें करें जो उनकी उत्तेजना को बढ़ाने के साथ ही दोनों ही क्‍वॉलिटी टाइम भी स्‍पेंड करें। जाने कैसे आप छोटी-छोटी हरकतों से बेडरुम का माहौल स्‍पाइसी कर सकती हैं।
उनकी टी-शर्ट पहनें

आपका ऐसा करना आपके मेल पार्टनर को बहुत पसंद आएगा और अपनी टी-शर्ट में आपको देखकर वो आपके प्रति आकर्षित भी होंगे।
ब्रा उतारकर उनसे लिपट कर सोएं

अपने पार्टनर को खुश करने का से काफी आसान और अलग तरीका है। ये बहुत ही नॉटी आइडिया है लेकिन यकीन मान‍िए, उन्‍हें पसंद आएगां।
अपनी महक उनके पास छोड़ दें

डेटिंग की शुरुआत में वो आपकी खुशबू पर भी मरते होंगे। अब बैड में भी आपको वो अहसास छोड़ना है। कुछ ऐसा करें कि आपके जाने के बाद भी उनके बैड से आपकी खुशबू आती रहे।
बिना कपड़े रोमांस
बिना कपड़ों के सोना भी काफी सेक्‍सी लगता है। अगर आप अपने पार्टनर को खुश करना चाहती हैं तो ये तरीका जरूर ट्राई करें।
नॉटी ट्रिक्‍स
बिस्‍तर से बाहर निकले बिना ही रिमोट ढूंढने की कोशिश करना आपके पार्टनर को उत्तेजित कर सकता है। अगर आप ऐसा करती हैं तो आपकी बॉडी के खूबसूरत अंग देखकर खुश हो जाएंगे।
मुस्‍कराते रहिए

सोते समय प्‍यारी सी मुस्‍कान भी आपके पार्टनर के दिल को खुश कर सकती है।

इधर-उधर छूएं

अगर आप अपने पार्टनर को उत्तेजित करना चाहती हैं तो इसके लिए उनके निजी अंगों को हाथ लगाएं।
कुछ फिल्‍मी हो जाएं

फिल्‍मों में आपने पिलो फाइट देखी होगी लेकिन यकीन मानिए असल जिंदगी में भी ये काफी दिलचस्‍प होती है। एक बार आप भी कुछ ऐसा कर सकती हैं।





इंटरकोर्स के बाद क्‍यों महिलाओं के प्राइवेट पार्ट से आता है वीर्य बाहर, जाने कारण

ज्यादातर महिलाएं संभोग के बाद योनि से वीर्य बाहर निकलने की शिकायत करती हैं। कभी-कभी वो इसे बांझपन का कारण भी मान लिया जाता है। लेकिन ये समस्या आमतौर पर महिलाओं में बहुत आम होती। योनि से वीर्य का रिसाव का महिलाओं के बांझपन की समस्‍या से कोई लेना-देना नहीं है, हालांकि यह काफी हद तक गर्भधारण की संभावना को कम कर देता है।

वास्तव में किसी भी महिला को गर्भधारण करने के लिए एक स्वस्थ शुक्राणु कोशिका और स्वस्थ योनि की आवश्यकता होती है। लेकिन कुछ कमियों या समस्याओं की वजह से संभोग के बाद योनि से वीर्य बाहर निकल आता है।


बैक्टीरियल इंफेक्शन

यदि कोई महिला शादी से पहले या शादी के बाद जननांगों या यौन रोगों से पीड़ित रही हो तो शारीरिक संबंध बनाने के बाद उसकी योनि से वीर्य बाहर निकल सकते हैं। इसका कारण यह है कि जननांगों में संक्रमण फैलाने वाले बैक्टीरिया यौन रोग ठीक हो जाने के बाद भी योनि के अंदर एंटीबॉडीज के रूप में मौजूद रहते हैं और संभोग के बाद ये पुरुष के शुक्राणु की कोशिकाओं पर हमला करते हैं और उन्हें नुकसान पहुंचाते हैं जिसके कारण वीर्य योनि से बाहर निकलने लगता है।
खानपान भी हो सकता है कारण
भोजन में ग्लूकोज की अधिक मात्रा लेने से महिला का सर्वाइकल म्यूकस मोटा हो जाता है जिसके कारण संभोग करने के बाद योनि से वीर्य बाहर निकलने लगता है। वास्तव में अत्यधिक ग्लाइसेमिक इंडेक्स वाले भोज्य पदार्थ योनि की अम्लीय पीएच (acidic pH) स्तर को बढ़ा देते हैं जिसके कारण योनि से निकलने वाला सर्वाइकल तरल पदार्थ गाढ़ा हो जाता है जबकि शुक्राणुओं को योनि में टिकने के लिए क्षारीय वातावरण की आवश्यकता होती है। उचित वातावरण न मिलने के कारण सेक्स के बाद वीर्य योनि से बाहर निकल आता है।



सेक्स पोजीशन जो पुरुषो को बहुत भाते है


झुके हुए गर्भ के कारण
झुके हुए या विकृत गर्भाशय वाली महिलाओं को संभोग करने के बाद योनि से वीर्य बाहर निकलने की समस्या का सामना करना पड़ता है। इसका कारण यह है कि एक सामान्य गर्भाशय एक स्वस्थ और बेहतर शारीरिक पोजीशन में होता है और गर्भाशय में शुक्राणु की गति के लिए अधिक अनुकूल होता है। जबकि पीछे की ओर झुका हुआ गर्भाशय पुरुष के वीर्य को अंदर जाने से रोकता है जिसके कारण शारीरिक संबंध बनाने के कुछ ही देर बाद वीर्य योनि से बाहर निकल आता है।
आर्टिफिशल लुब्रिकेंट की वजह से
ज्यादार लोग संभोग के दौरान अपने आसान पेन‍िट्रेशन की वजह से आर्टिफिशियल लुब्रिकेंट का इस्तेमाल करते हैं। वास्तव में ये चिकने पदार्थ योनि की कैनाल (vaginal canal) में जाकर जम जाते हैं जिसके कारण शारीरिक संबंध बनाने के दौरान पुरुष का स्पर्म महिला की योनि में अंदर तक प्रवेश नहीं कर पाता है या फिर बहुत धीमी गति से अंदर जाता है। इसके कारण सेक्स के तुरंत बाद सारा वीर्य योनि से बाहर निकल जाता है।



इन तरीकों को अपना कर बच सकती हैं इस समस्‍या से

ठीक तरह से हो पेनिट्रेशन
https://www.healthsiswealth.com/
गर्भाशय में शुक्राणुओं के प्रवाह को बढ़ाने के लिए पुरुष को अपनी महिला पार्टनर के साथ सेक्स करते समय लिंग से तेज स्ट्रोक लगाना चाहिए ताकि लिंग योनि में काफी गहराई तक प्रवेश कर सके। यह क्रिया विशेषरूप से तब करनी चाहिए जब यौन उत्तेजना चरमोत्कर्ष पर हो या फिर ऑर्गेज्म का अनुभव होने वाला हो। यदि संभोग के दौरान शुक्राणु को सीधे गर्भ के प्रवेश द्वार के आसपास रणनीतिक रूप से स्खलित किया जाए तो निषेचन की संभावना बढ़ जाती है और वीर्य योनि से बाहर नहीं निकल पाता है।
ट्राय करें नए पॉज‍िशन

आमतौर पर प्रत्येक महिला को अपने गर्भाशय के बारे में उचित जानकारी रखनी चाहिए। इसल‍िए महिलाओं को अलग तरह का सेक्‍स पॉजीशन भी इस्‍तेमाल करना चाह‍िए।

ऑर्गेज्म है बहुत जरूरी

सेक्स करने के बाद योनि से वीर्य बाहर न निकले, इससे बचने के लिए संभोग करते समय महिला को ऑर्गेज्म का सुख मिलना बेहद जरूरी है। वास्तव में ऑर्गेज्म के दौरान महिलाओं की पेल्विक मांसपेशियों (pelvic muscles) में ऐंठन होती है जो शुक्राणु को गर्भ में खींचने में मदद करती हैं। इसके अलावा ऑर्गेज्म तक पहुंचने के बाद गर्भधारण की संभावना बढ़ जाती है चाहे भले ही वीर्य योनि से बाहर निकल जाए, क्योंकि आवश्यकतानुसार वीर्य पहले ही योनि के अंदर पहुंच चुका होता है।

अच्‍छी नींद भी करती है डायटिंग में मदद, सर्वे में चला मालूम


वेटलॉस के चक्‍कर में आप क्‍या-क्‍या तरकीबे नहीं अजमाते हैं, डायटिंग से लेकर एक्‍सरसाइज तक। पतले होने के चक्‍कर में न जाने आप कितनी बार अपनी सुबह की नींद खराब करते हैं। लेकिन आपको ये जानकर भी खुशी होगी कि पतले होने के ल‍िए अब आपको अपनी नींद के साथ कॉम्‍प्रोमाइज नहीं करना होगा। क्‍योंकि आपकी नींद आपकी डायटिंग में भी आपकी मदद कर सकती है। एक रिसर्च में सामने आया है कि पर्याप्त नींद लेने से मीठा खाने की आपकी इच्छा कम होती है। इस तरह आप अपको अपनी डायट से कैलरी कट करने में मदद मिलेगी।


प्रतिदिन 7 घंटे की नींद पूरी न होने से दिल की बीमारी का खतरा बढ़ जाता है। इससे मेटाबॉलिजम पर भी असर पड़ता है। हालांकि, पर्याप्त नींद लेने से इन बीमारियों का खतरा कम हो जाता है। दक्षिण अफ्रीका के यूनिवर्सिटी ऑफ केप टाउन में हुए एक रिसर्च में पता चला है कि नींद पर्याप्त होने से शरीर में इंसुलिन की सेंसेटिविटी बढ़ती है। भूख भी कम लगती है और आपको बार-बार मीठा या नमकीन खाने की इच्छा नहीं होती है। इस तरह आप हर रोज एक्स्ट्रा शुगर और कैलरी लेने से खुद को बचा सकते हैं।
इस रिसर्च में रिसर्चर्स ने 138 लोगों को शामिल किया। इनमें से कुछ लोग पूरी तरह स्वस्थ थे, कुछ लोग स्वस्थ तो थे लेकिन कम नींद लेते थे, ओवरवेट और कम सोने वाले थे और प्री-हाइपरटेंसिव लोग शामिल थे।


कोई टिप्पणी नहीं

Healths Is Wealth. Blogger द्वारा संचालित.