Header Ads

कई स्वास्थ्य समस्याओं का कारगर इलाज है जीरे का पानी


कई स्वास्थ्य समस्याओं का कारगर इलाज है जीरे का पानी 
भारतीय मसाले न सिर्फ खाने के स्वाद को बढ़ाते हैं, बल्कि स्वास्थ्य के लिए भी फायदेमंद माने जाते हैं. इन्हीं मसालों में शामिल है जीरा, जिसका इस्तेमाल भोजन के जायके को बढ़ाने के लिए सदियों से किया जाता रहा है. जीरे में कई औषधीय गुण मौजूद हैं, जिससे कई स्वास्थ्य समस्याओं में फायदा होता है. जीरे में मौजूद ये गुण ही इसे भारतीय खाने का अहम हिस्सा बनाते हैं. इसमें मौजूद एंटीऑक्सीडेंट्स, आयरन, कॉपर और मैग्नीशियम शरीर को कई स्वास्थ्य समस्याएं खतरे से बचाते हैं.

रोजमर्रा की भागदौड़ के बीच अगर आपके पास जिम जाने या एक्सरसाइज करने के लिए समय नहीं है तो ऐसे में आप जीरे के पानी की मदद से अपने वजन को कंट्रोल कर सकते हैं. जीरे का पानी स्वास्थ्य के लिए किसी कारगर औषधी से कम नहीं है. चलिए जानते हैं सुबह के वक्त जीरे का पानी पीने से होने वाले फायदों के बारे में.
ऐसे बनाएं जीरे का पानी


जीर के पानी को तैयार करने के लिए रात में एक गिलास पानी में 2 चम्मच जीरा भिगोकर रख दें. फिर सुबह के वक्त इस पानी को उबाल लीजिए. इसके बाद जब पानी गुनगुना हो जाए तो उसे छानकर पी लीजिए.
1- शरीर को डिटॉक्सीफाई करे


जीरे के पानी में फाइबर भरपूर मात्रा में पाया जाता है और सुबह खाली पेट इसका सेवन करने से शरीर के टॉक्सिन्स आसानी से बाहर निकल जाते हैं. जीरे का पानी शरीर से विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालकर उसकी सफाई करता है. यह शरीर को हाइड्रेट रखता है और इसके सेवन से आप तरोताजा महसूस करते हैं.
2- पाचन क्रिया को बनाए बेहतर

अगर आप अपच की समस्या से परेशान हैं तो जीरे के पानी में इसका समाधान छुपा हुआ है. दरअसल, जीरे के पानी में एंटीऑक्सीडेंट, विटामिन और मिनरल्स भरपूर मात्रा में पाए जाते हैं जो डायजेशन को सुधारते हैं. यह पाचन तंत्र को स्वस्थ बनाए रखता है. इसके साथ ही इसके सेवन से उल्टी, दस्त, मॉर्निंग सिकनेस, गैस और कब्ज जैसी समस्याओं से भी राहत मिलती है.
3- रोग-प्रतिरोध क्षमता बढ़ाए


अगर आपके शरीर में आयरन की कमी है तो इसकी पूर्ति के लिए आपको जीरे के पानी का सेवन करना चाहिए. सुबह खाली पेट जीरे का पानी पीने से रोग-प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है. इस पानी में विटामिन ए और विटामिन सी होता है जो इम्यूनिटी को बढ़ाने में मदद करता है, जिससे कई बीमारियों कोसों दूर रहती हैं.
4- वजन घटाने में कारगर


एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर जीरे का पानी शरीर में इकट्ठा हुए विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालता है. इस पानी को पीने से लीवर में बाइल प्रोडक्शन बढ़ता है. बाइल एक ऐसा तरल पदार्थ है जिसका निर्माण लीवर करता है और यह फैट को पचाने का काम करता है. इतना ही नहीं बैगर जिम और एक्सरसाइज के वजन कम करने के लिए जीरे का पानी सबसे कारगर उपाय है. यह भी पढ़ें: पाचन संबंधी समस्या से हैं पेरशान तो इससे निजात पाने के लिए करें इन 5 चीजों का इस्तेमाल
5- अनिद्रा में फायदेमंद

दिनभर की भागदौड़ और काम के तनाव के चलते ज्यादातर लोग रात में चैन से सो नहीं पाते हैं. आज के इस दौर में अधिकांश लोग अनिद्रा की समस्या से परेशान हैं. अगर आपको भी रात में नींद नहीं आती है तो आपको रोजाना जीरे के पानी का सेवन करना चाहिए. नियमित तौर पर जीरे का पानी पीने से रात में अच्छी और आरामदायक नींद आती है.


बहरहाल, अगर आप तेजी से वजन कम करने के साथ कई बीमारियों के खतरे से सुरक्षित रहना चाहते हैं तो रोजाना सुबह में खाली पेट जीरे के पानी का सेवन करना शुरू कर दीजिए.


नोट- इस लेख में दी गई तमाम जानकारियों को केवल सूचनात्मक उद्देश्य से लिखा गया है. इसकी वास्तविकता, सटीकता और विशिष्ट परिणाम की हम कोई गारंटी नहीं देते हैं. इसमें दी गई जानकारियों को किसी बीमारी के इलाज या चिकित्सा सलाह के लिए प्रतिस्थापित नहीं किया जाना चाहिए. इस लेख में बताए गए टिप्स पूरी तरह से कारगर होंगे या नहीं इसका हम कोई दावा नहीं करते है, इसलिए किसी भी टिप्स या सुझाव को आजमाने से पहले डॉक्टर से सलाह जरूर लें.


अगर आप कब्ज से परेशान है तो अजमाए ये 8 उपाय घरेलू नुस्खे… 
नई दिल्ली: कब्ज की एक आम समस्या है.लेकिन कब्ज की समस्या भले ही सुनने में छोटी लगती है पर यह स्वास्थ्य से जुड़ी कई परेशानियों को जन्म दे सकती है. कई बार तो कब्ज की समस्या इतनी बढ़ जाती है कि आप कुछ भी कर पाने की हालत में नहीं होते. ऐसे में हम कई बार राहत पाने के लिए दवाएं भी खा लेते हैं, जो सेहत को और नुक्सान पहुंचा सकती हैं. इसलिए हम अक्सर गैस जैसी समस्या से निपटने के लिए घरेलू नुस्खों को तलाशते हैं. तो चलिए हम आपको बताते हैं कुछ घरेलू नुस्खों के बारे में जो आपको कब्ज से राहत दिलाएंगे.
कब्ज से बचने के घरेलू और आयुर्वेदिक नुस्खे 

1. त्रिफला को भी आप कब्ज दूर करने के लिए इस्तेमाल कर सकते हैं. त्रिफला खाकर आप कब्ज को दूर भगा सकते हैं. त्रिफला एक हर्ब है. त्रिफला शब्द का मतलब है ‘तीन फल’. त्रिफला तीन फलों हरड, बेहड और आंवला से मिलकर बनता है. कब्ज से राहत के लिए त्रिफला का इस्तेमाल करना बेहद आसान है. इसके लिए आपको एक चम्मच त्रिफला को एक कप गर्म पानी में 10 मिनट तक छोड़ना होगा. इसके बाद इसे पी लें. यह रात को करें

2 . कब्ज से बचने का एक अच्छा तरीका यह है कि आप वेटा पैसिफाइंग डाइट लें. ठंडे खाने और पेय से दूर रहें. गर्म खाना खाएं, हल्का गर्म पानी पीएं और खूब पकी सब्जियां खाएं.


3. ऐसे कई फल हैं जो जल्दी पच जाते हैं. तो ऐसे फल खाएं जिन्हें पचाना आसान हो. इस बात का भी ध्यान रखें के दिन के दो भोजनकालों के बीच आप फल खाएं. आप केले खा सकते हैं. इस बात का ध्यान रखें कि आप पका हुआ केला खाएं, क्योंकि यह कब्ज को दूर करने में फायदेमंद होता है. कच्चा केला कब्ज को बढ़ा सकता है.


मेथी के पत्ते करेंगे वजन कम, जानें कैसे

4. सेब खाएं. सेब आपको कब्ज से राहत दिला सकता है. सेब को छीलकर चबा-चबा कर खाएं.

5. सोने से पहले गर्म दूध में एक चम्मच घी डालकर पीएं. यह कब्ज के लिए अच्छा नुस्खा माना जाता है.

6. अपने खाने में फाइबर को शामिल करें. ओट ब्रेन, वीट ब्रेन, ताजला फल और सब्जियां आहार में शामिल करें. यह आपके मल को हल्का करेगा.

7. रात के समय बिस्तर पर जाने से पहले एक कप पानी में चम्मच अलसी के बीच उबाल लें. इसे गर्म-गर्म पी लें.

8. रोने से पहले एक कप अदरक की चाय बनाएं और उसमें दो चम्मच कैस्टर ऑयल यानी अरंडी का तेल डाल कर पी लें. कैस्टर ऑयल हल्का लेक्सेटिव होता है जो कब्ज में मददगार है


खीरे और ककड़ी के सेवन से गर्मियों में राहत के साथ-साथ वजन घटाने में भी होगी मदद 
मई जून कि गर्मियों से लोग परेशांन होकर ज्यादातर लोग ऑयली खाने से दूर भागते है और अपने डायट में ऐसी चीज़े खाना पसंद करते जो शरीर को ठंडक दे . गर्मियों का मौसम आते ही लोग अपने खान पान में लोग ककड़ी और खीरे को शामिल कर लेते हैं. लोग इसे ज्यादातर सलाद के रूप में खाना पसंद करते हैं. खीरा और ककड़ी स्वाद के साथ-साथ शरीर को शीतलता प्रदान करती है. गर्मियों में ककड़ी और खीर शरीर को हाइड्रेट रखने में मदद करती है, क्योंकि इसमें लगभग 90 % पानी होता है. इसके अलावा इसमें फाइबर, विटामिन, कैल्शियम, आयोडीन, पोटैशियम, फास्फोरस, मैग्नीशियम जैसे कई पौष्टिक तत्व होते है


खीरे और ककड़ी के बीजों में गर्मी को दूर करने वाले गुण पाए जाते हैं. शरीर में ठंडक बनाये रखने के लिए खीरे और ककड़ी खाना फायदेमंद होता है. इसके अलावा खीरे और ककड़ी का रायता तेज गर्मी या लू की मार से बचाने में मदद करता है.
/


1- बॉडी को हाइड्रेट रखने में मदद करता है :-

खीरे के मुकाबले ककड़ी में पानी की मात्रा अधिक होती है, इसलिए गर्मियों में इसके नियमित सेवन से शरीर में पानी की कमी नही होती है. यह शरीर के विषैले पदार्थों को बाहर निकाल कर उसे डीटॉक्स करने में मदद करती है. अगर आप गर्मियों में डीहाइड्रेशन से बचना चाहते हैं इसका सेवन गर्मियों रोज़ करना चाहिए.


2- पाचन तंत्र को बेहतर रखने में मदद करता है :-


गर्मियों में तेल-मसाले वाले खाने से पाचन से जुड़ी दिक्कते हो सकती है, लेकिन अपने आहार में खीरे व ककड़ी को शामिल करके आप अपनी पाचन क्रिया को बेहतर बना सकते हैं. गर्मी के दिनों में ककड़ी व खीरा खाने से पित्त दोष से होनेवाली बीमारियों का खतरा दूर होता है. इसके अलावा पेट से जुड़ी परेशानियां दूर रहती है .



3- मोटापे को कंट्रोल करने में मदद करता है :-
बढ़ते वजन को कंट्रोल करना चाहते है, तो आपको अपने डेली खान-पान के खीरे और ककड़ी का सेवन करना चाहिए. गर्मियों में बॉडी को डीहाइड्रेशन से बचाने के अलावा खीरे और ककड़ी मोटापे को कंट्रोल करने में भी मदद करती है.दूसरे स्नैक्स के मुकाबले खीरे और ककड़ी से पेट अधिक देर तक भरा रहता जिससे भूख कम लगती है.


4- डायबिटीज को नियंत्रित रखने में मदद करता है :-


खीरे और ककड़ी डायबिटीज के मरीजों के लिए कारगर औषधि है. दरअसल, खीरे और ककड़ी में मौजूद मिनरल्स शरीर में इंसुलिन के स्तर को नियंत्रित रखते हैं. इसके अलावा खीरे और ककड़ी में मौजूद पोटैशियम ब्लड प्रेशर को कंट्रोल करने में मदद करता है, इसलिए डायबिटीज और ब्लड प्रेशर के मरीजों को खीरे और ककड़ी जरुर खाना चाहिए.




5- त्वचा को हेल्दी बनाए रखने में मदद करता है :-

खीरे और ककड़ी त्वचा को भी हेल्दी बनाए रखने में मदद करती है. दोपहर में खाना खाने से पहले रोजाना एक खीरे या ककड़ी खाने से खून साफ होता है और गर्मियों के मौसम में फोड़े-फुंसियां नहीं होती हैं. इसके अलावा ककड़ी के बीज को पीसकर चेहरे पर लगाने से त्वचा स्वस्थ और चमकदार और फ्रेश दिखती है .




गर्मियों के मौसम में खीरे और ककड़ी सेहत के लिए अमृत के समान है, लेकिन कोई भी चीज हद से ज्यादा नुकसान करती है इसलिए खीरे और ककड़ी का सेवन उचित मात्रा में ही करे, ज्यादा मात्रा में खीरे और ककड़ी खाने से आपको अपच की समस्या हो सकती है. इसके अलावा रात में खीरे और ककड़ी खाने से बचना चाहिए


जानिए खीरा खाने से क्या क्या शरीर के लिए फायदेमंद होता है… 


नई दिल्ली: आप लोग ये गलत कहते है की खीरा गर्मियां साथ-साथ आती हैं. खीरा पोषक तत्वों से भरपूर होता है, जो आपकी डाइट में सबसे हेल्‍दी माना जाता है. खीरा खनिजों, विटामिन और इलेक्ट्रोलाइट्स का एक पावरहाउस है. सैंडविच, सलाद, रायता के लिए खीरा लगभग सभी घरों में अनिवार्य रूप से खाया जाता है. गर्मियों में, हल्का और साफ खाना महत्वपूर्ण होता है.

सर्दियों के मुकाबले गर्मियों में डायरिया और फूड पॉइजनिंग की समस्‍याएं अधिक देखने को मिलती हैं. यहीं कारण है कि विशषज्ञ गर्मियों में डाइट में खीरा शामिल करने की सलाह देते हैं. इसके अलावा गर्मियों में शरीर में पानी की कमी को पूरा करने के लिए भी अधिक पानी पीना चाहिए. फिर भी, कुछ विशेषज्ञ खीरा खाने के बा द पानी न पीने की सलाह देते हैं.
जानिए खीरा खाकर पानी क्यों नहीं पीना चाहिए

खीरे में 95 फीसदी पानी होता है. इसके अलावा विशेषज्ञ पानी से समृद्ध फल और सब्जियां जैसे तरबूज, अनानस और स्ट्रॉबेरी के बाद पीने न पीने की सलाह देते हैं. मैक्रोबायोटिक पोषण विशेषज्ञ और स्वास्थ्य प्रैक्टिशनर शिल्पा अरोड़ा एनडी के मुताबिक, खीरा विटामिन सी, विटामिन के, कॉपर, मैग्नीशियम, पोटेशियम, मैंगनीज़ और सबसे महत्वपूर्ण सिलिका जैसे आवश्यक पोषक तत्वों से भरा हुआ होता है, जो त्वचा और बालों के लिए बहुत फायदेमंद माना जाता है. खीरे में 95 फीसदी पानी होता है ऐसे में इसे खाने के बाद पानी पीने से आप इन आवश्‍यक पोषक तत्‍वों से वंचित रह सकते हैं. पोषक तत्वों के बेहतर अवशोषण के लिए कच्ची सब्‍जियां और फल खाने के बाद पानी पीने से बचने की सलाह दी जाती है.जैन अस्पताल, चेम्बूर की कंसल्टिंग डाइटिशियन प्रिया पालन कहती हैं खीरा खाने के तुरंत बाद पानी पीने से जीआई गतिशीलता में वृद्धि होती है, जिससे पाचन और अवशोषण की प्राकृतिक प्रक्रिया को नुकसान पहुंचता है. हो सकता है कि बॉडी आपकी आंतों से अतिरिक्त लेने लगे और शरीर की प्राकृतिक प्रक्रिया को समस्‍या हो जाएं.

खीरा सेहत और स्वाद का बेजोड़ मेल, बढ़े वजन और कैंसर तक को दे मात


यह भी व्यापक रूप से माना जाता है कि खीरे के साथ या उसके बाद पीने पीने से बॉडी का पीएच लेवल डिस्‍टर्ब हो सकता है. भोजन पचाने के लिए शरीर को पीएच लेवल की आवश्यकता होती है. बहुत अधिक पानी पीएच स्तर को कमजोर कर सकता है. इसके अलावा खीरे के ऊपर पानी पीने से खाद्य पदार्थों को पचाने के लिए आवश्यक एसिड प्रभावी ढंग से काम नहीं कर पाते, जिससे आपको पाचन से जुड़ी समस्‍याएं हो सकती हैं. अगर आप पाचन और कब्ज जैसी समस्याओं से जूझ रहे हैं, तो आपके लिए उच्‍च पानी वाले खाद्य पदार्थ जैसे खीरा आदर्श सब्जी साबित हो सकती है. यह आपकी आंतों को आराम पहुंचाती है. लेकिन यदि आप खीरे के ऊपर अधिक पानी पीते हैं, तो आपको डायरिया और लूज मोशन जैसी समस्‍याओं का सामना करना पड़ सकता है


अच्छी नींद पाने के लिए करे ये चार उपाय…. 

नई दिल्ली: हम लोग हमेशा सोचते है की अच्छी नींद के लिए न सिर्फ आपका स्लीपवेयर अहम भूमिका निभाता है, बल्कि इसके लिए तनाव मुक्त होना भी जरूरी है.हमें अच्छी नींद के साथ साथ आपकी त्वचा रिजूविनेट होती है. आरामदायक नींद के लिए भोजन एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है. विशेषज्ञों का कहना है

कि खाने पर ध्यान देकर अच्छी नींद ली जा सकती है. बादाम, कीवी, अखरोट, केला, काबुली चना, दूध, दलिया और चावल ऐसे खाद्य पदार्थ हैं जो नींद बढ़ाने में सहायक होते हैं. ‘संडे मैट्रेस’ के संस्थापक और मुख्य कार्यकारी अधिकारी अल्फोंस रेड्डी तथा ‘सिस्लो कैफे’ के रसोई विशेषज्ञ मृनमॉय आचार्य ने भोजन और बेहतर नींद में सहायक और आसानी से बनने वाले भोजन पर अपने विचार साझा किए हैं. इसके साथ अगर आप ये उपाय को अपनाये तो गहरी नींद पा सकते हैं.|

अच्छी नींद आने के चार उपाय


1. स्कैल्प को ऐसी चीज की सहायता से हाइड्रेटेड रखना बेहद जरूरी है, जो इसे पोषण प्रदान करता हो. नियमित रूप से किया गया ट्रीटमेंट बालों के डैमेज कंट्रोल में अहम भूमिका निभाता है और आपको रूखे व दो मुंहे बालों से छुटकारा दिलाता है. बेहतर हेयर ट्रीटमेंट और सैटिन सॉफ्ट तकिए के इस्तेमाल से नींद अच्छी आती है.
2. तनाव को कम करने व अच्छी नींद के लिए बालों को बांधकर लूज जूड़ा बना लें या ढीली चोटी बना लें.

3. टी ट्री ऑयल से नियमित रूप से सिर की मालिश करने से रक्त परिसंचरण ठीक रहता है और बाल स्वस्थ रहने के साथ ही तनाव से भी छुटकारा मिलता है. बालों को पोषण मिलता है. हल्के हाथों से सिर का मसाज करने से अच्छी नींद आती है.

4. रात में सोते समय स्टाइलिश और आरामदायक स्लीपवेयर पहनें. सर्द रातों के लिए सैटिन कपड़े वाला स्लीपवेयर उपयुक्त रहेगा. आप रंगीन व बेहतरीन प्रिंट वाले स्लीपवेयर पहन सकती हैं


केले के छिलके के फायदे जानकर आप चौंक जाएंगे… 
नई दिल्ली: हम लोग अक्सर कर के केला खाकर छिलका फेक देते है, लेकिन आज हम आप को इसके फायदे के बारे में तो आप जानते ही हैं, लेकिन क्या आपको पता है कि केले के छिलकों के भी बहुत फायदे होते हैं. हम सब ने सुना है कि फलों को उनके झिलकों के साथ खाना चाहिए, लेकिन हम में से कितने लोग इस बात को मानते हैंयह एक बड़ा सवाल है. यकीनन आप भी ऐसा ही करते होंगे. हममें से बहुत से लोग केला खाकर उसके छिलके को कुड़े में फेंक देते हैं. अगर आप ऐसा करते हैं तो जरा ठहर जाएं. क्योंकि जिस चीज को आप फेंक रहे हैं उसमें गुणों का ऐसा खजाना है जिसके बारे में जानकर आप चौंक सकते हैं. केले के छिलके की मदद से आप शरीर को भारी मात्रा में न्यूट्रीयंट्स देने के साथ वज़न भी कम कर सकते हैं. जी हां, केला एक ऐसा फल है, जिसे मानव द्वारा कई सालों से जोता जा रहा है. इसमें ज़रूरतमंद विटामिन जैसे बी-6 और बी-12 के अलावा मिनरल्स, पोटैशियम और मैग्नीशियम होता है. यह फाइबर का एक अच्छा स्रोत होता है, जो आपकी पाचन क्रिया को ठीक करने में काफी मदद करता है.
एक नजर केले के छिलके के बड़े फायदों पर 
केले के छिलके में विटामिन-ए की मात्रा पाई जाती है, जो इम्यूनिटी को मज़बूत कर इंफेक्शन से लड़ने में मदद करता है. 
केले के छिलके में लुटीन होता है, जो आंखों में मोतियाबिंद होने से रोकता है. 
केले के छिलके में एंटी-ऑक्सीडेंटस होने के साथ विटामिन-बी, ख़ासतौर से विटामिन-बी-6 की मात्रा होती है. 
इसमें घुलने वाले और न घुलने वाले फाइबर होते हैं, जो पाचन क्रिया के कार्य को धीरे कर, शरीर से कोलेस्टेरॉल को कम करते हैं. 
केले का छिलका खाने में से आप शरीर के लिए जरूरी पोटैशियम और मैग्नीशियम पा सकते हैं, जो बल्ड प्रेशर को बनाए रखने में मदद करती है. 
कई अध्ययनों का तो यह भी मानना है कि छिलके में सेरोटोनिन नाम का पदार्थ होता है, जो डिप्रेशन पर काबू रख आपको खुश रखता है. इसके अलावा इसमें डोपामाइन होता है, जो दिल की धड़कन पर नियंत्रण रख गुर्दो में खुन का प्रवाह बनाए रखता है. 
इस बात पर ध्यान देना भी जरूरी है कि केले का छिलका आपको कैसा लेना है. यह पका हुआ होना चाहिए या कच्चे केले का छिलका इस्तेमाल करना चाहिए. जापानी साइंटिफिक रिसर्च के मुताबिक पीले छिलके में एंटी-कैंसर गुण होते हैं, जो व्हाइट बल्ड सेल्स को उत्पन्न करने में मदद करते हैं. अगर आप अपने आहार में केले का हरा छिलका शामिल करते हैं, तो इसे मुलायम करने के लिए 10 मिनट उबालें. इसके बाद इस्तेमाल करें. 
एक और अध्ययन के अनुसार बताया गया है कि हरे छिलके में ट्रिपटोफन नामक पदार्थ होता है, जो एक तरह का अमीनो एसिड है. यह रात को अच्छी नींद लेने के लिए लाभकारी है. 


जानिए क्या होता है नारियल पानी पीने के फायदे और नुकसान… 

नई दिल्ली: नारियल पीने से विटामिन, पोटैशियम, फाइबर, कैल्शियम, मैग्नीशियम, विटामिन और खनिज तत्व भरपूर मात्रा में होते हैं. यही वजह है कि नारियल आपकी सेहत के लिए काफी अच्छा साबित हो सकता है. सबसे अच्छी बात यह है|

कि नारियल में वसा और कॉलेस्ट्रॉल नहीं होता और अपनी इसी खूबी के चलते यह मोटापे को कम करता है. कई बीमारियों के इलाज में नारियल काम आता है. रोज एक नारियल का पानी आपके शरीर को हाइड्रेट रखने में मदद करता है और जरूरी ग्लूकोज की आपूर्ति करता है. सही कहा जाए तो गर्मी में नारियल पानी वैसे भी वरदान से कम नहीं. नारियल के एंटीऑक्सीडेंट्स और पोषक तत्व आपके शरीर के लिए फायदेमंद तो होते ही हैं. सामान्यत: एक नारियल में लगभग 200 से 250 मिलीलीटर पानी होता है. नारियल पानी में कम कैलोरी होने की वजह से ये वजन घटाने में भी आपकी मदद करता है. इस पानी में पोटेशियम, मैग्नीज, सोडियम, कैल्शियम के अलावा प्रोटीन और फाइबर भी होता है|


क्या हैं नारियल पानी पीने के फायदे 

ब्लड प्रेशर को कंट्रोल करने में नारियल पानी काफी मदद करता है. नारियल पानी में मौजूद विटामिन सी, पोटैशियम और मैग्नीशियम ब्लड प्रैशर को कंट्रोल रखता है.बढ़ती गर्मी की वजह से आपका एनर्जी लेवल काफी कम हो जाता है. इसमें इम्यून सिस्टम कमजोर हो जाता है. नारियल पानी आपको ठंडक देने के साथ ही एनर्जी लेवल को भी बढ़ाता है.आपके मेटाबॉलिज्म में सुधार के बाद शरीर के अंदर फ्री रेडिकल्स बनते हैं जिनकी वजह से व्यक्ति में तनाव की समस्या पैदा हो जाती है.नारियल पानी में मौजूद एंटीऑक्सिडेंट्स इन फ्री रेडिकल्स को दूर करने में मदद करता है.रिसर्च के मुताबिक नारियल पानी खून से शुगर लेवल को कम करता है| दरअसल इंसुलिन की कमी की वजह से डायबिटीज की समस्या होती है. नारियल का पानी इंसुलिन को बढ़ाता है. किडनी के रोगियों के लिए ज्यादा तरल पदार्थों के सेवन के लिए कहा जाता है जिससे कि यूरिन के रास्ते पथरी निकल सके. नारियल का पानी किडनी में पथरी होने की समस्या में काफी फायदेमंद होता है. ये किडनी से पथरी के क्रिस्टल को गलाने में मदद करता है. गर्मी में मुहांसे और दाग धब्बों की समस्या काफी बढ़ जाती है. ऐसे में नारियल का पानी मुंहासों को दूर करने में आपकी मदद कर सकता है|


कैसे करें मेथी दाना से ब्लड शुगर लेवल कंट्रोल वजह जानकर आप हैरान हो जायेंगे 
 विश्व स्वास्थ्य संगठन के एक अनुमान के अनुसार विश्व में हर वर्ष डायबिटीज के कारण करीब 16 लाख लोगों अपनी जान गंवाते हैं.का दावा है कि 2030 तक डायबिटीज दुनिया की 7वी सबसे बड़ी जानलेवा बीमारी बन जाएगी डायबिटीज एक स्थायी रोग है जिसमें आपका ब्लड शुगर लेवल बढ़ जाता है|

और अगर इसका इलाज नहीं किया गया तो ये आपके दिल, ब्लड वैस्ल्स, आंख और किडनी को हानि पहुंचा सकता है. इसकी पहचान में देरी और जागरूकता की कमी के चलते इसे काबू करना काफी मुश्किल हो जाता है. डायबिटीज से जूझ रहे लोगों को अपने खाने के प्रति अधिक सचेत रहना पड़ता है. मीठे खाद्य पदार्थ, ड्रिंक्स, ट्रांस्फैट्स से हमेशा दूरी बना के रखने में ही समझदारी होती है. एक डायबिटिक डाइट हमेशा हाईफाइबर फूड, कॉम्पलेक्स कार्ब्स और प्रोटीन का बैलेंस मिक्स होना चाहिए. ऐसे कई हर्ब्स और मसाले हैं जो आपको इस रोग से लड़ने में सहायता करते हैं. जैसे, मेथीदाना आपके बढ़े हुए शुगर लेवल को नीचे लाने में मदद करता है|

एलोवेरा के 10 फायदे, बालों को दे मजबूती, त्वचा को दे नई चमक और कम करे मोटापामें छपी एक स्टडी के मुताबिक रोजाना 10 ग्राम मेथीदाना का गर्म पानी पीने से टाइप-2 डायबिटीज को कंट्रोल किया जा सकता है. मेथी दाना के पानी में यह ताकत होती है कि वह ब्लड शुगर के लेवल को कम कर सके. इसमें काफी मात्रा में फाइबर होता है जो पाचन क्रिया को तेज करता है. इसके साथ ही यह शरीर द्वारा शुगर के इस्तेमाल को भी बेहतर करता है|
कैसे बनाएं मेथी का पानी

मेथी दाना का पानी बनाने के लिए आपको बहुत ज्यादा मशक्कत करने की जरूरत नहीं. यह बहुत ही आसान है. एक से डेढ़ चम्मच मेथी दानों को रात को एक गिलास साफ पानी में भिगो दें. सुबह उठकर इस पानी को अच्छे से छान लें और फिर इसे खाली पेट पीएं|


मेथी के पानी का फायदा 


इससे शरीर का ब्लड शुगर लेवल नियत्रित रहता है और डायबिटीज से बचाव होता है. यह डायबिटीज या मधुमेह को कंट्रोल करने में मददगार है. मेथी में मौजूद गेलेक्टोमैनन नामक फाइबर, खून में शुगर के अवशोषण को कम करता है|



गर्मी के मौसम में दिन में दही खाने के ये है बेमिसाल फ़ायदे 
आयुर्वेदाचार्य डॉ. हरि कृष्ण के अनुसार दही हमारी सेहत के लिए बहुत फायदेमंद होती है मगर इसे खाने का एक निश्चित समय होता है। अगर आप गलत मौसम या गलत समय पर दही का सेवन करते हैं, तो इसके कई नुकसान हो सकते हैं। गर्मियों में दही को पेट के लिए अच्छा माना जाता है। मगर गर्मियों में भी देर रात में दही का सेवन आपको बीमार बना सकता है। इसके अलावा सर्दियों और वसंत में दही का सेवन नहीं करना चाहिए। डॉ. हरि कृष्ण बता रहे हैं कब और कैसे करना चाहिए दही का सेवन, ताकि शरीर को न हो कोई नुकसान।


रात में नहीं करना चाहिए दही का सेवन

आयुर्वेद में ऐसा माना जाता है कि रात कफ बढ़ाता है इसलिए रात में इसका सेवन नहीं करना चाहिए। यह खांसी, जुकाम, जोड़ों के दर्द और फेफड़ों के संक्रमण का कारण बन सकता है। इसके अलावा ये शरीर की सूजन भी बढ़ा सकती है। वैसे तो दही पेट के लिए फायदेमंद मानी जाती है मगर रात में अगर आप खाने के बाद जल्दी सो जाते हैं, तो ये ठीक से पच नहीं पाती है। इसलिए अच्छा यही है कि आप रात में दही का सेवन न करें।
गर्मी में दिन में दही खाना है फायदेमंद


गर्मी के मौसम में दही पेट के लिए बहुत फायदेमंद होता है इसलिए दोपहर के खाने में कम से कम 1 कटोरी (150 ग्राम) दही का सेवन करना चाहिए। शाम को भी आप दही का सेवन कर सकते हैं मगर यह ध्यान रखें कि सोने से कम से कम 3 घंटे पहले ही इसका सेवन कर लें। रात को दही नहीं खाना चाहिए। दही खाने से आपकी पाचन क्षमता बढ़ती है और शरीर को कई जरूरी पौष्टिक तत्व मिलते हैं। यह भी ध्यान रखें कि दूध और दही को एक साथ न खाएं। अगर आप दोनों चीजें खाना चाहते हैं, तो कम से कम 1 घंटे का अंतर जरूर रखें।
कैसे खाएं दही, ताकि ज्यादा मिलें फायदे

दही को आप कई तरह से खा सकते हैं। ज्यादातर लोग इसमें चीनी या नमक मिलाकर खाते हैं। डॉ. हरि कृष्ण बताते हैं कि अगर आप दही खाते समय इसमें सफेद की जगह काला नमक या सेंधा नमक का प्रयोग करें, तो ये आपके लिए बहुत फायदेमंद होगा। इसके अलावा दही में काली मिर्च पाउडर डालकर खाने से पेट की चर्बी को गलाने में मदद मिलती है। काली मिर्च पेट और पाचन के लिए भी बहुत फायदेमंद होती है। ध्यान रखें कि बहुत ज्यादा ठंडी दही न खाएं। इसके अलावा दही को कभी भी गर्म करके नहीं खाना चाहिए।
दही खाने के फायदे 
दही आंखों के लिए बहुत फायदेमंद होती है। रोजाना दही खाने से आंखों की रोशनी तेज होती है। 
दही का सेवन पेट के लिए फायदेमंद होता है। पेट की समस्याएं जैसे एसिडिटी, गैस, कब्ज, अपच आदि में दही का सेवन अच्छा होता है। 
मुंह के छालों से जल्द आराम दिलाने और पेट की गर्मी को शांत करने में भी दही फायदेमंद है। 
दही हड्डियों को मजबूत बनाती है क्योंकि इसमें कैल्शियम होता है। 
कब न खाएं दही 
रात में दही का सेवन न करें। रात में दही का सेवन आपको बीमार बना सकता है। 
दही और दूध या खीर को एक साथ न खाएं। इस तरह के आहारों में कम से कम 1 घंटे का अंतर रखें। 
जुकाम और बुखार होने पर दही का सेवन नहीं करना चाहिए। ये रोग को बढ़ा सकती है क्योंकि कफकारी होती है। 
अंडे और मांसाहारी भोजन के साथ दही का सेवन करने से बचें। हालांकि छाछ का सेवन किया जा सकता है। 

गर्मी में करें दही का सेवन, फायदे जानकर आप चौक जायेंगे… 


नई दिल्ली: गर्मी आते ही हम लोग ठंडी चीजों का सेवन करना शुरू कर देते हैं,जैसे दही एक ऐसा उत्पाद है जिसे उत्तर भारत में लोग चाव से खाते हैं. हर भारतीय आहार में दही काफी अहम भूमिका निभाता है. दही के ढेर सारे फायदे भी हैं. गर्मी के मौसम में हर कोई किसी न किसी रूप में दही का सेवन करता है. यह आपकी आंतों को दुरुस्त रखता है और इसे खाने से पेट को भी ठंडक मिलती है. इसलिए इस मौसम में लोग दही से लस्सी, छाछ, स्मूदी और रायते जैसी चीजें बनाकर इसको खाना पसंद करते हैं. इनके अलावा भी दही का इस्तेमाल चाट या चिकन करी में किया जाता है. इसे साइड डिश के तौर भी सर्व किया जाता है|दही, दूध से बनने वाला उत्पाद है, जिसे हर कोई पसंद करता है. यह स्वस्थ के लिए फायदेमंद होने के साथ साथ स्वादिष्ट भी है. दही में कैल्शियम, विटामिन बी 2, विटामिन बी 12, पोटेशियम और मैग्नीशियम जैसे कई आवश्यक पोषक तत्व होते हैं. दही का एक फायदा यह है कि इससे पेट हल्का रहता है और दूध की तुलना में पचने में आसान होता है. इसके अलावा भी दही के बहुत सारे फायदे है, जिनके बारे में आपको जानने की जरूरत है|आप में कुछ लोग ऐसे भी होंगे, जिन्हें दही खाना पसंद न हो, लेकिन दही के बेहतरीन फायदे जानने के बाद शायद आपकी राय बदल जाए|
दही पाचन अच्छा रखने में मदद करता है

रोजाना दही खाने से पाचन अच्छा रहता है और जिन लोगों को पेट की परेशानी जैसे अपच और कब्ज जैसी समस्याएं रहती हैं उनके लिए फायदेमंद साबित होता है|
वजन घटाने में भी मदद करता है

जो लोग वजन कम करना चाहते हैं, उन्हें आपनी डाइट में दही शामिल करना चाहिए. दही में कैल्शियम की काफी मात्रा होती है. कैल्शियम कोर्टिसोल के निर्माण को रोकता है, जो शरीर को वजन बढ़ाने से रोकता है|

जानिए ज़्यादा पानी पीना से क्या फायदा और क्या नुकसान… 
नई दिल्ली: आप लोग लंबे समय से सुनते आ रहे होंगे कि ज़्यादा मात्रा में पानी पीना आवश्यक है। लेकिन हम आप को बता दे ,की पानी शारीरिक तरल पदार्थों के संतुलन को बनाए रखने में मदद करता है। हमारे शरीर में 60 प्रतिशत पानी होता है, यह तरल पदार्थ पाचन, अवशोषण, पोषक तत्व पहुंचाने और शरीर के तापमान को ठीक बनाए रखने में मदद करता है। हम जानते हैं कि कम पानी से शरीर थका हुआ और डी-हाइड्रेटड हो जाता है, लेकिन क्या कभी आपने सोचा है जरूरत से ज़्यादा पानी पीने से क्या होगा एक अन्तर्राष्ट्रीय विशेषज्ञ पैनल के नए दिशा-निर्देशों के अनुसार, हाइपोनैट्रिमया (ईएएच) (ब्लड में सोडियम की कमी) से बचने के लिए पानी का सेवन सिर्फ तभी करें, जब आपको प्यास लगी हो। यह दिशा-निर्देश ‘क्लिनीकल जरनल ऑफ स्पोर्ट मेडिसिन में छपे थे।


ज्यादा पानी पीने के क्या नुकसान होता है 

जरूरत से ज़्यादा पानी पीना हेल्थ के लिए नुकसानदायक होता है।किडनी की अतिरिक्त पानी पचाने की क्षमता कमजोर होने लगती है और शरीर में मौजूद सोडियम पतला होने लगता है।इससे कोशिकाओं में सूजन आने लगती है, जो कि जीवन के लिए खतरनाक साबित हो सकती है।प्यास लगने के पीछे स्वभाविक-सी रणनीति कार्य करती है कि ज़्यादा पानी पीने की सीमा होनी चाहिए और ज़्यादा डी-हाइड्रेशन से बचने के लिए, जब पर्याप्त तरल पदार्थ दिए जाते हैं तो उससे हाइपोनैट्रिमया का विकास होता है।
जानिए क्या है ज्यादा पानी पीने से होने वाले नुकसानों की पहचान के लक्षण


ईएएच के शुरूआती लक्ष्ण हैं चक्कर आना, उबकाई, सूजन और एथलेटिक इवेंट के दौरान वजन बढ़ना। समस्या बढ़ा जाने पर ईएएच के दौरान उल्टी, सिर दर्द, मानसिक स्थिती का बदलना भ्रम, उत्तेजक और बेहोशी) और कोमा जैसे लक्ष्ण देखने को मिलते हैं।कठिन प्रतियोगिता जैसे मैरेथॉन, ट्रायथलॉन, स्विंमींग, रेस और सैन्य अभ्यास के दौरान ईएएच हो सकता है।नई दिल्ली कि वेलनेस और न्यूट्रिशन एक्सपर्ट, डॉ. शिखा शर्मा का कहना है कि, बहुत ज़्यादा पानी का सेवन किडनी के अनुचित तरीके से कार्य करने को दर्शाता है। जरूरत से ज़्यादा पानी पीने से हृदय की मांसपेशियों पर अनावश्यक भार और रक्त प्रवाह कम होने जैसी समस्या हो सकती हैं।विंगर का कहना है कि, सामान्य से मध्यम स्तर तक का डी-हाइड्रेशन सहनीय होता है। बिना प्रदर्शन में कमी, एक एथलिट प्रतियोगिता के दौरान अपने बॉडी से तकरीबन तीन प्रतिशत तक वजन कम कर लेता है।बेंग्लूर स्थित न्यूट्रिशनिस्ट, डॉ. अंजू सूद सलाह देती हैं कि, एक स्वस्थ व्यक्ति को प्रतिदिन आठ ग्लास पानी पीना चाहिए। गर्मियों में पानी की खपत बढ़ा देनी चाहिए। जो लोग हाई-फाइबर डाइट पर होते हैं, उनको सारा दिन में आठ ग्लास से ज़्यादा पानी पीना चाहिए।


रोज सुबह नींबू पानी पीने से जानिए क्या क्या फायदे होते है… 


नई दिल्ली: नींबू आपके स्वास्थ्य के लिए बहुत फायदेमंद होता है. वहीं बता दे, की शरीर के लिए नींबू पानी भी काफी उपयोगी साबित हुआ है. नींबू पानी में कई तरह के पोषक तत्व मौजूद होते हैं, जो शरीर को स्वस्थ बनाए रखने में मदद करते हैं. वहीं सुबह खाली पेट नींबू पानी पीना भी शरीर के लिए काफी असरदार रहता है. इससे शरीर का पाचनतंत्र ठीक काम करता है और रोग प्रतिरोधक क्षमता भी मजबूत होती है|इसके साथ ही सुबह खाली पेट नींबू पानी पीने से कई बीमारियों को भी दूर किया जा सकता है. नींबू को विभिन्न विटामिन्स और मिनरल्स का खजाना माना जाता है और रोज सुबह नींबू-पानी पीने से कई तरह के लाभ होते हैं. पानी में नींबू निचोड़ कर पीने से शरीर को विटामिन सी, पोटैशियम और फाइबर मिलता है. ज्‍यादातर लोग इसको वजन घटाने के लिए गुनगुने पानी में नींबू और शहद मिलाकर पीते हैं. हालांकि बहुत कम लोगों को पता है कि इसका ज्‍यादा सेवन करने से कुछ साइड इफेक्ट भी हो सकते हैं. ज्‍यादा नींबू पानी पीने से शरीर में पानी की कमी हो जाती है और डीहाइड्रेशन की समस्या बढ़ सकती है. इसके अलावा अन्‍य कई समस्‍याएं हो सकती हैं. इसलिए अगर आप भी नींबू-पानी का सेवन करते हैं तो जा संभल जाएं|रोज सुबह खाली पेट नींबू पानी पीने से त्वचा को फायदा 

रोज सुबह नींबू पानी से त्वचा में निखार लाया जा सकता है. रोजाना नींबू पानी के सेवन से चेहरे को दाग धब्बों से मुक्त बनाए रखा जा सकता है. वहीं झुर्रियों से भी छुटकारा पाया जा सकता है. चमकदार त्वचा के लिए नींबू पानी काफी मददगार साबित होता है|


सुबह खाली पेट नींबू पानी पीने से रोग प्रतिरोधक क्षमता को होगा फायदा 

नींबू में विटामिन सी की पर्याप्त मात्रा पाई जाती है. इसके कारण शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में मदद मिलती है. रोज सुबह खाली पेट नींबू पानी पीने से रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाया जा सकता है|


वजन घटाने में मदद करेगी इलायची का पानी जानिये कैसे… 


नई दिल्ली: आप लोग इलायची तो जानते ही होंगे लेकिन आज हम आप को बताते है इसके क्या- क्या फायदे होते हैं, अपने स्वाद और सुगंध के चलते यह हर भारतीय रसोई में मिलता है. जैसे सर्दी ही मौसम आते ही चाय में इलायची का फ्लेवर तो हर घर में इस्तेमाल किया जाता है. आप यह जानकर हैरान रह जाएंगे कि इलायची न सिर्फ पेट में जमा फैट को कम करने में मदद करती है बल्‍कि कॉलेस्‍ट्रोल लेवल को नियंत्रित करने के साथ ही ग्‍लूकोज़ टॉलरेंस में भी सुधार करती है. इलायची डाइजेशन सही रखती है नतीजतन वजन कम होने लगता है. यहां पर हम आपको कुछ और कारण बता रहे हैं जिनसे साफ हो जाएगा कि इलायची वजन घटाने में कितनी मददगार है
कैसे इलायची का पानी कम करेगा

बाहर निकाले जहरीले पदार्थ आयुर्वेद के मुताबिक कुछ बीमारियों की वजह से शरीर में जहरीले पदार्थ बनने लगते हैं. ये जहरीले पदार्थ ब्‍लड सर्कुलेशन में गड़बड़ी पैदा करते हैं और एनर्जी लेवल को भी डाउन कर देते हैं. इलायची एक ऐसी चीज है जो अम्‍ल जैसे जहरीले तत्‍वों को कम करने में बेहद मददगार है. अगर आपको भी अम्‍ल की श‍िकायत है तो इलायची वाली मसाला चाय पीने से बेहद फायदा होगा|


ब्‍लोटिंग में राहत – इलायची पाचन में बेहद मददगार है. आमतौर पर अपच की वजह से ही ब्‍लोटिंग यानी कि पेट फूलने लगता है. यही वजह है कि इलायची को पेट और आंतों से संबंध‍ित बीमार‍ियों की अचूक दवा माना जाता है. याद रख‍िए क‍ि अगर डाइजेशन अच्‍छा होगा तो वजन अपने आप कम होने लगेगा,


शरीर से बाहर निकाले अतिरिक्‍त पानी अगर शरीर में पानी जमा होने लगे तो वजन बढ़ने लगता है. इलायची के आयुर्वेदिक गुण शरीर में पेशाब के रूप में मौजूद अतिरिक्‍त पानी को बाहर निकलने में बहुत मददगार हैं,


बैड कॉलेस्‍ट्रोल की छुट्टी इलायची में ऐसे तत्‍व मौजूद होते हैं जो फैट कम करने का काम करते हैं. यही वजह है क‍ि इलायची बुरे कॉलेस्‍ट्रोल लेवल को काम कर देती है,
कैसे करें इलायची के पानी का इस्तेमाल

आपको बस करना यह है कि इलायची को तोड़कर उसके बीज अगर निकाल देने हैं. अब इन्हें पूरी रात के लिए एक गिलास पानी में डालकर रख दें. सुबह-सुबह उठते ही इसे पी लें. आप इसकी जगह इलायची पाउडर का भी इस्तेमाल कर सकते हैं. हां, इस बात का पूरा ध्यान रखने की जरूरत है कि आप इसके साथ साथ संतुलित आहार लें|




कोई टिप्पणी नहीं

Healths Is Wealth. Blogger द्वारा संचालित.