Header Ads

अगर सेक्स को बनाना है रोमांचक


अगर सेक्स को बनाना है रोमांचक व मजेदार तो अपनाएं ये तरीके
प्रत्येक व्यक्ति की ढेरों सारी जरूरतें होती हैं ​उन जरूरतों में सेक्स भी एक महत्वपूर्ण योगदान रखता है। बता दें कि अधिकतर लोगों के मन में सेक्स को लेकर कई तरह के सवाल रहते हैं परन्तु खुले मन से सेक्स के बारे में कोई भी बात नहीं करना चाहता। लेकिन ऐसे कई सेलिब्रिटी भी हैं जिन्होंने बेडरूम के अंदर की बात सार्वजनिक तौर पर खुलकर सबके सामने की हैं। अब हम आपको कुछ ऐसे तरीके बताते हैं जिसकी मदद से आप सेक्स को और भी रोमांचक व मजेदार बना सकते हैं।
हाथ बांध कर करें सेक्स : आमतौर पर देखा गया है कि प्रेमी जोड़े उन्मादी सेक्स को बहुत पसंद करते हैं। आप कल्पना कीजिए कि आप बेड पर लेटकर अपने पार्टनर का इंतजार कर रहे हों और अचानक आपका पार्टनर आपका हाथ बांध दे और फिर आपको सेक्स के लिए उकसाने लगे। सेक्स करने के ऐसे तरीके को अपनाने के बाद यकीन मानिए आप सेक्स को और भी रोमांचक बना सकते हैं।

कुछ अलग ढंग से करें सेक्स: अजीबो गरीब सेक्स आपके अंदर के सेक्स के प्रति अाक्रामकता को दर्शाता है। भले ही आप बाहरी दुनिया में बेहद ही गंभीर और शांत रहने वाले हों लेकिन बेडरूम के अंदर आपको अपने साथी पर हावी होना होगा। आप अपने साथी से वैसी बातें कीजिए जिसकी कल्पना आपके साथी ने नहीं की होगी। ऐसा करने से आप अपने साथी को सेक्स के लिए प्रेरित कर सकते हैं।

सेक्स टॉय का कर सकते हैं इस्तेमाल : वैसे तो सेक्स टॉय का इस्तेमाल साथी के दूर रहने पर खुद को संतुष्ट करने के लिए किया जाता है। लेकिन आप इन सेक्स टॉय का इस्तेमाल साथी के मौजूद रहने पर भी कर सकते हैं। ऐसा करने से आप दोहरे ऑर्गेज्म का एहसास कर सकते हैं।
उत्तेजनात्मक डांस करें: कामुक डांस भी सेक्स को रोमांचक बनाने में मददगार साबित हो सकते हैं। अपने साथी को कामुक डांस करने के लिए प्रेरित कीजिए। ये तरीका आपके साथी को चरम सुख पर ले जाने में मददगार साबित हो सकता है।

पार्टनर को जोर से पकड़ें : अपने साथी को जोर से पकड़ना, दांतों से काटना, उसके बालों को खींचना इत्यादि ऐसे बहुत से तरीके हैं जो आपको चरम सुख पाने में मदद करेंगे।
हर लड़की शारीरिक संबंध से जुड़े इन सवालों को पूछना चाहती है, जानिए इन सवालों के जवाब!


शारीरिक संबंध हर स्त्री और पुरुष की एक अहम जरूरत है. कोई भी औरत या मर्द संभोग के बिना अपनी पीढ़ी को आगे नही बढ़ा सकता. हर इंसान के शरीर में सेक्स से जुड़े कुछ जरूरी हार्मोन्स मौजूद रहते हैं. यही हार्मोन औरत और मर्द की कामवासना को बढ़ावा देते हैं.

आपको ये जानकर हैरानी होगी कि इस दुनिया में ऐसी बहुत सारी लड़कियां और महिलाएं हैं जो संबंध बनाने से पहले कुछ सवालों के जवाब जानना चाहती हैं मगर अपनी जिझक और शर्म के चलते वह उन सवालों का ज़िक्र किसी से नहीं कर पाती.
हालांकि संभोग हरेक इंसान के जीवन का एक जरूरी हिस्सा हैं. इसलिए आपको इसके बारे में जुड़े किसी भी सवाल को पूछने से जिझक नहीं महसूस होनी चाहिए. आज के इस आर्टिकल में हम आपको संभोग से जुड़े ऐसे 4 सवालों के बारे में बताने जा रहे हैं, जिनके बारे में महिलाएं चाह कर भी किसी से नहीं पूछ पाती. इसलिए इस आर्टिकल में आपको उन सवालों के साथ साथ उनके जवाबों के बारे में भी बताने जा रहे हैं.

पहला सवाल: क्या मेरा साथी नकली ऑर्गैज़म कर सकता है?
जवाब: जब भी नकली ऑर्गैज़म की बात आती है तो सबसे पहला नाम औरतों का ही आता है. परंतु इस बीच हम यह बात भूल जाते हैं कि केवल औरतें ही नहीं बल्कि कुछ पुरुष भी कईं बार फेक ऑर्गेज्म को अपनी जिंदगी का हिस्सा बना लेते हैं. साल 2016 में सेक्सुअल एंड रिलेशनशिप थेरेपी द्वारा की गई एक रिसर्च के अनुसार नॉर्थ अमेरिका के लगभग 30 फ़ीसदी पुरुष खुद इस बात को स्वीकार कर चुके हैं कि वह कई बार उतेजना में आकर फेक ऑर्गेज्म करते हैं.

अगर आप सोच रहे होंगे कि पुरुष आखिर क्यूं फेक ऑर्गेज्म करते हैं? तुम महिलाओं की तरह ही पुरुषों में भी फेक ऑर्गेज्म होना आम बात है. हालांकि कई बार पुरुष और विषम के क्लाइमैक्स तक नहीं पहुंच पाते परंतु इसका मतलब यह नहीं कि वह सेक्स को ठीक से एंजॉय नहीं कर पाते.

दूसरा सवाल: मुझे एनल संभोग ज्यादा पसंद है क्या यह नॉर्मल है?
जवाब: आपको यह जानकर हैरानी होगी कि अधिकतर महिलाओं को ऐनल संभोग सबसे अधिक पसंद आता है. इस तरह से किए गए संभोग से वह आम महिलाओं की तुलना में ज्यादा ऑर्गैसम को महसूस कर पाती हैं. इसका एक कारण शरीर की नसों का संवेदनशील होना भी माना जा सकता है. इसलिए जाहिर सी बात है कि आपको नॉर्मल संभोग से कहीं गुना अधिक ऐनल संभोग पसंद आएगा.

तीसरा सवाल: क्या संभोग के समय वजाइना से आवाज आना नॉर्मल है?

जवाब: बहुत सारी महिलाओं के मन में यह सवाल उत्पन्न होता है कि आखिर उनकी वजाइना में संभोग के समय आवाज क्यों आती है? तो आपको हम बता दें कि वजाइना से आने वाली आवाजों को वजाइनल फार्ट्स कहते हैं और यह किर्या एकदम सामान्य है. दरअसल यह अवधि अपरिहार्य है और इन आवाजों से जाकर भी नहीं बचा जा सकता. ऐसा इसलिए होता है क्योंकि जब हम संभोग करते हैं तो जवाब वजाइना के अंदर चली जाती है जिसको जोर लगाने के दौरान वह हवा जबरन बाहर निकलने लगती है. ऐसे में आपको शर्मिंदगी महसूस करने की जरूरत नहीं है क्योंकि यह चीज है एकदम सामान्य है.
चौथा सवाल: मुझे एक हफ्ते में कितनी बार हस्तमैथुन करना चाहिए?
जवाब: लड़कियों और महिलाओं के लिए हस्तमैथुन करना लड़कों की तरह ही सामान्य है. हालांकि हस्तमैथुन करने से लड़को के शरीर में कमजोरी आ जाती है परंतु लड़कियों के लिए ऐसा करना बेहद हेल्दी है. हर्ष महिला हफ्ते में 5 बार तक हस्तमैथुन आसानी से कर सकती हैं. साल 2009 में नेशनल सर्वे ऑफ सेक्सुअल हेल्थ एंड बिहेवियर से यह बात साफ जाहिर हुई थी कि देश की 3% महिलाएं 1 हफ्ते में तीन बार से अधिक बार हस्तमैथुन करती हैं. हालांकि पुरुषों की तुलना में महिलाएं बहुत कम हस्तमैथुन करती हैं परंतु ऐसा करने से महिलाओं का मूड बेहतर होता है और वजाइना की स्ट्रेंथ भी बेहतर बनी रहती है.


सेक्स के दौरान महिलाओं की ये आदत खोल देगा धोखेबाजी की पोल
महिलाओं पर बहस करना कोई नई बात नहीं है लेकिन वैज्ञानिकों ने एक खास आदत का खुलासा किया है, जिसके आधार पर आप तय कर पाएंगे कि कोई महिला वफादार है या नहीं।एक महत्वपूर्ण अध्ययन में पाया गया है कि यदि महिला एक से अधिक बार फेक ऑर्गेज्म करती है तो वह अपने साथी को कहीं-न-कहीं धोखा दे रही है।चौंकिए मत, ये सच्चाई है और एक दिलचस्प शोध के तहत ये बात सामने आई है। इससे कोई भी अपने पार्टनर की वफादारी चैक कर सकता है।हालांकि इस अध्ययन यह भी कहता है कि इसका मतलब यह कतई नहीं है कि जो महिला कम ऑर्गेज्म करती है वो ज्यादा धोखाधड़ी करती है, यह शोध फेक आर्गेज्म करने वाली औरतों के स्वभाव को चिह्नित करता है।शोधकर्ताओं ने इसके लिए महिलाओं और पुरुषों का एक समूह बनाया, जो अपने पार्टनर के साथ इंटीमेट रिश्तों में थे। महिलाओं से इसको लेकर लगातार पूछताछ की गई थी कि वो ऑर्गेज्म को लेकर क्या फील करती हैं और पुरुषों से पूछा गया था कि वो अपनी गर्लफ्रेंड के ऑर्गेज्म को लेकर कितनी बार सोचते हैं।सभी प्रतिभागियों से पूछा गया था कि क्या कभी उन्होंने अपने साथी के साथ धोखाधड़ी की है।'ह्यूमेन फीमेल ऑरगेज्म एज वोल्वेड सिग्नल' के अध्ययन में लेखक ने लिखा है कि फेक ऑर्गेज्म के सारे केस महिला सेक्स रिलेशन में बेवफाई और कम संतुष्टि से जुड़े थे।दूसरे शब्दों में, फेक ऑर्गेज्म संबंध महिलाओं के सही और गलत रिलेशनशिप को लेकर बहुत कुछ कहता है।शोधकर्ताओं ने इसके लिए महिलाओं और पुरुषों का एक समूह बनाया, जो अपने पार्टनर के साथ इंटीमेट रिश्तों में थे। महिलाओं से इसको लेकर लगातार पूछताछ की गई थी कि वो ऑर्गेज्म को लेकर क्या फील करती हैं और पुरुषों से पूछा गया था कि वो अपनी गर्लफ्रेंड के ऑर्गेज्म को लेकर कितनी बार सोचते हैं।
सेक्स करने से औरतों को मिलता है आनंद का अनुभव

अक्सर इस पर बात होती है कि महिलाओं को बेस्ट ऑर्गेज्‍म कैसे मिलेगा. इसी के साथ एक और बात होती है जिसमें ये सवाल होता है कौन होगा वो जो महिलाओं को बेस्ट ऑर्गेज्‍म दे सकता है. वैसे ही एक स्टडी ने माना है कि गुडलुकिंग, रिच और इंटेलिजेंट दिखने वाले ही नहीं बल्कि उनमें कुछ और खूबियां भी होती हैं जिनसे वो महिला को सेटिस्फाई कर सकते हैं. आज हम आपको कुछ ऐसी ही जानकारी देने वाले हैं जो आपके काम आ सकती है.

सोशियोअफेक्टिव न्यूरोसाइंस ऐंड साइकॉलजी के अनुसार अच्छे सेंस ऑफ ह्यूमर वाले और फनी लड़के बेहतरीन ऑर्गेज्‍म देते हैं. इसी के साथ कुछ और गुण भी होते हैं. ऐसा ही लड़की की लिस्ट में वही लड़के शामिल होते हैं जिनका सेंस ऑफ ह्यूमर बेहतर हो. इस पर अगर लुक पर ध्यान न अभी दें तो आप मान सकते हैं कि ऐसे लड़के ही आपको ओरगस्म दे सकते हैं.

जब 103 सिंगल महिलाओं को लेकर इस पर स्टडी की गई है तो उनसे ये सवाल किया गया कि वो ऑर्गेज्‍म कब फील करती हैं. कई बार लड़कियों ने ये भी कहा कि जिनकी इनकम अच्छी होती है लड़कियां पहली उसी पर फ़िदा होती हैं या उनसे ही उन्हें ऑर्गेज्‍म मिला है. सीधा कहें तो जिन लड़कों के बैंक अकाउंट्स भरे थे, जो हॉट और आत्मविश्वासी थे, उनसे महिलाओं को बेस्ट ऑर्गेज्‍म मिल रहा था.

जानिए, ब्रेस्ट की साइज बढ़ाने का सबसे खास और आसान तरीका
इस स्टडी में ये भी पता चला है कि लुक्स और कॉन्फिडेंस के साथ-साथ आप में सेंस ऑफ़ ह्यूमर भी होना चाहिए जो आपकी पर्सनैलिटी को और भी सेक्सी बनाता है. ह्यूमर, आकर्षक पर्सनैलिटी, क्रिएटिविटी, भावनात्मक होना, भरोसेमंद होना और उनसे आने वाली खुशबू अक्सर महिलाओं को अपनी ओर आकर्षित करती है.


मर्द क्‍यों करते हैं फेक ऑर्गेज्म का नाटक?


आमतौर पर हमने सुना होगा कि महिलाएं ऑर्गेज्‍म आने का नाटक करती हैं, ताकि उनकी उनकी सेक्स लाइफ में रोमांच और उत्साह बना रहे। लेकिन क्या पुरुष भी महिलाओं की तरह ऐसा करते हैं? जी हां एक शोध में ये बात सामने आई है कि मर्द भी करते हैं फेक ऑर्गेज्म का नाटक।

शोध में सामने आए परिणाम

न्यूयॉर्क के पुरुषों ने यह माना कि वे भी फेक ऑर्गेज्म का नाटक करते हैं। एक शोध में सामने आया है कि जैसे महिलाएं कई वजहों से फेक ऑर्गेज्म करती हैं, पुरुष भी ऐसे ही कारणों के चलते फेक ऑर्गेज्म करते हैं।

इस वजह से करते है नाटक

यूनिवर्सिटी ऑफ केंसास के शोधकर्ताओं के अनुसार, महिलाएं साथी को खुश करने, पार्टनर की नाराजगी से बचने, मन ना होने पर भी सेक्स करने, समय से पहले डिस्चार्ज होने आदि वजहों के चलते फेक ऑर्गेज्म करती हैं। और लगभग यही वजहें पुरुषों के फेक ऑर्गेज्म की भी होती हैं। शोध बताता हैं कि यदि आप साथी के साथ सेक्स के दौरान चरम तक पहुंचने का नाटक कर रहे हैं तो संभवतः आप दबाव में सेक्स कर रहे हैं और आनंद लेने का सिर्फ नाटक कर रहे हैं।
पुरुषों के फेक ऑर्गेज्म पर किताब

हार्वर्ड यूरोलॉजी के प्रोफेसर डॉ. अब्राहम ने कुछ समय पहले इस विषय पर एक किताब प्रकाशित की थी। इस किताब को डॉ अब्राहम ने सालों तक पुरुषों की सेक्सुअल समस्याओं को सुलझाने के बाद लिखा। डॉ अब्राहम ने दावा किया कि कई पुरुष सेक्सुअली अच्छा परफॉर्म करने की कोशिश करते हैं, भले ही वे इसके लिए मूड में हों या न हों। वहीं अगर बात महिलाओं की करें तो महिलाओं के लिए कुछ मामलों में फेक ऑर्गेज्म सही है। ऐसा इसलिए क्योंकि अधिकांश मामलों में वे सेक्स करने से पहले ही बहुत थकी रहती हैं।

पुरूषों की बन गई है छवि

दरअसल, पुरुषों की छवि ऐसी बनी हुई है कि वे सेक्स के लिए हमेशा तैयार रहते हैं। ऐसे में पुरुषों पर ये मानसिक दबाव बना होता है कि उन्हें अच्छा परफॉर्म करना है।

फेक ऑर्गेज्‍म कर सकता है सेक्‍स लाइफ को प्रभावित

उपरोक्त शोध अमेरिका की कॉलेज जाने वाली 481 सेक्सुअली एक्टिव महिलाओं पर हुआ। जिसमें से अधिकतर का जवाब था कि वे अपने पार्टनर को दुखी नहीं करना चाहती हैं। हालांकि सेक्स थेरेपिस्ट मानते हैं कि फेक ऑर्गेज्म करने का कोई नुकसान नहीं है, लेकिन ये हमेशा नहीं किया जाना चाहिए नहीं तो आपकी सेक्स लाइफ इससे प्रभावित भी हो सकती है।

गलत है फेक ऑर्गेज्‍म

हालांकि शोध के मुताबिक, फेक ऑर्गेज्म एक बचपना मात्र है, जिसमें आप अपने पार्टनर के सामने ये साबित करने की कोशिश करते हैं कि आपने अच्छा काम किया है। गौरतलब है, ये स्टडी सेक्सुअल बिहेवियर में प्रकाशित हुई थी।


जानिये क्या होता है जब मर्दों की तरह औरतों को भी झेलना पड़ता है स्वप्नदोष, जान कर रह जाएंगे दंग

पुरुष खासकर युवा अक्‍सर स्‍वप्‍नदोष का शिकार हो जाते हैं। स्‍वप्‍नदोष वह अवस्‍था है, जिसमें सोते-सोते अचानक पुरुष के लिंग से वीर्य निकल आता है। उनके कपड़े गीले हो जाते हैं। बिस्‍तर तक पर सफेद धब्‍बे पड जाते हैं और सुबह उठने पर किशोर इसकी वजह से शर्मिंदगी महसूस करते हैं। शायद यही वजह है कि भारतीय समाज ने इसे स्‍वप्‍नदोष नाम दिया जबकि पश्चिम में इसे किसी तरह का दोष नहीं माना जाता, बल्कि वहां तो इसे वेट ड्रीम कहा जाता है जो ज्‍यादा उचित शब्‍द है। स्वपन दोष जैसा कि इसके नाम से प्रतीत होता है कि यह स्वप्न से संबधित रोग है।तो हाँ यह सच है कि यह स्वप्न से संबधित रोग है।यह रोग अधिकतर युवाओं में पाया जाता हैं। सामान्य अवस्था में स्त्री व पुरुष के सम्मिलन की चरमावस्था पर पुरुष का वीर्य स्खलित होता है। आज हम आपको महिलाओ को होने वाले स्वप्न दोष से जुड़ी कुछ बाते बताने वाले है।

जहां पुरुषों में स्वप्न दोष के समय उनकी पेनिस हार्ड हो जाती हैं, जो सिर्फ ईजैकुलेशन है। वहीं महिलाओं को ऐसे सपने नींद में सेक्सुअल अराउजल या यौन उत्तेजना से जुड़े हुए हैं, जिसकी वजह से वैजाइना में गीलापन और फिर ऑर्गैज़्म महसूस होता है। यह बात भी असामान्य नहीं है कि महिलाएं क्लाइमेक्स के बाद भी सोती रहती हैं।
ये है महिलायों में होने वाला स्वप्न दोष

जब हमारे शरीर में एक निश्चित मात्रा से अधिक वीर्य संचित हो जाता हैं और शरीर उसे बाहर निकालना चाहता है तो स्वप्नदोष होता हैं। यह मर्दो के साथ ही नही बल्कि औरतो के साथ भी होता है। स्वप्नदोष में दरअसल नींद में 'रंगीन' सपनों के माध्यम से ऑर्गेज्‍म का अनुभव होता है और वीर्यपात होता है। महिलाएं भी स्वप्न दोष जैसी समस्याओं की शिकार होती है। हालांकि अभी तक यही माना जाता था कि सिर्फ पुरूष ही ऐसी समस्याओं से परेशान है।

क्या होता है स्लीप ऑर्गेज्म?
सपने में किसी के साथ सेक्स करते हुए देखने से आपको स्लीप ऑर्गेज्म हो सकता है। कभी-कभार पेट के बल सोने से महिलाओं के प्राइवेट पार्ट का कॉन्टेक्ट बेड शीट से होता है और लगातार रगड़ के कारण सेंसुअल प्लेजर का अनुभव होता है और वो स्लीप ऑर्गेज्म का कारण बनता है। सिर्फ 25 प्रतिशत महिलाओं को इंटरकोर्स के दौरान ऑर्गेज्म का अनुभव होता है। अच्छी नींद लेने वाली महिलाओं को आसानी से ऑर्गेज्म हो जाता है। उम्र के साथ-साथ ऑर्गेज्म भी आसानी से होने लगता है।

क्या वेट ड्रीम्स संभोग से जुड़े होते हैं?
वेट ड्रीम्स या गीले सपने सेक्स सपनों से संबंधित हो भी सकते हैं या नहीं भी हो सकते। जब आप गीले सपने देखते हैं तो आपका उत्तेजित महसूस करना स्वाभाविक है। हालांकि, यह इसके बिल्कुल उलट भी हो सकता है। एक वेट ड्रीम में, आपके पेल्विक में रक्त का प्रवाह बढ़ जाता है, जो आपको उत्तेजित कर सकता है और आपको सेक्सी सपने आ सकते हैं।

कितनी बार महिलाओं में होता है स्वप्नदोष?

हालांकि, पुरुषों की तुलना में महिलाओं को स्वप्न दोष कम ही महसूस होते हैं। उन्हें सालभर में कभी-कभार ही इसे महसूस होता है। हालांकि, कुछ महिलाओं को एक ही रात में कई बार इसका अनुभव होता है। इस स्थिति में आपको सेक्सुअल डिज़ायर बहुत अधिक महसूस होती है। लेकिन दुर्भाग्य से, नींद में महसूस होनेवाला ऑर्गैज़्म ज़्यादा स्ट्रॉन्ग नहीं होता, और आप केवल इसे अनुभव करने की उम्मीदभर कर सकती हैं।



कोई टिप्पणी नहीं

Healths Is Wealth. Blogger द्वारा संचालित.