Header Ads

मैदा का सेवन बनता जा रहा है एक अभिशाप, दे रहा है


मैदा का सेवन बनता जा रहा है एक अभिशाप, दे रहा है इन बिमारियों को आमंत्रण

वर्तमान समय की जीवनशैली में लोग फास्टफूड और चटपटी चीजों का स्वाद लेना पसंद कर रहे हैं, जिसमें से अधिकाँश आहार मैदा से बने हुए होते हैं। क्या आप जानते है मैदा व्यक्ति के जीवन के लिए अभिशाप बन चुका है जो धीमे जहर की तरह शरीर को खोंखला करता जा रहा हैं और बीमारियों को आगमन दे रहा हैं। जी हाँ, मैदा के अधिक खानपान की वजह से शरीर का इम्यून सिस्टम तकलीफ देने लगता हैं और यह कई बिमारियों का कारण बनता हैं। आज हम आपको मैदा की वजह से होने वाली बड़ी परेशानियों के बारे में आपको बताने जा रहे हैं। 

* गठिया की बीमारी 
मैदा अधिक खाने वाले लोगों को गठिया की समस्या हो सकती है। मैदा शरीर के जोड़ो में जाकर हड्डियों में मौजूद कैल्श्यिम को सोख लेता है जिस वजह से गठिया जैसी गंभीर बीमारी हो सकती है। इसलिए जितना हो सके मैदे से परहेज करें।


* मधुमेह बढ़ना
मैदा खाने से डायबिटीज बढ़ती है। यही नहीं जिन लोगों को डायबिटीज की समस्या नहीं भी होती है उन्हें मैदा खाने से यह बीमारी हो सकती है। मैदा शरीर में ब्लड शुगर के स्तर को बढ़ा देता है। जिसकी वजह से शरीर में इंसुलिन का बढ़ना रूक जाता है और इस वजह से इंसान मधुमेह की चपेट में आ जाते हैं।

* फूड एलर्जी 

मैदे में ग्लूटन होता है जोकि फूड एलर्जी को पैदा करता है। इसमें भारी मात्रा में ग्लूटन पाया जाता है जो खाने को लचीला बनाकर उसको मुलायम टेक्सचर देता है। वहीं गेंहू के आटे में ढेर सारा फाइबर और प्रोटीन पाया जाता है।

* हड्डियां 

मैदा बनाते वक्त इसमें से प्रोटीन निकल जाता है और यह एसिडिक बन जाता है जो हड्डियों से कैल्शियम को खींच लेता है। इससे हड्डियां कमजोर हो जाती हैं।

* मोटापा बढ़ाए 

बहुत ज्यादा मैदा खाने से शरीर का वजन बढ़ना शुरु हो जाता है। यही नहीं इससे कोलेस्ट्रॉल का लेवल और खून में ट्राइग्लीसराइड भी बढ़ता है। 

* पेट के रोग

मैदा खाने का एक और बड़ा नुकसान यह है कि इससे पेट के कई रोग हो सकते हैं। मैदे में फाइबर की मात्रा नहीं होती है। जिस वजह से पेट की आंत इसे सही तरह से नहीं पचा पाती है । और इसकी वजह से पेट में ऐठनए पेट का दर्द और पेट खराब हो जाता है।
घर पर ही इन 5 एक्सरसाइज से पा सकतें है परफेक्ट बॉडी, जिम जाने की भी जरूरत नहीं


वर्तमान समय में देखा जाता है कि सभी युवा परफेक्ट बॉडी को पाने के लिए जिम जाना पसंद करते हैं। लेकिन जैसे ही वे जिम छोड़ते है उनकी बॉडी में फिर से बदलाव होने लग जाते हैं। ऐसे में घर पर ही अगर लगातार एक्सरसाइज की जाए तो आप आसानी से परफेक्ट बॉडी पा सकते हैं। इसलिए आज हम आपके लिए कुछ ऐसी एक्सरसाइज लेकर आए है जिनकी मदद से आप घर पर परफेक्ट बॉडी पा सकते है और आपको जिम जाने कि भी जरूरत नहीं हैं। तो आइये जानते है इन एक्सरसाइज के बारे में।

* पुश अप्स 

पुश अप्स के अनेक पायदों में से एक फायदा यह भी है कि यह चौड़े सीने के लिए ऐसी कसरत है जिसे आप कहीं भी कर सकते हैं। पेट के बल फर्श पर लेट जाएं। दोनों हाथों के सहारे शरीर को ऊपर उठाएं और नीचे लाएं। इससे सीने की मसल्स बढ़ेंगी और बाजू मजबूत होंगे।


* डम्बल बेंच प्रेस 


डम्बल बेंच प्रेस एक्सरसाइज काफी कुछ फ्लैट डंबल प्रेस की तरह ही होती है। लेकिन डम्बल बेंच प्रेस अधिक सटीकता से छाती की मांसपेशियों पर काम करती है। इसे करने के लिए बैंच पर कमर के बल लेट जाएं और दोनों हाथों में डंबल उठा लें और कंधों पर ज़ोर डालते हुए उन्हें छाती की ओर लाएं और फिर ऊपर ले जाएं। इसके 8 से 10 रैप्स के 2 सेट करें।


* बारबेल बेंच प्रेस 


सीने में विस्तार व शेप लाने के लिए बेंच प्रेस वर्षों से सबसे बेहतरीन एक्सरसाइज रही है। दुनिया भर के विशेषज्ञों द्वारा बेंच प्रेस को चेस्ट शेप्ड व मज़बूत करने के लिए मानक एक्सरसाइज माना गया है। इसे करने के लिए एक मानक ओलंपिक बैंच पर अपनी पीठ के बल फ्लैट लेट जाएं, अब अपने पैरों को ज़मीन पर सीधे कर वज़न वाली रौड को स्टैंड से हटाएं और चेस्ट की ओर नीचे लाएं और फिर ऊपर ले जाएं। रौड का संतुलन बनाए रखने के लिए दोनों हाथों को साथ चलाएं।



* फ्लैट डंबल प्रेस 


चेस्ट को शेप देने के लिए फ्लैट डंबल प्रेस सबसे बेहतर एक्सरसाइज है। यह फ्लैट बेंच से इसलिए बेहतर है क्योंकि उसमें आपके हाथ एक सीमा से नीचे नहीं आते। बेंच करते वक्त रॉड जैसे ही आपकी चेस्ट से टच होती है आप उसे ऊपर की ओर धकेल देते हैं। वहीं डंबल प्रेस के मामले में आपकी चेस्ट पर कुछ आने जैसी बात ही नहीं होती। जितना आप डंबल को नीचे ले जाएंगे उतना प्रेशर आपकी चेस्ट पर बनेगा।


* बेंच प्रेस 


सीने की सबसे पारंपरिक और प्रचलित कसरत यानी बेंच प्रेस सीने की मांसपेशियों को मजबूत करने में बहुत मददगार है। अगर आप कसरत में कोताही नहीं बरतते तो इस पर काम शुरू कर सकते हैं। बेंच प्रेस के लिए बेंच पर पीठ के बल लेटें और दोनों हाथों से बार्बेल को पकड़ें। 12 से 15 बार इसे उठाएं और नीचे लाएं। इससे सीने की मांसपेशियां मजबूत होंगे और सीना चौड़ा होगा।
इन 5 Exercise को करके महिलाएं पा सकती है 'Sexy Figure'


अच्छी फिगर कौन नही चाहता है। आजकल महिलाएं और लड़कियां खुद की फिटनेस को लेकर काफी अवेयर रहती हैं। मगर सही मार्गदर्शन नही मिल पाने के कारण अपनी फिटनेस पर ध्यान नही दे पाती हैं। अगर आप भी अपनी बॉडी को बेहतर शेप देना चाहती हैं। कई लड़कियां परफेक्ट शेप के लिए जिम में घंटो पसीना बहाती हैं तो कई लड़कियां हजारों रुपये खर्च करती हैं। बावजूद इसके उनके फिगर में कुछ खास फर्क नहीं आता है। बल्कि कई बार जिम और दवाईयां शरीर पर नकारात्मक प्रभाव भी डाल देती हैं। आज हम आपको परफेक्ट बॉडी के लिए ऐसी आसान एक्सरसाइज बता रहे हैं जिन्हें आप घर में आसानी से कर सकती हैं। इन्हें करने के लिए आपको किसी ट्रेनर की जरूरत भी नहीं है। सबसे अच्छी बात ये है कि ये एक्सरसाइज बहुत जल्दी आपके बट को सेक्सी यानि कि परफेक्ट शेप दे देती हैं। आइए जानते हैं क्या हैं वो एक्सरसाइज और कैसे करते हैं इन्हें। 

* सिंगल लेग ब्रिज : 
सिंगल लेग ब्रिज एक ऐसी एक्सरसाइज है जो आपके बट के साथ ही आपकी टांगों को भी परफेक्ट लुक देती है। बेस्ट फिगर के लिए इस एक्सरसाइज को अपनी डेली रुटीन का हिस्सा जरूर बनाना चाहिए। इस एक्सरसाइज को करना बहुत आसान है। इसे करने के लिए सबसे पहले जमीन में सीधे लेट जाएं, फिर एक पैर को हवा में ले जाते हुए सांस लें, फिर नीचे पैर का लाते हुए सांस को धीरे-धीरे समान्य रूप में छोड़ते रहें। 10 सेकेंड के लिए पल्स को आराम दें और 20 बार इस प्रक्रिया को दोहराएं। यकीन मानिए ये एक्सरसाइज वाकई बहुत फायदेमंद हैं।

* एक्सरसाइज बॉल : 
इसे करना बहुत आसान है। इसमें एक्सरसाइज बॉल का इस्तेमाल किया जाता है। इससे शरीर को पतला करने में बहुत ही सहायता मिलती है।

* साइड प्लैंक : 
यदि आप अच्छी अच्छा फिगर चाहती हैं तो साइड प्लैंक एक्सरसाइज आप के लिए बहुत ही लाभकारी है। इसे करने से शरीर के अलग-अलग अंगों पर प्रभाव पड़ता है और तेजी से फैट बर्न होता है। इसके द्वारा कंधा, सीने और पेट की मांसपेशियां मजबूत होती है।

* जंप स्क्वाट : 

जंप स्क्वाट एक्सरसाइज को करना बहुत आसान है। नाम से ही आइडिया लग रहा है कि ये कोई टिपिकल नहीं बल्कि कूदने-फांदने वाली एक्सरसाइज है। जंप स्क्वाट को नियमित रूप से करने से बट परफेक्ट शेप में आते हैं साथ ही शरीर का अतिरिक्त फैट भी कम होता है। इस एक्सरसाइज को बहुत धीरे-धीरे करना होता है। बैठते समय पैरों के अंगूठे के ज्यादा करीब ना हो। इसको करने के लिए सीधा कूदे और उसके बाद सुरक्षित स्थिति में आकर स्क्वाट करें।

* काफ रेज : 

इसे करने के लिए पहले सीधे खड़े हो जाएं। आपके कंधे, कमर और चेस्ट यानी सीना ऊपर की तरफ उठे होने चाहिए। अब पैर के पंजों के बल खड़े हो जाएं और एड़ियों को जितना ऊपर उठा सकते हैं, उठाएं। इसके बाद वापस पुरानी स्थिति में लौट आएं। इस एक्सरसाइज को दस बार करें। यह एक्सरसाइज काफ मसल्स (पिंडलियों) को स्ट्रॉन्ग बनाती है और उन्हें शेप में ले आती है।

फिट बॉडी की है चाहत तो शरीर के हिसाब से करें एक्सरसाइज


फिट बॉडी पाने और खुद को स्वस्थ रखने के लिए हर कोई किसी न किसी तरह से एक्सरसाइज करता है। कुछ लोग वॉक करके, दौड़कर या सुबह-सुबह जिम जाकर एक्सरसाइज करके खुद को फिट रखते हैं। वहीं कुछ लोग फिट रहने के लिए सुबह साइकलिंग के लिए भी जाते हैं। स्वस्थ रहने के लिए आप एक्सरसाइज तो करते हैं लेकिन उसके पहले ये पता नहीं करते कि कौन-सी एक्सरसाइज आपके लिए अच्छी है। आज हम आपको बताएंगे कि स्वस्थ रहने के लिए आपको बॉडी के हिसाब से कौन-सी एक्सरसाइज करनी चाहिए। तो चलिए जानते हैं बॉडी के हिसाब से आपके लिए कौन-सी एक्सरसाइज फायदेमंद होती है।


शरीर की बनावट और वर्कआडट
अक्सर लोग जिम में घंटों वर्कआउट, एक्सरसाइज करने के बावजूद भी अपना वजन कम नही कर पाते। हर किसी के शरीर की बनावट अलग-अलग होती है। इसलिए वजन कम, जिम में सफलता प्राप्‍त करने और फिट रहने के लिए शरीर के बनावट को ध्‍यान में रखना बहुत जरूरी होता है। शरीर के हिसाब से वर्कआउट या एक्सरसाइज करने पर आपको दोगुणा ज्यादा फायदा मिलता है और इससे आपका एनर्जी लेवल भी लो नहीं होता। इसलिए अगर आप भी फिट बॉडी पाने की चाहत रखते हैं तो अपने शरीर की बनावट के हिसाब से ही एक्सरसाइज करें।

1. ऑरग्‍लास बॉडी
इस तरह के शरीर वाले लोगों का वजन तो तेजी से बढ़ जाता है लेकिन उसे कम करने में आपको कठिनाई का सामना करना पड़ता है। इसके अलावा अगर आपकी हड्डी की संरचना बड़ी, कूल्‍हें कंधों से बड़े और आपका शरीर का गोल, सुडौल या नर्म है तो आपकी बॉडी ऑरग्‍लास टाइप की है।

ऑरग्‍लास बॉडी के लिए एक्‍सरसाइज
ऑरग्‍लास बॉडी वाले लोगों को ऐसा वर्कआउट करना चाहिए, जोकि आपके शरीर के लिए चुनौती और एनर्जी से भरा हो। इस तरह के वर्कआउट की शुरूआत 10 मिनट से करें और धीरे-धीरे समय बढ़ाएं। आप 30 सेकंड के साथ 2-4 सेट्स भी करें। इसे कम से कम 12-15 बार दोहराएं और हर सेट्स के बीच में थोड़ा-सा आराम करें। इसके अलावा आप हफ्ते में 3-5 दिन कार्डियो एक्‍सरसाइज भी कर सकते हैं। इससे भी आपका वजन तेजी से कम होगा।


2. एथलेटिक बॉडी
इन लोगों का फैट पेट के हिस्से में स्टोर होता है। इसके अलावा एथलेटिक बॉडी वाले लोगों के कंधे, कूल्हों से थोड़े बड़े, बड़ी और भारी बोन संरचना और कलाई-हाथ आनुपातिक अंगों से बड़े होते हैं।

एथलेटिक बॉडी के लिए वर्कआउट
इस तरह की बॉडी वाले लोगों को मसल्स टोन में सबसे ज्यादा परेशानी होती है। इसलिए आपको हल्की और भारी दोनों तरह की एक्सरसाइज करनी चाहिए। हल्‍के से मुश्किल वर्कआउट करने के लिए 2-3 सेट को 45 सेकंड के साथ 8-12 बार दोहराए और हर सेट्स के बीच में आराम करें। इसे हफ्ते में 2-3 बार में पूरा करें। इसके अलावा आप कार्डियों एक्‍सरसाइज को हर हफ्ते 30-45 मिनट के लिए 3-4 बार करें।

3. स्‍ट्रेट बॉडी
स्‍ट्रेट बॉडी वाले लोगों के मसल्स में फैट जमा होता है। इसके अलावा बराबर कंधे-कूल्हे, नाजुक हड्डियां और मस्लस कमजोर वाले लोग स्ट्रेस बॉडी वाले होते हैं।


स्‍ट्रेट बॉडी के लिए वर्कआउट
स्‍ट्रेट बॉडी वाले लोगों को पोस्टुरल मसल्‍स को मजबूत और वजन सहन करने वाली एक्सरसाइज करनी चाहिए। आप किसी भी वर्कआउट करने के लिए 2-3 सेट को 60 सेकंड के साथ 10 बार दोहराए और हर सेट्स के बीच में आराम करें। इससे आपकी मांसपेशियां मजबूत होती है और फिट रहते हैं।


इस बात का भी रखें ध्यान
फिट रहने के लिए एक्सरसाइज के साथ-साथ अपनी डाइट का भी ध्‍यान रखें। इसके अलावा जंक फूड का कम से कम सेवन करें। सोने से कम से कम 2-3 घंटे पहले अपना भोजन कर लें, ताकि खाना डाइजेस्ट हो जाएं। इसके अलावा अधिक से अधिक पानी पीएं और अपनी नींद भी पूरी करें।

जिम जाती हैं तो डाइट में शामिल करें यह 5 खाद्य पदार्थ

हम सभी भले ही अपनी जिदंगी में कितने भी व्यस्त क्यों ना रहें, हम अपनी बॉडी को फिट रखने के लिए घंटों जिम में जाकर वर्कआउट करते हैं। कुछ लोग तो एक्सरसाइज में इतनी गंभीरता से खो जाते हैं कि वह यह तक नहीं जान पाते कि उन्हें किस चीज का सेवन करना हैं और किस का नहीं, ऐसे में आज हम आपके लिए इस आर्टिकल में ऐसे खाद्य पदार्थों के बारे में बताने जा रहें हैं, जिनका सेवन करके आप आसानी से अपनी बॉडी को मजबूत बनाने के साथ ही टोन भी कर सकती हैं।


1. सोया और कद्दू
सोया प्रोटीन से भरपूर होता है, इसलिए आप अपनी डाइट में पनीर और सोया मिल्क जरूर शामिल करें। इसी के साथ आप अपने खाने में कद्दू को भी शामिल कर सकती हैं, क्योंकि इसमें विटामिन और एंटी ऑक्सीडेंट होते हैं जो कि हमारी मांसपेशियों को मजबूत बनाने में मदद करते है।

2. ड्राई फ्रूट
महिलाओं को ही नहीं बल्कि पुरुषों को भी रोजाना ड्राई फ्रूट का सेवन करना चाहिए। इससे हमारी मांसपेशियां मजबूत होती हैं।
3. मूंगफली
मूंगफली में जिंक और वसीय अम्ल होता है जो कि हमारे शरीर के लिए काफी बेहतरीन होता है और इनका सेवन करने से हमारी बॉडी भी टोन हो जाती है।
4. अंकुरित दाल
अंकुरित अनाज में जिंक होता है, इसलिए अगर आप जिम जाती हैं तो ऐसे में अंकुरित दाल का सेवन करना काफी जरूरी होता है।
5. डेयरी उत्पाद
दही, दूध, पनीर, मक्खन और लस्सी में प्रोटीन, विटामिन ए और कैल्शियम के गुण पाए जाते हैं, यह मांसपेशियों को मजबूत करने में मददगार होती है।
व्यायाम जिनकी मदद से आप बड़ा सकतें है अपनी लम्बाई




हर व्यक्ति अपनी कद-काठी के लेकर परेशान रहता हैं। वह चाहता है कि उसकी लम्बाई जो बिलकुल सही हों। जिन लोगों की हाइट छोटी होती है वह अपनी लम्बाई के कारण दूसरों के सामने अपनी बात जाहिर करने में भी शर्म महसूस करते हैं। लम्बाई का बढ़ना एक नियत आयु तक ही हो पाता हैं। लेकिन अगर आप कुछ विशेष योगासन करें तो आप अपनी लम्बाई को आसानी से बढ़ा सकते हैं। आज हम आपको कुछ ऐसे ही व्यायाम बताने जा रहे हैं जिन्हें नियमित रूप से करने पर आपके कद में इजाफा होता हैं। आइये जानते हैं ऐसे व्यायाम के बारे में।

* सुपर स्ट्रेच :

इस एक्सरसाइज में आप सीधे खड़े हो जावे है और अपने हाथो को की उंगलिया एक दुसरे में फसा ले और आपने दोनों हाथो को अपने सिर से उपर ले जाए और और उसके बाद अपनी एड़ी को थोडा उपर उठाये और इस पोजीशन में 10-12 सेकंड तक होल्ड रहे यह एक्सरसाइज 4 से 5 बार करे।

* ताड़ासन :

हाइट को तेजी से बढाने के लिए ताड़ासन (Tadasan) एक महत्वपूर्ण आसन माना जाता है। ताड़ासन को करने के लिए सबसे पहले आप सीधे खड़े हो जाये और अपने दोनों पैर को आपस में मिलाकर अपने दोनों हथेलियों को अपने बगल में रख ले। फिर पूरे शरीर को सीधा रखे और अपने शरीर और दोनों पैरों का वजन बराबर रखे। उसके बाद दोनों हथेलियों की उंगलियों को मिलाकर सिर के ऊपर ले जाय।


* भुजंग आसन :
भुजंग आसन करने के लिए एक दरी बिछाकर उस पर पेट के बल लेट जाएं। अब अपने दोनों हाथों पर बल देते हुए कमर के ऊपरी हिस्से को ऊपर की तरफ ले जाकर खिंचें। ध्यान रहें हथेलियां खुली हों और हाथ एकदम सीधा हो। इसी आसन में कुछ देर तक रहें और फिर धीरे- धीरे नीचे आएं।

* बेक स्ट्रेच :

यह एक्सरसाइज स्पाइन को मजबूत बनाने के लिए की जाती है जो की हाइट बढ़ाने के लिए बहुत जरुरी है इस एक्सरसाइज के बाद आपको थोडा दर्द महसूस हो सकता है लेकिन चिंता मत करे यह दर्द अस्थायी है। सबसे पहले पेट के बल लेट जाये और उसके बाद अपने हथेलियों को अपने छाती की साइड में रखते हुए उपर उठने की कोशिश करे इस पोजीशन में 5 से 10 सेकंड तक होल्ड रखे और उसके बाद 10 सेकंड रेस्ट करे उसके बाद दुबारा से यही एक्सरसाइज 3 से 5 बार करे।

* हलासन :
हलासन को करने के लिए सबसे पहले पीठ के बल जमीन पर सीधे लेट जाएं और अपने पैरों और हिप्स को ऊपर की ओर उठाएं। अब अपने दोनों पैरों से माथे के नीचे की जमीन को छूने की कोशिश करें। इस प्रक्रिया में गहरी सांस लें और पैरों को फिर सांस छोड़ते हुए सीधा करें। धीरे – धीरे पैरों को जमीन पर लाएं और फिर सीधे लेट जाएं। इसका रोजाना अभ्यास आपकी लम्बाई को बढाने में मददगार साबित होगा।

* सुपर कोबरा स्ट्रेच :

इस एक्सरसाइज में सबसे पहले पुश अप लागने वाली पोजीशन ले ले और उसके बाद अपने कुलहो को उठाते हुए उपर हो जाये इस पोजीशन में 10 से 12 सेकंड तक होल्ड रखे और इस एक्सरसाइज को 3 से 5 बार


रोज करेंगे ये 6 आसान योगासन तो शेप में आएगी बॉडी, वजन होगा कम

Yoga benefits: आसान से छह स्टेप आपके शरीर को पहले जैसे आकार में ले आएंगे.

Yoga for weight loss: हर व्यक्ति के मन में यह डर बना रहता है कि बढ़ता मोटापा उसकी खूबसूरती पर धब्बा न बन जाए। इस मोटापे से छुटकारा पाने के लिए वह किसी न किसी जुगाड़ में लगे रहते हैं। कोई सुबह-सुबह पार्क में दौड़ लगाता नजर आता है, तो कोई जिम में कसरत करता, लेकिन मोटापा है कि जाने का नाम नहीं लेता। ऐसे में मोटापे के साथ कई और बीमारियां भी शरीर से दोस्ती कर लेती हैं। यही नहीं, अपने मोटापे को दूसरों की नजर से बचाने के लिए अपने साइज से बड़ा साइज खरीदना लोग पसंद करते हैं। लेकिन यह सब कोई स्थायी उपाय नहीं है।


जी हां, अगर आप भी अपने दोस्तों और रिश्तेदारों की तरह अपने शरीर को शेप में रखना चाहतें है, तो अपनी दिनचर्या में योग को जगह दें। आसान से छह स्टेप आपके शरीर को पहले जैसे आकार में ले आएंगे (Yogasana for weight loss)।

'योग कोई धर्म नहीं है। यह एक विज्ञान है, अच्छा बनने का विज्ञान, ताज़गी का विज्ञान, शरीर को एक करने का विज्ञान, दिमाग और आत्मा को शांत रखने का विज्ञान।' अमित रे, (योग एंड विपासना) एन इंटग्रैटिड लाइफ स्टाइल
योगा कोई हाल ही की घटना नहीं है। यह एक प्राचीन भारतीय अभ्यास है, जो कि सिर्फ शरीर को ही शेप में करने के लिए नहीं किया जाता, बल्कि व्यक्ति के पूरे स्वास्थ्य को ठीक रखने में सहायक है।

मैंने योग को एक समग्र पैकेज के रूप में देखा है, जो कि दूसरी शारीरिक गतिविधियों के विपरीत मनुष्य के शरीर को बाहर से साथ ही अंदर से साफ और फिर से युवा करने में मदद करता है। अगर कोई व्यक्ति योगा को अपनी दिनचर्या का हिस्सा बनाता है, तो केवल वही व्यक्ति शारीरिक, मानसिक और आत्मिक अंतर को समझ सकता है।
बढ़ते प्रचलन ने लोगों को भी ज्यादा सतर्क बना दिया है। बढ़ती कमर और बढ़ते चयापचय (मेटाबॉलिज्म) विकार- कैंसर, डायबिटीज़ और अन्य बीमारियों को देखते हुए लोग स्वास्थ्य, डाइट प्लान और फिटनेस को ज्यादा प्राथमिकता दे रहे हैं। एक लंबे समय से मैं मानती आ रही थी कि योगा में सिर्फ व्यायाम शामिल होते हैं, जिसमें आसन को कुछ सेकंड तक बनाए रखना ही मुख्य उद्देश्य होता है। यही नहीं, मेरा सोचना था कि योगा वह लोग करते हैं जो स्वस्थ तो हैं, लेकिन वह अपने शरीर में लचीलापन लाना चाहते हैं। जिम में उच्च प्रखर कसरत करने के अलावा, मैंने कभी भी वजन कम करने के लिए योग को प्रभावी कसरत नहीं माना। मुझे योगा के विभिन्न आसनों और इसके गुणों को सही से समझने में काफी समय लगा। लेकिन इसे समझना मेरे लिए काफी शिक्षाप्रद, सकारात्मक और संतुष्टिदायक रहा।


योग और वजन कम करना
योग के महत्तव और मनुष्य के शरीर से उसके संबंध को समझने के लिए मैं जानी-मानी योग व्यवसायी और फिटनेस एक्सपर्ट सीमा सोंधी से मिली और उनसे पूछा कि योगा वजन कम करने में कैसे मदद करता है। उन्होंने शुरुआत से ही योग के मूल तत्वों के बारे में मुझे बताया।

 वजन कम करने का लक्ष्य बनाने से पहले वजन बढ़ने के कारणों को जानना बहुत जरूरी है। खाने की आदतों को छोड़कर, वजन बढ़ने के कारण और शारीरिक कार्यों का सही से काम न करना जैसी बातों पर गौर करना चाहिए। योगा एक श्वास अभ्यास है, जो कि सफाई, संतुलन और अंदर के अंग और उनके कार्य को ठीक करता है। कई प्रकार के श्वास व्यायाम और बुनियादी आसन मेटाबॉल्सिम और ह्रदय दर बढ़ाने में मदद करते हैं। एक बार अगर आप इसमें अच्छे से चले जाते हैं, तो फिर केंद्र बाहरी शरीर पर आ जाता है।

 'मैं वजन कम करने के लिए किसी विशेष आसन पर भरोसा नहीं करती। लगभग सभी आसन अंदर के तंत्र को साफ करने, सहनशक्ति को बढ़ाने, लचीलापन और मेटाबॉलिक दर बढ़ाने में मदद करते हैं।' वह बताती हैं कि शरीर में लचीलापन लाने के लिए योग कैसे सहायक है। इसमें शरीर को घुमाना, आगे और पीछे की ओर मोड़ना, उलटा करना और दूसरी मुद्राएं जंग लगी मांसपेशियों को खोलने में मदद करती हैं और इससे वजन कम होता है।

6 योगासन जो वजन कम करने में आपकी मदद करेंगे
 - 6 Yoga Postures for Weight Loss in Hindi


सूर्य नमस्कार
यह एक बुनियादी, सबसे ज्यादा जाना-जाने वाला और व्यापक रूप से अभ्यास किया जाने वाला आसन है। सूर्य नमस्कार का अर्थ है-'सूरज का अभिवादन' या 'वंदन करना'। इसमें 12 योग मुद्राओं का मिश्रण होता है, जो कि शरीर के विभिन्न भागों को केंद्रित करता है। इसकी यही खासियत इसे पूरे शरीर के लिए फायदेमंद बनाती है। उदाहरण के लिए प्रार्थना की मूल मुद्रा, आगे की ओर मुड़ना और फिर भुजांगासन।




कई एक्सपर्ट्स का मानना है कि शरीर को चुस्त रखने के लिए सूर्य नमस्कार एक बढ़िया तरीका है, क्योंकि यह शरीर के लगभग हर संभव अंग की कसरत करने में मदद करता है। यह कंकाल प्रणाली की सहनशक्ति बढ़ाने, तनाव और चिंताओं को दूर करने में भी सहायक है।

वीर भद्रासन या योद्धा मुद्रा
इस आसन की मुद्रा पहाड़ों पर जाने वाली मुद्रा के सामान होती है। अपने एक पैर को पीछे की ओर खींचकर, दूसरे पैर को आगे कूदने की मुद्रा में बना लें, जिसमें घुटने 90 डिग्री मुद्रा में हो और हाथों को जोड़कर सिर के ऊपर तक ले जाएं।




वीरभद्रासन-2 के लिए आप इस मुद्रा को आगे ले जा सकते हैं, जिसमें अपने हाथ छाती के सामने ले जाएं और खींचे हुए पैरों को सीधा कर लें (बाहर की और निकलती हुई), वहीं दूसरे पैर को अभी भी 90 डिग्री पर ही रखें और अपने दोनों हाथों को खींचकर बाहर की तरफ फैला लें। यह योद्धा मुद्रा आपके पैर, जांघ, पीठ और हाथ पर काम करती है। यही नहीं, यह रक्त प्रवाह सही करने में भी मदद करती है।




त्रिकोणासन
यह आसन करने के लिए पैरों को फैला लें, जिसमें सीधा पैर बाहर निकाल लें। अब अपने हाथों को बाहर की ओर खोल लें और सीधे हाथ को धीरे-धीरे नीचे की तरफ सीधे पैर की ओर ले जाएं। सीधी कमर के साथ नीचे की ओर देखें।



अपनी सीधी हथेली को जमीन पर रखें (इसे सीधे पैर के आगे या पीछे भी रखा जा सकता है) और अपने उल्टे हाथ को ऊपर की ओर ले जाएं। इसी प्रक्रिया को दूसरी साइड से भी दोहराएं। यह आसन शरीर की साइडों, हाथों और जांघों पर काम करता है।

पूर्वोत्तनासन
इसकी शुरुआत करने में शायद थोड़ी मुश्किल लगे, लेकिन इसका असर आपको खुश कर देगा। यह आपकी पीठ, कंधों, हाथ, रीढ़ की हड्डी, कलाई और जंग लगी मांसपेशियों पर काम करता है। यह श्वसन प्रणाली को सही रूप से चलाने के लिए भी बहुत अच्छा आसन है। यही नहीं, यह शरीर की मुख्य ताकत को बढ़ाने में भी मदद करता है। यह आपके पैरों, जांघों की अंदरूनी मांसपेशियां और हिप्स पर भी असर डालता है।



अपने पैरों पर बैठकर उन्हें आगे की ओर खींचें। हाथों को हिप्स के पीछे ले जाएं और पैरों की तरफ करें। अब पैरों से शरीर को ऊपर की तरफ उठाएं और सिर को पीछे की तरफ धकेलने की कोशिश करें। यह पुश-अप करने की मुद्रा का ठीक उल्टा होता है।

मेरी पसंदीदा मुद्रा

वैसे तो मैं रोज योग नहीं करती, लेकिन कुछ मुद्राएं ऐसी हैं, जिन्हें मैं अपने वर्कआउट में जरूर शामिल करती हूं। यह मांसपेशियों की सहनशक्ति बढ़ाने, खिंचाव और लचीलापन बढ़ाने में मदद करती है। इन्हें एक बार करने से आपको चुनौतीपूर्ण, थकाऊ और संवेदात्मक अनुभूति का अहसास होगा।

बोट मुद्रा

पीठ के बल लेट जाएं और अपने शरीर को ‘वी’ आकार, जो कि नांव (बोट) से मिलता-जुलता है, ऐसा बनाएं। मुद्रा को दस सेकंड तक बनाएं रखें। इस दौरान आपको लगेगा कि आपकी मांसपेशियां उछल रही हैं, लेकिन यकीन मानो यह आपके बैली फैट को बिल्कुल खत्म कर देगा।

ब्रिज मुद्रा
पीठ के बल लेट जाएं और हाथ बगल में फैला लें। अब घुटनों को मोड़कर, उन्हें बाहर की तरफ फैला लें। पेट वाले हिस्से से शरीर को ऊपर की ओर उठाएं, अपने हाथों से सहारा देकर, मुद्रा को कुछ देर तक बनाएं रखें। यह मुद्रा आपके हिप्स, जांघ, पेट और पीठ पर काम करेगी।
स्वस्थ रहने और स्वास्थ्य संबंधी परेशानियों को दूर करने के लिए शारीरिक व्यायाम ही सबसे महत्वपूर्ण माना गया है। लेकिन एक बात अवश्य ध्यान रखें कि व्यायाम के दैरान अगर उचित आहार न लिया जाए, तो शारीरिक व्यायाम करना व्यर्थ और अनुत्पादक है।

 इसलिए सात्विक और योगिक डायट की सलाह देती हैं, जिनमें ताजा और जैविक उत्पादों पर ही भरोसा किया जा सकता है। मसालों पर रोक और प्रोसेसड फूड खाना हानिकारक है। इस दौरान घर का बना खाना, ताजे फल और एक बार डाइट में सब्जियों को शामिल किया जा सकता है। साथ ही, एक बार में खाए जाने वाले खाने की मात्रा को भी ध्यान में रखना जरूरी है। आपनी खाने की आदत को नियंत्रित करना होगा

कोई टिप्पणी नहीं

Healths Is Wealth. Blogger द्वारा संचालित.