Header Ads

सिर्फ 6 दिन में बॉडी को डीटॉक्स करने के 6 प्रभावी तरीके

सिर्फ 6 दिन में बॉडी को डीटॉक्स करने के 6 प्रभावी तरीके



खराब जीवनशैली और खानपान के चलते शरीर में टोक्सिन जमा होते रहते हैं। जाहिर है शरीर में टोक्सिन जमा होने से बीमारियों का खतरा भी बढ़ जाता है। इसलिए हेल्दी और फिट रहने के लिए आपको अपनी बॉडी को डीटॉक्स करना बहुत जरूरी है। आज हम आपको कुछ ऐसे आसान तरीके बता रहे हैं जिनके जरिए आप सिर्फ छह दिन में अपनी बॉडी को डीटॉक्स कर सकते हैं।
2/7



आप बॉडी को शेप में लाने के लिए कुछ एक्सरसाइज़ कर सकते हैं। बेशक बॉडी में ट्रांसफॉर्मेशन के लिए छह दिन कम हैं लेकिन एक्सरसाइज़ करने से आपका स्टैमिना जरूर बढ़ेगा। इसके अलावा पसीना आने से आपकी स्किन डीटॉक्स होगी।



नहाने से पहले अपनी बॉडी को ऊपर से नीचे तक ड्राई ब्रश से ब्रश करें। इससे ब्लड सर्कुलेशन बढ़ता है और स्किन से टोक्सिन बाहर निकलते हैं।



डीटॉक्स बाथ लें- अपने नहाने के पानी में दो कप एप्सोम साल्ट और नीलगिरी तेल की कुछ बूंदे मिलाएं। नमक में मैग्नीशियम तत्व होता है जो बॉडी से टोक्सिन निकालने में सहायक है। नीलगिरी के तेल से आपका दिमाग शांत होता है।



आप ब्रेकफास्ट में बेरी और चिया सीड्स की स्मूदी पी सकते हैं। एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर बेरी से ना केवल आपका इम्यून सिस्टम मजबूत होता है बल्कि यह आपको डीटॉक्स भी करती है।



गहरी सांस लेने से आपका दिमाग शांत होता है, बॉडी से टोक्सिन बाहर निकलते हैं और मेटाबोलिज्म बढ़ता है। इसलिए नाक से गहरी सांस लें और उसे मुंह व नाक से छोड़े। ऐसा कई बार करें।


आप शीर्षासन और सर्वांगासन जैसे योगासन भी कर सकते हैं। इनसे आपकी लसीका प्रणाली (lymphatic system) को प्रोत्साहन मिलता है और खून साफ होता है।

Gut और पाचन तंत्र को दुरुस्त करने के लिए करें ये 6 योगासन


पेट की आंतों को स्वस्थ रखने के लिए जिस तरह अच्छा खानपान जरूरी है उसी तरह योग भी जरूरी है। योग एक्सपर्ट निलेश दहिया के अनुसार, योग करने से आपके पेट के अंगों की मसाज होती है और पेट को आराम मिलता है। इसलिए आपको पेट की आंत को डीटॉक्स करने के लिए यह 6 योगासन जरूर करने चाहिए।



उत्तानासन- ये आसन पाचन में सुधार लाने के साथ पाचन संबंधी समस्याओं को दूर करने में भी मदद करता है।


अंजनेयासन- इस आसन से पेट के भीतरी अंगों और मसल्स की मसाज होती है जिससे पाचन में सुधार होता है। इसके अलावा पेट से टोक्सिन निकालने के लिए भी यह बेहतर आसन है।



उष्ट्रासन- इससे आपके पेट को स्ट्रेच मिलता है और आपका पाचन तंत्र स्वस्थ रहता है जिससे आपको कब्ज जैसी समस्या से बचने में मदद मिलती है।



बालासन- यह पेट और आंतरिक अंगों की मसाज के लिए बेहतर आसन है। इससे आपकी बॉडी के आगे वाले हिस्से को स्ट्रेच भी मिलता है।


पवनमुक्तासन- इस आसन से डिसेन्डिंग और असेन्डिंग कोलन की मसाज होती है। इस आसन से आपके लीवर और किडनी को टोक्सिन बाहर निकालने में भी मदद मिलती है।

कोई टिप्पणी नहीं

Healths Is Wealth. Blogger द्वारा संचालित.