Header Ads

रात को सोने से पहले स्नान करना होता हैं जरूरी,

अच्छा तो इसलिए रात को सोने से पहले स्नान करना होता हैं जरूरी, जानें नहाने का सही समय

किस समय स्नान करना बेहतर होता है...सुबह या रात? सुबह स्नान करने से जहां आप दिनभर ताजगी महसूस करते हैं वहीं, रात का स्नान आपको चैन की नींद देता है।नहाने का समय आपकी त्वचा का प्रकार, आपके काम का प्रकार तथा आप कितना प्रदूषण, धूल अथवा धूप आदि के संपर्क में आते हैं, पर निर्भर करता है।




विशेषज्ञों के अनुसार, तैलीय त्वचा वाले लोगों को सुबह के समय स्नान करने से फायदा होता है और उनकी त्वचा इससे सही रहती है। पुरुषों के लिए सुबह स्नान के बाद शेव करना अच्छा होता है। स्नान करने से त्वचा मुलायम हो जाती है, जिससे बेहतर शेव मिल पाती है। वे लोग जो सुबह में जल्दी उठते हैं, उनके लिए सुबह का स्नान अच्छा होता है। वहीं, कई लोगों को रात के समय स्नान करना आरामदायक व सहज लगता है।




हालांकि, कुछ शोध बताते हैं कि रात को नहाना कई मायनों में आपके शरीर के तापमान में बदलाव कर सकता है, जिससे प्राकृतिक लय बाधित हो सकती है और नींद आने में समस्या हो सकती है। अगर ऐसा हो तो सोने जाने के कम से कम 2 घंटे पहले स्नान कर लें।



यदि आप सन स्क्रिन और मेकअप आदि का उपयोग करते हैं, तो रात को स्नान करें, इससे सफाई बेहतर ढंग से हो जाती है। यदि आप अस्पताल या फिर कंस्ट्रक्शन साइट आदि पर काम करते हैं और घंटों तक लगातार धूल, प्रदूषण और रोगाणुओं आदि के संपर्क में रहते हैं, तो आपको रात में स्नान करना चाहिए।



रात या दिन में स्नान करने का फैसला अपने शरीर व दिनचर्या के हिसाब से तय करें। यदि आप सुबह नहाना पसंद करते हैं, तो ठंडा पानी बेहतर है क्योंकि ये आपको काम के लिए तैयार करने में मदद करता है।




यदि आप रात को नहाना पसंद करते हैं तो हल्के गुनगुने पानी से ही नहाना चाहिए। इससे आपके शरीर का तापमान नॉर्मल से थोड़ा बढ़ जाता है। फिर जब आप आरामदेह कपड़े पहनते हैं, तो शरीर अचानक से ठंडा हो जाता है। तेजी से घटे इस तापमान से आपका शरीर रिलैक्स होता है और ये अच्छी नींद की गारंटी है। 




प्रेग्नेंसी में महिलाओं को जरूर पता होने चाहिए ये चार अहम टिप्स

प्रेग्नेंसी में महिलाओं के शरीर में कई बदलाव देखने को मिलते हैं। आपने ध्यान दिया होगा प्रेगनेंसी में महिलाओं की स्किन पर अलग ही ग्लो नजर आता है, वहीं कुछ महिलाओं की स्किन पर मुहांसे हो जाते हैं। ऐसा हार्मोन्स के स्तर में होने वाले बदलावों की वजह से होता है। वहीं कुछ महिलाओं में स्किन और बालों से जुड़ी ये परेशानियां स्ट्रेस और टेंशन लेने के कारण भी होती हैं। प्रेगनेंसी में एक चीज जो सबसे ज्यादा जरूरी है वो यह कि आप जितना हो सके खुद को रिलेक्स रखें।



हेयर फॉल 
प्रेग्नेंसी के दौरान फल एवं सब्जियों का सेवन करने से हेयर फॉल की समस्या से बचा जा सकता है। अपनी डाइट में विटामिन बी कॉम्प्लेक्स, विटामिन सी और विटामिन ई युक्त पदार्थों को शामिल करें। इससे भी आपको फायदा पहुंचेगा। साथ ही बालों की अच्छे तेल से मालिश करें। हो सके तो मालिश के लिए गुनगुने तेल का इस्तेमाल करें।

मुहांसे 
प्रेगनेंसी में जो महिलाएं खाती हैं उसका सीधा असर शरीर और बेबी पर ही नहीं पड़ता बल्कि त्वचा और बालों पर भी पड़ता है। ऐसे में डाइट में हरी सब्जियां, दाल और नट्स को शामिल करें। इसके साथ ही मुंहासों को हाथ से न फोड़ें। इससे चेहरे पर निशान रह सकते हैं। किसी भी तरह की क्रीम का इस्तेमाल करने से पहले डाक्टर से जरूर संपर्क करें। चेहरे को साफ करने के लिए ऑयल फ्री और अल्कोहल फ्री क्लींजर का ही इस्तेमाल करें।


खुजली 
प्रेग्नेंसी में त्वचा कि संवेदनशीलता बढ़ जाती है, जिस वजह से जितना हो सके सुगंध वाले उत्पादों से दूरी बनाकर रखनी चाहिए। स्किन की सफाई के लिए सौम्य व पी एच संतुलित बॉडी वॉश का इस्तेमाल करें। दिनभर में आठ से दस गिलास पानी पिएं, जिससे त्वचा में नमी बनी रहे। तेज धूप में न निकलें।


स्ट्रेच मार्क्स 
स्किन में आए खिंचाव के कारण ज्यादातर महिलाओं को प्रेग्नेंसी के दौरान स्ट्रेच मार्क्स हो जाते हैं। इनसे बचने के लिए नियमित रूप से एक्सरसाइज करें, जिससे मसल्स टोन बनी रहेंगी और स्ट्रेच मार्क्स का खतरा काफी हद तक कम होगा। 



99% लोग नहीं जानते होंगे मटके का पानी पीने के फायदे, जानिए ये अनोखे फायदे

गर्मियां शुरू होते ही भारतीय घरों में सदियों से ठंडा पानी पीने के लिए मिट्टी के घड़े यानी मटके का इस्तेमाल किया जाता रहा है, लेकिन बदलते वक़्त के साथ-साथ लोगो ने मटके की जगह फ्रिज का इस्तेमाल करने लगे है। लेकीन लगातार फ्रिज का पानी पीना सेहत के लिए हानिकारक भी हो सकता है, लेकिन मटके की तो इसका पानी पीना आपकी सेहत के लिए अमृत के समान हो सकता हैं। मिट्टी के घड़े का पानी स्वाद में अच्छा होने के साथ-साथ स्वास्थ्य के लिए बहुत लाभकारी होता है। जानिए मटके का पानी पीने के फायदे....

पेट के लिए होता है फायदेमंद
पेट से जुड़ी या फिर पाचन की समस्या है तो आपको फ्रिज की जगह मटके का पानी पीना शुरू कर देना चाहिए. नियमित रूप से मटके का पानी पीने से पेट में जलन, कब्ज और एसिडिटी की समस्या दूर होती है। इसके अलावा इससे पाचन क्रिया में सुधार भी आता है।


टेस्टोस्टेरॉन हार्मोन को बढ़ता है 
मटके का पानी पुरुषों के लिए कही ज्यादा फायदेमंद होता है। नियमित मटके का पानी पीना से पुरुषों में टेस्टोस्टेरॉन हार्मोन का स्तर बढ़ता है। इस हार्मोन को मेल हार्मोन भी कहा जाता है। टेस्टोस्टेरॉन हार्मोन की कमी के चलते पुरुषों में यौन संबंध बनाने की इच्छा कम हो सकती है।

Ph संतुलन बनाये रखता है 
मटके के पानी में अलकलाइन गुण पाए जाते हैं, जिसके कारण पानी का ph संतुलन बना रहता है। मिट्टी के क्षारीय गुण पानी की अम्लता के साथ प्रभावित होकर पानी के उचित के ph संतुलन को बनाए रखने में मदद करता है। इस करण मटके के पानी को सेहत के लिए लाभकारी माना जाता है।

रोग-प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ता है 
मटके का शीतल जल शरीर की रोग-प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने में मदद करता है। इसके नियमित सेवन से इम्यून सिस्टम मजबूत होता है और शरीर को बीमारियों से लड़ने की ताकत मिलती है।

गले के लिए लाभदायक
फ्रिज का ठंडा पानी पीने से गले की कोशिकाओं का तापमान अचानक से गिर जाता है, जिससे गला खराब हो सकता है और उसकी ग्रंथियों में सूजन आ सकती है। इससे बचने के लिए मटके का पानी पीना लाभदायक माना गया है।

गर्भावस्था में फायदेमंद
गर्भावस्था के दौरान गर्भवती महिलाओं को फ्रिज का ज्यादा ठंडा पानी पीने से परहेज करने की सलाह दी जाती है, बल्कि मटके या सुराही का पानी पीने की सलाह दी जाती है। गर्भवती महिलाओं के लिए मिट्टी के घड़े का पानी सेहतमंद माना जाता है।





कोई टिप्पणी नहीं

Healths Is Wealth. Blogger द्वारा संचालित.