Header Ads

पीरियड्स


पीरियड्स के दिनों में इन देशों में लड़कियों को मिलती हैं छुट्टियां!
पीरियड्स के दिनों में लड़कियों को कई तरह की परेशानियों का सामना करना पड़ता हैं। इन दिनों में सफर करना काफी मुश्किल होता है। कमर दर्द, पीठ दर्द जैसी कई परेशानियों का कारण उन्हें काम करने में काफी दिक्कत होती हैं। एेसे कई देश है जहां पीरियड्स के दिनों में लड़कियों को 2 से 3 दिन की छुट्टियां दी जाती हैं। आइए जाने इन देशों के बारे में...

1. इंडोनेशिया :- यहां के कानून के मुताबिक कम्पनियों को पीरियड्स के दिनों में औरतों से कम काम लेना होगा। जरूरत पड़ने पर महिला को छुट्टी भी देनी होगी। वैसे कुछ कम्पनियां इस कानून को नहीं मानती।

2. जापान :- जापान में कई साल पहले इस बात को लेकर आवाज उठाई गई थी। यहां सन् 1947 से ही लड़कियों और महिलाओं को पीरियड्स के दिनों में छुट्टियां मिलती हैं।

3 .ताइवान :- ताइवान में लड़कियों को उन दिनों में अवकाश का प्रावधान है। इसके अलावा यहां की कंपनियों ने यह भी नियम बनाया है कि इन दिनों में महिलाएं घर से भी काम कर सकती हैं।

4. चीन :- चीन में महिलाओं ने इस कानून को बनाने के लिए बड़े स्तर पर आन्दोलन किया था। यहां पर पीरियड्स के दिनों में छुट्टियां दी जाती हैं।

5. साउथ कोरिया :- यहां साल 2001 में कानून बना दिया गया था कि उन दिनों में महिलाओं को अवकाश दिया जाएं। इस कानून के बाद यहां रोजगार के अंदर महिलाओं की भागेदारी बढ़ती जा रही हैं।


ग्नेंट होने के अलावा पीरियड्स रुकने के और भी होते हैं कई कारण..!!

पीरियड्स वो है जो हर महीने हर महिला को होता है। अचानक से पीरियड का रुक जाना हर महिला के लिए चिंता का विषय होता है। पीरियड्स ना आने पर महिलाएं चिंतित हो जाती हैं लेकिन इसकी वजह ये नही है कि आप प्रेग्नेंट हैं। इसके और भी कारण हो सकते हैं। आइये जानते हैं वो कारण ,जिसके कारण पीरियड्स में हो जाती है देरी।

- अगर आपने अपने वज़न को घटा या बढ़ा लिया है तो इससे अपेक पीरियड साइकिल में फर्क पड़ सकता है।

- ऐसा आपको तनाव के कारण भी हो सकता है जिसके कारण मासिक धर्म में देरी हो जाती है ,वुमन्स हेल्‍थ मैगजीन के मुताबिक किसी चीज के बारे में ज्यादा सोचते हैं तो भी ऐसा हो सकता है।

- अगर आपको थयरॉइड है और अचानक वो बढ़ने या घटने लगे तो इससे भी गड़बड़ हो सकती है।

- अगर आप पॉलि‌सिसटिक ओवरी सिंड्रोम के शिकार है तो इसमें आपके पीरियड्स रुक सकते हैं कई बार महिलाओं में इसमें छाती और चेहरे पर बाल आने लगते हैं।

- आमतौर पर 45 के बाद ही मेनोपॉज होता है लेकिन कभी कभी ये महिलाओ में जल्दी भी हो जाता है। अगर आप बर्थ-कंट्रोल पिल्स लेती हैं, तो भी मासिक चक्र गड़बड़ हो सकता है।


महिलाये बताना चाहती है मर्दो को अपने गुप्त अंग के बारे यह बातें..!

आजकल लड़कियां हर प्रोफेशन में सफलता की ऊंचाइया छू रही है! वे किसी भी क्षेत्र में लड़को से पीछे नही रहना चाहती ! डरना और सहमना वह बेहद पीछे छोड़ आयी है! अब लड़कियों का नया चेहरा उभर कर सामने आया है जिसे हम "बोल्ड" के रूप में जानते है !वह अपनी बात रखने में ज़रा भी नही हिचकिचाती और बात रही अपने पार्टनर से कुछ छुपाने की तो वह अपने पार्टनर के साथ बेहद ही फ्रेंक होती है और वह कुछ भी इज़हार करने में संकोच नही करती! लेकिन अगर बात की जाए महिला के "गुप्त अंगो" की,कुछ बातों के बारे में,तो शायद हम कह सकते है की महिलाये इस विषय में मर्दो को बताने में संकोच कर सकती है! परंतु आपको हैरानी होगी यह जानकर की हाल ही में हुए एक सर्वे में पता लगा की महिलाए मर्दो को अपने गुप्त अंगो के बारे में कुछ बातें बताना चाहती है.... 

# महिलाओ का कहना है की पुरुष सोचते है महिला संभोग के बाद खुश रहती है पर ये सोच उनकी बिलकुल गलत है क्यूंकि संभोग के के बाद महिला को दर्द होता है जो कोई समझ नहीं सकता!

# महिलाये कहती है पुरुष कभी भी हमारे मन के मोताबिक नहीं चलते वह,जब उनका मन होता है तब वह संभोग करना चाहते है! ऐसे करने से महिलाओ को बहुत दुःख होता है!

# एक महिला ने बताया कि अधिकतर पुरुषों को पता ही नहीं होता है महिला को कहाँ छूने से उत्तेजना होती है। महिला का कहना है कि हम ये सब पुरुषों को बताना चाहती हैं पर उनके सामने कुछ बोलने की हिम्मत नहीं होती!

# महिला ने बताया की उनके स्तनों के साथ खेलने से उन्हें बेहद ही तकलीफ होती है,लेकिन ये बात मर्द नही जानते! और यह बात वह मर्दो के आगे बोल भी नहीं पाती!

# पुरुषो का ऐसे करने से महिलाओ के स्तनों में परेशानी होती है !जैसे बच्चे के वक़्त स्तनों में दूध का ना आना !

# सर्वे में महिला ने कहा, पीरियड्स के दिन उनके लिए बेहद ही कठिन दिन होते है! उन दिनों महिलाओ को संभोग करने की इच्छा नही होती,लेकिन मर्दो को यह सब आम लगता है! और वह अपनी चाह से संभोग करते है!

# महिलाओ ने बताया की वह पुरुषो के साथ भी वैसा ही करना चाहती है जैसे पुरुष उनके साथ करते है! उनके दर्द को भूल कर बस अपनी चाह पूरी करते है! ,हमे कितनी प्रोब्लेम्स होती है,लेकिन हम उनके सामने कुछ बोल नही पाती!



कैसे करें अपनी पार्टनर को शारीरिक संबंधो के लिए उत्तेजित…?

अगर महिलाओं को सेक्स के लिए उत्तेजित करने की बात करें तो कुछ महिलाएं बातों से ही उत्तेजित हो जाती है तो किस करने से और कुछ भिन्न प्रकार के स्पर्श से। लेकिन कुछ महिलाएं ऐसी भी होती हैं जिन्हें उत्तेजित होने में घंटों लग जाते हैं। 
अगर आपका पार्टनर भी देर में उत्तेजित होता है तो आप अपने पार्टनर को जल्द उत्तेजित करने के लिए एक ख़ास तरीका अपना सकता है। आप अपने पार्टनर के पैरों को सहलाएं। ऐसा करने से उसमे सेक्स के लिए उत्तेजना भर जायेगी।

अब आप सोच रहे होंगे यह कैसे संभव है तो हम आपको बता दें कि महिला के पैरों को सहलाने से उसके शरीर के अन्य अंग भी उत्तेजित होने की प्रक्रिया में जुड़ जाते हैं। इसका कारण ये है कि पैरों को सहलाने पर दिमाग का एक बड़ा हिस्सा उत्तेजना का अनुभव करने लगता है।
अगर आपको इन बातों पर विश्वास न हो तो आप एक बार ऐसा जरूर करें। अपने पार्टनर में सेक्स के लिए उत्तेजना भरने के लिए आप वह सब कर सकते हैं जो आप करते हैं लेकिन न सब के साथ ही एक बार आप उसके पैरों को जरूर सहलाएं। ऐसा करने से आपकी पार्टनर पहले से ज्यादा जल्दी उत्तेजित हो जायेगी।

शारीरिक संबधो के समय ऐसी कल्पना करती है महिलाएं...

एक सर्वे के दौरान जब महिलाओं से उनकी सेक्स फैंटेसी बारे में पूछा गया तो पता चला कि सेक्स की कल्पना करते समय भी वे अपने वास्तविक पार्टनर को ध्यान में रखती हैं। यानी ज्यादातर महिलाएं अपनी सेक्स कल्पना भी उस व्यक्ति के साथ करती हैं, जो फिलहाल उनका पार्टनर है और जिसके साथ वास्तव में वे सेक्स लाइफ का मजा ले रही हैं। इसके विपरित ब्रिटिश महिलाओं का दृष्टिकोण इस मामले में उदार रहा। वे सेक्स कल्पना के करते हुए सोचती हैं कि उन्हें अगर अनजान, बलिष्ठ और कामोत्तेजक पुरुष का साथ मिले तो बहुत ही अच्छा होगा।



एक ऑनलाइन सर्वे में 28 वर्ष से 46 वर्ष तक की आयु वर्ग की दो हजार से अधिक महिलाओं ने भाग लिया। इन महिलाओं की सबसे उत्तेजक यौन कल्पना रही है कि वे किसी कुंआरे पुरुष को प्यार का पाठ पढ़ाएं। वे चाहती हैं कि उनका पार्टनर सेक्स के मामले में बिलकुल नौसिखिया हो, जिसे वे सेक्स करने के दौरान उसका पाठ पढ़ा सकें। वर्ष 1967 में एक फिल्म रिलीज हुई थी जिसमें एन बैंक्रोफ्ट को डस्टिन हॉफमैन को प्यार का पाठ पढ़ाते देखा गया था। वे इस फिल्म की मिसेज रॉबिंसन बनना चाहती हैं, लेकिन उनकी हार्दिक इच्छा होती है कि उनका पार्टनर पूरी तरह से कुंआरा और अनुभवहीन हो।
महिलाएं समलैंगिक क्रियाओं का आनंद भी चाहती हैं। सामूहिक ‍सेक्स क्रियाओं में भी भाग लेना महिलाओं की दिली इच्छाओं में शामिल रहता है। शरीर के अंगों में गर्दन एक ऐसा हिस्सा है जिसको चूमना महिलाओं को बहुत अच्छा लगता है। ऐसे ही आकर्षक अंगों में दूसरा स्थान कान का है, जिसे चूमना, सहलाना उन्हें प्रिय होता है। शरीर साफ करने वाले एक ब्रांड स्किनब्लिस द्वारा कराए गए एक सर्वे के मुताबिक जांघों को सहलाना और चूमना भी महिलाओं की कमजोरी होती है। पर उन्हें ऐसे पुरुष अच्छे नहीं लगते हैं जो कि उनके वक्षों को ही घूरते रहते हैं, जबकि वे चाहती हैं कि पुरुष उनकी आंखों में झांकें।


उनकी फैंटेसीज में यह भी शामिल है कि वे सामूहिक रूप से रंगरलियों में शामिल हों जिसमें बड़ी संख्या में स्त्री-पुरुष कामुक क्रियाओं में रत हों। सेक्स के लिए उष्णकटिबंधीय जलवायु वाले समुद्री किनारे पर जाएं और ऐसे स्थान पर वे खुद को ऊंचे दर्जे की कॉल गर्ल समझ सकें और इसी तरह से व्यवहार कर सकें।



उम्र के इस पड़ाव पे महिलाओं को सेक्स की होती है ज्यादा इच्छा

हाल ही में हुए एक नए सर्वे में पाया गया है कि महिलाएं 35 साल की उम्र में सबसे ज्यादा सेक्स का आनंद लेती है। इससे पहले महिलाओं के लिए ये उम्र 28 बताई जाती रही है। डेली मेल ने जो सर्वे कराया है उसमें 35 से 44 साल की महिलाओं को ज्यादा कामुक पाया गया। 

इस सर्वे में जब 35 साल की महिला ग्रुप से जब बातचीत की गई तब 17 फीसदी ने कहा कि उनमें सेक्स की इच्छा पहले के मुकाबले अब कहीं ज्यादा है। इस एज ग्रुप की 36 फीसदी महिलाओं ने कहा कि वो हफ्ते में दो से तीन बार सेक्स करती हैं जबकि बीस फीसदी महिलाओं ने कहा कि वह हफ्ते में चार से छह बार शारीरिक संबंध बनाती हैं। इस एज ग्रुप की तीन चौथाई महिलाएं अपने सेक्स लाइफ से खुश पाई गईं।




एग्जाम में फेल होने वाली लड़कियां सेक्स लाइफ में लाती है ये बदलाव

एक स्टडी के अनुसार टीनएजर्स लड़कियों के स्कूल की दिनचर्या और उनके सेक्सुअल रिलेशन के बीच अहम खुलासा हुआ है। इंडियाना यूनिवर्सिटी ने स्कूली छात्राओं से सेक्स पर ये सर्वे किया है। रिसर्च के अनुसार स्कूल बंक करना, टेस्ट में फेल होना और बिना कंडोम के सेक्स करने के बीच संबंध है। 

स्टडी में सामने आया कि जो युवा लड़कियां स्कूल बंक करती हैं और टेस्ट में फेल होती हैं, ऐसी लड़कियां के स्कूल बंक करने और टेस्ट में फेल होने वाले दिन बिना कंडोम के सेक्स करने के मामले ज्यादा पाए गए हैं। यह सर्वे 14 से 17 साल की लड़कियों पर किया गया है। इन लड़कियों की 80 हजार डायरी की स्टडी करके इस दावे को पेश किया गया है। लड़कियों ने यह माना की टेस्ट में फेल होने के बाद वो बिना कंडोम के सेक्स करती है। युवाओं के बीच किया गया यह अपनी तरह का पहला सर्वे है जिसमें लड़कियों के स्कूल की दिनचर्या और रिश्तों को लेकर आदतें समझने की कोशिश की गई है। ‘द जर्नल ऑफ एडोलिसेंट हेल्थ’ में यह स्टडी साझा की गई है। 

10 साल में पूरे हुए इस अध्ययन के लिए 387 लड़कियों की डायरियों से रोमांटिक और फिजिकल रिलेशन को लेकर उनके व्यवहार को समझने का प्रयास किया गया।



क्या आप जानते हो महिलाओ की रेड ड्रेस का मतलब ?

एक अध्ययन में यह बात सामने आई है कि जो महिलाएं सेक्स की तलाश में रहती हैं, वे लाल रंग के परिधान पहनती हैं। यह पहले से प्रमाणित रहा है कि लाल परिधान में सजी महिलाओं को पुरूष सेक्स के लिहाज से ज्यादा आकर्षक मानते हैं। महिलाओं का भी मानना है कि सामाजिक जमावड़े में लाल रंग के कपड़े में सजी महिलाओं से वे खतरा महसूस करती हैं और उनका मानना है कि सेक्स की तलाश में महिलाएं लाल रंग के परिधान में होती हैं। 
न्यूयार्क में रोचेस्टर यूनिवर्सिटी, स्लोवाकिया की ट्रनावा यूनिवर्सिटी और स्लोवाक एकेडमी ऑफ साइंसेस के अनुसंधानकर्ताओं ने कहा है कि यदि आप लाल रंग के परिधान में हैं तो आपको दूसरी महिलाएं संदेह की दृष्टि से देखती हैं। यह हर हाल में नहीं होता, लेकिन दूसरी महिलाओं और पुरूषों के संकेत से सावधान रहिए कि आप सेक्स में रूचि लेती हैं। किसी आकर्षक पुरूष के साथ मुलाकात के लिए महिलाएं लाल रंग की शर्ट पहना पसंद करती हैं, लेकिन अनाकर्षक पुरूष के साथ मिलने के समय ऎसा करना उन्हें नहीं भाता। तीन भिन्न प्रयोगों में अनुसंधानकर्ताओं ने यह पता लगाने के लिए हाथ मिलाया कि लाल रंग से महिलाओं को क्या संकेत मिलता है।

पहले प्रयोग में पाया गया कि महिलाएं दूसरे को लाल परिधान में देखकर सफेद वस्त्र पहनी महिला के मुकाबले उसे सेक्स के लिए ज्यादा "आतुर" मानती हैं।


हस्तमैथुन से जुड़ी ये रोचक बातें हैरान कर देंगी आपको, जानिए हस्तमैथुन के फायदे

शारीरिक सम्बन्ध एक रिलेशन का अहम हिस्सा है। सेक्स लाइफ को बेहतर बनाने के लिए लोग नए नए एक्सपेरीमेन्ट करते हैं। वहीं हस्तमैथुन मानव जीवन में सभी के साथ होने वाली एक आम प्रक्रिया है लेकिन इसे ज्यादातर पुरुषों से जोड़कर देखा जाता है। लेकिन जितना पुरुष करते हैं और उतना ही महिलाएं भी करती हैं। अगर पुरुषों को लेकर ये बात की जाये तो ये बात पूरी तरह से सही नहीं है क्योकि पुरुषों की तरह ही महिलाओं में भी कामुकता होती है। ऐसे में हस्तमैथुन से जुडी जानकारी यहां आप जान सकते हैं।


रिसर्च में ये बताया कि 18 से ऊपर उम्र की अधिकतर महिलाओं ने कम से कम एक बार हस्तमैथुन किया था जबकि कुछ महिलाएं इसे नियमित तौर पर करती है। वहीं इंडियाना यूनिवर्सिटी के नैशनल सर्वे के अनुसार, 25 से 29 के बीच 7.9 प्रतिशत महिलाएं एक सप्ताह में 2-3 बार हस्तमैथुन करती हैं. वहीं 23.4 प्रतिशत पुरुष एक सप्ताह में 3-4 बार हस्तमैथुन करते हैं। आज हम आपको बताते हैं हस्तमैथुन के फायदे.....


- हस्तमैथुन करने से ऑर्गैजम से एंडॉरफिन्स डोपामाइन और ऑक्सीटोसिन रिलीज होता है जो आपके मदद को फ्रेश करता है और आप बेहतर महसूस करते है।

- ऐसा करने से बिस्तर पर जाते ही आपको नींद आ जाती है. इसके अलावा हस्तमैथुन आपकी सेक्स लाइफ को बेहतर बनाने के साथ-साथ आप समझ सकते है कि आपके शरीर के किस हिस्से में ज्यादा उत्तेजना होती है।

- हस्तमैथुन करने का कोई भी नकारात्मक असर नहीं पड़ता है. इसे करने से आपको कोई भी नुकसान नहीं पहुंचता है। ऐसा करने से न आप बीमार पड़ेंगे और न ही प्रेगनेंट होने का कोई डर रहेगा।


सर्वे में महिलाओं ने बताया इस समय सबसे ज्यादा पसंद होता है ओरल सेक्स

आजकल के युथ को ओरल सेक्स ज्यादा पसंद होता है लेकिन कुछ महिलाएं होती हैं जिन्हें ये बिल्कुल भी पसंद नहीं होता। इसके अलावा एक सर्वे के द्वारा यह बात जानने की कोशिश की गई है की, लोग पीरियड्स के दौरान ओरल सेक्स करना पसंद करते है। वूमेंस हेल्‍थ की एक रिपोर्ट में एक सर्वे की जानकारी को प्रकाशित किया गया है. यानि एक खास समय होता है जब महिलाएं ओरल सेक्स के लिए उतावली हो जाती हैं।

पुरुषो की सोच

ज्यादातर पुरुषो का मानना है की पीरियड्स के दौरान महिलाओं को ओरल सेक्स करने में कोई परेशानी नही होती है। बहुत से पुरुषो को इस बात से कोई फर्क नहीं पड़ता है कि उनके साथी को पीरियड्स हैं. बल्कि कई महिलाएं पीरियड्स के दौरान ओरल सेक्स का आनंद लेती है।


सर्वे में पाया गया कि कई ऐसे लोगों है जो पीरियड्स के दौरान भी महिलाओं के संग सम्पूर्ण सेक्स का मजा लेते है। हालांकि उन पुरुषो ने यह भी बताया कि पीरियड्स में महिलाओं को ऑर्गेज्म कम ही होता है। वहीं कई पुरुषो ने बताया की वह अपनी पत्नी को ओरल सेक्स का पीरियड्स के दौरान तभी सुख देते है जब वो चाहती है।

महिलाओ की सोच

कई महिलाओ ने कहा कि वो पीरियड्स के टाइम ओरल सेक्स नहीं करती लेकिन वह इसके खिलाफ भी नहीं है। वहीं अन्य महिलाओ का कहना है कि यदि आप नहाने के तुरंत बाद ओरल सेक्स करो तो इसमे उन्हें कोई दिक्कत नहीं है। कुछ महिलाएं पीरियड्स के दौरान ओरल सेक्स बिल्कुल भी बर्दाशत नहीं कर करती है।

उनका कहना था की वो अपने साथी को पीरियड्स के दौरान मुंह‌ को वैजाइना तक नहीं ले जाने देती है। यहां तक की अंगुली को भी दूर ही रखने का संकेत करती है। लेकिन पीरियड्स के दिनों में सेक्स कर सकती है।

सर्वे: रेग्युलर यौन संबंध बनाने से महिलाओं को मिलता हैं एक बड़ा फायदा!

अगर आप अब तक यह सोच रहीं थीं ज्यादा सेक्स करना सेहत के लिए नुकसानदेह हो सकता है तो महिलाओं के लिए एक खुशखबरी है।


एक नई स्टडी के मुताबिक अनुसंधानकर्ताओं ने पाया कि वैसी महिलाएं जो नियमित रूप से सेक्शुअल इंटरकोर्स में शामिल होती हैं उनकी चीजों और शब्दों को याद रखने की क्षमता और बेहतर होती है।

कनाडा के मॉन्ट्रियल स्थित मैकगिल यूनिवर्सिटी के अनुसंधानकर्ताओं ने यह रिसर्च की जिसके नतीजे बताते हैं कि PVI यानी पीनाइल-वजाइनल इंटरकोर्स का हेल्दी यंग महिलाओं के मेमरी फंक्शन यानी याददाश्त पॉजिटिव असर पड़ता है और उनकी याद रखने की क्षमता बेहतर होती है।


इस रिसर्च के लिए अनुसंधानकर्ताओं ने 18 से 29 साल के बीच की 78 हेट्रोसेक्शुअल महिलाओं को एक कम्प्यूटराइज्ड मेमरी paradigm को कम्प्लीट करने को कहा जिसमें कुछ काल्पनिक शब्द और निपक्ष चेहरे थे।
आर्काइव्स ऑफ सेक्शुअल बिहेवियर नाम के जर्नल में प्रकाशित रिसर्च के नतीजे बताते हैं कि नियमित रूप से सेक्स करने पर काल्पनिक शब्दों को याद रखने पर पॉजिटिव रिजल्ट मिले लेकिन चेहरों को याद रखने पर नहीं।



रीसर्च: इन चीज़ों के कारण नहीं होता आपका यौन संबंध बनाने का मूड

सेक्स में सेक्स ड्राइव का बेहतर होना आपके लिए बहुत ही जरुरी है। सेक्स ड्राइव कम न हो इसके लिए आपको कुछखास बातों का ध्यान रखना होता है। अगर आप सेक्स में थोड़े भी कमज़ोर होते हैं तो इससे आपका और आपकी पार्टनर का मूड भी खराब हो सकता है। सेक्स का मूड ना हो तो इसके कई कारण भी हो सकते हैं जिनके बारे में हम बताने जा रहे हैं। एक रीसर्च में यह सामने आया है कि खाने-पीने की कुछ चीजें आपके हॉर्मोनल लेवल पर असर डालते हैं। जी हाँ, अगर सेक्स लाइफ को बेहतर रहना है तो आपको खाने पर बराबर ध्यान देना होगा।

कोला :- कोला में आर्टिफिशल स्वीटनर्स होते हैं जो सेरोटॉनिन लेवल को प्रभावित करते हैं। सेरोटॉनिन हैपी हॉर्मोन होता है और कई रीसर्चों की मानें तो इसका संबंध सेक्स की इच्छा से होता है।

ऐल्कॉहॉल :- लिवर कमजोर होता है तो जाहिर है कि ऐंड्रोजेन ऑस्ट्रोजन में तब्दील कर देता है और सेक्स की इच्छा कम होती जाती है। ऐल्कॉहॉल का ज्यादा सेवन करने से पुरुषों को स्खलन मेनटेन करने में समस्या आ सकती है।

प्रोसेस्ड फूड :- प्रोसेस्ड में इस्तेमाल की जाने वाली स्ट्रिप्स पोषक तत्वों को खत्म कर देती हैं, इनमें वे न्यूट्रिएंट्स भी हैं जो सेक्स की इच्छा बढ़ाते हैं।

शुगर :- भले ही आप चाय-कॉफी में चीनी नहीं लेते हों, लेकिन ज्यादातर फूड आइटम्स में शुगर छिपी होती है। ब्लड शुगर बढ़ने से आपकी सेक्स की इच्छा में कमी आती है।



सेक्स लाइफ और कामुक बनाने में काम आते हैं ये अनोखे टिप्स

हो सकता है आपकी सेक्स लाइफ बेहद संतोषजनक हो और आप इससे खुश भी हों लेकिन इसका मतलब यह नहीं कि आपको सेक्स में एक्सपेरिमेंट करना बंद कर देना चाहिए। आप चाहें तो अलग-अलग तरीकों से अपनी सेक्स लाइफ को और ज्यादा कामुक बना सकते हैं। हम आपको बता रहे हैं कुछ एक्सपर्ट टिप्स जिससे न सिर्फ आपके बेडरूम का टेंपरेचर बढ़ जाएगा बल्कि सेक्स लाइफ भी और ज्यादा आकर्षक हो जाएगी...





कुछ दिन के लिए सेक्स से दूरी बना लें। एक दूसरे के साथ शरारत और छेड़खानी करें लेकिन रियल ऐक्ट से दूरी बना लें। दूरी बनाने की वजह से दोनों ही पार्टनर के मन में कामेच्छा बढ़ती जाएगी। आपको यकीन हो या न हो लेकिन कई बार सेक्स की कमी के बाद जब आप सेक्स करते हैं तब जो संतुष्टि और खुशी मिलती है वह शायद हर दिन सेक्स करने पर भी ना मिले।



एक्सपर्ट्स की मानें तो बेहतरीन सेक्स सेशन हासिल करने में सबसे बड़ी रूकावट स्ट्रेस यानी तनाव है। लिहाजा कोशिश करें कि जब भी आप अपने पार्टनर के साथ हों तो माहौल को ऐसा बनाकर रखें जिसमें तनाव की बिलकुल जगह न हो, तभी आप दोनों लवमेकिंग को अच्छी तरह से इंजॉय कर पाएंगे वरना सेक्स भी रूटीन बनकर रह जाएगा।



अगर आप सोचते हैं कि आप तो पार्टनर की तारीफ कई बार कर चुके हैं और हो सकता है आपके बार-बार ऐसा करने से उन्हें दिखावे जैसा महसूस होता है तो आपकी सोच गलत है। तारीफ हर किसी को पसंद आती है। i love you और तुम्हें बेहद खूबसूरत हो जैसी चीजें कभी नुकसान नहीं पहुंचातीं। इससे न सिर्फ दोनों के बीच का प्यार बढ़ेगा बल्कि नजदीकियां भी बढ़ेंगी।




जब पार्टनर किसी चीज की बिलकुल उम्मीद न कर रहे हों उस वक्त कोई ऐसा काम करें जिससे पार्टनर आश्चर्य में पड़ जाए। कॉम्प्लिमेंट्स की तरह सरप्राइजेज भी सभी को अच्छे लगते हैं और हमेशा काम आते हैं। जितना हो सके चीजों को अप्रत्याशित रखें इससे सेक्स रूटीन अफेयर नहीं बनेगा बल्कि उसमें हर दिन कुछ नया होगा।




महिलाओं की सेक्स उत्तेजना बढ़ाएंगे ये कारगार उपाय

महिलाओ की सबसे बड़ी सेक्स समस्या उत्तेजना की कमी है. सेक्स के समय अगर महिला उत्तेजित नहीं होती तो पुरुष के लिए ये परेशानी का कारण बन जाती है। यह समस्या ज्यादातर महिलाओ में देखी जाती है। अगर आपकी पार्टनर में भी ये परेशानी है तो इसके कुछ उपाय भी हैं जिन्हे आप अपना सकते है और उसकी उत्तेजना बढ़ा सकते हैं। आइये जानते हैं वो उपाय जो आपके लिए कारगर सिद्ध हो सकते हैं।


# महिलाओ में उतेजना की कमी अव्यवस्थित रक्त संचार के चलते होती है। सेब इस समस्या में काफी कारगर साबित हो सकता है. दिन में एक या दो सेब खाने से महिलाओ की उत्तेजना में काफी बढ़ोतरी होती है।

# महिलाओ के शरीर में विटामिन B5 और B6 की कमी से ही सेक्स हार्मोन्स की कमी होती है. इस कमी को अंडे से दूर किया जा सकता है।

# अजवाइन में एड्रोस्टेरोन हार्मोन्स पाए जाते है। जो आपकी सेक्स इच्छा को बढ़ा कर आपके वैवाहिक जीवन को खुशनुमा बना देंगी।

# महिलाओ की उत्तेजना बढ़ाने में सींप भी काफी ज्यादा असरदार होती है। महिलाओ की उत्तेजना बढ़ाने के लिए इसका इस्तेमाल किया जा सकता है।

वर्जिनिटी खोने के बाद लड़कियों के शरीर में होते हैं ऐसे बदलाव

किसी लड़की का वर्जिनिटी खो देना एक बड़ा मुद्दा है। खासतौर पर भारत जैसे देश में। लड़कियों के लिए पहले इंटरकोर्स के बाद बॉडी में क्‍या बदलाव होते हैं, यह उत्‍सुकता का विषय होता है। आइए दूर करते हैं आपकी उत्‍सुकता और बताते हैं आपको इस बारे में विस्‍तार से...




जब आप एक बार सेक्‍स करना शुरू कर देती हैं तो वजाइना के लचीलेपन में भी बदलाव शुरू हो जाता है। वजाइना को पेनिट्रेशन का आदी होने में थोड़ा वक्‍त लगता है। हालांकि जैसे आपकी सेक्‍स लाइफ मैच्‍योर होने लगती है वैसे-वैसे आपकी वजाइना के लिए भी ये सब सामान्‍य हो जाता है। कुछ समय के बाद तो आपकी वजाइना अपने आप ही लूब्रिकेट होने लगती है।


जब आप उत्‍तेजना की स्थिति में होती हैं तो आपकी क्लिटरिस भी बड़ी हो जाती है और यूट्रस का आकार भी बढ़ जाता है। कुछ दिनों के बाद आपकी बॉडी सेक्‍स को लेकर सामान्‍य हो जाती है। फिर हर बार जब भी आप उत्‍तेजित होती हैं तो आपकी क्लिटरिस और यूट्रस बड़े होते हैं और ऐक्‍ट पूरा होने के बाद सामान्‍य स्थिति में लौट आते हैं।


सेक्‍स के दौरान और सेक्‍स के बाद आपके ब्रेस्‍ट के टिशू फूल जाते हैं और इस वजह से आपके ब्रेस्‍ट काफी टाइट हो जाते हैं। उत्‍तेजना के वक्‍त ब्रेस्‍ट में ब्‍लड सर्कुलेशन भी बढ़ जाता है। मगर सेक्‍स के बाद ये सामान्‍य स्थिति में लौट आते हैं।



जैसे-जैसे सेक्‍स आपकी सामान्‍य दिनचर्या का हिस्‍सा बन जाता है वैसे-वैसे आपकी बॉडी रोजाना नए अनुभव से गुजरती है। सेक्‍स उत्‍तेजना के वक्‍त आपके निपल्‍स के चारों ओर ब्‍लड सर्क्युलेशन बढ़ जाता है और उसकी मसल्‍स भी सख्‍त हो जाती हैं।

कोई टिप्पणी नहीं

Healths Is Wealth. Blogger द्वारा संचालित.