Header Ads

वज़न घटाने का सबसे असरदार तरीका

वज़न घटाने का सबसे असरदार तरीका: अपना मेटाबोलिज्म तेज़ करें
सोडा और अन्य फेनिल ड्रिंक की जगह ठंडा पानी पीना मेटाबोलिज्म को तेज़ करने का बहुत असरदार माध्यम है। इसकी वजह यह है कि ठंडा पानी पीने के बाद शारीरिक तापमान को सामान्य स्तर पर लाने के लिए शरीर ज़्यादा एनर्जी खर्च करेगा।

वजन कम करने के लिए फैट घटाने वाले‌ बेहतरीन नाश्ते
नौ खाद्य जो दिलाते हैं गैस्ट्राइटिस से निजात
प्रोटीन शेक : वे आख़िर इतने फायदेमंद क्यों होते हैं?




बात जब वज़न घटाने के बेहतरीन विकल्पों की आती है तो हर किसी की राय अलग-अलग होती है। कुछ लोगों को लगता है, खाना न खाना या कठोर डाइट प्लान पर रहना ही सर्वश्रेष्ठ होता है। कुछ अन्य लोग अपने न्यूट्रिशनिस्ट के बताए आहार का सेवन करते हैं। इस पोस्ट में, हम आपको इन विकल्पों के अलावा आपके मेटाबोलिज्म को तेज़ कर देने वाले एक दिलचस्प और आसान विकल्प के बारे में बताएँगे।

यह बहुत ही अच्छा विकल्प है। क्योंकि कोई भी जोखिम उठाये बगैर या अपने शरीर को भूखे मारे बिना ही यह उसे अपने ऊपर काबू रखना सिखा देता है। है न रोचक? क्या आप इसे आज़माना चाहेंगे? अगर आपका जवाब हाँ है तो अपने मेटाबोलिज्म को तेज़ कर देने वाले इन विकल्पों को आज़माकर कम प्रयास में ही जबरदस्त तंदरुस्ती पा सकते हैं।

मेटाबोलिज्म क्या है?
इससे पहले कि हम आपको बताएं कि आप अपने मेटाबोलिज्म को कैसे तेज़ कर सकते हैं, यह जानना ज़रूरी है कि वह आखिर होता क्या है। हमारे शरीर की सक्रिय अवस्था में उसके अंदर होने वाली सभी रासायनिक क्रिया-प्रतिक्रियाओं को ही इकट्ठे तौर पर मेटाबोलिज्म कहा जाता है।

इन प्रतिक्रिओं की गति ही यह निर्धारित करती है कि आप कितनी कैलोरी जलाएंगे। मेटाबोलिज्म के तेज़ होने पर ज़्यादा ऊर्जा खर्च होती है। इसलिए आपके शरीर में वसा कम जमा होगी व आपका वज़न ज़्यादा तेज़ी से घटेगा।
पर्याप्त प्रोटीन का सेवन करें
अपने मेटाबोलिज्म को चुस्त बनाने का सबसे आसान तरीका है, अपने शरीर को ऐसा पोषक आहार देना, जिसे तोड़ने में उसे मेहनत करनी पड़े। ऐसे में, थर्मल इफ़ेक्ट वाले खाद्य पदार्थ सबसे अच्छे विकल्प होते हैं, जैसे कि प्रोटीन।

प्रोटीन में वसा की न्यूनतम मात्रा होती है। शरीर में सोखे जाने के लिए ये खाद्य अपने पाचन के लिए शरीर से कड़ी मेहनत की मांग करते हैं। इसीलिए आपको ज़्यादा समय तक भूख नहीं लगती और आपका शरीर ज्यदा मेहनत करता है।

अच्छी क्वालिटी वाले प्रोटीन का सेवन कर आप ऐसा कर सकते हैं। अगर संभव हो तो प्रीज़र्वेटिव-मुक्त कम चरबी वाले मांस-मछली और ऑर्गेनिक दानों का सेवन करें। यह साबित किया जा चुका है कि 30% ज़्यादा प्रोटीन का सेवन कर आप अपने भोजन में 441 कैलोरीज कम कर सकते हैं।


इसे भी आज़माएँ: 8 खाद्य पदार्थ जो 30 दिन में लीवर को देंगे नया जीवन, घटाएंगे वज़न
ठंडा पानी पियें

आप अपनी प्यास कैसे बुझाते हैं? बदकिस्मती से, ज़्यादातर लोग कोल्ड ड्रिंक और केमिकल युक्त दूसरे मीठे पेय पीते हैं। अगर आप भी उन्हीं लोगों में से एक हैं तो आपको यह समझ लेना चाहिए कि वज़न कम करने की अपनी कोशिशों पर पानी फेरकर आप अपने मेटाबोलिज्म को धीमा कर रहे हैं।



रसायन या चीनी वाले सभी प्रकार के ड्रिंक में शरीर को प्रभावित करने वाली कैलोरी की बड़ी मात्रा होती है। अपने मेटाबोलिज्म को तेज़ बनाने के लिए आपको अपने सामान्य पेय पदार्थों की जगह एक गिलास ठंडा पानी पीना चाहिए।

इससे आपका मेटाबोलिज्म एकदम से तेज़ हो जाएगा क्योंकि आपके शरीर को अपने तापमान को पुनः स्थिर करने के लिए ज़्यादा ऊर्जा की ज़रूरत होगी। लेकिन यह असर स्थायी नहीं होता। एक बार आपका शरीर अपना तापमान वापस प्राप्त कर ले तो आपका मेटाबोलिज्म भी सामान्य हो जाता है।
इसीलिए यह ज़रूरी है कि आप सारा दिन ठंडा पानी पीते रहें। सर्दी-गर्मी की चिंता न करें। आपका शरीर जल्द ही इसका आदी हो जाएगा व आप सर्दी या किसी और बीमारी की चपेट में नहीं आएंगे।


इसे भी आज़माएँ: अदरक और हल्दी वाली स्वादिष्ट चाय पीकर अपना वज़न घटाएं
हाई-इंटेंसिटी एक्सरसाइज़ करें

यह बात आपको पहले से ही पता है कि स्वस्थ रहने के लिए आपको रोज़ाना कसरत करनी चाहिए। लेकिन आपको इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि सभी शारीरिक व्यायाम आपके मेटाबोलिज्म को तेज़ नहीं बनाते। ऐसे में, आपके लिए सर्वश्रेष्ठ कसरत हाई-इंटेंसिटी इंटरवल्स वाली एक्सरसाइज़ ही होती है।

ये एक्सरसाइज आपके शरीर के फैट को जलाने की क्षमता को तेज़ करके कसरत के बाद भी आपके मेटाबोलिज्म को चुस्त बनाए रखती हैं। लेकिन अपनी अस्वस्थ शारीरिक अवस्था की वजह से कुछ लोगों के लिए यह कसरत मुश्किल हो सकती है।

तो आप अपने आपको एक चुनौती देकर क्यों नहीं देखते? अगर आप इसे रोज़ाना नहीं कर सकते तो हफ्ते में कम से कम दो बार तो करें। बाकी दिन हल्की-फुल्की कसरतों से अपना काम चला सकते हैं। इससे भी बेहतर विकल्प है, हर रोज़ 30 मिनट की अपनी कसरत में 5 मिनट की हाई-इंटेंसिटी एक्सरसाइज़ को शामिल कर लेना। जल्द ही आप यह महसूस करेंगे, आपका स्टैमिना धीरे-धीरे बढ़ रहा है।
हमेशा बैठे रहने से बचें
दिन में आप कितने घंटे बैठे रहते हैं? सच तो यह है कि ज़्यादातर लोग कई घंटों तक बैठे रहते हैं। बैठना भले ही बहुत आरामदायक क्यों न हो, लेकिन आपकी सेहत को निरंतर गतिविधि की ज़रूरत होती है।

अगर आपको बहुत सारा काम होता है तो कम से कम कुछ घंटों तक खड़े रहकर उसे करने की कोशिश करें। शुरू में यह थोड़ा अजीब भले ही लगे, लेकिन बात जब आपके मेटाबोलिज्म को तेज़ करने की हो तो यह कोई बुरा ख्याल भी नहीं है। एक और विकल्प है हर आधे घंटे बाद खड़े होकर 2-5 मिनट के लिए थोड़ी स्ट्रेचिंग करना।
7 क्षारीय खाद्य समूह, इन्हें पूरे हफ़्ते की डाइट प्लान में आजमायें और देखें चमत्कार
· मई 26, 2018
शायद आप जानते होंगे कि रोगाणु, हानिकारक बैक्टीरिया और वायरस अम्लीय वातावरण में मजे से फूलते-फलते हैं। इसलिए इनसे बचने और अपने शरीर को स्वस्थ रखने के लिए एल्कलाइन या क्षारीय खाद्य सामग्रियों का सेवन बहुत ही जादुई असर दिखा सकता है।

वेजिटेबल चिप्स बनाने के तीन आसान तरीके
स्वादिष्ट हैम और चीज़ फ्रेंच ऑमलेट
काबुली चने का सलाद बनाने के लिए चार स्वादिष्ट रेसिपी


आपने एल्कलाइन स्वाद वाले क्षारीय खाद्य सामग्रियों के जादुई फायदों के बारे में बहुत सुना होगा। लेकिन आप असमंजस में होंगे कि अपने किचेन के मेन्यू के साथ इनका तालमेल कैसे बैठाएं। इसलिए हमने काफी रिसर्च के बाद आपके लिए क्षारीय खाद्य का 7 ग्रुप चुना है। हम इनमें मौजूद गुणकारी तत्वों के बारे में विस्तार से भी बताएँगे।

इस रिसर्च की वजह इन्हें लेकर आपकी अनिश्चयता है। क्योंकि आजकल खाने के बारे में राय देने वालों की कमी तो है नहीं। हर कोई दावे के साथ कहता है कि उसका बताया हुआ उपाय अचूक है, वह हमेशा स्वस्थ रहने के लिए राम बाण है।


इसलिए आपको शक होगा कि यह भी खाने के मामले से जुड़ी कोई सनक है। क्या सच में अपने रोज की डाइट में क्षारीय खाद्य सामग्रियों को शामिल करना ज़रूरी है?

जी हाँ, आपको बेशक ऐसा करना चाहिए।

अगर आप बेहतर अंदरूनी संतुलन और जीवन की गुणवत्ता का आनंद लेना चाहते हैं तो यह करना बहुत ज़रूरी है। अपनी शॉपिंग बास्केट और अपनी खाने की डिश में क्षारीय खाद्य सामग्री को शामिल करने से अपने आप ही आपका स्वास्थ्य बेहतर हो जायेगा।

हमलोग रोज बहुत सी ऐसी चीजें बड़े चाव से खाते हैं और शायद ज्यादा ही खाते हैं जिनका हमारे पाचन तंत्र में अम्लीय असर होता है। जैसे कि चीनी, ट्रांस फैट, डेयरी प्रोडक्ट, प्रीजरवेटिव, स्वीटनर्स, केमिकल प्रोडक्ट आदि।

दूसरी ओर क्षारयुक्त भोजन हैं। ये अपने ढेर सारे विटामिन्स और खनिज पदार्थों के लिए मशहूर हैं जो हमारे पीएच को संतुलित करने का जोरदार काम करते हैं।

इनकी जितनी भी तारीफ की जाये कम है। इनके कारण सूजन नहीं होती है। इनमें हद से ज्यादा कैलोरीज़ नहीं होती हैं। यही नहीं, ये हमारे शरीर के सबसे अहम अंगों को बहुत से बुनियादी कार्यों को ठीक से करने में मदद करते हैं।

ये सब जानने के बाद आप सोच रहे होंगे कि क्यों न अम्लीय असर वाले खानों को पूरी तरह से छोड़ दें और सिर्फ क्षारयुक्त चीजों का सेवन करें। जी नहीं, ऐसा बिलकुल न करें!

हमें दोनों के बीच में सही संतुलन लाने की ज़रूरत है। इसलिए इन दोनों को सही अनुपात में लेना चाहिए। आपके रोज के खाने का 30% हिस्सा अम्लीय और बाकी क्षारीय असर वाला होना चाहिए।

अब सब बातें समझने के बाद आइये 7 शानदार क्षारीय खाद्य समूहों को देखें जिन्हें आप हफ्ते के 7 दिन खा सकते हैं।
हफ़्ते भर के लिए क्षारीय खाद्य सामग्रियों के चुनिन्दा ग्रुप

1. एवोकैडो और अनार

नाश्ते के लिए एवोकैडो और अनार का जोड़ बेजोड़ है। अनार में बहुत सी खूबियां होती हैं। इसमें शरीर के जहरीले पदार्थों को हटाने की जोरदार शक्ति होती है। यह ह्रदय की सेहत की देखभाल करता है। इतना ही नहीं, यह विटामिन्स (खासतौर से विटामिन A और C) और मैग्नीशियम जैसे खनिज पदार्थों का भंडार है।


अगर आप अनार के साथ आधा एवोकैडो लेंगे तो फिर सोने पर सुहागा। दोनों को साथ में लेने से दोनों के क्षारीय गुण बढ़ जायेंगे।
शायद आप जानते होंगे कि एवोकैडो सबसे ज्यादा क्षारीय खाद्य पदार्थों में से एक है। यह स्वादिष्ट तो है ही, इसके अलावा इसमें प्रचुर मात्रा में मोनोअनसैचुरेटेड फैट होते है। इसका अहम फायदा यह है कि यह हमारे शरीर में एसिडिटी से निपटने के लिए एक गजब का साधन है।

क्या आप दिन की शुरुआत इस जबरदस्त जायकेदार जोड़े से शुरू करने के लिए तैयार हैं?
2. नीलबदरी, गाजर और खजूर

गाजर का हल्का क्षारीय प्रभाव होता है जो एवोकैडो और नींबू के असर से कम है। लेकिन गाजर को किसी बेर के साथ मिलाकर हम एक गजब की एल्कलाइन औषधि प्राप्त कर सकते हैं।

आप गाजर को इनके साथ आजमा कर देखें –
जामुन
स्ट्रॉबेरीज़
रैस्पबेरीज़
नीलबदरी
किशमिश
एल्डरबेरीज़

तो देर क्यों, जल्दी से गाजर और इनमें से किसी एक फल या सब फलों के साथ अपने लिए एक जायकेदार नेचुरल जूस या सलाद बनायें।

इसमें खजूर डालना न भूलें! इससे हल्की सी मिठास आ जायेगी और क्षारीय गुण बढ़ जायेगा।
3. दलिया और कीवी


क्या आपको कभी दलिया को कीवी के साथ आजमाने का मौका मिला है? यह एक शानदार पेट भराऊ नाश्ता है जो पौष्टिक और संतोषजनक होने के साथ क्षारीय गुणों से भरपूर भी है।

दरअसल इन दोनों का क्षारीय स्केल पर बाकी क्षारीय खाद्य सामग्रियों से ज्यादा ऊँचा स्थान है।
उदाहरण के लिए, क्या आप जानते हैं कि कीवी में संतरे से ज्यादा विटामिन C होता है। 
दूसरी ओर, दलिया तो बेशक अन्न की रानी है। यह ऐसा फूड है जो आपके ह्रदय और आपकी सलामती दोनों का ख़याल रखता है। आप इसको हफ्ते में हर रोज खाने के लिए एक पौष्टिक विकल्प की तरह अपना सकते हैं।
4. चनसूर, समुद्री सिवार और शताबरी

आप इस समूह को किसी भी भोजन या खास डिनर के एक लाजवाब पूरक जैसे खा सकते हैं। इसके अलावा यह एक स्वादिष्ट साल्मन या ग्रिल्ड चिकन की डिश के साथ खाने में भी बहुत अच्छा है।

अगर शरीर में एसिड की मात्रा हद से ज्यादा हो जाती है तो वह हानिकारक हो सकती है। चनसूर, समुद्री सिवार और शतावरी तीनों शरीर में एसिड को कम करने में मदद करते हैं।

यही नहीं, ये शरीर को ढेर सारा आयरन और कैल्शियम भी प्रदान करते हैं। सबसे अच्छी बात यह है कि शताबरी में ऐस्परैजिन नाम की एक अमीनो एसिड प्रचुर मात्रा में होती है। यह तंत्रिका तंत्र के लिए बहुत फायदेमंद होती है।
5. ब्रोकली, नींबू और लहसुन

क्या आप तय नहीं कर पा रहें हैं कि आज रात को क्या खायें? हमारी राय माने और ब्रोकली, नींबू और लहसुन की जायकेदार, क्षार के गुणों से भरपूर इस रेसिपी को आजमायें।

ये तीनों चीजें हमारे शरीर को क्षारित करने में मदद करती हैं। इसके अलावा ये अपने शरीर में से हानिकारक जहरीले पदार्थों को हटाने में हमारी सहायता करती हैं जिसकी वजह से हमारा अंदरूनी संतुलन और पीएच लेवल फिर से ठीक हो जाता है।

ब्रोकली और नींबू के लाजवाब जोड़े में एंटी ऑक्सीडेंट गुण होते हैं, ये दोनों पाचन को बढ़ावा देते हैं और लिपिड और फैट को हटाते हैं।

लहसुन में एलिसिन होता है। यह एक जोरदार एंटीबायोटिक और एक बेहतरीन सूजनरोधी के रूप में काम करता है। इसमें तरल अवरोधन को कम करने की क्षमता होती है (इसमें बहुत सारे अन्य जादुई फायदे भी हैं)।

आप हमारी बात पर विश्वास करें – यह ग्रुप जितना सेहतमंद है उतना जायकेदार भी।
6. मौसंबी, नींबू, पपीता और पार्सले


इन चारों को साथ में खाने की बात आपको कुछ अजीब सी लग सकती है। यकीन मानिये इन चारों की चौकड़ी खूब जमती है। जब ये साथ होते हैं तो जोरदार काम करते हैं। ये आपके गुर्दों की अच्छी तरह देखभाल करते हैं, उनको शुद्ध करते हैं और सूजन को कम करते हैं।
इस समूह में पपीता एक सबसे अच्छा लैक्जेटिव माना जाता है। यह आपके पेट को साफ करता है।
दूसरी ओर पार्सले आपके गुर्दों का पसंदीदा पौधा है।
इसके अलावा नींबू और मौसंबी कुदरत के दिए हुए दो सबसे ज्यादा क्षारीय फल हैं।इसलिए जबरदस्त क्षारीय असर वाली इन चारों चीजों को अपने डाइट में शामिल करना न भूलें।
7. तरबूज और खीरा

इस अद्भुत जोड़े का फायदा उठाने ले लिए आप एक कटोरी कटा हुआ तरबूज और खीरा खा सकते हैं। नहीं तो इन दोनों को ब्लेंडर में डालकर एक ताजगी से भरपूर जूस का मज़ा ले सकते हैं।

आप इनको जैसे चाहें वैसे लें और इस शानदार नेचुरल नुस्खे को आजमायें। इन दोनों क्षारीय खाद्य वस्तुओं में बहुत सारी खूबियां हैं। इनमें ढेर सारे पानी के अलावा फाइबर, लाइकोपीन, बीटा-कैरोटीन और विटामिन सी होता है।



एक बार आप इसका जूस पी लेंगे तो आपको हफ्ते में हर रोज इसे पीने का मन करेगा, क्योंकि यह एक हल्का और ताजगी देने वाली ड्रिंक है।

कोई टिप्पणी नहीं

Healths Is Wealth. Blogger द्वारा संचालित.