Header Ads

गर्भपात (miscarriage) होने के 7 कारण

गर्भपात (miscarriage) होने के 7 कारण



जब आप प्रेगनेंट हो जब सिगरेट, परिवेश का प्रदूषण, विषाक्तता, दवा और अत्यधिक मात्रा में अल्कोहल का सेवन गर्भपात का कारण बन जाता है। डॉ. उमा वैद्दनाथन, सिनियर कंसल्टेंट गायनाकॉलोजिस्ट एंड ऑब्सटीट्रिसियन, मैक्स हॉस्पिटल, न्यू दिल्ली, का कहना है कि जब आप किसी प्रकार के हार्मोनल प्रॉबलेम या किसी प्रकार के इंफेक्शन से जुझ रहे होते हैं तब गर्भपात होने की संभावना और बढ़ जाती है।



ऑटोइम्यून डिज़ीज- शायद आपको पता नहीं लेकिन ऑटोइम्यून डिसऑर्डर गर्भपात होने का खतरा बढ़ाता है। क्योंकि मां का शरीर भ्रूण को ही फोरने बॉडी मानने लगती है जिसके कारण भ्रूण के विपरित एन्टीबॉडी बनाने लगती है जो गर्भपात का कारण बन जाता है।

इंफेक्शन- किसी भी इंफेक्शन का सीधा असर प्रेगनेंसी पर पड़ता है। जेनिटल ट्रैक में बैक्टिरीयल इंफेक्शन होने के कारण गर्भपात होने की संभावना बढ़ती है। यहां तक कि यूटेरस के एन्ड्रोमेट्रियल लाइनिंग पर बैक्टिरीयल इंफेक्शन का असर पड़ता है जो अंडाणु के विकास में बाधा उत्पन्न होता है।



क्रोमोज़ोमल एबनॉर्मलिटिस- क्या आपको पता है कि 50% से ज्यादा गर्भपात फोट्स यानि भ्रूण के एबनॉर्मिलिटी के कारण होता है़। जब खराब क्रोमोज़ोम्स के अवस्था में भ्रूण का विकास होता है तब वह गर्भपात होने का कारण बनता है। ये संभावना 30 या उससे भी ज्यादा उम्र में गर्भधारण होने पर बढ़ता है।



क्रॉनिक कंडिशन-अगर आपको हाई ब्लड प्रेशर, ब्लड शुगर का खतरा होता है तब गर्भपात होने की संभावना बढ़ जाती है। इसके लिए आपको लगातार गायनाकॉलोजिस्ट के संपर्क में रहने की ज़रूरत होती है।




हाइपोथॉयराडिज़्म- बहुत से लोगों को ये नहीं पता कि थॉयरायड लेवल के बढ़ने के असर प्रेगनेंसी पर पड़ता है। अगर इसका सही समय पर इलाज नहीं किया गया तो गर्भपात होने की संभावना बढ़ जाती है। यहां तक इसके लो लेवल के कारण भी इंफर्टिलिटी और मिसकैरेज होने का खतरा होता है।



पीसीओएस (Poly cystic ovarian syndrome)- इस अवस्था में शरीर का टेस्टास्टरोन लेवल बढ़ जाता है क्योंकि इसके कारण अनियमित पिरियड्स, ओव्यलैशन यानि अंडोत्सर्ग आदि होता है। इन सब कारणों से इन्सूलीन रेजिस्टेंट होता है जो एन्ड्रोमेट्रियल लाइनिंग को बढ़ने से रोकता है, जो इंमप्लैन्टेशन होने में बाधा उत्पन्न करता है।



स्ट्रक्चरल ऐब्नॉर्मैलिटी- ज्यादातर लोगो को ये नहीं पता कि गर्भाशय के संरचना के कारण भी गर्भपात होने का खतरा बढ़ता है। गर्भाशय के एबनॉर्मल संरचना, फिबरॉयड आदि भी गर्भपात का कारण होता है।




कोई टिप्पणी नहीं

Healths Is Wealth. Blogger द्वारा संचालित.