Header Ads

कंधे का दर्द


कंधे का दर्द – SHOULDER PAIN IN HINDI
आमतौर पर घरेलू काम काजी महिलाओं में कंधे के दर्द की समस्या बानी रहती है. घर के काम काज, मानसिक तनाव और दिन के कई कार्यों को करने के बाद शरीर में अकड़न और कंधे के जोड़ों में दर्द की. यह दर्द किसी भी मांसपेशी पर असर डाल सकता है. ऐसे में कंधों में दर्द होना बहुत सामान्‍य बात है। हर किसी को ज्‍यादा थकान के बाद सबसे ज्‍यादा कंधों में दर्द होता है। यह दर्द कई बार बहुत पीड़ादायक बन जाता है.

कंधे के दर्द के लक्षण
पुरुषों में कंधे का दर्द
महिलाओं में कंधे का दर्द
कंधे का दर्द होने से पहले रोकथाम
कंधे का दर्द हो जाने पर रोकथाम के उपाय
एलोपैथ से कंधे के दर्द का इलाज
यूनानी से कंधे के दर्द का इलाज
आयुर्वेद से कंधे के दर्द का इलाज
होम्योपैथ से कंधे के दर्द का इलाज
कंधे के दर्द में क्या करें/ क्या ना करें

डिजिटल होती दुनिया में लोगों द्वारा भारी संख्या में स्मार्ट फोन का इस्तेमाल और ज्यादा देर तक एजक जगह बैठकर काम करने की आदत पड़ती जा रही है. इसके अलावा कई आंतरिक रोग भी कंधे के दर्द का कारण बन जाते हैं. कई बार आंतरिक चोट लगने पर बदलता मौसम भी कंधे के दर्द का मुख्य वजह बन जाता है.
अनियमित दिनचर्या से कंधे में दर्द होने की संभावना बनी रहती है
ज्यादा देर एक जगह बैठकर काम करने से भी यह समस्या हो जाती है.
मोटापा इस तरह की समस्या का बड़ा कारण माना जाता है
हार्मोनल परिवर्तन भी कंधे के दर्द का कारण बन जाता है
पुरानी चोट भी इस तरह की समस्याओं को जन्म देती है
ज्यादा देर तक शारीरिक श्रम करने से.

कंधे के दर्द के लक्षण

कंधे का प्रयोग इंसान अपने प्रत्येक कार्य को करने के लिए करता ही है. मसलन हम रोज अपनी दिनचर्या में काम काज के अलावा भागदौड़ ऑफिस के काम, योगा और व्यायाम सहित बहुत से कार्यों को करते हैं जिसमें कंधे का भरपूर इस्तेमाल किया जाता है. कंधे का दर्द के कई कारण हो सकते हैं.
कंधे के इस्तेमाल करते समय खिंचाव का महसूस होना
कोई भी काम करते हुए कंधों में दर्द का अनुभव
कंधों में सुन्नता और सूजन का महसूस होना
बाजुओं को हिलाने पर तेज दर्द का अनुभव
दर्द की वजह से बुखार भी आ सकता है.

पुरुषों में कंधे का दर्द

पुरुषों में कंधे का दर्द सामान्यतः ज्यादा शारीरिक श्रम करने वालों में होता देखा जाता है. यह समस्या बिलकुल भी शारीरिक काम ना करने वाले पुरुषों में भी हो सकती है. मसलन बिगड़ी हुई दिनचर्या या ज्यादा देर एक तरफ करवट लेकर सोने से भी यह समस्या हो जाती है. एक सर्वे के मुताबिक़ पुरुषों में यह समस्या 16 से 50 वर्ष की उम्र वालों में ज्यादा देखी जाती है.
ज्यादा देर तक किसी भी काम को हांथो के सहारे करना
अधिक समय तक स्मार्ट फोन का उपयोग
सोते समय ऊँची तकिया लगाकर सोने से
एक ही करवट लेकर सोने से
ज्यादा व्यायाम करने से
ज्यादा देर तक पहलवानी या कसरत करने से
ज्यादा देर तक बाइक या कार ड्राइव करने से
महिलाओं में कंधे का दर्द


महिलाओं का तन पुरुषों की अपेक्षा ज्यादा कोमल होता है. आमतौर पर कंधे का दर्द महिलाओं में पुरुषों की अपेक्षा ज्यादा देखने को मिलती है. घर में कामकाजी महिलाएं ज्यादा देर तक काम करने की वजह से भी इस समस्या का शिकार हो जाती हैं.

कंधे का दर्द होने से पहले रोकथाम
कंधों में दर्द और जकड़न ना हो इससे बचने के लिए कुछ जरूरी एहतियात बरतने की जरूरत होती है.
शरीर के इम्यून सिस्टम को बरकरार रखने के लिए खानपान की गुणवत्ता में सुधार करें
ज्यादा ठंडा पानी पीने से बचें
बीयर शराब या धूम्रपान का प्रयोग बिलकुल ना करें
नहाते समय गुनगुने पानी का इस्तेमाल करें
ज्यादा देर तक योगा व्यायाम करने से परहेज करें
जिम में उतना ही पसीना बहाएं जितना जरूरी हो
ज्यादा वजनी सामान ना उठाएं
ज्यादा देर तक बाइक ना चलाएं
कंप्यूटर या टेबलेट का प्रयोग देर तक ना करें बीच बीच में ब्रेक लें.

कंधे का दर्द हो जाने पर रोकथाम के उपाय

शरीर में कोई भी दर्द हो जाय वह कष्टकारी होता ही है. आमतौर पर किसी भी काम को करने में हम अपने हांथों का इस्तेमाल करते हैं. कंधे इन सब में सबसे महत्वपूर्ण होते हैं इनका सीधा सम्बन्ध हांथों से होता है. यदि इनमें दर्द हो जाए तो उपचार के लिए कई पद्धतियाँ प्रयोग की जाती हैं.

एलोपैथ से कंधे के दर्द का इलाज

एलोपैथ उपचार का ऐसा माध्यम है जो किसी भी मर्ज में फौरी राहत प्रदान करता है लेकिन इस चिकित्सा के कई भयानक दुष्परिणाम लोगों को बाद में भुगतने पड़ते हैं. जब कंधे का दर्द हो तो डॉक्टर आमतौर पर पेनकिलर और कुछ एंटीबायोटिक से इसका उपचार करते हैं. इसके अलावा कई तरह की पेनकिलर क्रीम भी इस्तेमाल की जाती रही है. खासतौर पर एंटीबायोटिक दवाओं का साइड इफेक्ट शरीर पर बुरा असर डालता है.

यूनानी से कंधे के दर्द का इलाज

किसी भी मर्ज़ का जड़ से इलाज़ यूनानी में मौजूद होता है. यूनानी एक ऐसी चिकित्सा विधा होती है जो कंधे के दर्द का समूल विनाश का देती है. ख़ास बात यह है कि इस दवा का शरीर पर कोई भी दुष्परिणाम या साइड इफेक्ट नही होता.

आयुर्वेद से कंधे के दर्द का इलाज

कंधों में हो रहे दर्द का इलाज़ आयुर्वेद के माध्यम से भी किया जा सकता है. इसमें मौजूद जड़ी बूटियों से दर्द को काफी हद तक कम किया जा सकता है. मसलन अश्वगंधा, अमलतास जैसी जड़ी बूटियाँ कंधे के दर्द को कम करने में असरदार होती हैं. दिलचस्प यह है कि आयुर्वेद और यूनानी को एक साथ इस्तेमाल किया जा सकता है.

होम्योपैथ से कंधे के दर्द का इलाज

चीनी की छोटी-छोटी गोलियां तो आपने देखी ही होंगी. होम्योपैथ में इन्ही गोलियों में कुछ द्रव्य मिलाकर मरीज को खाने के लिए दिया जाता है. मसलन इसके साथ कंधों के दर्द को कम करने के लिए ब्रोनिया जैसी कुछ दवाइयों मरीजों को खाने या पीने के लिए दी जाती हैं. इस दवा के साथ अन्य विधा की दवाओं का सेवन डॉक्टर की देखरेख में लेने की जरूरत होती है.

कंधे के दर्द में क्या करें/ क्या ना करें
कंधे का दर्द होने पर कुछ बातों का ख़ास ख्याल रखना पड़ता है.
भोजन में वसा का कम से कम प्रयोग करें
कंधे का दर्द होने पर बर्फ से सिंकाई की जा सकती है.
दैनिक आहार में दूध फल और हरे पत्तेदार साग सब्जियों का सेवन करें
अंकुरित बीजों का सेवन करें
अल्कोहल को एकदम से ना कहें
धूम्रपान से बचें
ज्यादा मात्रा में पानी पीयें
दिनचर्या में सुधार करें/ नियमित करें
ज्यादा शारीरिक श्रम से बचें
नियमित योगा और व्यायाम करें
खाने के बाद कुछ दूर पैदल चलें
एक जगह बैठकर काम करने से बचें
खट्टे और ज्यादा मीठे पदार्थों को खाने से बचें

कोई टिप्पणी नहीं

Healths Is Wealth. Blogger द्वारा संचालित.