Header Ads

बेहतर शारीरिक संतुलन/मुद्रा के लिए कुछ योगासन

बेहतर शारीरिक संतुलन/मुद्रा के लिए कुछ योगासन |


बेहतर शारीरिक संतुलन/मुद्रा के लिए कुछ योगासन | 


क्या आप जानते हैं एक सही शारीरिक मुद्रा आपको लंबा, पतला और सबसे महत्वपूर्ण बात, वह आपको आत्मविश्वासी दिखाती है? और फिर भी, साधारणत: आज भी हम में से ज्यादातर में सही मुद्रा में बैठने का अभाव है । आज की आधुनिक जीवन शैली में लंबे समय तक रीढ़ को झुकाकर रखने से यह तनावपूर्ण हो गई है। अभ्रमण्शील नौकरी, लंबे समय तक काम और उपकरणों का अत्यधिक उपयोग हमारे शरीर को क्न्धों से झुका हुआ और कूबडा बनाते हैं।
हमारी कार्यप्रणाली इतनी बिगड चुकी है कि हम बैठना, चलना और सोने का तरीका तक भूल जाते हैं! और यही कारण है कि हम शरीर के विभिन्न भागों में दर्द के साथ अंतिम सांस लेते हैं। अपने खडे होने, बैठने और चलने के ढंग के प्रति सजग हो के, तथा नियमित रूप से कुछ आसन और योग मुद्राओं का अभ्यास करके, आप शारीरिक दर्द से छुटकारा पा सकते है।
एक सही मुद्रा क्या है? |What is a correct posture?
आपके शरीर को, सही मुद्रा में तब कहा जाएगा, जब यह इस तरह से गठित किया जाए कि पीठ सीधी हो, कंधे चौकस और आराम से, ठोड़ी सधी हुई, छाती बाहर, और पेट अन्दर हो। बस एक सीधी रेखा की तरह।
इस लक्ष्य को हासिल करने में योग कैसे मदद कर सकता है? |How yoga can help achieve this?

नियमित योग अभ्यास का पहला लाभ यह है कि यह जागरूकता लाता है। एक अच्छी मुद्रा के लिए अपनी शारीरिक क्षमता के बारे में जान समझ लेना आवश्यक है। ऎसे में जैसी अवस्था में आपका शरीर होगा, वैसे में योग आपकी मदद करेगा । सजगता के साथ निम्न आसनों(मुद्राओं) का अभ्यास करके अपने शरीर की स्थिती को सही करें।
7 tips to get your posture right | अपनी मुद्रा को ठीक करने के लिए ७ सुझाव
ताडासन(पेड मुद्रा)
भुजंगासन (सांप मुद्रा)
सर्वदिशा पीठ खिंचाव
मार्जरी आसन(बिल्ली मुद्रा)
शिशु आसन (बाल मुद्रा)
योद्धा आसन (योद्धा मुद्रा)
कुर्सीआसन (कुर्सी मुद्रा)
1
ताडासन (पेड मुद्रा)
ठीक से खड़ा होना सीखने के लिए यह सबसे अच्छी मुद्रा है।
2
भुजंगासन (सांप मुद्रा)
यह वक्षस्थल और कंधों को खोलने के लिए मदद करता है; और कमर को भी मजबूत बनाता है।

3
शिशु आसन (बाल मुद्रा)

यह शारीरिक मुद्रा में सुधार के लिए एक प्रभावी खिंचाव है, पीठ की मांसपेशियों को मजबूत बनाने, रीढ़ की हड्डी को लंबा करने, और थकी हुई पीठ को आराम देता है।
4
मार्जरी आसन (बिल्ली मुद्रा)

यह रीढ़ की हड्डी को और अधिक लचीला बनाने के लिए बहुत अच्छी मुद्रा है।
5
वीरभद्रासन (योद्धा मुद्रा)

यह एक बहुत ही सुंदर योग मुद्रा है जो कि कंधे की मांसपेशियों को राहत देता है और पीठ के निचले हिस्से और घुटनों की मसाज भी करता है।
6
उत्कटासन (कुर्सी मुद्रा)
पीठ के निचले हिस्से, कूल्हों और घुटनों के लिए यह एक उत्कृष्ट आसन है। यह घुटनों और कूल्हों की हड्डी को आराम और गर्माहट देता है।
7
सर्वदिशा पीठ खिंचाव

यह शारीरिक मुद्रा में सुधार के लिए एक प्रभावी खिंचाव है, पीठ की मांसपेशियों को मजबूत बनाने, रीढ़ की हड्डी को लंबा करने, और थकी हुई पीठ को आराम देता है।
अपनी मुद्रा को ठीक करने के लिए अन्य सुझाव |Other tips to get your posture right
1
सचेतता के साथ

प्रयास करें, झुके हुए, ढीले-ढाले नहीं रहें। झुके हुए होने से हमारे फेफडे मुड जाते हैं जो शरीर के लिए ऑक्सीजन के प्रवाह को संकुचित करते हैं और यह सिर दर्द का कारण बनता है । सोफे पर ढीले ढाले बैठ कर टेलीविजन देखने की कोशिश नहीं करें। इसके बजाय सीधे और आराम से बैठे।
2
सही बैठे

अधिकांश लोग घुटने के दर्द की शिकायत करते हैं, क्योंकि वे अपने घुटनों की वजह से अपने टखने पर बैठने में असहज महसूस करते हैं। सुनिश्चित करें कि आपके पैर आपका अच्छी तरह से सहयोग कर रहे हैं और जमीन पर समान रूप से टिके हुए हैं। जब बैठे तब टखनों को घुटनों के साथ लाइन में होना चाहिए। यहां तक ​​कि जब ध्यान में बैठें, तो सीधे बैठ कर अभ्यास शुरू करें।
3
अपनी मुद्रा को सही रखने के लिए अनुस्मरणियता (यादगिरी) को तय करें

यह विशेष रूप से शुरुआत में आपकी मदद करेगी। अपने काम के मेज पर ध्यान दिलाने वाली चिट्ठी चिपका कर रखें, टेलिवीजन के पास, दीवारों पर, या अपने फोन पर ध्यान दिलाने वाला संदेश दर्ज करें जोकि आपको सीधे बैठने, सीधे खड़े होने और सीधे चलने के लिए कह रहा हो ।
4
अपने शरीर के वजन को दोनों कंधों पर समान रूप से लें
यह लेपटोप लेकर, कार्यालय जाने वाले, ज्यादातर कर्मियों द्वारा दोहराई जाने वाली गलती है । ज्यादातर लोग युवावस्था में ही लगातार पीठ दर्द या कंधे में दर्द की शिकायत करते हैं। कोशिश करो एक लैपटॉप बैग (दो पट्टियों वाला) लो, जो समान रूप से दोनों कंधों पर आपके शरीर का वजन वितरित करता है । अन्यथा, सुनिश्चित करें कि आप अक्सर एक कंधे से दूसरे कंधे पर बैग का स्थानांतरण कर रहे हैं।
5
जब आप वजन उठाते हैं तो सही दिशा निर्देशों का पालन करें

अधिकांश लोग, कुछ भारी वजन उठाने की प्रक्रिया में, अपनी पीठ को चोट पहुंचा लेते हैं क्योंकि वे ऐसा करने में सही प्रक्रिया का पालन नहीं करते। जब आप वजन उठाते हैं, तो हमेशा याद रखें कि सबसे पहले अपने घुटने मोड़ लें और फिर अपनी पीठ को ।

एक सही शारीरिक मुद्रा लम्बे समय तक आपके शरीर को सही आकार में रखने के साथ ही होशियार व आत्मविश्वासी बनाती है।

कोई टिप्पणी नहीं

Healths Is Wealth. Blogger द्वारा संचालित.