Header Ads

महिलाएं जरूर जाने वजाइना से जुड़ी कुछ गंभीर बातें


महिलाएं जरूर जाने वजाइना से जुड़ी कुछ गंभीर बातें



आजकल की दुनिया में हर महिलाएं और पुरुष स्वस्थ रहने के लिए अपने शरीर के हर अंग पर ध्यान देते हैं। जैसे लीवर,दिल फेफड़े की जानकारी आदि कई ऐसी चीजों के बारे में जानकारी रखते हैं और इसे स्वस्थ रखने के लिए कई तरह के व्यायाम और दवाइयों का सेवन करती है। परंतु महिलाओं को वजाइना के बारे में ज्यादा जानकारी नहीं होती है जिसके कारण उन्हें कभी कभी काफी परेशानियों का सामना करना पड़ता है। इसीलिए आज हम आपको वजाइना से जुड़ी कुछ खास बातें बताने वाले हैं।

कई बार महिलाएं गर्भावस्था से बचने के लिए गर्भनिरोधक गोलियों का प्रयोग करती है। जो महिलाओं के लिए अच्छा नहीं होता है। क्योंकि यह ओवरीज मैं अंडे के खराब होने की निशानी होती है। ऐसी महिलाओं को गर्भवती होने में दिक्कत का सामना करना पड़ता है। अगर किसी महिला के वजाइना के पास सफेद या लाल रंग के निशान बनते हैं तो इसे नजरअंदाज नहीं करना चाहिए क्यों कि यह ओवेरियन कैंसर होने की निशानी होती है। इसके कारण वजाइना के अंदरूनी इससे संक्रमित हो जाते हैं और धीरे-धीरे जानलेवा साबित होते हैं इसी कारण से महिलाओं को वजाइना का ख्याल रखना बहुत जरूरी होता है।

अगर किसी महिला के वजाइना से सफेद रंग का स्त्राव निकलता है तो यह सफेद पानी लिकोरिया का लक्षण भी हो सकता है इसके कारण महिलाओं के घरवा से संक्रमित हो जाते हैं और धीरे-धीरे बीमारी का रूप ग्रहण कर लेते हैं इसलिए महिलाओं के गर्भधारण नहीं हो पाते हैं। ऐसा होने पर महिलाओं को तुरंत डॉक्टर की राय लेनी चाहिए।https://www.healthsiswealth.com/

दोस्तों हमारे द्वारा जानकारी आपको कैसी लगी हमें कमेंट द्वारा जरूर बताएं और हमारे चैनल को लाइक, शेयर और फॉलो करें।


गर्ल्‍स, यकीन मानिए वजाइना से जुड़ी ये बातें आपको भी मालूम नहीं होंगी!

मह‍िलाएं अपनी पर्सनल हाइजीन को लेकर बहुत सर्तक रहती है, वो अपने शरीर के हर ह‍िस्‍से की सफाई का पूरा ध्‍यान रखती है लेकिन कुछ महिलाएं होती है जो प्राइवेट पार्ट की सफाई को नजरअंदाज करती हैं, जो कि सरासर गलत है। क्‍योंकि ये विषय महिलाओं के स्‍वास्‍थय से जुड़ा अहम हिस्‍सा होता है।

कई महिलाएं प्राइवेट पार्ट की सफाई और इससे जुड़े विषयों पर बात करने से कतराती है और कई तरह के भ्रम दिमाग में बिठा लेती है। महिलाओं को ये बात समझनी जरुरी है कि वजाइना की केयर और सफाई उतनी ही जरुरी है जि‍तनी की शरीर के बाकी हिस्‍सों की सफाई जरुरी है।

हम आज वजाइना हेल्‍थ से जुड़े विषयों के बारे में। ये बातें तो आपको पता होनी ही चाहिए!
वजाइना से आने वाली गंध

हर किसी की बॉडी की अपनी एक अलग महक होती है। हो सकता है कभी आपको ऐसा लगे कि आपकी वजाइना से ऐसी कोई महक आ रही है, तो इससे परेशान होने की कोई जरूरत नहीं है। क्योंकि कई बार पसीने और डिस्चार्ज की वजह से भी ऐसा होता है। बस एक नॉर्मल वॉश के बाद यह बंद हो जाएगी। लेकिन अगर आपको लगता है कि ऐसा लगातार हो रहा है और ये महक बहुत तेज़ है तो एक बार अपनी डॉक्टर से चेकअप करा लेने में कोई दिक्कत नहीं है।
प्‍यूबिक हेयर हटाने जरुरी है?

प्‍यूबिक हेयर को आप ट्रिम करना चाहती हैं या हटाना चाहती हैं ये आपको सोचना चाहिए क्‍योंकि इससे आपकी वजाइनल हेल्थ पर कोई effect नहीं पड़ता। बस इन्हें रिमूव या शेव करते समय सावधानी बरतें। ताकि कहीं कट न लग जाए।
व्‍हाइट डिस्‍चार्ज होना
वजाइना से होने वाला व्‍हाइट डिस्चार्ज पूरी तरह से सामान्‍य है। व्‍हाइट डिस्‍चार्ज इस बात का संकेत है कि आपका वजाइना स्‍वस्‍थ है। व्‍हाइट डिस्‍चार्ज एक प्रकिया जिससे कि आपका वजाइना स्‍वस्‍थ रहता है। पी‍रियड के बाद होने वाले डिस्चार्ज को लेकर परेशान न हों। अगर जब तक आपके डिस्‍चार्ज का रंग सफेद की जगह हल्का पीला या हल्‍का लाल न हो जाएं या इससे बदबू आनी शुरु हो जाए तो आपको ग्‍यानी से जाकर मिल आना चाहिए।

महिलाओं की योनी कितने प्रकार के होती हैं और क्या होता हैं उसमे ख़ास जाने आप भी…

महिलाओं की योनि (Vagina) कितने प्रकार की होती हैं, महिलाओं का मुख्य जननांग वेजाइना (योनि) कहलाता है। जिस तरह से हर महिला अलग होती है और उनकी शख्सियत भी अलग होती है उसी तरह वेजाइना का प्रकार भी अलग-अलग होते है। अधिकांश महिलाओं को भी यह बात ज्यादा पता नहीं होती है। विभिन्न प्रकार के रिसर्च में ये पाया गया है कि जिस तरह लोगों के फिंगर प्रिंट विभिन्न प्रकार के होते हैं उसी तरह महिलाओं के वेजाइना का आकार (योनि के प्रकार)भी भिन्न-भिन्न होता है। हर वेजाइना का आकार और आकृति यानि की शेप और साइज अलग होता है।



वेजाइना के मुख्यत: 21 प्रकार होते हैं लेकिन आमतौर पर जो प्रकार महिलाओं में अधिक पाया जाते हैं उनकी संख्या 8-10 होती है। इस आर्टिकल में हम विस्तार से वेजाइना के प्रकार, आकार और आकृति के बारे में बताने जा रहे हैं ताकि हर वेजाइना के बारे में बेहतर ढंग से समझ पाएं। आइए जानते हैं वेजाइना के अलग-अलग टाइप के बारे में।


यह आकार महिलाओं की अधिकतर वेजाइना का पाया जाता है। यह तब होता है जब लेबिया मिनोरा लेबिया मेडा के बीच से बाहर निकलता है। यह उसी प्रकार दिखाई देता है जिस प्रकार किसी चीज को सही तरह से पैक नहीं किया गया हो। वेजाइना के इस प्रकार के बारे में अक्सर सोचा है जाता है कि वेजाइना में कोई बीमारी है या वेजाइना का प्रकार सही नहीं हैं। वेजाइना का आकार इस तरह का होना कोई बीमारी नहीं है बल्कि यह वेजाइना का सही प्रकार है और आप बिल्कुल स्वस्थ हैं।

वजाइना का ये प्रकार अधिक खुला होता है और ऊपर से चौड़ा दिखाई देता है। इस आकार में लेबिया मिनोरा थोड़ा सा बाहर निकला हुआ दिखाई देता है क्योंकि ये अधिकतर लेबिया मेडा के अंदर ही होता है। ये वेजाइना एक प्रकार से बंद होती है और इसका शेप घोड़े की नाल जैसा होता है इसलिए इसे होर्स शू वेजाइना कहा जाता है। योनि का यह प्रकार तीसरा मुख्य प्रकार है जो महिलाओं में पाया जाता है।



वजाइना में ड्रायनेस

वजाइना में ड्रायनेस होना एक आम समस्या है। इसलिए इसको लेकर परेशान न हों। ये हार्मोनल बदलाव या Stress की वजह से भी हो सकता है। वजाइना में सूखापन के कारण संभोग के दौरान आपको बहुत दर्द हो सकता है। इस दिक्‍कत को दूर करने के ल‍िए डॉक्‍टर से सलाह लें।

प्राकृतिक लुब्रीकेंट

महिलाओ की योनि में प्राकृतिक लुब्रीकेंट (स्नेहक) पाया जाता है. जिसे स्कुआलेन भी कहते है। जो संभोग के दौरान नेचुरल तरीके से योनी को लुब्रीकेंट करता है ताकि महिलाओं को संभोग के दौरान दर्द न हो।

134 बार चरमसुख की करती है प्राप्ति
कई लोगों का मानना है कि महिलाओं का आसानी से ऑर्गेज्‍म नहीं आता है लेकिन आपको जानकर हैरानी होगी कि महिलाए एक घंटे के समयकाल के दौरान 134 बार चरमसूख तक पहुंच पाने में सफल होती है। वही पुरुष केवल 16 बार चरम सुख तक पहुंचने में सफल होते है।

क्लिोटोरिस
क्लिोटोरिस, वुल्‍वा के सबसे अंदर का छोटा और सेंसेटिव भाग होता है। सेक्स को दौरान बहुत अधिक उतेजना या मास्‍टररबेट से भी Clitoris में दिक्कत हो सकती है। इसके अलावा लंबे समय तक स्किनी जींस पहनना भी कई बार दिक्कत भरा हो सकता है।

वजाइना के शेप में फर्क

ये आसानी से फैलने और मान लिया जाने वाला भ्रम है कि जो महिलाएं लंबे समय तक सेक्सुअली बहुत ज्यादा एक्टिव रहती हैं, उनकी वजाइनल मसल्स ढ़ीली पड़ जाती है। जबकि जो महिलाएं कम सेक्स करती हैं उनके साथ सेक्स करने में पुरुषोंको ज्यादा आनंद मिलता है। या वो खुद भी सेक्स को ज्यादा एंजॉय कर पाती हैं। दरअसल वजाइना की मसल्स के टिश्‍यू Naturally सिकुड़कर अपनी शेप में आ जाते हैं। इसलिए इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप सेक्‍सुअली कितनी एक्टिव हैं।
वजाइना का साइज़ और कलर

Internet या दूसरे mediums पर देखने के बाद कई बार आपको लग सकता है कि आपकी vagina या labia (the outer lips ) का शेप या कलर तो ऐसा नहीं है। अगर आपको कभी भी ऐसा लगा है तो इसे लेकर परेशान न हो। हमारे Body Parts उनका कलर या साइज़ दूसरों से लाइट, डार्क, छोटे या बड़े हो सकते हैं। asymmetrical labia भी पूरी तरह Normal है।
फटती नहीं है हाइमन
आपने अक्‍सर सुना होगा कि पहली बार शारीरिक सम्‍बंध बनाने पर हायमेन फट जाती है और खून निकलता है जिससे ही महिला के कौमार्य का पता चलता है। यह बात सिर्फ एक मिथक है। यह कभी फटती नहीं बल्कि खींचती है। यह कोई बुलबुला या दाना नहीं है बल्कि ऊतक का एक हिस्‍सा है। डिलीवरी और सेक्‍सुअली एक्टिव रहने के कारण हाइमन की संरचना में बदलाव आ जाता है, इस दौरान इसमें आने वाले परिवर्तन को साफ तौर पर देखा जा सकता है। यह बहुत स्‍मूथ और आसानी से स्‍ट्रेच हो जाता है।

कोई टिप्पणी नहीं

Healths Is Wealth. Blogger द्वारा संचालित.