Header Ads

पीठ दर्द


सोने से पहले पानी के एक बर्तन में थोड़ी सी मूंग ओर मूंगफली को भिगो दें। सुबह या दूसरे दिन जब इनमे अंकुरण आ जाये तब इसको नास्ते में इस्तेमाल करने से पैर दर्द की समस्या दूर होने लगती है। मूंगफली और मूंग में प्रचुर मात्रा में कैल्शियम की भरपूर मात्रा होती है जो मेहनत के दौरान हड्डियों के फ्लूड को नियंत्रित तो करती ही है अपितु हड्डियों में मौजूद नर्म ऊतकों को नई ऊर्जा प्रदान कर मजबूती प्रदान करता है। इसके अलावा भिगोए हुए अंकुरित चने भी हड्डियों को मजबूती प्रदान करते हैं। अंकुरित अनाजों का भरपूर सेवन करने से मनुष्य को प्रचुर मात्रा में कैलोरी प्राप्त होती है और हड्डियों संबंधित रोग होने की संभावना भी कम हो जाती है।
पीठ दर्द में घर उपचार के लिए अदरक बेहद काम की चीज होती है। अदरक ऐसी प्राकृतिक पेन किलर मानी जाती है जिसका असर शरीर पर चंद मिनटों में हो जाता है। अदरक के अर्क को कई रूपों में उपयोग में लाया जाता है। पीठ में दर्द के दौरान एक चम्मच अदरक के अर्क में एक चम्मच देशी शहद मिलाकर दिन में 2 बार इस्तेमाल करने से दर्द में आराम होने लगता है। इसके अलावा अदरक की चटनी बनाकर इस्तेमाल में लाने से हड्डियों को भरपूर मात्रा में कैल्शियम की आपूर्ति होती है। हड्डियों में नई ऊर्जा और मज्जा में फ्लूड की हिफाजत करने में भी अदरक का बेहद अहम योगदान होता है। अदरक को सलाद और सब्जियों में मिलाकर रोजाना इस्तेमाल करने से पीठ का दर्द दूर होने लगता है।



लहसुन ऐसा प्राकृतिक पेन किलर है जिसका प्रयोग आयुर्वेद और यूनानी दवाओं के निर्माण में भी किया जाता है। लहसुन की एक कली को छीलकर खाली पेट सेवन करने से वात और पित्त जैसी समस्या दूर हो जाती है। कई परिस्थितियों में वात रोग भी कूल्हे दर्द का कारण बन जाता है। इसके अलावा लहसुन की 5 से 6 कलियों को हल्का कूटकर पानी मे उबालकर सूप की तरह इस्तेमाल करने से हड्डियों में दर्द दूर तो होता ही है बल्कि शरीर में कैल्शियम की आपूर्ति भी होती है। खान पान में लहसुन का सेवन शरीर से यूरिक एसिड जैसे तत्वों को बाहर निकलकर हड्डियों को मजबूत बनाता है।

सेब के सिरके का उपयोग लम्बे अरसे से दर्द नाशक के तौर पर किया जाता रहा है. यह सिरका मांसपेशियों में होने वाले दर्द में राहत पहुंचाने के साथ कमर दर्द के लिए अचूक माना जाता है. जब भी आपको कमर दर्द सताए तब एक गिलास पानी में एक से दो चम्मच सिरका डालकर पी लें. यह उपाय आपको दर्द से छुटकारा दिला देगा.

कमर दर्द में राहत पाने के लिए चुकंदर का जूस और पपीते का सेवन भी फायदेमंद माना जाता है. इसके अलावा मौसमी फलों का सेवन दर्द में लाभ पहुंचाने काम करता है. यदि आपको दर्द में राहत पाना है तो अपनी जीवनशैली में बदलाव करना जरूरी होता है. खासकर कमर दर्द के रोगियों को तली भुनी चीजों और जंक फ़ूड से बचकर रहने की जरूरत होती है.

आज की भागदौड़ भरी जिंदगी में लोग इतना व्यस्त हो गए हैं कि खुद के लिए वक़्त निकालना बहुत मुश्किल हो गया है. जिस कारण से बहुत ही कम उम्र में ही उन्हें जोड़ों के दर्द का सामना करना पड़ता है. आज के समय में जोड़ों का दर्द होना आम बात हो गया है. आज हर उम्र के लोग इस बीमारी से परेशान है. लेकिन क्या आप जानते हैं कि ऐसे कई हेल्थ टिप्स हैं. जिनकी मदद से आप अपने जोड़ों के दर्द से छुटकारा पा सकते हैं. वैसे कोशिश करें कि आपको कभी कोई बीमारी ही ना हो. इसके लिए प्रतिदिन एक घंटा निकालकर व्यायाम करने से आप सभी बीमारियों को दूर रख सकते हैं.


क्या आप जानते हैं आम तौर पर खाए जाने वाला नींबू कितना लाभकारी होता है? नींबू का इस्तेमाल कई हेल्थ टिप्स में किया जाता है. इस फल में कई तरह के पोषक तत्व और विटामिन होते हैं.जैसे मैग्‍नीशियम, पोटैशियम, कैल्शियम, फोलिक एसिड, पेक्टिन, फॉस्‍फोरस, विटामिन ए, सी, बी1, बी6. इसके अलावा जोड़ों के दर्द में नींबू के छिलके का इस्तेमाल कर के आप दर्द से छुटकारा पा सकते हैं.

कैसे करें इसका इस्तेमाल?

सबसे पहले दो नींबू के छिलकों को निकाल लें और इसे 200 एमएल ऑलिव ऑयल में मिला कर एक बंद बोतल में रख दें. इस मिश्रण को दो हफ्ते तक ऐसे ही छोड़ दें. दो हफ्ते बाद इस मिश्रण को दर्द वाले जगह पर लगाएं. तेल को लगाने के बाद अपने जोड़ों पर गर्म पट्टी बांधकर रात भर छोड़ दें. ऐसा करने से आपको काफी हद तक आराम मिलेगा. इस प्राकृतिक हेल्थ टिप्स को एक महीने तक लगातार अपनाएं. डॉक्टर्स जब भी किसी मरीज को हेल्थ टिप्स देते हैं तो अक्सर इस बात का जिक्र करते हैं कि अपनी डाईट सही रखें और दिन में एक बार व्यायाम जरुर करें. ऐसा करने से आपको कई बीमारियों से छुटकारा मिलता है.
मेंथी ऐसा पदार्थ है जो हर घर की रसोई में आसानी से उपलब्ध रहता है। यदि किसी चोट के चलते कूल्हे में दर्द जैसी स्थिति हो रही हो तब मेथी दाने को पानी मे भिगोकर उसका पेस्ट बना लें। पेस्ट में चुटकी भर लाल मिर्च मिलाकर अच्छे से फेंट लें। अब इस पेस्ट को कूल्हे में दर्द की जगह लेप दें। करीब आधे घंटे तक इस पेस्ट को लगा रहने दें। थोड़ी देर बाद दर्द समाप्त होने लगेगा। इसके अलावा मेथी के पानी खाली पेट सेवन करने से कूल्हे में दर्द जैसी समस्याओं से छुटकारा प्राप्त होता है। मेथी ऐसा तत्व होता है जो शरीर से कब्ज और वात जैसे विकारों को खत्म कर हड्डियों के जोड़ों को मजबूत करता है साथ ही मज्जा में फ्लूड की मात्रा का विकास भी करता है।


कोई टिप्पणी नहीं

Healths Is Wealth. Blogger द्वारा संचालित.