Header Ads

बिना किसी तकलीफ़ के पेट का मोटापा कम करने के लिये

  1. 7 टिप्स: बिना किसी तकलीफ़ के पेट का मोटापा कम करने के लिये

सही पोषण पाने के लिये स्वस्थ खाना खाने और एक एक्सरसाइज रूटीन अपनाने से आप अपना पेट कुछ इंच तक घटा सकते हैं और एक बढ़िया फिगर पा सकते हैं।

शरीफा खाने के 9 लाभ
4 स्टेप : ये फैट बर्न करने की आपकी क्षमता बढ़ाने में शानदार हैं
आपके मोटापे के 5 कारण जिनका आपकी डाइट से कोई सम्बन्ध नहीं है
क्या आप अपने पेट का मोटापा घटाना चाहती हैं?

ये टिप्स उन लोगों के लिए बहुत मददगार साबित होंगे जो ज्यादा स्लिम और हेल्दी फिगर पाना चाहते हैं। आपको स्वस्थ आहार और रोज़मर्रा की आदतों पर ध्यान केंद्रित करना होगाताकि आपका टॉर्सो ज्यादा टोन्ड दिखे और आप फ़ालतू फैट से भी छुटकारा पा सकें।

कुछ लोग इस लक्ष्य को छोड़ देते हैं क्योंकि वे एक खास डाइट अपनाते हैं और उन्हें कई किस्म की तकलीफ़ों का सामना करना पड़ता है। जबकि भूखे रहे बिना या न्यूट्रिशन की कमी का सामना किये बिना भी वजन घटाने के सुरक्षित और असरदार तरीके मौजूद हैं।

क्या आप जानना चाहती हैं?

इससे पहले कि हम इसकी शुरुआत करें आपके लिये यह समझना ज़रूरी है कि आपके नतीजे आपके प्रयासों पर निर्भर करेंगे। वजन घटाने का कोई भी ऐसा प्लान नहीं है, चाहे वह कितना भी अच्छा क्यों न हो, जिससे रातों-रात नतीजे सामने आ जाएं।

अगर आप पेट का मोटापा कम करना चाहती हैं और अपने कपड़ों की साइज़ कुछ कम करना चाहती हैं, तो आपको लगातार इनका पालन करते रहना होगा।
1. ज्यादा से ज्यादा मूत्रवर्धक पदार्थों का सेवन करें (Eat More Diuretic Foods)


पेट का मोटापा असरदार तरीके से कम करने का एक तरीका नियमित रूप से मूत्रवर्धक खाद्य पदार्थों और ड्रिंक को अपने आहार में शामिल करना है। भले ही लोग अक्सर इसे अनदेखा करते हैं, उनके शरीर के मोटापे में फ्लूइड रिटेंशन भी जुड़ा हो सकता है।

इसके अलावा, इनमें मौजूद गुण आपके लिम्फेटिक सिस्टम को बेहतर बनाते हैं, जो टॉक्सिन को हटाने और मेटाबोलिज्म को बेहतर बनाने के लिए बहुत महत्वपूर्ण है।

हम सबसे ज्यादा किन चीजों की सलाह देते हैं?
सेलरी और प्याज का सूप
अनानास का जूस
सेलरी स्मूदी (celery smoothie)
पार्सले टी (Parsley tea)
तरबूज (खाली पेट)
लेटस और प्याज का सलाद
आर्टीचोक अर्क (artichoke infusion)


इसे भी पढ़ें : वज़न घटाने में बेकिंग सोडा का इस्तेमाल करें
2. साबुत खाद्य खाएं (Eat Whole Foods)



वे डाइट प्लान जो आपके कार्बोहाइड्रेट में कटौती करने का सुझाव देती हैं निश्चित रूप से फ़ायदेमंद नहीं हैं। ये माइक्रो-न्यूट्रीअन्ट शरीर के लिये ऊर्जा के मुख्य स्रोत होते हैं और उसके कई कार्यों में शामिल रहते हैं।

आपको यह ध्यान रखना होगा कि रिफाइंड कार्बोहाइड्रेट पेट के आसपास फैट के जमाव को बढ़ाते हैं और इसलिए साबुत-अनाज से मिलने वाले कार्बोहाइड्रेट का चयन करना सबसे सही रहता है। वे पाचन के लिए भी अच्छे होते हैं क्योंकि उनमें डायटरी फाइबर और ज़रूरी पोषक तत्व मौजूद होते हैं।

कुछ सबसे अच्छे विकल्प इस प्रकार हैं:
साबुत जई
व्होलमील ब्रेड (Wholemeal bread)
राई का आटा
गेहूं के अंकुर (Wheat germ)
कॉर्नफ़्लेक्स
3. ऑलिव ऑयल का सेवन करें (Consume Olive Oil)


बिना किसी तकलीफ़ के पेट का मोटापा कम करने के लिए आपको लगातार संतुलित आहार लेते रहना होगा। प्रोटीन और कार्बोहाइड्रेट का सेवन करने के साथ-साथ आपको अपनी डाइट में कुछ ऐसे खाद्य पदार्थों को भी शामिल करना होगा जिसमें एक संतुलित मात्रा में फैट हो।

हालांकि, इसका मतलब तली हुई चीजें, फूलक्रीम दूध या सैचुरेटेड फैट में पकाया हुआ माँस खाने से नहीं है। आपको फैट के स्वास्थ्यवर्धक स्रोतों का चयन करना होगा जैसे कि ऑलिव ऑयल।


मेडिटेरेनियन डाइट के इस समूह में विटामिन E और फैटी एसिड होते हैं, जो आपके कार्डियोवैस्कुलर हेल्थ के लिए बहुत फ़ायदेमंद होते हैं।
4. अधिक मात्रा में ताजी सब्ज़ियाँ खाएं (Eat More Fresh Vegetables)


अगर आप पेट का मोटापा कम करना चाहते हैं तो ताजी सब्ज़ियाँ बहुत फ़ायदेमंद हैं। क्योंकि उनमें सभी पोषक तत्व मौजूद होते हैं। वे मेटाबोलिज्म को बेहतर बनाने में मदद करते हैं और शरीर से फ्लूइड और टॉक्सिन को बाहर निकालने को बढ़ावा देते हैं।

सब्जियों में डाइटेटिक फाइबर (dietetic fiber) और डाइजेस्टिव एंजाइम भी होते हैं, जो आँतों के कामकाज को बढ़ावा देते हैं, जिससे कब्ज को रोकने में मदद मिलती है। साथ ही, वे बहुत पेट भराऊ होते हैं। ये आपको स्नैकिंग को रोकने में मदद करते हैं, जो अक्सर लोगों की डाइट को ख़राब कर देती है।

5. दोपहर में स्नैक के रूप में नट्स (Nuts as an Afternoon Snack)



दोपहर में कैलोरी से भरे स्वास्थ्य के लिये नुकसानदायक स्नैक्स का सेवन करना निश्चित रूप से पेट का मोटापा कम करने के लिए आपकी योजना में मदद करने वाला नहीं है। यह आपके द्वारा अपने खाने और शारीरिक व्यायाम के साथ की गयी मेहनत को बर्बाद कर देगा। इसलिए दोपहर में अपनी भूख को शांत करने के लिए थोड़े नट्स से बेहतर कुछ नहीं है।

एक मुट्ठी नट्स आपकी भूख को शांत कर देंगे। उनमें मौजूद ओमेगा-3 फैटी एसिड, प्रोटीन और एंटीऑक्सिडेंट की मात्रा के कारण, वे फैट जलाने के लिए बढ़िया होते हैं और साथ ही आपके दिल के स्वास्थ्य के लिए भी अच्छे होते हैं।
6. रोज़ाना फिजिकल एक्सरसाइज करें (Do Regular Physical Exercise)


जब आप पेट का मोटापा कम करने की कोशिश कर रहे हों तो फिजिकल एक्सरसाइज से कोई तकलीफ़ नहीं होनी चाहिए। ऐसी कई अलग-अलग एक्सरसाइज हैं जो आपको मुश्किल या इंटेंसिव रूटीन को अपनाये बिना एक्टिव रहने में मदद कर सकती हैं।

महत्वपूर्ण बात यह है कि अगर आप पेट का मोटापा कम करना चाहते हैं तो रोज़ाना एक्सरसाइज करना बिल्कुल न भूलें। इतना ही नहीं, व्यायाम आपकी मांसपेशियों को भी अच्छी स्थिति में रखेगा और आपके फिगर को बेहतर बनाएगा।

क्या आप जिम नहीं जाना चाहते?

इन एक्सरसाइज को आजमायें:
स्विमिंग
टहलना (Walking)
घर पर एक्सरसाइज करें
सायक्लिंग
योगा या पिलेट्स
जुम्बा या डांस क्लासेस
पेट की एक्सरसाइज
7. शुगर और सोडियम के सेवन को कम करें (Limit Your Intake Of Sugar And Sodium)



जिन खाद्य पदार्थों में बहुत ज्यादा शुगर या सोडियम होता है, वे अक्सर खराब स्वास्थ्य और वजन बढ़ने के लिए जिम्मेदार होते हैं। हालाँकि यूँ तो उनमें से कई हानिकारक नहीं लगते हैं, लेकिन उन्हें अपने भोजन में शामिल करने से आपके शुगर का सेवन बढ़ेगा और वजन बढ़ने की संभावना बढ़ जाएगी।

ये पेट के चारों ओर फैट के जमने का कारण बनते हैं और वे फ्लूइड रिटेंशन की समस्या भी पैदा कर सकते हैं। इसलिए आपको अपने चीनी और नमक के सेवन को कम करने की जरूरत है।

खाद्य पदार्थ जिनमें ये हो सकते हैं:
क्युर्ड सॉस (Cured sausages)
पेस्ट्री और केक
चिप्स और स्नैक्स
प्री-कुक्ड और डिब्बाबंद चीजें
आइस-क्रीम और मिल्कशेक
जूस और फ़िज़ी ड्रिंक्स (fizzy drinks)

संक्षिप्त में, अगर आप अपने पेट का मोटापा घटाना चाहती हैं, तो आपको कड़े संयम वाली डाइट लेने की जरूरत नहीं है जो आपको तकलीफ़ दे। हालाँकि परिणाम देखने के लिये थोड़ा समय लगेगा, लेकिन आपको स्वस्थ आहार और कुछ शारीरिक व्यायाम के साथ ज्यादा सफलता मिल सकती है।


40 की उम्र से ऊपर वाले लोगों के लिए आदर्श एक्सरसाइज
0शेयर किया गया 

शरीफा खाने के 9 लाभ
4 स्टेप : ये फैट बर्न करने की आपकी क्षमता बढ़ाने में शानदार हैं
आपके मोटापे के 5 कारण जिनका आपकी डाइट से कोई सम्बन्ध नहीं है


जैसे-जैसे उम्र बढ़ती है, आपके शरीर की प्रतिरोधक क्षमता कम होती जाती है। आपकी मांसपेशियां, त्वचा और हड्डियां, सभी धीरे-धीरे कमज़ोर पड़ने लगती हैं। 40 की उम्र से ऊपर वाले लोगों को इस ओर से सतर्क होना पड़ता है।

बढ़ती उम्र कभी भी अपने लक्ष्य हासिल करने में बाधा नहीं बन सकती है। न ही आप इसे अपनी देखभाल बंद करने का बहाना बना सकते हैं। ज़रूरत केवल एक्सरसाइज करने के लिए प्रेरित होने और स्वस्थ जीवनशैली अपनाने की है। आपको इसके नतीजे भी जल्द नज़र आने लगेंगे।

इसी कारण, समय बीतने के साथ हम सभी को वे विशेष काम करने में परेशानी होने लगती है जो पहले हम आसानी से कर लेते थे।

इस पोस्ट में हम आपको बताएंगे उन एक्सरसाइज के बारे में, जो 40 की उम्र से ऊपर के लोगों के लिए आदर्श हैं।
एक्सरसाइज करने के हैं कई फ़ायदे



टहलना, कोई चीज़ उठाना, दौड़ना, लिखना, खाना बनाना या कपड़े पहनना जैसी कुछ आम गतिविधियां हैं जिन्हें करने में 40 की उम्र से ऊपर के लोगों को परेशानी होती है।

इनसे बचने के लिए आपको अपना शरीर चुस्त-दुरुस्त रखना चाहिए, खुद को सक्रिय रखते हुए एक्सरसाइज करते रहना चाहिए, भले ही आपकी उम्र कम हो या ज़्यादा।

अगर आप अक्सर बैठे-बैठे काम करते हैं तो आपकी मांसपेशियों में दर्द की संभावना बढ़ जाती है। एक्सरसाइज की कमी से आपकी हड्डियों और धमनियों के लिए भी समस्याएं खड़ी हो सकती हैं।

यहां एक बात स्पष्ट कर दें। हम इस बात की सलाह नहीं देते हैं कि 40 की उम्र से ऊपर आप बहुत ज़्यादा एक्सरसाइज करें या इसके उलट वजन बढ़ा लें।


इसे भी पढ़ें: 4 मिनट की जापानी ट्रिक से बनायें पत्थर की तरह सख्त ऐब्स

शरीर में ऑक्सीजन की आपूर्ति बढ़ाने, मांसपेशियों और अंगों को चुस्त-दुरुस्त रखने के लिए एक्सरसाइज करना बहुत अच्छा रहता है।


जैसे-जैसे वर्ष बीतते जाएंगे, आप अपने एक्सरसाइज करने के फैसले पर गर्व महसूस करेंगे। आपका शरीर मज़बूत और ऊर्जावान बना रहेगा। साथ ही, आपके बीमार पड़ने का ख़तरा भी बहुत कम हो जाएगा।

दरअसल, एक स्टडी में पता चला है कि 40 वर्ष की उम्र से ऊपर स्ट्रेंथ एक्सरसाइज करने से आपकी मासपेशियां मज़बूत रहती हैं और आप अपनी रोज़मर्रा की गतिविधियां लंबे समय तक जारी रख सकते हैं।

इसीलिए, इस पोस्ट में हम आपको ऐसी एक्ससाइज के बारे में बताएंगे, जिन्हें करके आप 40 की उम्र से ऊपर भी अपनी मासपेशियां मज़बूत और शरीर ताक़तवर बनाए रख सकते हैं। इस तरह आप लचक, ऑक्सीजन की आपूर्ति और ताक़त की कमी से होने वाली समस्याओं से बच सकते हैं।
हड्डियों या मँसपेशियों को हुए नुकसान की भरपाई करने वाली एक्सरसाइज



समय बीतने के साथ मासपेशियों और हड्डियों का कमज़ोर होना आम बात है। ब्लड प्रेशर की समस्या होना भी आम है। इस कारण कई बीमारियां होती हैं, जैसे किः
ऑस्टियोपोरोसिस
मधुमेह (डायबिटीज़)
मोटापा
दिल के रोग

इन बीमारियों के ख़तरों से बचने का सबसे अच्छा तरीका है वजन उठाना। विशेष तौर पर डंबल से एक्सरसाइज करना सबसे बेहतर है।
वजन उठाने से हड्डियों का घनत्व फिर से ठीक हो जाता है।
बांहों की एक्सरसाइज करने के साथ-साथ आप अपना पॉस्चर भी ठीक कर सकते हैं और कमर को चोट व अन्य समस्याओं से बचा सकते हैं।
शरीर की लोच फिर पाने के लिए 40 की उम्र से ऊपर वाले लोगों के लिए एक्सरसाइज

कुछ एक्सरसाइज ऐसी हैं जिन्हें करके आप अपने शरीर की लोच दोबारा हासिल कर सकते हैं, बांहों और ठोड़ी के नीचे परेशान करने वाली मोटी त्वचा से छुटकारा पा सकते हैं।

हमारी सलाह है कि आप योग और पिलेट्स का अभ्यास करें। ये एक्सरसाइज करने से आपकी पॉस्चर में सुधार आएगा और कमर दर्द से राहत मिलेगी। इससे आपको आराम पाने और वजन घटाने में भी राहत मिलेगी।
दिल की देखभाल



दिल को स्वस्थ रखने के लिए साइक्लिंग से बेहतर एक्सरसाइज कोई नहीं है। चाहे सड़क हो या फिर जिम, साइकिल चलाने से आपका दिल स्वस्थ रहता है।

साथ ही, साइकिल चलाने का आनंद लेते हुए आप लोगों से मेल-जोल बढ़ा सकते हैं और अपना पॉस्चर भी सुधार सकते हैं।


शरीर की प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाना

ताक़त और प्रतिरोध बढ़ाने के लिए हम आपको जिम में मशीनों का इस्तेमाल करने की सलाह देंगे। आप इनका इस्तेमाल अपनी मांसपेशियां मज़बूत करने और उन्हें सही स्थिति में रखनेके लिए कर सकते हैं।

अगर आपको जिम जाना अच्छा नहीं लगता तो ज़रूरी उपकरणों को खरीदकर घर पर भी इस्तेमाल कर सकते हैं। इस तरह आपको घर में ही एक ऐसी जगह मिल जाएगी जहां आप खुद एक्सरसाइज कर पाएंगे।
मांसपेशियों की मज़बूती बढ़ाना



इसके लिए आपको हम स्वीमिंग करने की सलाह देंगे। यह एक्सरसाइज शरीर की सभी मांसपेशियों को मज़बूत करती है। यह आपके फेफड़ों की क्षमता भी बढ़ाती है।

अब तक आप समझ गए होंगे कि एक्सरसाइज बंद करने के लिए उम्र बढ़ने का बहाना बनाना सही नहीं है। सच तो यह है कि उम्र बढ़ने के साथ-साथ आपको और भी ज़्यादा एक्सरसाइज करनी चाहिए ताकि आप हमेशा स्वस्थ रहें।

एक्सरसाइज करने से आप को सुख-शांति मिलती है। आप खुद को नई गतिविधियों और परिस्थितियों के हिसाब से ढाल लेते हैं और वे काम कर पाते हैं जिन्हें करने का विश्वास आपको पहले नहीं था।

आप बेझिझक, बिना चोटिल या निराश हुए अपनी ज़िंदगी जी सकते हैं क्योंकि आप जानते हैं कि मज़बूत मांसपेशियों के साथ आपका शरीर किसी भी एडवेंचर के लिए तैयार है।

40 की उम्र कभी भी अपने लक्ष्य हासिल करने में बाधा नहीं बन सकती है। न ही आप इसे अपनी देखभाल बंद करने का बहाना बना सकते हैं।

ज़रूरत केवल एक्सरसाइज करने के लिए प्रेरित होने और स्वस्थ जीवनशैली अपनाने की है।आपको इसके नतीजे भी जल्द नज़र आने लगेंगे।


6 आदतें जो पेट फूलने का कारण बनती हैं

पेट फूलना किसी विशेष खाद्य के प्रति असहिष्णुता या ज़्यादा गैस बनने का परिणाम हो सकता है। अगर यह लगातार जारी रहता है, तो आपको डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए।
0शेयर किया गया 

एयर कंडीशनिंग में रहते हुए ध्यान रखें, आपकी सेहत पर डालता है यह नुकसानदेह असर
हृदय रोगों के 7 सबसे आम लक्षण
इन 6 आदतों से आपके गुर्दों की सेहत पर बुरा असर पड़ सकता है!


बहुत से लोग सोचते हैं, एब्डोमिनल इन्फ्लेमेशन यानी पेट फूलने की अकेली वजह मोटापा यानी फैट है । वहीं गलत फ़ूड हैबिट और एक्सरसाइज के अभाव से फैट बनता है।

हालांकि यह सच है, लोकल फैट मुख्य समस्याओं में से एक हो सकता है। लेकिन ऐसे दूसरे कारक भी हैं जो आपके पेट के आकार पर असर डालते हैं।


उदाहरण के लिए, नमक का ज्यादा सेवन, टिशू में तरल पदार्थ के जमा होने का कारण बनता है। इससे आपके शरीर में सूजन की स्वाभाविक प्रतिक्रिया बढ़ जाती है।

कुछ ऐसा ही तब होता है, जब आप किसी खाद्य के प्रति असहिष्णु (intolerance) हों। ऐसी स्थिति में पाचन तंत्र में अपच और अन्य समस्याएं पैदा हो जाती हैं।

नतीजतन आप सामान्य से काफी भारी दिख और महसूस कर सकते हैं। यह बहुत ही असहज कर देने वाली स्थिति होती है।

यह जानना महत्वपूर्ण है कि आपकी कौन सी आदत पेट फूलने को ट्रिगर करती है। साथ ही, यह जानना भी कि आप इसे कैसे रोक सकते हैं।

आइये, इस बारे में और अधिक जानकारी लें!
1. पेट फूलने में डेयरी प्रोडक्ट का योगदान


दूध और डेयरी प्रोडक्ट पेट फूलने के सबसे आम कारणों में से हैं।

यह लैक्टोज इंटोलरेन्स के कारण होता है, जो एक नेचुरल शुगर है। यदि आपका शरीर उन एंजाइम का उत्पादन नहीं करता है, जो इसे पचाने में मदद करते हैं, तो यह कोलन में फरमेंट होने लगती है।

आपके शरीर द्वारा भोजन का अवशोषण ठीक तरह से न होने पर आंतों में गैस, पेट दर्द, दस्त और कब्ज से होने वाली समस्यायें पैदा होती हैं।
पेट की सूजन दूर करने के लिए क्या करें?

डेयरी उत्पादों को खाने से होने वाली सूजन को रोकने का एक बहुत ही अच्छा तरीका है। उन्हें सब्जियों के दूध जैसे स्वस्थ विकल्पों के साथ बदल दें।

कैल्शियम की अपनी दैनिक जरूरत को पूरा करने के लिए कैल्शियम से समृद्ध सब्जियां चुन सकते हैं।

इसे भी पढ़ें: आंतों की गैस आपकी सेहत के बारे में क्या बताती है?
2. तेजी से खाना

बहुत जल्दी-जल्दी खाने या अपने भोजन को ठीक से नहीं चबाने के कारण अपच हो सकती है। ऐसा इसलिए होता है, कि जल्दी खाने से पेट में बहुत सी हवा चली जाती है।

हालांकि खाने के दौरान आप इसे नोटिस नहीं कर पाते। लेकिन यह सही है कि अगर आप जल्दबाजी में भोजन कर रहे हैं, तो हवा भी निगलते हैं। यही पेट फूलने का कारण बनता है।
इसके लिए क्या करें?

दिन के प्रत्येक भोजन के लिए कम से कम 20 मिनट का समय निर्धारित करें। यह महत्वपूर्ण है कि आप धीरे-धीरे खाने के लिए पर्याप्त समय निकालें और अपने भोजन को अच्छी तरह चबाएं।

भोजन के दौरान अपना ध्यान इधर-उधर भटकने न दें। वरना आप फिर इसे अच्छी तरह से चबाने की बजाय पहले की तरह निगलना शुरू कर देंगे।
3. नमक का बहुत अधिक उपयोग


अत्यधिक सोडियम का सेवन वॉटर रिटेंशन, उच्च रक्तचाप, और शरीर के टिशू में सामान्य सूजन के मुख्य कारणों में से एक है।

इससे इनकार नहीं कर सकते कि नमक आपके व्यंजनों में उत्कृष्ट स्वाद लाता है। लेकिन आपके शरीर में इसके बहुत अधिक हानिकारक दुष्प्रभाव और गंभीर गड़बड़ियाँ हो सकती हैं।

यह याद रखना महत्वपूर्ण है कि हम सिर्फ उतना ही नमक नहीं खाते जितना हम अपने खाने में डालते हैं। प्रोसेस्ड फ़ूड में यह पहले से ही अच्छी-ख़ासी मात्रा में मौजूद होता है।
इसके लिए क्या करें?

रिफाइन नमक की जगह सेंधा नमक (हिमालयी नमक) या समुद्री नमक लें।

आप दूसरी स्वस्थ वैकल्पिक सीजनिंग भी चुन सकते हैं, जैसे ऑरेगेनो, काली मिर्च और थाइम।

कितनी मात्रा में सोडियम का सेवन कर रहे हैं इसका हिसाब रखें। इसका सबसे बढ़िया तरीका है, खरीदे गए उत्पादों के लेबल को चेक करना।
4. पेट फूलने का कारण हो सकता है च्यूइंग गम चबाना

हर दिन गम चबाने की आदत है, तो इसे छोड़ दें। हो सकता है, इसी के कारण आपको एक सपाट पेट हासिल करने में परेशानी हो रही हो। गम चबाने के साथ हवा शरीर में प्रवेश करती है और पेट की सूजन को बढ़ा सकती है।
इसके लिए क्या करें?

क्या आप तनाव या चिंता से छुटकारा पाने के लिए गम चबाते हैं? तो इसे फल और सब्जियों से बने स्नैक्स से बदलने का प्रयास करें।
5. कार्बोनेटेड ड्रिंक पीना


विज्ञापन अभियानों के गलत प्रचार ने लोगों के दिलोदिमाग पर गलत असर डाला है। वे मानने लगे हैं, गर्मी में सोडा वाला ड्रिंक प्यास बुझाने का शानदार और स्मार्ट तरीका है।

हेल्थ एक्सपर्ट का तर्क है कि वे अच्छे विकल्प नहीं हैं। इनमें आवश्यक पोषक तत्व नहीं होते। इन्हें कृत्रिम पदार्थों से बनाया जाता है, जो आपके स्वास्थ्य के लिए हानिकारक होते हैं।

कार्बनेशन और कृत्रिम मिठास के अलावा इनमें शुगर की भी बड़ी ऊंची मात्रा होती है। यह आपके पाचन तंत्र में प्रतिक्रियायें पैदा करता है और पेट की सूजन को बढाता है।

तो जिस फ़िज्जी स्वाद को आप इतना पसंद करते हैं, वह वास्तव में आपके शरीर में सूजन और भारीपन का कारण बनता है।
इसके लिए क्या करें?

इन पेय पदार्थों पर अपना पैसा और स्वास्थ्य बर्बाद न करें। इसके बजाय, घर पर प्राकृतिक फलों के रस, फ्लेवर युक्त पानी और चाय बनाने का प्रयास करें।

याद रखें, हाइड्रेटेड रहने के लिए आपको एक दिन में कम से कम दो लीटर पानी पीना होगा।
6. भोजन छोड़ना या बहुत कम खाना

क्या आप भोजन स्किप करते रहते हैं? या अपने लिए ज़रूरी मात्रा से कम भोजन खाते हैं? अगर हाँ, तो जान लें कि यह कैलोरी बचाने या वजन कम करने का सही तरीका नहीं है।

हालांकि लोगों को लगता था कि वजन घटाने के लिए यह एक अच्छा विकल्प है। लेकिन यह सिद्ध हो चुका है कि इससे वज़न की वापसी के साथ-साथ अन्य कई समस्याएं भी हो सकती हैं।

दिन में पांच बार से कम खाने से आपके शरीर के लिए भोजन को पचाना मुश्किल हो जाता है। साथ ही, आपको ज़्यादा भूख लगती है और पेट में जमा चर्बी में वृद्धि होती है।
इसके लिए क्या करें?

अपने मुख्य भोजन में खाने की मात्रा को बहुत कम न रखें। एक ऐसा मेन्यू तैयार करें जिसमें दिन में पांच भोजन शामिल हों।

यदि इन उपायों के बाद भी आपका पेट फूला रहता है, तो इसके कारण की पड़ताल करने के लिए डॉक्टर की राय लें।

क्या आपका पेट फूल रहा है? पेट की सूजन घटाने के 9 आश्चर्यजनक नेचुरल तरीके

पेट की सूजन कम करने के लिए आपको कई बातें ध्यानमें रखनी होंगी। इसके सबसे आम कारणों में से एक है कब्ज। इसलिए पेट की समस्याओं से बचने के लिए अपना पाचन दुरुस्त रखना बहुत ज़रूरी है।
0शेयर किया गया 


शरीफा खाने के 9 लाभ
4 स्टेप : ये फैट बर्न करने की आपकी क्षमता बढ़ाने में शानदार हैं
आपके मोटापे के 5 कारण जिनका आपकी डाइट से कोई सम्बन्ध नहीं है




बहुत से लोग जो अपना वजन कम करना चाहते हैं, पेट की सूजन (abdominal inflammation) को भी घटाने की कोशिश में जुटे होते हैं। क्योंकि कई किलो वजन घटा लेने के बाद भी पेट फूलना कम कर पाना बहुत टेढ़ी खीर होती है।


आज के इस आर्टिकल में हम भोजन और कुछ दूसरी असरदार टिप्स की मदद से 15 दिनों में पेट की सूजन कम करने के लिए 9 आसान लेकिन आश्चर्यजनक टिप्स शेयर करना चाहते हैं।
पेट की सूजन घटा पाना इतना मुश्किल क्यों है?


इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप अपना वजन कम कर रहे हैं या पहले से ही दुबले-पतले हैं, कभी-कभी पेट की सूजन से छुटकारा पाना मुश्किल होता है। यह याद रखना जररूरी है कि यह स्थिति आपके हार्मोन, आपके पाचन, यहां तक कि आपके पोस्चर की वजह से भी हो सकती है।

कोई भी असंतुलन आपके पेट और कमर की सूजन का कारण बन सकता है। आपको यह भी पता लगाना होगा कि इन गड़बड़ियों का कारण क्या हैं और अपने संतुलन को वापस कैसे पाया जाये।
1. खाना धीरे-धीरे और चबाकर खायें (Eat slowly and chew your food)






पेट की सूजन की सबसे बड़ी वजहें कुछ पाचन से जुडी समस्यायें होती हैं। कई मामलों में यह इसलिये भी होता है क्योकि लोग खाना ठीक से चबा-चबाकर नहीं खाते हैं।


याद रखें, पाचन आपके मुंह में बनने वाले लार के साथ ही शुरू हो जाता है, खासकर जब आप कार्बोहाइड्रेट का सेवन करते हैं।


इस कारण अगर आप भोजन चबाकर खाते हैं, जब तक कि यह लगभग पूरी तरह से तरल न बन जाये, तो आपको अपने पाचन और पेट का आकार, दोनों में बड़ा सुधार देखने को मिलेगा।


स्वास्थ्य के लिये सबसे अच्छा यही है कि हड़बड़ी, बातचीत या बहस से बचते हुए एक आरामदेह माहौल में बिना ध्यान इधर-उधर भटकाये तसल्ली से खाना खायें।




इसे भी आजमायें : इन 6 आसान कसरतों से अपने फूले पेट को आराम देकर अपने हाज़मे में सुधार लाएं
2. नाश्ते में स्मूदी (Breakfast smoothies)


ज्यादातर लोग अपने खाने को अच्छी तरह से नहीं चबाते हैं। ऐसे में, जब आप ब्लेंडेड फूड की जगह हेल्दी फ़ूड लेते हैं तो पेट की सूजन को और बेहतर ढंग से घटा पाते हैं।


स्मूदी इसका एक अच्छा विकल्प है, जिसे आप नीचे बतायी गयी चीजों को मिलाकर तैयार कर सकते हैं:
फल
हरी पत्तेदार सब्जियां
मेवे और बीज (Nuts and seeds)
दूध या शुद्ध नारियल तेल
जई (Oats)
शुद्ध कोको पाउडर


हर सुबह एक बढ़िया स्मूदी का सेवन करना खुद को भूखा रखे बिना वजन घटाने में मदद करता है और आपको पूरे दिन के लिए जरूरी ऊर्जा भी देता है।
3. रात के खाने में सूप और गैज़्पाचो लें (soups and gazpacho for dinner)


रात में भी आप ठीक उसी तरह की डाइट ले सकते हैं जैसा कि ऊपर बताया गया है। इसके लिए वेजिटेबल सूप या गैज़्पाचो जैसा ताजा वेजिटेबल जूस तैयार कर सकते हैं।


जब आप इसे सॉफ्ट प्रोटीन (लीन मीट, मछली, अंडे, ताजा पनीर, एवोकैडो या नट्स) के साथ परोसते हैं, तो आपको एक पूरा और संतुलित डिनर मिलता है।


सुबह के समय फूले हुए पेट के साथ उठने से बचने के लिये जरूरी है कि आप रात का खाना हल्का और थोडा जल्दी खा लें।


4. मसालों के साथ प्रयोग (Experimenting with spices)





मसालों की एक बहुत बड़ी संख्या है जो आपके खाने के स्वाद को बढ़ाने के अलावा आपके पाचन में सुधार करने, मेटाबोलिज्म दुरुस्त करने और पेट की गैस से लड़ने में मदद करते हैं। ये तीनों चीजें पेट की सूजन घटाने में मदद कर सकती हैं।


हम आपको नीचे बताये गये मसालों का उपयोग करने की सलाह देते हैं:
सौंफ (Fennel)
जीरा (Cumin)
लाल मिर्च (Cayenne pepper)
अजवाइन (Oregano)
तुलसी (Basil)
5. मिठाई के बजाय डाइजेस्टिव टी


जब आपका पेट कम करने और वजन घटाने के साथ-साथ पूरी सेहत को अच्छा बनाए रखने की बात आती है तो आपके खाने में शामिल चीज़ें महत्वपूर्ण हो जाती हैं।


इसलिए आपको एक साधारण डिनर खाना चाहिए, इसमें प्रोटीन और डेज़र्ट के रूप में फल और मिठाइयां मिलाये बिना।


ज्यादा बेहतर होगा कि दोपहर के नाश्ते के बाद स्नैक के रूप में मिठाई का सेवन करना छोड़ दिया जाये।
6. कब्ज को नियंत्रित करें (Control constipation)


जो लोग पुरानी कब्ज से पीड़ित हैं, अगर वे एक सपाट पेट चाहते हैं तो उन्हें इस समस्या से छुटकारा पाना होगा। आप नीचे बताये तरीकों में से किसी का भी उपयोग करके नेचुरल तरीके से कब्ज से छुटकारा पा सकते हैं:
अलसी (Flaxseed) जो रातभर भिगोकर रखी हो
सूखा आलूबुखारा (Prunes)
पकी हुई कीवी
पानी में घुला हुआ इसबगोल (Psyllium)
सनाय (Senna) का घोल (समय-समय पर)
फल और सब्जियों की स्मूदी
साबुत अनाज (Whole grains)


7. कमर की एक्सरसाइज करें





जब भी हम इस बारे में बात करते हैं कि आपको अपना वजन कम करने और सही शेप पाने के लिये एक्सरसाइज कैसे करनी है तो हम कमर के बारे में बात करते हैं।


किसी भी तरह की कार्डियोवैस्कुलर एक्टिविटी, जैसे दौड़ना, नाचना या एअरोबिक्स पेट और कमर में खिंचाव पैदा करेंगे और सूजन को कम करने और उसे सुडौल बनाने में मदद करेंगे।
8. स्ट्रेस दूर करें


स्ट्रेस आपके हार्मोन संतुलन में गड़बड़ी पैदा करता है, जिसका सम्बन्ध आपके पेट के आकार से भी है। यही कारण है कि बहुत से लोग जो तनाव में होते हैं, पतले होने के बावजूद भी उनका पेट बाहर निकला होता है।


स्ट्रेस को खत्म करने के लिए संतुलित डाइट लेने के अलावा कुछ एक्सरसाइज और रिलैक्सेशन टेकनीक की भी प्रैक्टिस करें।
9. भरपूर आराम करें


एक और जरूरी चीज रात में आराम करना है। अगर आप पर्याप्त नींद नहीं लेते हैं, तो आपको स्ट्रेस की समस्या का सामना करना पड़ता है और आपका वजन और आकार दोनों बढ़ते हैं।


आराम के निश्चित घंटे नहीं होते हैं। हर आदमी को अपने लिए सही समय निकालना होगा और यह सुनिश्चित करना होगा कि उनकी नींद आरामदायक और गहरी हो।



8 सुपरफूड जो पेट का फैट गलाने में आपकी मदद करेंगे
· 
शरीफा खाने के 9 लाभ
4 स्टेप : ये फैट बर्न करने की आपकी क्षमता बढ़ाने में शानदार हैं
आपके मोटापे के 5 कारण जिनका आपकी डाइट से कोई सम्बन्ध नहीं है


पेट के आसपास फैट का जमना एक समस्या है क्योंकि यह आपके फिगर को प्रभावित करने के साथ-साथ, आपके शरीर के समूचे स्वास्थ्य के लिए खतरा बन जाता है।

चूंकि यह कुछ महत्वपूर्ण अंगों से घिरा हुआ है, यहाँ नियंत्रण की कमी से हाई ब्लड प्रेशर, डायबिटीज़, या फैटी लिवर रोग जैसी गंभीर बीमारियाँ हो सकती है।


हालांकि यह एक बहुत बड़े रिस्क की बात नहीं है, लेकिन समय के साथ धीरे धीरे फैट में बढ़ोतरी होने से बीमारियाँ पैदा हो सकती हैं जो आपकी लाइफ की क़्वालिटी को प्रभावित करती हैं।

अच्छी खबर यह है कि इस स्थिति के इलाज के लिए आप बहुत कुछ कर सकते हैं, खासतौर से अच्छे पोषण पर ध्यान देना और नियमित शारीरिक व्यायाम करना।

ये आदतें आपकी मेटाबोलिक दर में सुधार करती हैं और उन प्रक्रियाओं को सुधारती हैं जिनके द्वारा आपका शरीर जमे हुए फैट को ऊर्जा में बदल देता है। वास्तव में, यह देखा गया है कि कुछ खाद्य पदार्थों में ऐसे गुण होते हैं जिनका पेट के फैट को खत्म करने पर सकारात्मक प्रभाव पड़ता है।

आज हम आपके साथ आठ श्रेष्ठ चीज़ों को शेयर करना चाहते हैं ताकि आप पेट के फैट को गलाने के लिए अपने डाइट में नियमित रूप से उन्हें शामिल कर सकें।

इन्हे आजमाने में हिचकिचायें नहीं!
1 . बादाम



बादाम और अन्य दूसरे नट्स में मौजूद हैल्दी फैट्स खराब कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करने के लिए उपयोगी होते हैं और उस चिंता को भी जो ज्यादा खाने का कारण बनती है।

इसमें मौजूद उच्च मैग्नीशियम स्तर की वजह से, बादाम खाना मांसपेशियों के निर्माण में मदद करता है और शारीरिक गतिविधि के दौरान आपके प्रदर्शन में सुधार करता है।

इसके अलावा, उच्च फाइबर कंटेंट पाचन में सुधार करता है और सूजन को शांत करते हुए देर तक पेट भरे होने का एहसास कराता है।


इसे भी पढ़ें : 5 तरीके मिनटों में ऐवोकैडो को पकाने के लिए 

2 . तरबूज

पेट के फैट को गलाने में मदद करने के लिए तरबूज मुख्य सुपरफूड्स में से एक माना जाता है।

यह 91% पानी से बना है लेकिन शरीर की अंदुरुनी सफाई में मदद करने वाले एंटीऑक्सीडेंट, विटामिन और खनिजों को भी प्रदान करता है।

तरबूज खाने से आपकी ज्यादा खाने की इच्छा नियंत्रण में रहती है, और क्योंकि यह कैलोरी में कम है, यह वजन घटाने के लिए एक स्वस्थ विकल्प है।

यह बताने लायक है कि तरबूज बी-कॉम्प्लेक्स विटामिन और विटामिन सी, साथ ही साथ पोटेशियम और मैग्नीशियम का एक अच्छा स्रोत भी है।
3 . बीन्स




बीन्स पेट को भरा महसूस कराते हैं, वे पेट के फैट को कम करते हैं, और वे मांसपेशियों के निर्माण के लिए सबसे अच्छे खाद्य पदार्थों में से एक हैं।

इनमें मौजूद घुलनशील फाइबर की उच्च मात्रा फैट के निर्माण को रोकने में मदद करती है और रक्त धमनी में जमा लिपिड को कम करती है।

इनमें मौजूद प्रोटीन की मात्रा की वजह से, बीन्स एक ऊर्जा से भरा भोजन है जो खेल और व्यायाम के दौरान शारीरिक प्रदर्शन में सुधार करता है।
4 . खीरा

100 ग्राम खीरा में आपको केवल 45 कैलोरी और 90% से अधिक पानी मिलता है। ये गुण इसे रीफ्रेशिंग और फैट गलाने वाला, सभी प्रकार के डाइट में जोड़ने के लिए एक आदर्श भोजन बनाते हैं।

खीरे में विटामिन, खनिजों और डाइटरी फाइबर होते हैं जो विषाक्त पदार्थों को खत्म करने और आपके शरीर में अतिरिक्त जमा तरल पदार्थ को निकालने के लिए बढ़ावा देते हैं। यह आपके पाचन स्वास्थ्य में सुधार करता है और एक अतिरिक्त लाभ के रूप में यह चमकदार त्वचा को बनाए रखने में मदद करता है, इसमें मौजूद बी-कॉम्प्लेक्स और विटामिन सी की वजह से।

5 . ओटमील

आर्गेनिक ओट का आटा फाइबर के सबसे स्वस्थ स्रोतों में से एक है जिसे आपके दैनिक आहार में शामिल किया जा सकता है।

यह खाने के उन बेकार की इच्छाओं को नियंत्रित करता है, ब्लड शुगर के स्तर को स्थिर करता है, और पूरे दिन में आपके ऊर्जा के व्यय को बढ़ाता है। इसे नाश्ते में लेने की सलाह दी जाती है लेकिन आप इसे किसी भी समय जब भी आपको भूख लगे तब भी खा सकते हैं।


इसे भी पढ़ें: अगले दिन के नाश्ते के लिए चिया सीड्स और ओटमील
6. पिसी हुई अलसी के बीज

अलसी ओमेगा -3 फैटी एसिड के सबसे अच्छे वेजिटेबल स्रोतों में से एक है, एक आवश्यक पोषक तत्व जो सूजन से लड़ता है और अतिरिक्त फैट को कम करता है।

इसमें मौजूद फाइबर अत्यधिक कैलोरी के सेवन को और उच्च कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कंट्रोल करता है। इसके अलावा, इसमें मौजूद लिग्नंस की मात्रा, एक प्राकृतिक फैट को गलाने वाला पोषक तत्व, शरीर के भारीपन को कम करने में मदद करता है।
7. ऑलिव आयल

जो लोग अपने डाइट में ऑलिव आयल डालते हैं, वे ऐसे लोगों की तुलना में कम सैचुरेटेड फैट का उपभोग करते हैं जो ऑलिव आयल का सेवन नहीं करते हैं।

मोनोसैचुरेटेड फैट अस्वास्थ्यकर खाद्य पदार्थों खाने की इच्छा को कम करता है और सूजन के नियंत्रण में मदद करते हैं जो वजन घटाने में रोक लगाते हैं।
8 . टमाटर

एक बड़ा टमाटर केवल 33 कैलोरी प्रदान करता है और इसमें अच्छी बड़ी मात्रा में लाइकोपीन और आवश्यक मिनरल्स होते हैं। नियमित खाने से रक्त प्रवाह में लिपिड का स्तर को स्थिर होता है और ये पेट के फैट से बेहतर लड़ने के लिए आपके मेटाबॉलिज़्म में सुधार करती है।

टमाटर एंटीऑक्सिडेंट्स और विटामिन भी प्रदान करते हैं, जो लंबे समय तक विभिन्न प्रकार के कैंसर, हृदय रोग, और समय से पहले उम्र बढ़ने से जुड़े विकारों को रोकते हैं।

क्या आप इन्हें अपने डाइट में शामिल करने के लिए तैयार हैं? हालांकि इनमें से कोई भी खाद्य पदार्थ चमत्कारी रूप से फैट गलाने में आपकी सहायता नहीं करेगा, लेकिन इन्हे नियमित रूप से खाने से आपको अपना मनचाहा वजन पाने में मदद मिलेगी।


7 तरीके: मात्र 60 दिनों में पेट की चर्बी से छुटकारा पाने के लिये
अगर आप संतुलित आहार को सही एक्सरसाइज रूटीन से जोड़ दें, तो आप अपनी सामान्य सेहत का ध्यान रखने के साथ-साथ अपनी वेस्टलाइन को भी ट्रिम कर पाएंगे। इस आर्टिकल में विस्तार से जानिए!


शरीफा खाने के 9 लाभ
4 स्टेप : ये फैट बर्न करने की आपकी क्षमता बढ़ाने में शानदार हैं
आपके मोटापे के 5 कारण जिनका आपकी डाइट से कोई सम्बन्ध नहीं है




पेट की चर्बी केवल दो दिन या फिर एक महीने में नहीं जाती है। यहां पेट की चर्बी से मुकाबला करने के लिए 7 सबसे अच्छे तरीके बताये गये हैं।

पेट की चर्बी घटाने के लिए आपको लक्ष्य को ध्यान में रखते हुए अपने स्वास्थ्य की देखभाल के लिए एक स्पष्ट योजना बनानी होगी और हर एक स्टेप को पूरा करना होगा।

पेट की चर्बी से मुकाबला करने के लिए सबसे अच्छे 7 तरीके

यह लक्ष्य केवल शारीरिक पहलुओं से अलग है। सबसे पहले, हम आपके दिल और उससे जुड़े ख़तरों जैसे हार्ट अटैक, डायबिटीज़, ट्राइग्लिसराइड का उच्च स्तर और भी कई दूसरी समस्याओं के बारे में बात कर रहे हैं।

आपको एक्शन लेना होगा और ऐसा करने के लिए हम आपके सामने पेट की चर्बी से मुकाबला करने और तुरंत नतीजे पाने के लिए 7 तरीके पेश करना चाहते हैं। क्या आप आज ही से उन्हें प्रयोग में लाने की सोच रहे हैं?
1. दो डेली इंटरवल में एक्सरसाइज करें

अगर आप जल्दी से पेट की चर्बी कम करना चाहते हैं, तो केवल पैदल चलने जैसी एरोबिक एक्सरसाइज ही पर्याप्त नहीं है।

आपको अपने पेट और पीठ की बढ़िया ट्रेनिंग के लिए साथ में एक सख़्त रूटीन भी चाहिए। इसलिए दोनों को एक साथ करना ज्यादा फायदेमंद है। उसके लिये यहां कुछ उदाहरण हैं।
रस्सी कूदना और पुश-अप्स करना (Jumping rope, push-ups)


पेट की चर्बी से छुटकारा पाने के 7 तरीकों में से एक यह सुनिश्चित करना है कि आप एक दिन में दो बार एक्सरसाइज करें। आधा घंटा काफी है, लेकिन यह बहुत हाई इंटेंसिटी वाली होनी चाहिए।

आप अपनी सीमाओं को पार किए बिना या पूरी तरह से थके बिना एक्सरसाइज को अपने क्षमताओं के अनुकूल बनाना चाहेंगे।
धीमी गति से पांच मिनट तक रस्सी कूदते हुए अपने रूटीन की शुरूआत करें।
फिर पांच पुश-अप करें।
इस एक्सरसाइज-कॉम्बिनेशन को जारी रखें और धीरे-धीरे इंटेंसिटी बढ़ाते जायें।
कुछ पेट की एक्सरसाइज शुरू करें। सबसे पहले, शरीर के इस हिस्से को टाइट बनाने पर ध्यान दें।
आधे घंटे का समय इन व्यायामों के लिए देना अच्छा रहेगा।


इसे भी आजमायें : 6 एक्सरसाइज जो घर पर पेट की फैट घटाने में हैं लाजवाब
साइकिल चलाना और तैरना (Cycling and swimming)

जब आप दोपहर के बीच में अपना काम ख़त्म करते हैं, तो थोड़ा स्विमिंग करने या साइकिल की सवारी करने की कोशिश करें।

अगर आप नहीं करना चाहते हैं तो आपको जिम नहीं जाना पड़ेगा। सबसे ज़रूरी चीज इच्छाशक्ति का होना और एक्सरसाइज रूटीन को अपनाते समय कल्पना का प्रयोग करना है।
2. सही पॉस्चर होने का महत्व


व्यायाम से कहीं ज्यादा आपको अपने पेट को ज्यादा सुडौल-सुदृढ़ बनाये रखने के लिए निम्नलिखित सलाह दी जाती है। यह पेट की चर्बी से मुकाबले के लिये सबसे अच्छे तरीकों में से एक है।
जब आप बैठते हैं, तो हमेशा अपनी पीठ सीधी रखें।
चलते समय अपने कंधों को आगे की ओर झुलायें या अपनी गर्दन आगे की ओर झुकायें रखें।
अपनी ठोड़ी (chin) को ऊपर उठाएं, कंधे और पीठ को सीधी रखें। आप पाएंगे कि यह पोस्चर आपको बहुत ही पॉजिटिव और ऊर्जा से भरपूर रवैया देता है।

इस बदली हुई मुद्रा से आपके पेट को भी फायदा होगा।
3. नीचे की ओर झुक कर स्वान योगासन (Downward facing dog yoga posture)


यह एक आसान और बहुत ही असरदार तरीका है। जब आप इसे करते हैं तो आपको थकान महसूस नहीं होती है। यह एक ऐसी डेली रूटीन हो सकती है, जिसे आपने एक बार शुरू कर लिया तो इसके अनगिनत फायदे होंगे।
स्वान योगासन में आप फर्श पर अपने हाथ और पैरों के सहारे अपने वजन को उठाते हैं।
आपको स्थिर करने के लिए यह आपके पेट पर ज़ोर डालता है, जिससे शरीर में तनाव और प्रतिरोध पैदा होता है, जिसे आप दो मिनट तक रोके रखते हैं।
दिन में तीन बार इस मुद्रा का अभ्यास करें।
4. पेट की चर्बी कम करने के लिए अनन्नास और पपीता


आप पहले से ही जानते हैं कि वजन कम करने में किस तरह की शारीरिक दिनचर्या की जरूरत है। लेकिन अब आपको यह सीखना है कि किन-किन खाद्य पदार्थों को अपनी डाइट में शामिल करना है।

अपने दिन की शुरुआत नेचुरल सलाद, साथ में अनन्नास, पपीता और चिया के बीज से करें। ये कुछ स्वादिष्ट और स्वास्थ्यवर्धक चीजें हैं जो आपके पाचन में सुधार करने, सूजन से मुकाबला करने और पेट की चर्बी घटाने में आपकी मदद करेंगी।


इसे भी पढ़ें : 3 स्वादिष्ट मॉर्निंग ड्रिंक से पायें सपाट पेट
5. बैंगनी फलों और लाल सब्जियों का सेवन करें

वे सभी खाद्य पदार्थ जिनका रंग बैंगनी या लाल होता है वे एन्थोसायनिन से भरपूर होते हैं। यह एक शानदार एंटीऑक्सिडेंट जो आपके मेटाबोलिज्म को बढ़ायेगा और आपके शरीर में वसा के स्तर को नियंत्रित करने में मदद करेगा।

इनमें शामिल है:
अंगूर
बैंगन
क्रैनबेरी
चुकंदर (Beets)
लाल पत्ता-गोभी
6. MFA (मोनो-अनसैचुरेटेड फैटी एसिड) का सेवन करें

वे खाद्य पदार्थ जो मोनो-अनसैचुरेटेड फैटी एसिड से भरपूर हैं, पेट की चर्बी का मुकाबला करने के लिए बहुत बढ़िया होते हैं।

आपके कार्डियोवैस्कुलर स्वास्थ्य को बेहतर बनाने के साथ-साथ वे बहुत संतोषजनक और ऊर्जा प्रदान करने वाले भी होते हैं। क्या आप जानना चाहेंगे कि वे कौन- कौन से हैं?
एवोकैडो
जैतून का तेल (Olive Oil), नारियल का तेल, और कॉड लीवर ऑयल
सामन
नट्स और पिस्ता
सार्डिन
टोफू
7. इनसॉल्युबल फाइबर से भरपूर चीजें खायें



सब्ज़ियों से मिलने वाला फाइबर पेट भरा हुआ महसूस करने में आपकी मदद करेगा और भोजन के बीच में स्नैकिंग करने से रोकेगा। इसके अलावा, यह खराब कोलेस्ट्रॉल के लेवल को कम करने और कब्ज से लड़ने में भी मदद करता है।
अपने खाने में ज्यादा मात्रा में इनसॉल्युबल फाइबर शामिल करना हमेशा फ़ायदेमंद रहता है।

नीचे लिखी चीजों को आजमाने में संकोच न करें:
सब्जियां (ब्रोकोली, स्विस कार्ड, कच्ची गाजर, कच्चे पालक, शतावरी, चुकंदर, आर्टिचोक, कद्दू)
फलियां (मसूर की दाल, छोले)
अनाज (जई, राई)
पॉपकॉर्न
फल (सेब, केले)

रात में पसीना आने के 5 कारण जिन पर हमें ध्यान देना चाहिए
· नवम्बर 3, 2018
ज़रूरी नहीं कि रात में पसीना आना किसी गंभीर बीमारी का लक्षण हो। लेकिन बिना किसी स्पष्ट कारण के अगर आपके साथ ऐसा बराबर हो रहा है, तो हम एक एक्सपर्ट से मिलने की सलाह देंगे।
0शेयर किया गया 

एयर कंडीशनिंग में रहते हुए ध्यान रखें, आपकी सेहत पर डालता है यह नुकसानदेह असर
हृदय रोगों के 7 सबसे आम लक्षण
इन 6 आदतों से आपके गुर्दों की सेहत पर बुरा असर पड़ सकता है!


तापमान और हवा का दबाव ज्यादा होने पर रात में पसीना आना बहुत आम बात है। लेकिन ये कारण अगर मौजूद नहीं हैं, तो रात में पसीना ज्यादा आना किसी ऐसी बात का लक्षण हो सकता है जिसका पता लगाने की ज़रूरत है।

हालांकि रात को बहुत ज्यादा पसीना आम बात है। इसके अलावा कभी-कभी जब हम सर्दी लगने से ऊबर रहे होते हैं या हमें कोई छोटा-मोटा संक्रमण हुआ हो, तो भी इसका अनुभव करते हैं। इसके अलावा रजोनिवृत्ति (menopause) के दौरान रात में अक्सर पसीना आता है।

फिर भी कई मामलों में यह जरूरी हो सकता है कि हम इसके सटीक कारण की डायग्नोसिस करें। दिलचस्प बात यह है कि अंतर्राष्ट्रीय हाइपरहाइड्रोसिस सोसाइटी नाम का एक संगठन है जो इस समस्या के बारे में जागरूकता बढ़ाने के लिए स्टडी आयोजित करता है।

हालांकि रात में पसीने का अनुभव करने वाला हर कोई हाइपरहाइड्रोसिस से पीड़ित नहीं होता है, यह स्थिति अक्सर स्वास्थ्य केंद्रों के मरीजों में दिखाई देती है। कई मामलों में, अत्यधिक पसीना आने का कारण अनिद्रा (insomnia), तनाव (stress) या रात को अच्छी नींद न मिलने पर होने वाली एंग्जायटी भी होती है।

लेकिन कुछ मामलों में, अंदरूनी बीमारियां जो अपेक्षाकृत गंभीर होती हैं, इस स्थिति का कारण बन सकती हैं। इन बीमारियों का इलाज किया जाना ज़रूरी होता है। नीचे, हम आपको 5 कारण के बारे में बताएंगे जो अत्यधिक पसीना पैदा कर सकते हैं।
1. रात में पसीना आना और कुछ दवाओं का साइड इफ़ेक्ट

रात में अत्यधिक पसीना आना कुछ किस्म की दवाओं का दुष्प्रभाव भी हो सकता है।

पेंसिल्वेनिया विश्वविद्यालय के मनोवैज्ञानिक विभाग ने बताया है कि एंग्जायटी और डिप्रेशन के लिए बहुत से ट्रीटमेंट रात के पसीने में बढ़ोतरी करते हैं।

हालांकि, यह साइड इफ़ेक्ट सभी मरीजों में प्रकट नहीं होता। सिर्फ 14-20% रोगी रात के दौरान अत्यधिक पसीने की शिकायत दर्ज करते हैं। अत्यधिक कहने से हमारा मतलब मरीज के पजामे और चादर का पसीने से गीला हो जाना है।

इसी तरह दर्द या सूजन के इलाज के लिए बहुत ज्यादा दवा लेना भी इस साइड इफ़ेक्ट का कारण बन सकता है।

इसलिए अगर आपकी खाई हुई कुछ दवाओं से जुड़े लक्षण या दुष्प्रभाव प्रकट होते हैं तो उनके बारे में अपने डॉक्टर से बात करने में झिझके नहीं ।




2. हाइपरथायरॉइडिज्म (Hyperthyroidism)

बिना किसी संदेह के यह रात में पसीना आने का सबसे आम कारण है।

हाइपरथायरॉइडिज्म कुछ दूसरे ज्यादा स्पष्ट लक्षणों का कारण भी बनता है। उदाहरण के लिए थकान, वजन बढ़ना, कैपिलरी में कमजोरी और शरीर के तापमान में बदलाव आदि।

इस स्थिति की डायग्नोसिस करते समय उसे पहचानना पसीना आने से कहीं ज्यादा आसान होता है।

हमें यह ध्यान रखना चाहिए, जब थायराइड ग्रंथि थायरॉक्सिन हॉर्मोन से जुड़ा कोई बदलाव अनुभव करती है, तो यह हमारे मेटाबोलिज्म पर असर डालता है। इसके मुख्य नतीजों में से एक गर्मी को लेकर असहनशीलता और अत्यधिक पसीना आना है।

इसके अलावा, जब हम बिस्तर में होते हैं, जा हमारे कान बजते हैं और अनिद्रा के एपिसोड में के दौरान भी हमें पसीना आ सकता है।
3. हॉजकिन लिम्फोमा या गैर-हॉजकिन लिम्फोमा (Non-Hodgkin Lymphoma)

शुरुआत में ही हमने इस बारे में बात की थी कि कुछ मामलों में रात को पसीना आना अन्य गंभीर बीमारियों का लक्षण भी हो सकता है।

हॉजकिन लिम्फोमा और गैर-हॉजकिन लिम्फोमा ऐसी गंभीर बीमारियों की उदाहरण हैं। ये बीमारियां एक किस्म की कैंसर हैं, जो लिम्फोसाइट में शुरू होती है। लिम्फोसाइट प्रतिरक्षा प्रणाली का बुनियादी हिस्सा हैं।

अत्यधिक पसीना, जो इन परिस्थितियों में आम है, लिम्फैटिक प्रणाली को प्रभावित कर सकता है। इस प्रणाली में लिम्फैटिक टिशू, लिम्फ वैसेल्स या स्प्लीन शामिल हैं।

आम तौर पर, हॉजकिन लिम्फोमा या गैर हॉजकिन लिम्फोमा के मरीजों में अक्सर अंडरआर्म लिम्फ नोड्स या सूजे हुए ग्रोइन की समस्या दिखाई पड़ती है।

हालांकि यह याद रखना ठीक होगा, यह एक प्रकार का कैंसर है जिसमें ट्रीटमेंट काफी असरदार होता है और मरीज में ऊँची जीवन दर की उम्मीद की जाती है।


इसे भी पढ़ें: क्रोन्स रोग के इलाज के सिलसिले में आपको क्या मालूम होना चाहिए

4. हाइपोग्लाइसेमिया (Hypoglycemia)

रात में पसीना आना हाइपोग्लाइसेमिया का एक आम लक्षण भी है।

उदाहरण के लिए, टाइप 1 डायबिटीज वाले रोगियों को अक्सर रात में अत्यधिक पसीना आता है। ऐसा इसलिए है क्योंकि उनके ग्लूकोज लेवल में असंतुलन पैदा हो जाता है।

यदि ऐसा होता है तो इसका विशिष्ट कारण है। पैनक्रियाज इंसुलिन का स्राव नहीं कर रहा है।परिणामस्वरूप, इस अंदरूनी बदलाव को संतुलित करने के लिए शरीर अत्यधिक पसीना पैदा करना शुरू कर देता है।
5. एसिड रिफ्लक्स या खराब पाचन

निश्चित रूप से आप भी इस अनुभव से गुजरे हैं। आप बहुत ज्यादा खा लेते हैं या ऐसा कुछ खा लेते हैं कि अपने को बीमार महसूस करते हैं। ऐसे में रात के दौरान आप बेचैनी से जाग उठते हैं और अपने को पूरी तरह पसीने से भीगा पाते हैं।

ऊपर बताया गया है कि यह एक तरीका है, जिससे हमारा शरीर किसी असंतुलन, खतरे या अंदरूनी बदलाव के खिलाफ प्रतिक्रिया करता है।

इसके अतिरिक्त, हमें यह ध्यान रखना होगा, गैस्ट्रोइसोफेजियल रिफ्लक्स की बीमारी (gastroesophageal reflux disease, GERD) इस लक्षण से भी संबंधित है।

आप थकावट महसूस कर सकते हैं, सीने में दर्द का अनुभव कर सकते हैं और इस बीमारी से पीड़ित होने पर सांस लेने में कठिनाइयां भी हो सकती हैं। यदि आप वास्तव में इन लक्षणों का सामना करते हैं और अक्सर इनका अनुभव करते हैं, तो एक डॉक्टर से ज़रूर मिलें।

एक बार बीमारी का निदान हो जाने पर इसका इलाज किया जा सकता है और फिर आप वापस इस असुविधा के बिना स्वच्छंद जीवन पा सकते हैं।


संक्षेप में, इस प्रकार के लक्षणों को कभी “हल्के” में न लें। अगर आपका कमरा ज्यादा गर्म नहीं है, तो रात में अत्यधिक पसीना आना सामान्य बात नहीं है ।

अपने डॉक्टर से मुलाकात करें और उसे बताएं कि आप कैसा महसूस करते हैं, आपके साथ क्या हो रहा है।






कोई टिप्पणी नहीं

Healths Is Wealth. Blogger द्वारा संचालित.