Header Ads

वजाइना को स्वस्थ और साफ रखने के लिए

वजाइना को स्वस्थ और साफ रखने के लिए 8 तरीके


शरीर के बाहरी अंगों की देखभाल तो हम अच्छी तरह से कर लेते है। क्योकि हमारी त्वचा बाहरी सक्रंमण से सुरक्षित रहे इसके लिय़े हम कई तरह के उपाय करते है लेकिन इन्ही अंगों में से एक योनि भी हमारे (महिला) शरीर का एक हिस्सा है। जिनती सफाई सही तरीके से ना होने के कारण यह संक्रमण के घेरें में आकर कई तहह की समस्यायें पैदा करने लगती है। जैसे- वेजिना में सूजन, पेशाब करते समय दर्द व जलन और खुजली की समस्या होने लगती है। यदि आप इस संक्रमण को समय पर ही रोक दे तो आपको डॉक्टर के पास जाने की आवश्यकता नही पड़ेगी। आज हम आपको वेजिना की साफ सफाई के साथ सक्रंमण को रोकने के उन 10 तरीकों के बारें में बता रहे है जिसकी जानकारी हर लड़कियों को पता होनी चाहिये..
1. ज़्यादा देर तक एक ही सैनिटरी नैपकिन का उपयोग न करें


पीरियड्स के दौरान सैनिटरी नैपकिन का उपयोग करना काफी जरूरी है लेकिन इसका उपयोग ज्यादा समय तक ना करें। हर 4-6 घंटे में बदल दें। एक ही पैड को ज्यादा समय तक उपयोग करने से वजाइना में इंफेक्शन के चांसेज़ बढ़ जाते हैं। जिससे इस जगहों पर चकते पड़ने के साथ खुजली, जलन और बदबू आने लगती है।
2. टाइट कपड़ो को पहनने से बचें

योनि में संक्रमण और जलन होने का सबसे बड़ा कारण होता है टाइट अंडरगारमेंट का पहनना। जबकि कॉटन अडंरगारमेंट काफी अरामदायक होने के साथ त्वचा को ड्राई होने से बचाते है। सिंथेटिक कपड़े पहनने से आपकी त्वचा पर जलन हो सकती है इसलिये कोशिश करें कि अरामदायक कॉटन के कपड़ों का उपयोग करें।
3. पीएच स्तर में असंतुलन

हेल्दी वजाइना का पीएच स्तर 3.5 से 4.5 के बीच होता है। जब हम साबुन या किसी कठोर रसायन का उपयोग करते हैं तो योनि के आसपास असंतुलन पैदा हो जाता है, जिससे एक अलग तरह की दुर्गंध आने लगती है। और यह जलन खुजली संक्रमण में बदल जाती है। इसलिये जरूरी है कि योनि को साफ करने के लिये कठोर रसायन युक्त साबुन का उपयोग ना करें। और vagina के पीएच स्तर को बनाए रखना।
4. सेक्स करने के बाद योनि को साफ़ करें

यदि आप सेक्स करने के बाद योनि को साफ़ नहीं करते हैं तो शरीर के कुछ तरल पदार्थों के अवशेषों इसमें चिपक कर रह जाते है। जो संक्रमण फैलाने का काम करते है।
5. टैल्कम पाउडर का उपयोग करें
यदि आपका योनि के आसपास ज्यादा नमी रहती है तो उस जगह को ड्राई करने के लिये टैल्कम पाउडर का उपयोग कर सकते हैं। जब आप शॉवर लेते हैं तो उस क्षेत्र पर कुछ टैल्कम पाउडर का उपयोग जरूर करें। इससे आपको काफी राहत मिलेगी।
6. प्यूबिक हेयर रिमूव करें

प्यूबिक हेयर होने से योनि के आसपास पसीना अधिक आता है और पसीने के कारण गंध और इंफैक्‍शन बढ़ने का खतरा रहता है। इसलिए योनि संक्रमण से बचने के लिए समय-समय पर प्यूबिक हेयर को काटते रहे।
7. नो डाउचिंग

यदि आप वजाइना से आने वाली किसी तरह की बदबू या गंदगी को साफ करने के लिए वजाइनल डॉचिंग का इस्तेमाल कर रही है तो इसे बंद कर दें। क्योकि इसका ज्यादा उपयोग करने से यह इसके ज़्यादा इस्तेमाल से यह आपके पीएच स्तर को कम करता है जिससे संक्रमण काफी जल्दी बढ़ जाता है जो आगे चलकर प्रेग्नेसी में भी कॉम्पलीकेशन आती हैं। वजाइना के बैक्टिरिया को खत्म करने के लिये आप गुनगुने पानी का उपयोग कर इसे साफ करें।
8. योनि को कभी ना रगड़ें

वजाइना की साफ सफाई के लिये रासायनिक युक्त साबुन का उपयोग ना करें क्योकि योनि की त्वचा बहुत संवेदनशील होती है और इस प्रकार के कठोर रसायन के साथ इसके रगड़कर साफ करने से त्वचा पर काफी खराब असर पड़ सकता है। इसलिये योनि क्षेत्र को साफ करने के लिये गुनगुने पानी का पयोग करके सॉफ्ट साबुन का उपयोग करें।

कितने प्रकार की होती हैं महिलाओं की योनी, जानिए कुछ खास बातें

महिलाओं की योनि (Vagina) कितने प्रकार की होती हैं, महिलाओं का मुख्य जननांग वेजाइना (योनि) कहलाता है। जिस तरह से हर महिला अलग होती है और उनकी शख्सियत भी अलग होती है उसी तरह वेजाइना का प्रकार भी अलग-अलग होते है। अधिकांश महिलाओं को भी यह बात ज्यादा पता नहीं होती है। विभिन्न प्रकार के रिसर्च में ये पाया गया है कि जिस तरह लोगों के फिंगर प्रिंट विभिन्न प्रकार के होते हैं उसी तरह महिलाओं के वेजाइना का आकार (योनि के प्रकार)भी भिन्न-भिन्न होता है। हर वेजाइना का आकार और आकृति यानि की शेप और साइज अलग होता है।

वेजाइना के मुख्यत: 21 प्रकार होते हैं लेकिन आमतौर पर जो प्रकार महिलाओं में अधिक पाया जाते हैं उनकी संख्या 8-10 होती है।इस आर्टिकल में हम विस्तार से वेजाइना के प्रकार, आकार और आकृति के बारे में बताने जा रहे हैं ताकि हर वेजाइना के बारे में बेहतर ढंग से समझ पाएं। आइए जानते हैं वेजाइना के अलग-अलग टाइप के बारे में।


यह आकार महिलाओं की अधिकतर वेजाइना का पाया जाता है। यह तब होता है जब लेबिया मिनोरा लेबिया मेडा के बीच से बाहर निकलता है। यह उसी प्रकार दिखाई देता है जिस प्रकार किसी चीज को सही तरह से पैक नहीं किया गया हो। वेजाइना के इस प्रकार के बारे में अक्सर सोचा है जाता है कि वेजाइना में कोई बीमारी है या वेजाइना का प्रकार सही नहीं हैं। वेजाइना का आकार इस तरह का होना कोई बीमारी नहीं है बल्कि यह वेजाइना का सही प्रकार है और आप बिल्कुल स्वस्थ हैं।

वजाइना का ये प्रकार अधिक खुला होता है और ऊपर से चौड़ा दिखाई देता है। इस आकार में लेबिया मिनोरा थोड़ा सा बाहर निकला हुआ दिखाई देता है क्योंकि ये अधिकतर लेबिया मेडा के अंदर ही होता है। ये वेजाइना एक प्रकार से बंद होती है और इसका शेप घोड़े की नाल जैसा होता है इसलिए इसे होर्स शू वेजाइना कहा जाता है। योनि का यह प्रकार तीसरा मुख्य प्रकार है जो महिलाओं में पाया जाता है।

कोई टिप्पणी नहीं

Healths Is Wealth. Blogger द्वारा संचालित.