Header Ads

प्राइवेट पार्ट से जुड़ी इन समस्याओ में कभी भी न करे गलती, वरना...


प्राइवेट पार्ट से जुड़ी इन समस्याओ में कभी भी न करे गलती, वरना...


डेस्क। योन‍ि महिलाओं के शरीर का सबसे नाजुक और जिसकी साफ सफाई जरुरी है, क्योकि छोटी-सी गलती की वजह से आपको वेजाइना से जुड़ी कई समस्‍याओं का सामना करना पड़ सकता है, आइए जानते है इससे जुडी बाते। 


व्‍हाइट डिस्‍चार्ज 

महिलाएं अक्सर कई तरह की वेजाइना कंडीशन्स का सामना कर रही होती है लेकिन वह इसे अनदेखा कर देती हैं क्योंकि उन्‍हें इस बारे में ज्‍यादा जानकारी नहीं होती है। मगर आगे चलकर यही छोटी प्रॉब्लम किसी बड़ी बीमारी का रूप ले लेती है। ऐसे में महिलाओं को चाहिए कि छोटी-समस्या होने पर भी डॉक्टर से तुरंत चेकअप करवाएं क्योंकि वैजाइना में होने वाली खुजली, रैशेज या जलन की परेशानी किसी बीमारी का संकेत भी हो सकती है।

वेजाइना दाद
जननांग दाद एक यौन संचारित रोग है, जो आमतौर पर जलन, दर्दनाक घाव, खुजली या किसी कीटाणु के काटने की वजह से होता है। इस समस्या के लिए डॉक्टर एंटीवायरल दवाओं की सलाह देते हैं।


वजाइनल बॉइल्स

अगर आपके योन‍ि के आस-पास भी बॉइल्स या फोड़े की समस्‍या होती है तो समझ जाइए कि आप प्राइवेट पार्ट को हाइजीन रखने के लिए गलत तरीका अपना रही हैं। ऐसे में आपको वेजाइना की साफ-सफाई के तरीके बदलने चाहिए।
इनग्रोन हेयर

अगर आप प्राइवेट पार्ट में शेव या वैक्स करती हैं तो इससे इनग्रोन हेयर जैसे बंप्स हो सकते हैं। इसकी वजह से वेजाइना में जलन, खुजली, सूजन या पस की समस्या हो सकती हैं। साथ ही यह समस्या सेन्टेड शॉप, बाथ सॉल्ट, सेनेटरी वाइप्स, पैड्स या डायाफ्राम के कारण भी हो सकती है।

बर्थोलिनिटिस

वेजाइना के दोनों तरफ मौजूद होने वाले ग्लैंड्स के ब्लोक हो जाने की अवस्था को बर्थोलिन सिस्ट या बर्थोलिनिटिस कहते हैं। इसके कारण ग्लैंड्स से रिलीज होने वाले द्रव्य वापस ग्लैंड्स में चले जाते हैं, जो बाद में खुजली व जलन का कारण बनते हैं। उचित साफ सफाई से इस समस्‍या से बचा जा सकता है।

यीस्ट इंफेक्शन

यीस्ट इंफेक्शन के कारण वैजाइना में खुजली होना आम है। यीस्ट इंफेक्शन के लक्षण दिखने पर तुरंत चेकअप करवाएं। क्योंकि समय पर इलाज न करवाने पर यह किसी गंभीर समस्या का रूप भी ले सकती है।

सिरिनगोमा

सिरिनगोमा में पसीना निकालने वाली नलिकाएं बंद हो जाती हैं, जिससे वेजाइना के आसपास छोटे-छोटे बंप बन जाते हैं। इसके कारण वेजाइना के आस-पास फ्लैश कलर्ड पिंपल्स हो जाते हैं। महिलाओं को इन्हें दबाना या फोड़ना नहीं चाहिए क्योंकि इससे वहां की नाजुक त्वचा को नुकसान पहुंच सकता है। साथ ही इससे इंफेक्शन का खतरा भी बढ़ जाता है।

वेजाइना को रखे ड्राई

नमी के कारण अक्सर इंफैक्शन होने का खतरा बना रहता है इसलिए हमेशा वेजाइना का ड्राई रखें।


कॉटन की पैंटी पहनें

कॉटन पैंटी ना केवल पहनने में आरामदायक होती है बल्कि यह प्राइवेट पार्ट को ड्राई भी रखती है। इससे अनहैल्दी बैक्टीरिया और यीस्‍ट की समस्या दूर रहती है।

वेजाइना में खुलजी
वेजाइना में खुलजी होने पर 1 लीटर पानी में 3 बड़े चम्मच सेब का सिरका मिलाकर योनि की सफाई करें। इससे आपकी समस्या दूर हो जाएगी।


हफ्ते में 3-4 बार बदलें पैंटी

हफ्ते में 3-4 बार पैंटी को बदलें। इससे प्राइवेट पार्ट स्वस्थ व बदबू से मुक्त रहेंगी। आप चाहे तो हर रोजाना पैंटी को बदल सकती हैं।

प्यूबिक हेयर करे रिमूव
प्यूबिक हेयर होने से पसीना अधिक आता है और पसीने के कारण गंध और इंफैक्‍शन रहती है।ऐसे में इंफैक्शन से बचने के लिए समय-समय पर प्यूबिक हेयर काटते रहे।

कठोर साबुन का इस्तेमाल ना करें

यह काफी संवेदनशील हिस्सा है, जिसे कठोर साबुन से धोने से पीएच स्तर में असंतुलन पैदा हो सकता है, जिससे वहां बैक्टीरिया पनप सकते है।

पीरियड्स में देखभाल

पीरियड्स के समय वेजाइना की सफाई बहुत जरूरी है क्योंकि इस दौरान इंफैक्शन होने की संभावना दोगुणा बढ़ जाती है। इसलिए हर 3 से 4 घंटे बाद पैड्स बदलते रहें। इससे त्वचा पर जलन नहीं होगी। 


सही आहार खाएं
क्रेनबेरी एवं अनानास का रस दोनों वेजाइना को स्वस्थ रखने में फायदेमंद है। इनके अलावा आहार में लहसुन का सेवन भी करें।


लड़कियों के अंदर इन चीजों से आकर्षित होते है लड़के, जानिए











 आज हम लड़कियों को लेकर बात करे तो आपको ये बता दें कि लड़कों को आकर्षित करने हेतु ये तरह-तरह की कोशिशें करती हैं। मेकअप के साथ-साथ ड्रेसअप तक प्रत्येक वस्तु को बिल्कुल ठीक करने कर का प्रयास करती हैं। किन्तु क्या आपको ये मालुम है कि अधिकांश लड़के क्या पसंद करते हैं।

पहली मुलाकात में लड़कियों की इन चीजों से आकर्षित होते है लड़के... 
आवाज
अध्ययनों से मालुम हुआ है कि लड़कों को मीठी किन्तु स्पष्ट आवाज वाली लड़कियां काफी अधिक पसंद आती हैं। ऐसा इसलिए क्योंकि लड़के लड़कियों की आवाज से काफी कुछ मालुम कर लेते हैं। 

मुस्कान
लड़कियों की मुस्कान किसी भी शख्स को काफी सरलता से मंत्रमुग्ध कर देती है। अनेक शोधों के मुताबिक लड़के लड़कियों के चेहरे पर मुस्कान को जिंदादिली का प्रतीक मानते हैं। 

किसी भी शख्स से बातचीत की शुरुआत आंखों से ही होती है। इसलिए आंखें सबसे आवश्यक वस्तु हैं। ऐसा बताया जाता है कि आंखें आदमी के स्वाभाव के बारे में बताती है। इसी वजह लड़के लड़कियों की आंखों से उनके व्यवहार एवं व्यक्तित्व के संबंध में मालुम करते है।

बाल
लड़कियों के सुंदर बाल लड़कों को काफी आकर्षित करते हैं। लड़कों को साधारण बाल अधिक पसंद आते हैं। लड़कों को बात करते वक्त लड़कियों के बालों में उंगली फेरना बहुत अच्छा लगता है। 


प्राइवेट पार्ट से जुड़ी 6 प्रॉब्लम न करें नजरअंदाज

वेजाइना (योन‍ि), महिलाओं के शरीर का सबसे नाजुक और संवेदनशील ह‍िस्‍सा होता है, जिसकी साफ-सफाई रखना बेहद जरूरी है। छोटी-सी गलती की वजह से आपको वेजाइना से जुड़ी कई समस्‍याओं का सामना करना पड़ सकता है। इसके लिए जरूरी हैं आपको इससे जुड़ी कुछ खास बातों की जानकारी होना।


व्‍हाइट डिस्‍चार्ज व अन्य 6 गंभीर समस्याएं

महिलाएं अक्सर कई तरह की वेजाइना कंडीशन्स का सामना कर रही होती है लेकिन वह इसे अनदेखा कर देती हैं क्योंकि उन्‍हें इस बारे में ज्‍यादा जानकारी नहीं होती है। मगर आगे चलकर यही छोटी प्रॉब्लम किसी बड़ी बीमारी का रूप ले लेती है। ऐसे में महिलाओं को चाहिए कि छोटी-समस्या होने पर भी डॉक्टर से तुरंत चेकअप करवाएं क्योंकि वैजाइना में होने वाली खुजली, रैशेज या जलन की परेशानी किसी बीमारी का संकेत भी हो सकती है।
वेजाइना में होने वाली समस्याएं
वेजाइना दाद

जननांग दाद एक यौन संचारित रोग है, जो आमतौर पर जलन, दर्दनाक घाव, खुजली या किसी कीटाणु के काटने की वजह से होता है। इस समस्या के लिए डॉक्टर एंटीवायरल दवाओं की सलाह देते हैं।


वजाइनल बॉइल्स
अगर आपके योन‍ि के आस-पास भी बॉइल्स या फोड़े की समस्‍या होती है तो समझ जाइए कि आप प्राइवेट पार्ट को हाइजीन रखने के लिए गलत तरीका अपना रही हैं। ऐसे में आपको वेजाइना की साफ-सफाई के तरीके बदलने चाहिए।


इनग्रोन हेयर

अगर आप प्राइवेट पार्ट में शेव या वैक्स करती हैं तो इससे इनग्रोन हेयर जैसे बंप्स हो सकते हैं। इसकी वजह से वेजाइना में जलन, खुजली, सूजन या पस की समस्या हो सकती हैं। साथ ही यह समस्या सेन्टेड शॉप, बाथ सॉल्ट, सेनेटरी वाइप्स, पैड्स या डायाफ्राम के कारण भी हो सकती है।

बर्थोलिनिटिस

वेजाइना के दोनों तरफ मौजूद होने वाले ग्लैंड्स के ब्लोक हो जाने की अवस्था को बर्थोलिन सिस्ट या बर्थोलिनिटिस कहते हैं। इसके कारण ग्लैंड्स से रिलीज होने वाले द्रव्य वापस ग्लैंड्स में चले जाते हैं, जो बाद में खुजली व जलन का कारण बनते हैं। उचित साफ सफाई से इस समस्‍या से बचा जा सकता है।

यीस्ट इंफेक्शन

यीस्ट इंफेक्शन के कारण वैजाइना में खुजली होना आम है। यीस्ट इंफेक्शन के लक्षण दिखने पर तुरंत चेकअप करवाएं। क्योंकि समय पर इलाज न करवाने पर यह किसी गंभीर समस्या का रूप भी ले सकती है।

सिरिनगोमा
सिरिनगोमा में पसीना निकालने वाली नलिकाएं बंद हो जाती हैं, जिससे वेजाइना के आसपास छोटे-छोटे बंप बन जाते हैं। इसके कारण वेजाइना के आस-पास फ्लैश कलर्ड पिंपल्स हो जाते हैं। महिलाओं को इन्हें दबाना या फोड़ना नहीं चाहिए क्योंकि इससे वहां की नाजुक त्वचा को नुकसान पहुंच सकता है। साथ ही इससे इंफेक्शन का खतरा भी बढ़ जाता है।

वेजाइना की देखभाल के टिप्स
वेजाइना को रखे ड्राई

नमी के कारण अक्सर इंफैक्शन होने का खतरा बना रहता है इसलिए हमेशा वेजाइना का ड्राई रखें।

कॉटन की पैंटी पहनें
कॉटन पैंटी ना केवल पहनने में आरामदायक होती है बल्कि यह प्राइवेट पार्ट को ड्राई भी रखती है। इससे अनहैल्दी बैक्टीरिया और यीस्‍ट की समस्या दूर रहती है।


वेजाइना में खुलजी

वेजाइना में खुलजी होने पर 1 लीटर पानी में 3 बड़े चम्मच सेब का सिरका मिलाकर योनि की सफाई करें। इससे आपकी समस्या दूर हो जाएगी।

हफ्ते में 3-4 बार बदलें पैंटी

हफ्ते में 3-4 बार पैंटी को बदलें। इससे प्राइवेट पार्ट स्वस्थ व बदबू से मुक्त रहेंगी। आप चाहे तो हर रोजाना पैंटी को बदल सकती हैं।


प्यूबिक हेयर करे रिमूव

प्यूबिक हेयर होने से पसीना अधिक आता है और पसीने के कारण गंध और इंफैक्‍शन रहती है।ऐसे में इंफैक्शन से बचने के लिए समय-समय पर प्यूबिक हेयर काटते रहे।

ना करें कठोर साबुन का इस्तेमाल

यह काफी संवेदनशील हिस्सा है, जिसे कठोर साबुन से धोने से पीएच स्तर में असंतुलन पैदा हो सकता है, जिससे वहां बैक्टीरिया पनप सकते है।

पीरियड्स में करे सही देखभाल

पीरियड्स के समय वेजाइना की सफाई बहुत जरूरी है क्योंकि इस दौरान इंफैक्शन होने की संभावना दोगुणा बढ़ जाती है। इसलिए हर 3 से 4 घंटे बाद पैड्स बदलते रहें। इससे त्वचा पर जलन नहीं होगी। 


सही आहार खाएं

क्रेनबेरी एवं अनानास का रस दोनों वेजाइना को स्वस्थ रखने में फायदेमंद है। इनके अलावा आहार में लहसुन का सेवन भी करें।




अगर आप भी है हाई बीपी के मरीज तो ना लें

काम का प्रैशर ज्यादा होने के कारण आजकल कोई स्ट्रेस से गुजर रहा है। इतना ही नहीं, वर्क प्रैशर के चलते लोग डिप्रेशन व तनाव का शिकार भी हो जाते हैं लेकिन अगर आप हाई ब्लड प्रेशर के मरीज है तो यह आपके लिए जानलेवा साबित हो सकता है। जी हां, हाल ही में हुए एक शोध के अनुसार, काम का बोझ से हाई ब्लड प्रैशर के मरीजों में दिल के रोगों और मौत का खतरा 3 गुना बढ़ जाता है।

3 गुणा बढ़ जाता है हार्ट डिसीज का खतरा

इस अध्ययन में 25 से 65 साल के ऐसे लोगों ने भाग लिया, जिन्हें हाई बीपी तो था लेकिन उन्हें डायबिटीज और हार्ट डिसीज नहीं थी। शोध के बाद सामने आया कि जिन वर्क स्ट्रेस और अच्छी नींद ना वाले लोगों में दोनों बीमारियों का खतरा 3 गुना अधिक था। सिर्फ काम का तनाव लेने वाले लोगों में इन बीमारियों का खतरा 1.6 गुना था, जबकि सिर्फ खराब नींद लेने वाले लोगों में इसका जोखिम 1.8 गुना अधिक था।
भरपूर नींद लेना है हल
अध्ययन के मुताबिक, काम का बोझ, बोझ से तनाव और ठीक से नींद ना लेने के कारण हाई ब्लड प्रेशर के मरीजों में इसका खतरा बढ़ जाता है लेकिन अच्छी नींद लेकर इस रिस्क को कम किया जाता है। नींद से ऊर्जा के स्तर को बनाए रखने और तनाव को दूर करने में मदद करती हैं। वहीं अगर आप काम के तनाव के चलते नींद लेने तो इसके परिणाम घातक हो सकते हैं।

महिलाओं को 30% अधिक होता है 
पुरूषों के मुताबले महिलाओं को काम का तनाव 30% ज्यादा होता है। ऐसा इसलिए क्योंकि औरतें भावनात्मक तौर पर कमजोर और अस्थिर होती हैं। वहीं हाउसवाइफ, घर व ऑफिस के बीच संतुलन बनाने के चक्कर में वर्क स्ट्रेस औरप डिप्रैशन की चपेट में आ जाती हैं।
काम का स्ट्रेस दूर करने के टिप्स
टाइम मैनेजमेंट

काम का प्रैशर कम करने के लिए अपना टाइम मैनेज करें। इसके अलावा काम और ऑफिस के कामों के बीच में से अपने लिए भी समय निकालें।

ज्यादा न सोचे

जरूरत से ज्यादा सोचने रहने से दिमाग काम करना बंद कर देता है। जब भी आपको किसी बात की टेंशन हो तो गहरी सांस लें और कुछ देर के लिए आंखें बंद करें। इसके अलावा अपनी परेशानी दोस्त या परिवार वालों के साथ शेयर करें।
बातचीत करना है बेहद जरूरी
काम के तनाव को दूर करने के लिए दूसरों लोगों से कम्युनिकेशन बहुत जरूरी है। सारा दिन काम भी तनाव का कारण बनता है। ऐसे में काम से ब्रेक लेकर कर्मचारी, दोस्त और परिवार मैंबर्स से बात करें।

मेडिटेशन भी है मददगार

स्ट्रेस को दूर करने के लिए आप सुबह उठकर मेडिटेशन, योग और व्यायम करें। इससे ना सिर्फ तनाव दूर होगा बल्कि आप बीमारियों से भी बचे रहेंगे।
डाइट पर दें ध्‍यान

अगर आप भी काम के चक्कर में डाइट पर ध्यान नहीं देते तो इससे दिल के साथ आप अन्य बीमारियों की चपेट में भी आ सकते हैं। ऐसे में अपनी डाइट में हेल्दी चीजें शामिल करें और ब्रेकफास्ट से लेकर तक को टाइम पर लें।

सीमन अंदर नहीं जाता जिससे पत्नी गर्भधारण नहीं कर पा रही?

ऐक्ट के बाद मैं देखता हूं कि ज्यादातर स्पर्म वजाइना के बाहर ही गिर जाता है। ऐसा न हो इसके लिए हमें क्या करना चाहिए या फिर आप हमें कोई ऐसी पोजिशन बताइए जिससे हमारी समस्या का समाधान हो सके? फीमेल पार्टनर कन्सीव कर सके इसके लिए मेल के प्राइवेट पार्ट को कितने अंदर तक पेनिट्रेट करना चाहिए?

सवाल: मैं 23 साल का हूं। मैंने अपनी पत्नी के साथ असुरक्षित सेक्स किया था और ऐसा करने के 1 सप्ताह बाद से ही मुझे मेरे प्राइवेट पार्ट की फोरस्किन में ड्राइनेस महसूस हो रही है और जब भी मैं फोरस्किन को पीछे खींचने की कोशिश करता हूं तो मुझे बहुत दर्द होता है और खून भी आ जाता है। यह कुछ हद तक फटे होंठ जैसा फील होता है। इसमें खुजली भी हो रही है और दर्द भी। मैं क्या करूं? 


जवाब: आप चाहें तो करीब 1 सप्ताह तक दिन में 2 बार कैंडिड बी ऑइंटमेंट लगा सकते हैं। 

सवाल: मैं 33 साल का हूं और पत्नी 29 साल की। हमारी शादी को 4 साल हो गए हैं। हम पिछले करीब 1 साल से गर्भधारण का प्रयास कर रहे हैं लेकिन सफलता नहीं मिल रही। मुझे लगता है कि समस्या यह है कि हम सही तरीके से इंटरकोर्स नहीं करते और इसकी वजह यह है कि मेरी फोरस्किन बहुत टाइट है। जब भी हम सेक्शुअल इंटरकोर्स में इंगेग होते हैं तो मेरा ग्लैन्स एरिया बहुत दर्द करता है। ऐक्ट के बाद मैं देखता हूं कि ज्यादातर स्पर्म वजाइना के बाहर ही गिर जाता है। ऐसा न हो इसके लिए हमें क्या करना चाहिए या फिर आप हमें कोई ऐसी पोजिशन बताइए जिससे हमारी समस्या का समाधान हो सके? फीमेल पार्टनर कन्सीव कर सके इसके लिए मेल के प्राइवेट पार्ट को कितने अंदर तक पेनिट्रेट करना चाहिए? 
जवाब: सबसे पहले तो आपको इस बात की पुष्टि करनी होगी कि क्या सचमुच आपका फोरस्किन इतना टाइट है कि आपको इंटरकोर्स के दौरान दर्द महसूस होता है। जहां तक गर्भधारण करने में दिक्कत की बात है तो पेनिस का थोड़ा सा हिस्सा भी अगर वजाइना के अंदर गया तो गर्भधारण के लिए यह काफी है। जहां तक सेक्स पोजिशन की बात है तो आप पार्टनर के हिप के नीचे तकिया लगाकर सेक्स करने की कोशिश करें इससे शायद आपका सीमन वजाइना के अंदर ही रह जाएगा और बाहर नहीं आएगा। 
मेरी फोरस्किन बहुत ज्यादा टाइट है, क्या करूं?

मेरी फोरस्किन बहुत टाइट हो गई है और मास्टरबेशन के दौरान स्किन छिल जाती है। इसलिए मैंने मास्टरबेशन बंद कर दिया है। हाल ही मैंने देखा कि मेरा डायबीटीज भी बढ़ हुआ था। आपको क्या लगता है क्या डायबीटीज इसकी वजह है या फिर कोई और कारण है?


सवाल: मैं 36 साल का हूं। पहले मैं सप्ताह में 2-3 बार मास्टरबेट किया करता था। इस दौरान मेरा इजैक्युलेशन भी नॉर्मल था और मुझे संतुष्टि भी महसूस होती है। लेकिन मैं देख रहा हूं कि अब मैं अपनी फोरस्किन को पूरी तरह से पीछे नहीं कर पा रहा हूं। मैं हर बार अपने जेनिटल एरिया को अच्छी तरह से साफ करता हूं लेकिन अब मैं देख रहा हूं कि पेनिस के हेड पर और उसके नीचे भी मुझे सफेद रंग का द्रव्य दिखता है। हालांकि इसमें कोई बदबू नहीं है। मेरी फोरस्किन बहुत टाइट हो गई है और मास्टरबेशन के दौरान स्किन छिल जाती है। इसलिए मैंने मास्टरबेशन बंद कर दिया है। हाल ही मैंने देखा कि मेरा डायबीटीज भी बढ़ हुआ था। आपको क्या लगता है क्या डायबीटीज इसकी वजह है या फिर कोई और कारण है? 



जवाब: सफेद रंग का डिस्चार्ज जो आपको पेनिस के आसपास नजर आ रहा है उसे स्मेगमा कहते हैं जो फोरस्किन के नीचे से निकलने वाला नॉर्मल सिक्रीशन है। आपको अपनी टाइन फोरस्किन की जांच करवाने की जरूरत है और अगर आप इसे पूरी तरह से पीछे कर पाने में असमर्थ रहते हैं तो आपको सर्कमसीजन यानी खतना करवाना पड़ेगा। 


सवाल: मैं 28 साल का हूं और मेरी गर्लफ्रेंड 29 साल की। हाल ही में हमने ऑरल सेक्स किया था और मैंने उसके वजाइना को अपनी उंगलियों से उत्तेजित किया था। ना ही मेरे नाखून छोटे थे और ना ही मैंने अपने हाथ धोए थे। ऐक्ट के 4 दिन बाद भी गर्लफ्रेंड को पीरियड्स नहीं आए हैं। इसकी वजह क्या हो सकती है? क्या वह प्रेग्नेंट हो गई है? और अगर हां तो इस अनचाही प्रेग्नेंसी से निपटने के लिए हमें क्या कदम उठाने चाहिए? प्लीज हमें उचित सलाह दें क्योंकि हम दोनों ही इस बात को लेकर बहुत परेशान हैं? 

जवाब: आपने ऊपर जो विवरण दिया है उसे पढ़ने के बाद मुझे तो नहीं लगता कि आपकी गर्लफ्रेंड प्रेग्नेंट हो सकती है। लेकिन इस बात की पुष्टि करने के लिए उन्हें यूरिन प्रेग्नेंसी टेस्ट कर लेना चाहिए। हालांकि आपने जो किया वह कहीं से भी हाइजीनिक नहीं कहा जा सकता। हो सकता है उनका पीरियड्स किसी वजह से डिले हो गया हो। लिहाजा अगर उन्हें पीरियड्स से रिलेटेड कोई समस्या है तो तुरंत गाइनैकॉलजिस्ट से संपर्क करें। 


Yog Mudra For Loose Vagina,
वेजाइना के ढीलेपन को दूर करेगी ये मुद्रा ​| 

अगर आप सोचते है क‍ि सेक्‍स करने से योनि की कसावट चली जाती है तो आप गलत सोचते है। क्‍योंकि सिर्फ सेक्‍स ही नहीं, प्रसव के बाद और बढ़ती उम्र की वजह से भी योनि की मांसपेशियां में खिंचाव होने के वजह से भी योनि की कसावट कम होने लगती है।

इसलिए जिन महिलाओं को लगता है कि सिर्फ सेक्‍स ही योनि की कसावट कम होने का एकमात्र कारण है तो आप गलत है। सेक्‍स ही एकमात्र वजह नहीं है बल्कि अन्‍य कारणों से भी ऐसा हो सकता है। इस लेख में हम आपको योनि की मांसपेशियों में कसाव लाने के लिए कुछ घरेलू उपायों के साथ ही व्‍यायामों के बारे में बता रहे आइए जानते है।

ऐलोवेरा

ऐलोवेरा को योनि की आसपास की जगह पर लगाएं ऐलोवेरा का जेल योनि के आसपास की मांसपेशियों का मजबूत बनाता है। इसमें मौजूद रिजनरेशन के गुण योनि के मांसपेशियों के ढीलेपन को दूर करके उसे मजबूत बनाते है।





Featured Posts
आंवले के पेड़ की छाल

आंवले के पेड़ की छाल भी योनि को टाइट करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है आंवले के पेड़ की छाल को 24 घंटे पानी में भिगोकर रखे और फिर उस पानी से योनि को धोएं ऐसा नियमित रूप से करने से योनि टाइट हो जाती है। इसके अलावा आंवले को पूरी रात एक बर्तन पर भिगोकर रखें, सुबह इसे उबाल लें। तब तक उबालिए जब तक कि पानी आधा न रह जाएं। अब इसे ठंडा होने पर छान लें। और रुई की मदद से इसे योनि के आसपास लगाइए। 15 मिनट बाद ठंडे पानी से उस स्‍थान को साफ कर लें।
फिटकरी
फिटकरी के एक पानी के बर्तन में डालकर गर्म करें। पानी उबलने के बाद इसे थोड़ी देर ठंडा करें। अब इस पानी को योनि के आसपास की जगह पर लगाएं। और इस पानी से योनि में छींटे मारें। 15 मिनट के बाद साफ कपड़े से इस जगह को पोंछ ले। इस प्रकिया से योनि की कसावट वापस लौट आती है।
पान के पत्‍ते
पान के पत्ते भी योनि को तीग़ करने में काफी हद तक लाभकारी होते है 8-10 पान के पत्तों को आधा लीटर पानी में उबाल ले और जब पानी थोड़ा गुनगुना रह जाये तब कॉटन के टुकड़े को अच्छे से उस पानी में भिगोकर योनि में १५ मिनट तक रखे ऐसा लगातार ७ दिनों तक करने से योनि टाइट हो जाती है


भांग का चूर्ण

योनि की कसावट लाने के भांग को अच्‍छे से पीसकर इसका पाउडर बना लें। अब आधा चम्‍मच पाउडर को एक मखमल के कपड़े में बांध ले और इसकी पोटली बना लीजिए। इसके अंदर की भांग न गिर जाए इसलिए अच्‍छे से इसमें धागा बांध लें। अब रोजाना सोने से पहले इस कपड़े को हल्‍के गुनगुने पानी में डुबाकर इसकी योनि के अंदर लगा लीजिए। ऐसा करने से आपको रिजल्‍ट जरुर मिलेगा। वरना आप चाहे तो भांग के तेल से भी योनि में मसाज कर सकती है।
कीगल एक्‍सरसाइज
भांग 
इस एक्‍सरसाइज की सबसे खास बात यह है कि आप इसे कभी भी कहीं भी कर सकते हैं। और इसके बारे में किसी को पता भी नहीं चलेगा। इसे करने से आपकी पेल्विक की मांसपेशियां मजबूत हो जाती है। इसे दिन में पांच मिनट के लिए करें।
लेग रेज़

https://www.healthsiswealth.com/
अपनी पीठ के बल लेट जाएं और एक-एक करके पैर को हवा में उठाएं। ऐसा दस दस बार करें। इससे वेजिना की मांसपेशियों में कसाव आ जाएगा।
स्‍कैवट्स

यह एक्‍सरसाइज, वेजिना के लिए सबसे अच्‍छी एक्‍सरसाइज है। इसके लिए आप खड़े या आधा बैठकर हाथों को ऊपर की ओर ले जाएं। इससे बेहतर परिणाम मिलते हैं।

https://www.healthsiswealth.com/
पेल्विक व्‍यायाम

https://www.healthsiswealth.com/
इसे करने के लिए आपको दस सेट फ्लोर पर हाथ रखकर मारने होंगे। सुनिश्चित कर लें कि आप इस एक्‍सरसाइज को सिर्फ पेल्विक फ्लोर मसल्‍स पर ही करें। इस दौरान पेट और निचले हिस्‍से को कसा न रखें।
योगा करें

https://www.healthsiswealth.com/
नियमित रुप से योनि की मांसपेशियों टोन करने के लिए योग करना काफी अच्‍छा होता है। योग करने से पैल्विक फ्लोर की मांसपेशियां मजबूत होती हैं। जैसे सेतुबंधासन और बालासन ये योग आसान पैल्विक मांसपेशियों को कसने के साथ वजाइना को स्‍वस्‍थ बनाए रखता है।


कोई टिप्पणी नहीं

Healths Is Wealth. Blogger द्वारा संचालित.