Header Ads

उबासी से है परेशान तो करें उसका कुछ इस तरह निदान!



उबासी से है परेशान तो करें उसका कुछ इस तरह निदान!

वैसे तो जम्हाई(उबासी) लेना एक सामान्य है। जम्हाई आने के पीछे कई बार बड़ी बीमारी भी देखने को मिलती है। जम्हाई लिवर में खराबी होने का कारण भी हो सकता है। हाई ब्लड प्रेशर और थॉयरॉइड की समस्या भी ज्यादा जम्हाई लेने वाले लोगों में देखी गई है। ऑफिस में काम का प्रेशर ज्यादा होने के कारण भी आपको जम्हाई आती है। ऑफिस में हमारे आसपास हमारे साथियों में से कोई न कोई जम्हाई लेता है। उनको देखकर भी जम्हाई आती है। जो लोग ज्यादा जम्हाई लेते है तो कोशिश करे कि उन से दूर बैठे।

https://www.healthsiswealth.com/
1. कुछ इस तरह से आप जम्हाई को कंट्रोल कर सकते हैं। वैसे तो सभी को कम से कम 8 गिलास पानी पीना चाहिए। लेकिन अगर आप को जम्हाई लेने की आदत है तो ज्यादा पानी पीना चाहिए।पानी ज्यादा पीना से जम्हाई कम आती है। 

2. जम्हाई ज्यादा आ रही है तो खुले इलाको में आप घूमकर आ सकते हैं। इससे फ्रेश महसूस करेंगे। साथ ही शरीर में जो ऑक्सीजन की कमी हो रही थी वो भी खत्म हो जाएंगी।

3. अगर किसी मीटिंग में जाना है तो कोशिश करें अपने दिमाग को ठंडा रखने की। दिमाग में गर्मी बढ़ने के साथ जम्हाई भी बढ़ जाती है।

4. जम्हाई बढ़ने का कारण गलत डाइट भी होती है। ज्यादा तेल और मसाले-दार खाना न खाएं। ऐसे में आप फलों को डाइट में शामिल करें। जिसमें खीरा और तरबूज आपके लिए बेहतर विकल्प होंगे।
नींद या बोरियत से नहीं, किसी और चीज से आती है ऊबासी

https://www.healthsiswealth.com/
अमेरिकल अकदमी आॅफ स्लीप मेडिसिल में प्रकाशित रिपोर्ट में दावा
बिहार कथा
पटना। क्या आपने कभी सोचा है कि किसी व्यक्ति को उबासी लेता देखकर आपको भी उबासी क्यों आने लगती है? उबासी लेने की समयावधि क्या होती है या फिर मनुष्य किस उम्र से उबासी लेना शुरू कर देता है? अमूमन, उबासी एक सामान्य शारीरिक प्रक्रिया है लेकिन इससे जुड़ी कई छोटी-बड़ी बातों पर हम ध्यान नहीं देते हैं। हालांकि डॉक्टर उबासी को संक्रामक नहीं मानते हैं लेकिन यह काफी हद तक इसी तरह बड़ी तेजी से एक व्यक्ति से दूसरे व दूसरे से तीसरे व्यक्ति में फैलती है। उबासी को लेकर हमारे समाज में अनेक भ्रांतियां हैं। मसलन, इसे नींद आने या बोरियत से जोड़कर देखा जाता है? जबकि प्रिंसटन विश्वविद्यालय के वैज्ञानिकों द्वारा किए गए शोध में पता चला है कि उबासी नींद आने या बोरियत का संकेत नहीं है बल्कि यह दिमाग के तापमान को नियंत्रण में रखती है। हमारे शरीर की संरचना और कार्यविधि इस प्रकार से व्यवस्थित है कि नहीं चाहते हुए भी उबासी की स्थिति में एकाएक मुंह खुल जाता है। इससे दिमाग को ठंडक तो मिलती ही है साथ में चेहरे की मांसपेशियों में भी खिंचाव होता है।
अमेरिकन अकादमी आॅफ स्लीप मेडिसिन में प्रकाशित शोध के मुताबिक उबासी से शरीर में आॅक्सीजन की कमी की भरपाई भी होती है। दरअसल, जब फेफड़ों को पंप करने के लिए पर्याप्त मात्रा में आॅक्सीजन नहीं मिलती तो वह मुंह से उबासी के जरिए आॅक्सीजन की भरपाई करता है। मस्तिष्क अपने वॉल्स को ठंडा रखने के लिए उबासी लेता है। वर्ष 2004 में किए गए एक अध्ययन में यह बात निकल कर सामने आई थी कि 50 प्रतिशत लोग सामने वाले को देखकर उबासी लेते हैं। 2012 में किए गए शोध के मुताबिक आनुवंशिक और भावनात्मक रूप से जुड़े लोगों को उबासी लेते देखकर अधिक उबासी आती है।
यह तो स्पष्ट है कि मनुष्यों के साथ जीव-जंतु सहित कई अन्य प्रजातियां भी उबासी लेती है। लेकिन क्या आपको पता है कि एक भ्रूण मां के गर्भ में 11वें हफ्ते से ही उबासी लेना शुरू कर देता है। आमतौर पर उबासी की समयावधि छह सेंकड की होती है। लेकिन यह कभी कभार इससे थोड़ी अधिक भी हो जाती है। मनुष्य अपने जीवनकाल में औसतन 240,000 बार उबासी लेता है। अमेरिका के नेशनल इंस्टीट्यूट आॅफ हेल्थ के शोधार्थियों ने अध्ययन में पता लगाया है कि मनुष्य में अत्यधिक उबासी भी काफी कुछ बयां करती है। मसलन, यदि आपको थोड़ी-थोड़ी देर में उबासी आ रही है तो यह अनिद्रा की निशानी है, जिससे आगे चलकर कई तरह की बीमारियां हो जाती है। उबासी को रोकने पर भी शरीर पर इसका दुष्प्रभाव पड़ता है। इसलिए चिकित्सक भी कहते हैं कि उबासी आने पर इसे रोकना नहीं चाहिए।
जानिए क्यों आती है उबासी


https://www.healthsiswealth.com/
क्या आपने कभी सोचा है कि किसी व्यक्ति को उबासी लेता देखकर आपको भी उबासी क्यों आने लगती है? उबासी लेने की समयावधि क्या होती है या फिर इंसान किस उम्र से उबासी लेना शुरू कर देता है?
यूं तो उबासी एक सामान्य शारीरिक प्रक्रिया है लेकिन इससे जुड़ी कई छोटी-बड़ी बातों पर हम ध्यान नहीं देते हैं। हालांकि डॉक्टर उबासी को संक्रामक नहीं मानते हैं लेकिन यह काफी हद तक इसी तरह बड़ी तेजी से एक व्यक्ति से दूसरे व दूसरे से तीसरे व्यक्ति में फैलती है। 

उबासी को लेकर हमारे समाज में बहुत सारी गलतफहमियां हैं। मसलन, इसे नींद आने या बोरियत से जोड़कर देखा जाता है? जबकि प्रिंस्टन विश्वविद्यालय के वैज्ञानिकों द्वारा किए गए रिसर्च में पता चला है कि उबासी नींद आने या बोरियत का संकेत नहीं है बल्कि यह दिमाग के तापमान को नियंत्रण में रखती है। हमारे शरीर की बनावट और कार्यविधि कुछ इस तरह व्यवस्थित है कि नहीं चाहते हुए भी उबासी की स्थिति में एकाएक मुंह खुल जाता है। इससे दिमाग को ठंडक तो मिलती ही है साथ में चेहरे की मांसपेशियों में भी खिंचाव होता है।

अमेरिकन अकादमी ऑफ स्लीप मेडिसिन में प्रकाशित रिसर्च के मुताबिक उबासी से शरीर में ऑक्सीजन की कमी की भरपाई भी होती है। दरअसल, जब फेफड़ों को पंप करने के लिए पर्याप्त मात्रा में ऑक्सीजन नहीं मिलती तो वह मुंह से उबासी के जरिए ऑक्सीजन की भरपाई करता है। दिमाग अपने वॉल्स को ठंडा रखने के लिए उबासी लेता है।

वर्ष 2004 में किए गए एक रिसर्च में यह बात निकल कर सामने आई थी कि 50 फीसदी लोग सामने वाले को देखकर उबासी लेते हैं। 2012 में किए गए रिसर्च के मुताबिक आनुवंशिक और भावनात्मक रूप से जुड़े लोगों को उबासी लेते देखकर अधिक उबासी आती है।


यह तो स्पष्ट है कि इंसानों के साथ जानवर सहित कई अन्य प्रजातियां भी उबासी लेती हैं। लेकिन क्या आपको पता है कि एक भ्रूण मां के गर्भ में 11वें हफ्ते से ही उबासी लेना शुरू कर देता है. आमतौर पर उबासी की समयावधि छह सेंकड की होती है। लेकिन यह कभी कभार इससे थोड़ी अधिक भी हो जाती है। मनुष्य अपने जीवनकाल में औसतन 240,000 बार उबासी लेता है। 

अमेरिका के नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ हेल्थ के शोधार्थियों ने रिसर्च में पता लगाया है कि इंसान में अत्यधिक उबासी भी काफी कुछ बयां करती है। मसलन, यदि आपको थोड़ी-थोड़ी देर में उबासी आ रही है तो यह अनिद्रा की निशानी है, जिससे आगे चलकर कई तरह की बीमारियां हो जाती है। उबासी को रोकने पर भी शरीर पर इसका दुष्प्रभाव पड़ता है. इसलिए चिकित्सक भी कहते हैं कि उबासी आने पर इसे रोकना नहीं चाहिए।



बार बार उबासी का आना होता है इन 7 गंभीर बीमारी का संकेत, हो जाईये सावधान !

https://www.healthsiswealth.com/


आजकल की व्यस्त लाइफस्टाइल में सेहत का ध्यान रख पाना कठिन होता जा रहा है। नींद पूरी ना होना और तनाव की वजह से काम के वक्त शरीर थकावट से भरा रहता है। आपने गौर किया होगा की जब शरीर में थकावट रहती है तो उबासी आने लगती है।


आमतौर पर लोग इस पारा ज्यादा ध्यान नहीं देते पर आपको बता दें की बार बार जम्हाई आना कई गंभीर बीमारियों का लक्षण हो सकती है। आज हम आपको बता रहे है की बार बार उबासी आना किन बीमारियों का संकेत है।

https://www.healthsiswealth.com/
बार बार उबासी आने से हो सकते ये 7 रोग

1.हार्ट अटैक –


बार बार उबासी या जम्हाई आना से हार्ट अटैक का खतरा रहता है। साथ ही अगर उबासी आने के साथ सीने में दर्द बने तो तुरंत चिकित्स्सक से सलाह लें।

2.हाइपोथायराइड-

https://www.healthsiswealth.com/

शरीर में थायराइड के हार्मोन की कमी या इन हार्मोन के बनने में दिक्कत होने से हाइपोथायराइड रोग हो जाता है और बार बार जम्हाई आना इस बात की तरफ इशारा करता है की आपकी स्थिति ठीक नहीं है।

3.फेफड़े संबंधी रोग –


https://www.healthsiswealth.com/
दवाओं के अधिक इस्तेमाल से अभी बार बार जम्हाई आने लगती है। साथ ये इस बात का भी संकेत है की आपको फेफड़े संबंधी रोगों की शिकायत हो सकती है।

4.शरीर का तापमान बढ़ना-


शरीर सुस्त होने के अलावा अगर अनियमित तरीके से शरीर के तापमान में वृद्धि हो रही है तब भी बार बार उबासी आने लगती है।

5.एनर्जी की कमी-

https://www.healthsiswealth.com/

शरीर में थकावट होना आम बात है पर अगर ये थकावट हर वक्त की होने लगे तो समझिये शरीर में पोषक तत्वों की कमी भी है। ऐसे में शरीर को ना सिर्फ सिर्फ आराम की जरुरत है बल्कि आपको कैलोरी, विटामिन, प्रोटीन से भरपूर आहार के सेवन न की भी आवश्यकता है।

6.दिल की धड़कन का कम होना-


बार बार उबासी या जम्हाई आना एस बात की तरफ भी इशारा करता है की आपको ज्यादा तनाव है और दिल की धड़कन कम हो रही है। ऐसे में शरीर उबासी लेकर पूरे शरीर तक अॉक्सीजन पहुंचाता है।

7.किडनी खराब होना-


चिकित्सकों की सलाह है की लीवर के ठीक से काम ना करने की वजह से भी बार बार उबासी आती है क्योंकि ऐसे में शरीर को ज्यादा थकावट महसूस होने लगती है।

https://www.healthsiswealth.com/




बहुत ज्‍यादा उबासी आए तो अपनाइये ये 6 तरीके

https://www.healthsiswealth.com/
उबासी हमारे दैनिक जीवन का हिस्सा है, हम दिन में कम से कम एक बार उबासी या जम्हाई जरूर लेते हैं। लोग मानते हैं की उबासी शरीर में थकान महसूस होने के कारण आती है थोड़ी देर सोकर इसे दूर किया जा सकता है।

एक्स्पर्ट्स कहते हैं कि इसके कई शारीरिक और मानसिक कारण हैं। शरीर में ऑक्सीज़न की कमी भी इसका एक कारण हो सकता है। इसके अन्य कारणों के बारे में जानकार इसे रोका जा सकता है।



यदि आप वाकई में बार-बार उबासी आने की समस्या से परेशान हैं तो ये चीजें आपकी मदद कर सकती हैं। इनमें से अधिकतर टिप्स सब पर कारगर हैं क्यों कि चाहे अलग-अलग लोगों में इसका कारण अलग-अलग हो या फिर कैसी भी स्थिति हो।

उबासी से छुटकारा पाने के इन तरीकों को हजारों लोगों पर इस्तेमाल किया जा चुका है और उन्हें इनसे फायदा मिला है। यदि आप उबासी से परेशान हैं तो इन तरीकों को अपनाएं, आपको निश्चित ही लाभ मिलेगा।



बोरियत को करें दूर

https://www.healthsiswealth.com/
अधिकतर बार जब आप बोर होते हैं तो उबासी ज्यादा आती है। ऐसे समय आप जम्हाई इसलिए लेते हैं क्यों कि आप उस काम या वातावरण से तालमेल नहीं बैठा पाते हैं। ऐसी स्थिति में थोड़ी देर विराम लें, अपनी सीट छोड़ें, और अपने आपको ऐसे काम में लगाएँ जिसमें आपकी रुचि हो।
ख्‍ूाब पानी पियें

https://www.healthsiswealth.com/
चूंकि थकान के कारण उबासी आती है इसलिए पानी पीना भी इससे छुटकारा पाने का एक अच्छा तरीका है। यह आपके शरीर को हाइड्रेट करेगा और आप तरोताजा महसूस करेंगे। यह जम्हाई दूर करने का एक आसान तरीका है।

https://www.healthsiswealth.com/
खुलकर सांस लें

जैसा कि बताया गया है कि उबासी का कारण ऑक्सीज़न की कमी है। ऐसी स्थिति में आपको शरीर में सही मात्रा में ऑक्सीज़न पहुंचाना आवश्यक है। जितना हो सके आप भारी सांस लें। सांस को कुछ देर रोक कर रखें और फिर छोड़ें। इससे शरीर को पर्याप्त ऑक्सीज़न मिलेगी और आपको अच्छा महसूस होगा। एक्स्पर्ट्स के अनुसार यह एक प्रभावी तरीका है।
तनाव से दूर रहें

ज्यादा काम और पर्याप्त नींद की कमी भी उबासी का कारण है। कम सोना और तनाव ये दोनों चीजें शारीरिक और मानसिक रूप से आपको परेशान करती हैं। आपको अपने काम का प्रेशर कम करके बिना किसी दवाई के सही तरह से सोने की कोशिश करनी चाहिए। ध्यान रखें कि आप आदमी हो कोई मशीन नहीं।



https://www.healthsiswealth.com/


दूसरों को उबासी लेते नहीं देखें

अधिकतर लोगों में उबासी का यह एक मानसिक कारण है। अधिकतर लोग जब किसी को उबासी लेते देखते हैं तो वे भी उबासी लेना शुरू कर देते हैं। यदि आप भी ऐसा ही करते हैं तो ऐसा करना बंद कर दें। ऐसे में आप तुरंत अपनी निगाहें हटा लें ताकि आपकी उबासी लेने की इच्छा ना हो। हालांकि यह आसान नहीं है लेकिन ऐसा करके आप इससे छुटकारा पा सकते हैं।
दिल की बीमारियों का इलाज कराएं

https://www.healthsiswealth.com/
बहुत से डॉक्टर्स का मानना है कि दिल और फेफड़ों की बीमारियों के कारण भी उबासी ज्यादा आती है। उनके अनुसार यदि आपको अस्थमा है या फिर दिल या फेफड़ों से संबन्धित समस्या है तो उसका सही इलाज कराएं। अन्यथा बाद में आपको ज्यादा परेशानी उठानी पड़ सकती है।


कोई टिप्पणी नहीं

Healths Is Wealth. Blogger द्वारा संचालित.