Header Ads

अगर शरीर में पोटेशियम की कमी को करना हो जल्द दूर, तो आज ही अपनाये ये आहार


अगर शरीर में पोटेशियम की कमी को करना हो जल्द दूर, तो आज ही अपनाये ये आहार

https://www.healthsiswealth.com/

शरीर को स्वस्थ रखने के लिए विटामिन, कैल्शियम, आयरन, प्रोटीन और पोटेशियम की बहुत आवश्यकता होती है. लोग पोटेशियम पर ज्यादा ध्यान नहीं देते हैं. पर हम आपको बता दें कि शरीर में पोटेशियम की कमी होने से आपको मांसपेशियों में दर्द, हाई ब्लड प्रेशर, दिल की धड़कन का तेज होना जैसी समस्याएं हो सकती हैं. ज़्यादातर लोग पोटेशियम की कमी को दूर करने के लिए केले का सेवन करते हैं. पर आज हम आपको कुछ ऐसे आहारों के बारे में बताने जा रहे हैं जिनके सेवन से आप पोटेशियम की कमी को दूर कर सकते हैं.

1- आलू में भरपूर मात्रा में पोटेशियम मौजूद होता है. इसे हमेशा उबालकर खाना चाहिए. आलू में स्टार्च की भी भरपूर मात्रा पाई जाती है, जो गठिया रोग को ठीक करने में मदद करती है. पोटेशियम की कमी को पूरा करने के लिए आप शकरकंद का भी सेवन कर सकते हैं.

2- तरबूज हमारी सेहत के लिए बहुत फायदेमंद होता है. इसमें भरपूर मात्रा में पोटेशियम मौजूद होता है. इसके सेवन से हमारे शरीर में पानी की कमी पूरी हो जाती है. तरबूज में कुछ ऐसे तत्व मौजूद होते हैं जो कैंसर की बीमारी से बचाव करने में सहायक होते हैं.

3- पोटेशियम की कमी को पूरा करने के लिए नियमित रूप से चुकंदर का सेवन करें. इसमें आयरन की भरपूर मात्रा होती है. इसके सेवन से शरीर से खून की कमी दूर हो जाती है.

https://www.healthsiswealth.com/

शरीर में पोटेशियम की कमी को दूर करते हैं यह आहार

पालक में पोटेशियम काफी अच्छी मात्रा में होता है। एक कप अर्थात लगभग 30 ग्राम पालक में 167 मिलीग्राम पोटेशियम और 7 कैलोरी पाई जाती है। वैसे पालक पोटेशियम के अतिरिक्त आयरन और कैल्शियम का भी एक बेहतरीन स्रोत है।


शरीर की कार्यप्रणाली के सही तरह से संचालन के लिए यह बेहद जरूरी है कि सभी तरह के पोषक तत्व पर्याप्त मात्रा में हो। इन सभी पोषक तत्वों में से एक है पोटेशियम। यह शरीर में पाया जाने वाला तीसरा सबसे प्रचुर खनिज है। यह न केवल शरीर में इलेक्टोलाइट संतुलन को बनाए रखता है, बल्कि हृदय, गुर्दे, मस्तिष्क और मांसपेशियों के उतकों के सही तरह से कामकाज के लिए भी बेहद आवश्यक है। अगर रक्त में पोटेशियम की कमी हो जाती है तो इससे सिरदर्द, दिल की धड़कन व अन्य कई तरह की परेशानियां खड़ी हो जाती है। ऐसे में इन परेशानियों से बचने का एकमात्र तरीका है कि भोजन में पोटेशियम समृद्ध खाद्य पदार्थों को शामिल किया जाए। तो चलिए जानते हैं इसके बारे में−

सफेद बीन्स


सफेद बीन्स पोटेशियम का एक अच्छा स्रोत है और मात्र इसके जरिए ही पोटेशियम की दैनिक आवश्यकता की पूर्ति की जा सकती है। एक कप सफेद बीन्स में करीबन 3636 मिलीग्राम पोटेशियम और 673 कैलोरी पाई जाती है। इसके अतिरिक्त सफेद बीन्स फाइबर व फोलेट का भी एक अच्छा स्रोत माना गया है। आप अपने इवनिंग सूप में व्हाइट बीन्स को शामिल कर सकते हैं।
पालक 
पालक में पोटेशियम काफी अच्छी मात्रा में होता है। एक कप अर्थात लगभग 30 ग्राम पालक में 167 मिलीग्राम पोटेशियम और 7 कैलोरी पाई जाती है। वैसे पालक पोटेशियम के अतिरिक्त आयरन और कैल्शियम का भी एक बेहतरीन स्रोत है। जहां आयरन हेयर हेल्थ को बेहतर बनाने के साथ−साथ अनीमिया से बचाव करता है, वहीं कैल्शियम हडि्डयों व दांतों के लिए बेहद आवश्यक माना गया है। आप पालक को चाहे तो वेजिटेबल सलाद में शामिल करें या फिर इसके पत्ते को अपने ब्रेकफास्ट टोस्ट में लगाएं। वैसे पालक का सूप या स्मूदी भी एक अच्छा ऑप्शन हो सकता है।



एवोकाडो
एक एवोकाडो में लगभग 975 मिलीग्राम पोटेशियम व 322 कैलोरी पाई जाती है। वैसे एवोकाडो एकमात्र ऐसा फल है, जिसमें पोटेशियम के साथ−साथ हेल्दी मोनोअनसैचुरेटेड फैटी एसिड पाए जाते हैं जो कोलेस्टॉल लेवल को घटाने के साथ−साथ आपके हृदय की रक्षा करते हैं। आप इस फल को यूं ही आसानी से खा सकते हैं।

केला
केले को पोटेशियम समृद्ध माना गया है। एक बडे़ केले में लगभग 487 मिलीग्राम पोटेशियम और 121 कैलोरी पाई जाती हैं। यह व्यक्ति की एनर्जी को एकदम से बूस्टअप करता है और साथ ही इसमें मौजूद फाइबर पाचनतंत्र के लिए काफी अच्छा होता है। आप केले को चाहें तो यूं ही खाएं या फिर इसकी स्मूदी बनाकर पिएं, यह पूरी तरह आप पर निर्भर करता है। 

पोटेशियम की कमी को दूर करने के उपाय

https://www.healthsiswealth.com/


पोटेशियम की कमी को हाइपोक्लेमिया कहा जाता है। इसके लक्षणों में गंभीर मांसपेशियों में थकान, कमजोर लगना, और मांसपेशियों में ऐंठन शामिल है। पोटेशियम की कमी सभी मांसपेशियों के कार्य को प्रभावित करता है, सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि आपकी हृदय की मांसपेशियां। इसका मतलब है कि कम पोटेशियम हृदय अटैक का कारण बन सकता है, खासकर उन लोगों में जो पहले से ही हृदय की समस्याएं झेल रहे हैं।

पोटेशियम एक आवश्यक पोषक तत्व है, जो शरीर में तरल पदार्थ और इलेक्ट्रोलाइट संतुलन बनाए रखने के लिए उपयोग किया जाता है। पोटेशियम की कमी, थकान, चिड़चिड़ापन और उच्च रक्तचाप का कारण बनता है। यदि पोटेशियम की कमी को नजरअंदाज किया जाये तो बाद में दस्त, निर्जलीकरण, उल्टी का कारण बन सकता है। पोटेशियम शरीर से एक्स्ट्रा फ्लूड निकालने में बहुत मदद करता है। इसीलिए अपनी डाइट में केला, शकरकंद, पालक और पिस्ते को शामिल करें। आइए पोटेशियम की कमी को दूर करने के उपाय के बारे में जानते हैं।
पोटेशियम की कमी को दूर करने के उपाय
पोटेशियम की कमी को दूर करने वाले फल


https://www.healthsiswealth.com/
अपने पोटेशियम की जरूरतों को पूरा करने के लिए फल सही विकल्प है। केले में पोटेशियम की एक स्वस्थ खुराक होती है और कुछ लोग कहते हैं कि केले मांसपेशियों की ऐंठन से बचने में आपकी सहायता कर सकती हैं। पोटेशियम की कमी को दूर करने के लिए आप केले और अखरोट की स्मूदी बना सकते हैं। केले के अलावा आप संतरे आम, कीवी, खुबानी, ड्राइ फ्रूट और एवोकैडो आदि का सेवन कर सकते हैं।
पोटाशियम से भरपूर ये फल आपको पोटेशियम के लक्ष्य तक पहुंचने में मदद करेगी, क्योंकि वे सभी उच्च पोटेशियम वाले फल हैं जो अतिरिक्त लाभ प्रदान करते हैं। क्योंकि अधिकांश मामलों में ये एंटीऑक्सिडेंट और फाइबर से भरपूर होते हैं।
पोटेशियम की कमी को दूर करने वाली सब्जियां


https://www.healthsiswealth.com/
बीटा कैरोटीन में उच्च सब्जियां पोटेशियम के अच्छे स्रोत है। गाजर, शकरकंद और लाल मिर्च पोटेशियम से भरपूर सब्जियां हैं। इसके अलावा आप अपनी डाइट में पालक को भी शामिल करें।
मछली

ज्यादातर मछली पोषक तत्वों के अच्छे स्रोत होते हैं। मछली पोटेशियम का एक और बड़ा स्रोत है। सैल्मन मछली पोटेशियम का एक बड़ा स्रोत है। अगर मछली को आपके आहार में जगह मिलती है, तो आपको आपके स्वास्थ्य की स्थिति के आधार पर हेल्दी ईटिंग प्लान बनाने में मदद मिलेगी।
पोटेशियम की कमी को दूर करने के लिए टिप्स
यदि आपके शरीर में पोटेशियम की कमी है तो आप डॉक्टर से बात कीजिए।
पोटेशियम के नुकसान से बचने के लिए आप दस्त या उल्टी का इलाज कराएं।
पोटेशियम की कमी के कारण?

कुछ पुरानी स्थिति पोटेशियम की कमी के स्तर को पैदा कर सकती है। उल्टी, दस्त या दोनों के होने से शरीर में पोटेशियम की भारी कमी हो सकती है। इसके कारणों के बारे में जानते हैं।
गुर्दे की पुरानी बीमारी
डायबिटीज़ संबंधी बीमारी
दस्त
अत्यधिक शराब का उपयोग
बहुत ज़्यादा पसीना आना
फोलिक एसिड की कमी
उल्टी
पोटेशियम की कमी से होने वाले रोग
गुर्दे की बीमारी
दिल का अनियमित कामकाज
उच्च रक्तचाप
माइग्रेन
मसकुलर डिजनरेशन
पेट विकार
त्वचा संबंधी समस्याएं

https://www.healthsiswealth.com/






कोई टिप्पणी नहीं

Healths Is Wealth. Blogger द्वारा संचालित.