Header Ads

ध्यान लगाने (मेडिटेशन) के 8 फायदे


ध्यान लगाने (मेडिटेशन) के 8 फायदे



ध्यान लगाना एक ऐसा अभ्यास है जिसमे कोई भी व्यक्ति अपने मस्तिष्क को किसी विशेष वस्तु, विचार या गतिविधि की ओर केन्द्रित करता है ताकि वो मानसिक रूप से स्पष्ट और भावनात्मक रूप से शांत स्थिति प्राप्त कर सके।

आजकल जैसे-जैसे लोग मेडिटेशन के फायदों के बारे में अवगत होते जा रहे हैं, वैसे ही इसका उपयोग नैतिक जीवन में बढ़ता जा रहा है। मेडिटेशन एक ऐसा जरिया है, जिसको अपनाकर लोग अपने और अपने आस-पास के बारे में जागरूकता हासिल करते हैं।

बहुत से लोग इसे तनाव को कम करने और एकाग्रता को विकसित करने का एक तरीका मानते हैं।

लोग अन्य लाभकारी आदतों और भावनाओं को विकसित करने के लिए भी मेडिटेशन का उपयोग करते हैं। जैसे कि एक सकारात्मक मूड और दृष्टिकोण, आत्म-अनुशासन, स्वस्थ नींद पैटर्न और यहां तक ​​कि बढ़े हुए दर्द सहिष्णुता जैसी गंभीर समस्याओं में भी इससे मदद मिलती है।
Image result for (मेडिटेशन)
ध्यान सबसे गहरी नींद से भी ज्यादा आराम देता है। ध्यान लगाने के दौरान मन में कोई आक्रोश नहीं होता, मन एकदम शांत और भय मुक्त होता है।
मैडिटेशन करने के फायदे (benefits of meditation in hindi)
1. एकाग्रता बढ़ाने में उपयोगी (meditation for concentration in hindi)
2. तनाव कम करने में (meditation in stress in hindi)
3. आत्म-जागरूकता को बढाने में (meditation for self-realisation in hindi)
4. अच्छा व्यवहार पाने में (meditation for good behaviour in hindi)
5. किसी भी लत को दूर करने में (benefits of meditation in addiction in hindi)
6. अच्छी नींद आने में (meditation for good sleep in hindi)
7. दर्द से आराम (meditation for pain in hindi)
8. चिंता को नियंत्रित करता है (meditation for over-thinking in hindi)
मैडिटेशन करने के फायदे (benefits of meditation in hindi)

मेडिटेशन के विज्ञान द्वारा पाए गए फायदे कुछ इस प्रकार हैं:
1. एकाग्रता बढ़ाने में उपयोगी (meditation for concentration in hindi)
Image result for (मेडिटेशन)
मेडिटेशन करने वालों में पाया गया कि वे किसी भी काम को ज्यादा एकाग्रचित होकर करते हैं। वे अपने पूर्ण ध्यान के साथ किसी भी बात को सुनते हैं और उनके द्वारा किये गए कार्य ज्यादा अच्छे और उच्च दर्जे के होते हैं।
एक अध्ययन ने आठ सप्ताह की मनोविज्ञान ध्यान पाठ्यक्रम के प्रभावों को देखा और पाया कि प्रतिभागियों की क्षमता में सुधार और उनका ध्यान बनाए रखने की क्षमता बढ़ी है। इसी तरह के एक अध्ययन से यह भी पता चला है कि मानव संसाधन श्रमिक जो नियमित रूप से दिमाग का ध्यान अभ्यास करते थे, लंबे समय तक एक कार्य पर केंद्रित रहे।
2. तनाव कम करने में (meditation in stress in hindi)

मैडिटेशन के बहुचर्चित होने का मुख्य कारण है आजकल की सबसे बड़ी समस्या का समाधान पाना जोकि है तनाव। तनाव ने आजकल हमारी ज़िन्दगी में इस प्रकार घर बना रखा है कि लोगों को इससे निजात पाना असंभव सा लगने लगा है।
Image result for (मेडिटेशन)
3500 लोगों के ऊपर किये गए एक शोध में ये पाया गया है कि मैडिटेशन ने लोगों की तनाव की समस्या को काफी हद्द तक दूर कर दिया है।आम तौर पर, मानसिक और शारीरिक तनाव हार्मोन कोर्टिसोल के स्तर में वृद्धि के कारण होता है। इससे तनाव के कई हानिकारक प्रभाव पैदा होते हैं, जैसे कि साइटोकिन्स नामक इन्फ़्लम्मतिओन-प्रोमोटिंग रसायनों की रिहाई।
इन सब की वजह से इंसान में डिप्रेशन, घबराहट, थकान और बड़े हुए ब्लड प्रेशर की शिकायत हो जाती है।शोध के मुताबिक, इन सभी परेशानियों से मैडिटेशन के ज़रिये छुटकारा पाया जा सकता है। नियमित रूप से ध्यान करने से इंसान मानसिक रूप से स्वस्थ रहता है।
3. आत्म-जागरूकता को बढाने में (meditation for self-realisation in hindi)

कुछ प्रकार का ध्यान करने से इंसान के अन्दर आत्म-जागरूकता आती है और अपने प्रति समझ विकसित हो जाती है। स्तन कैंसर से लड़ने वाली 21 महिलाओं के एक अध्ययन से पता चला कि जब उन्होंने एक ताई ची कार्यक्रम में भाग लिया, तो उनके आत्मसम्मान में उन लोगों की तुलना में अधिक सुधार हुआ, जिन्होंने सामाजिक समर्थन सत्र प्राप्त किए।

मैडिटेशन के ज़रिये इंसान अपनी अच्छइयों और खामियों से अवगत हो जाता है, साथ ही साथ अपने आप को मज़बूत बनाने की ओर अग्रसर हो जाता है। इससे लोगो के अन्दर समस्याओं का निवारण ढूँढने की क्षमता बढ़ जाती है।
4. अच्छा व्यवहार पाने में (meditation for good behaviour in hindi)

मैडिटेशन के ज़रिये लोगों में सकारात्मक विचार आते हैं और वे हर समस्या को एक चुनौती के रूप में देखते हैं। इससे उनके अन्दर दुसरे लोगों के प्रति प्रेम की भावना उत्पन्न होती है और वे हर किसी के प्रति दयालुता के भाव के साथ देखते हैं। उनके अन्दर लोगों की मदद करने की इच्छा जागती है और वे ये सोचते हैं कि इंसानियत उनका धर्म है।

100 लोगों पर हुए एक अध्ययन के अनुसार ये पाया गया है कि लोगों के अन्दर ये भावना उनके मैडिटेशन करने के स्तर पर निर्भर करती है।
मेटा, एक प्रकार का मैडिटेशन है जिसे प्रेम-कृपा ध्यान के रूप में भी जाना जाता है यह अपने विचारों और भावनाओं के विकास के साथ शुरू होता है।
5. किसी भी लत को दूर करने में (benefits of meditation in addiction in hindi)

ध्यान मानसिक संतुलन और संकल्प की भावना विकसित करता है जिससे इंसान को किसी भी प्रकार की लत या एडिक्शन से लड़ने की क्षमता मिलती है।

अनुसंधान ने दिखाया है कि मेडिटेशन लोगों को अपना ध्यान पुनर्निर्देशित करना, उनकी इच्छाशक्ति बढ़ाने, उनकी भावनाओं और आवेगों को नियंत्रित करने और उनके व्यसनी व्यवहार के पीछे के कारणों की उनकी समझ को बढ़ाने में मदद कर सकता है।

इससे लोगों में अपने एडिक्शन को छोड़ आगे बढ़ने की प्रेरणा मिलती है।
6. अच्छी नींद आने में (meditation for good sleep in hindi)

आजकल अधिकतर लोगों को अनिद्रा की समस्या से झूझना पढ़ रहा है। लोगों के द्वारा अपनाए गए अनेकों कदम बेअसर दिखाई दे रहे हैं लेकिन मेडिटेशन ने लोगों की इस समस्या को काफी हद्द तक दूर कर दिया है।

कुछ लोगों पर किये एक अध्ययन में ये पाया गया कि जिन लोगों ने ध्यान किया उनको नींद की समस्या से कम झूझना पड़ा। वही जिन्होंने नहीं किया उनकी नींद की समस्या जस की तस रही।
7. दर्द से आराम (meditation for pain in hindi)

दर्द की आपकी धारणा आपके मन की स्थिति से जुड़ी है, और इसे तनावपूर्ण परिस्थितियों में बढ़ाया जा सकता है।

मैडिटेशन करने वाले लोगों को दर्द का सामना कम करना पड़ा वही मैडिटेशन न करने वालों को अधिक दर्द की अनुभूति हुई।

यह पाया गया कि मैडिटेशन करने वालों और न करने वालों को एक ही दर्जे का दर्द महसूस हुआ पर मैडिटेशन करने वालों को कम तीव्रता का दर्द झेलना पड़ा।
8. चिंता को नियंत्रित करता है (meditation for over-thinking in hindi)

जब लोगों में कम तनाव होता है तो वे कम चिंतित होते हैं। तनाव चिंता का सबसे बड़ा कारण हैं इसलिए जब लोगों के अन्दर कम तनाव होता है तो वे अपनी चिंता से दूर होकर तनावरहित और चिंतामुक्त ज़िन्दगी जीते हैं।

मनोविज्ञान के एक अध्ययन में पाया गया कि जिन लोगो ने 8 सप्ताह तक मैडिटेशन किया वे कम चिंतित पाए गए और पहले के मुकाबले ज्यादा खुश रहने लगे।
इससे चिंता विकारों के लक्षण भी कम हो गए हैं, जैसे कि डर, सामाजिक चिंता, गलत विचार, जुनूनी-बाध्यकारी व्यवहार और आतंक हमलों की सोच जैसी धारणाएं दिमाग में नहीं पैदा होती

कोई टिप्पणी नहीं

Healths Is Wealth. Blogger द्वारा संचालित.