Header Ads

हाथों और पैरों में झनझनाहट होने के कारण और उपाय

हाथों और पैरों में झनझनाहट होने के कारण और उपाय :-

जो शरीर में विटामिन बी 12 की कमी, शरीर में रक्त कोशिकाओं के सुचारू रूप से कार्य न करने की वजह से, तंत्रिका पर किसी प्रकार की चोट लगने की वजह से या नशीली पदार्थ का सेवन करने के कारण आपको इस तरह की समस्याओं का सामना करना पड़ता है। जब भी आप झनझनाहट की समस्याओं से गुजरते हैं तो आपको ऐसा लगता है कि बस जल्दी से इससे राहत मिल जाए। लेकिन समझ में नहीं आता कि हम क्या करें। आज हम इस समस्या से बचने के लिए कुछ उपाय बताएंगे। जिससे आपके हाथ पैरों में झनझनाहट दूर कर सकते हैं। और इनके कुछ कारणों पर भी चर्चा करेंगे।
https://www.healthsiswealth.com/

हाथों और पैरों में झनझनाहट होने के कारण :-
तंत्रिका तंत्र पर दबाव पड़ने के कारण या तंत्रिका तंत्र पर चोट लगने के कारण हाथो पैरो में झनझनाहट होने लगती है।
शरीर में विटामिन बी कॉम्प्लेक्स और बी-12, मैग्नीशियम, पोटेशियम आदि की कमी भी आपके हाथो और पैरों में झनझनाहट का कारण बनती है।
जब कोशिकाओं के कार्य में कुछ असामनता हो जाती है तब भी आपको झनझनाहट महसूस हो सकती है।
रक्त वाहिकाओं के दबाव के कारण या शरीर के किसी हिस्से में रक्त का प्रवाह सुचारु रूप से न होने के कारण।
कुछ खाद्य पदार्थ या दवाइया भी ऐसी होती है जिनके सेवन से आपको ये परेशानी होने लगती है।
शुगर के रोगियों को ये समस्या ज्यादा होती है।
बहुत अधिक शराब का सेवन, धूम्रपान आदि करने पर भी आपको इस परेशानी का सामना करना पड़ता है।
ठन्डे पानी में काफी देर रहना, या ठंडी चीज को काफी देर तक छूने के कारण भी आपको झनझनाहट महसूस हो सकती है।
https://www.healthsiswealth.com
हाथों और पैरों की झनझनाहट से बचने के उपाय :-

# हल्दी का इस्तेमाल करें :-

हल्दी में एंटी एंफ्लेमेंटरी पर्याप्त मात्रा में होती है। इस गुण के साथ हल्दी में एक तत्व पाया जाता है। जिसे कुरकुर्मीन कहते हैं। इसके कारण आपके पुरे शरीर में ब्लड सर्कुलेशन को बेहतर बनाने में माद्दा मिलती है,इसके इस्तेमाल के लिए आप एक गिलास दूध में चुटकी भर हल्दी डालकर अच्छे से पकाएं, उसके बाद ठंडा करके इस दूध का सेवन करें साथ ही हल्दी और पानी का पेस्ट बनाकर प्रभावित हिस्से पर लगाएं, आपको झनझनाहट से राहत पाने में मदद मिलेगी।

# दालचीनी का इस्तेमाल करें :-
दालचीनी के इस्तेमाल से भी अपने हाथ पैरों में झनझनाहट को दूर कर सकते हैं। क्योंकि इसके सेवन से आपके शरीर में मैग्नीशियम, और पोटैशियम के तत्वों की कमी को पूरा करने में माद्दा मिलने के साथ आपके ब्लड सर्कुलेशन में भी मदद मिलती है, इससे बचने के लिए आपको एक गिलास में दालचीनी पाउडर को उबाल कर उसके गुनगुना रहने तक उसका सेवन करना चाहिए इसके अलावा आप दालचीनी पाउडर के साथ थोड़ा अदरक भी उबाल सकते है, और उसमे एक चम्मच शहद मिलाकर लेते हैं तो भी आपको फायदा होता है।

# व्यायाम करें :-
यदि आपके पैरों में भी दर्द एवं झनझनाहट की समस्या बनी रहती है तो, आपको अपने दिनचर्या में व्यायाम को शामिल करने की जरूरत है। क्योंकि व्यायाम करने से न केवल आपका ब्लड सर्कुलेशन सुचारु रूप से चलता है, बल्कि आपकी कोशिकाओं को भी बेहतर तरीके से काम करने में मदद मिलती है, जिससे आपको इस समस्या से राहत के साथ अपने आप को फिट रखने में भी मदद मिलती है।
# मसाज करें :-

इन समस्याओं को दूर करने लिए मसाज सबसे कारगर और सरल तरीका है। ऐसा करने से आपके अंग सही से काम करते हैं और ब्लड फ्लो भी बेहतर तरीके से होने लगता है। इसके इस्तेमाल के लिए आप सरसों, नारियल, जैतून के तेल को हल्का गरम करके अच्छे से अपने हाथों और पैरों की मसाज करें, जिससे इससे आपको अपनी इस परेशानी को दूर करने में मदद मिलती है, और मसाज करते समय अपनी उँगलियों को सर्कुलर मोशन में घुमाएं।

# गरम सिकाई करें :-
इन समस्याओं से बचने के लिए सिकाई भी सबसे अच्छा और बेहतर उपचार है, इसके लिए आप पानी में नमक और फिटकरी डालकर अच्छे से उबाल लीजिए। उसके बाद एक सूती कपडा लेकर इस पानी में डालकर अच्छे से निचोड़ लें, फिर इस कपडे को प्रभावित हिस्से पर अच्छे से बाँध लें, या फिर पानी के गुनगुना रहने पर अपने हाथों या पैरों को इस पानी में डालकर सिकाई करें आपको राहत जरूर मिलेगी।

# विटामिनस बी 12 युक्त खाद्य पदार्थ और हरी सब्जियों, फलों का सेवन भरपूर मात्रा में करना :-

शरीर में पोषक तत्वों की कमी होने की वजह से भी इन समस्याओं का सामना करना पड़ता है। खासतौर पर जब शरीर में विटामिन बी12 की कमी होती है तो इससे बचने के लिए आपको दूध, दही, चीज, पनीर, मक्खन, सोयाबीन दाल, सोया दूध, आदि का सेवन भरपूर करने के साथ अपने आहार में हरी सब्जियों और फलों को भी नियमित रूप से शामिल करना चाहिए ऐसा करने से आपको इस समस्या से बचने में मदद मिलती है, साथ ही आपको ड्राई फ्रूट्स आदि का सेवन भी भरपूर मात्रा में करना चाहिए।

# मसाला मिश्रण चूर्ण का सेवन करें :-
इसके लिए आप मसाला मिश्रण चुर्ण का भी इस्तेमाल कर सकते हैं। लहसुन, जीरा, लौंग, इलायची को पीस कर एक बारीक चूर्ण तैयार करें, उसके बाद सुबह शाम इस चूर्ण का सेवन पानी के साथ करें, आपको इस समस्या से निजात पाने में मदद मिलेगी।

# अश्वगंधा और आंवला चूर्ण का प्रयोग करें:-

आप यदि नियमित रूप से चुटकी भर अश्वगंधा के साथ आधा चम्मच आवला चूर्ण मिलाकर इसका सेवन करते हैं तो आपको इन समस्याओं से बचने में मदद मिलेगी। साथ ही साथ हाथ पैरों के दर्द से भी राहत मिलने लगेगी।

यहां पर कुछ कारण बताई गई है, जिनकी वजह से आपको हाथों और पैरों में झनझनाहट की समस्या हो रही है। और साथ ही इससे बचने के कुछ उपाय भी दिए गए हैं। लेकिन यदि आप चाहते है की आपको ये समस्या न हो तो अपने आहार में विटामिन्स की मात्रा को भरपूर लें, साथ ही व्यायाम आदि को भी अपनी दिनचर्या का अहम हिस्सा बनाएं। इससे आपके शरीर के सभी अंगो को सुचारु रूप से काम करने में मदद मिलती है। आपको यह जानकारी कैसी लगी नीचे कमेंट सेक्शन में कमेंट करके जरूर बताएं। इसी तरह की अन्य खबरों को पढ़ते रहने के लिए आप हमसे जुड़े रहें।



ज्यादा समय तक बैठने से आपके भी हाथ पैर सुन्न हो जाते है तो जान लें यह बातें


जयपुर । बहुत ज्यादा देर तक बैठे रहने से कई बार हमारे हाथ पैरों में झनझनाहट होने लगती है कई बार तो लोग जब काम कर रहे होते हैं है तब भी ऐसा होता है कि उनका कोई अंग थोड़ी कार्य करना बंद कर देता है उसको हिलाने डुलाने और कार्य करने में परेशानी होने लगती है और कुछ समय बाद वह खुद-ब-खुद ही ठीक हो भी जाता है । पर याब सब क्यों होता है यह बात बहुत कम लोग समझ पाते हैं और इस पर ध्यान भी बहूत कम लोग ही देते हैं ।


जो लोग इस बात पर ध्यान नहीं देते हैं वह यह नहीं जानते कि ऐसा होने से उनको बहुत दिक्कत का सामना करना पड़ सकता है उनको इस परेशानी कि वजह से पैरों में दर्द हाथों में दर्द होने के साथ साथ कुछ समय बाद अंगों के कार्य करने कि गति में भी बहुत फर्क पड़ने लगता है जो कि अच्छा नहीं है । आज हम आपको इसका कारण और इससे बचने का उपाय बताने जा रहे हैं कि आपको इससे बचने के लिए क्या करना चाहिए । आइये जानते हैं इस बारे में यह खास खबर ।



बहुत ज्यादा देर तक एक ही हालत में बैठने के कारण हमारे शरीर में में रक्त का प्रवाह ठीक से नही होता । रक्त संचार रुक जाता है जब किसी नस पर लगातार दबाव बना रहता है तो रक्त संचार में दिक्कत आने लगती है जिसके कारण हमारे शरीर में सुन्न कि समस्या आने लगती है । इस तरह कि परेशानी कि वजह से आपके हाथ पैरों में परेशानी होना शुरू हो जाती है ।

इससे बचाव के उपाय :-
रोज सोने से पहले सरसों के तेल को हल्का गरम कर उससे अपने हाथ पैरों कि मालिश करें यह आपकी स्किन के लिए बहुत ही अच्छा होता है साथ ही यह आपके ब्लड सर्कुलेशन को भी बहुत ही अच्छा करता है ।



रोज थोड़ी से हल्दी को दूध में उबाल कर सेवन करें यह आपका खून साफ करने के साथ साथ आपके रक्त संचार को भी सुचारु करता है जिससे आपकी यह परेशानी कम हो जाती है ।

दाल चीनी को गरम पानी में शहद दाल कर सेयवन करने से भी आपको इस परेशानी से निजात मिलता है ।


हाथों और पैरों में झनझनाहट होने के कारण और उपाय
क्या आपके साथ भी कभी ऐसा हुआ है, की अचानक से ऐसा महसूस हो की आपके हाथ पैर में जान ही नहीं है, और अजीब सी झुनझुनी हो रही है, कई बार इसमें दर्द भी महसूस होता है, यदि हाँ तो यह एक आम समस्या होती है, जो आपके शरीर में विटामिन बी १२ की कमी, शरीर में रक्त वाहिकाओं के सुचारु रूप से काम न करने के कारण, तंत्रिका तंत्र पर किसी चोट के लगने के कारण, आधी नशीले पदार्थो का सेवन करने के कारण, आदि आपको ये समस्या हो सकती है, जब आपको झनझनाहट होती है, तो आपको ऐसा लगता है की बस जल्दी से इससे राहत पा ली जाएँ, लेकिन समझ नहीं आता है, की क्या करें, तो आइये आज हम आपको इस समस्या से बचने के लिए कुछ उपाय बताने जा रहे है जिससे आपको हाथों और पैरों की झनझनाहट को दूर करने में मदद मिलती है, और इसके कुछ कारणो पर भी चर्चा करते है।


इन्हें भी पढ़ें:- हाथों और पैरों का रूखापन दूर कैसे करें

इन्हें भी पढ़ें:- हाथों और पैरों का रूखापन दूर कैसे करें
हाथों और पैरों में झनझनाहट होने के कारण:-
हाथों और पैरों की झनझनाहट से बचने के उपाय:-
हल्दी का इस्तेमाल करें:-
दालचीनी का इस्तेमाल करें:-
इन्हें भी पढ़ें:- खून की कमी की समस्या के घरेलू उपाय
व्यायाम करें:-
मसाज करें:-
गरम सिकाई करें:-
विटामिनस बी 12 युक्त खाद्य पदार्थ और हरी सब्जियों, फलों का सेवन भरपूर मात्रा में करना:-
मसाला मिश्रण चूर्ण का सेवन करें:-
अश्वगंधा और आंवला चूर्ण का प्रयोग करें:-
इन्हें भी पढ़ें:- कमर दर्द से छुटकारा पाने के तरीके
हाथों और पैरों में झनझनाहट होने के कारण:-
तंत्रिका तंत्र पर दबाव पड़ने के कारण या तंत्रिका तंत्र पर चोट लगने के कारण हाथो पैरो में झनझनाहट होने लगती है।
शरीर में विटामिन बी कॉम्प्लेक्स और बी-12, मैग्नीशियम, पोटेशियम आदि की कमी भी आपके हाथो और पैरों में झनझनाहट का कारण बनती है।
जब कोशिकाओं के कार्य में कुछ असामनता हो जाती है तब भी आपको झनझनाहट महसूस हो सकती है।
रक्त वाहिकाओं के दबाव के कारण या शरीर के किसी हिस्से में रक्त का प्रवाह सुचारु रूप से न होने के कारण।
कुछ खाद्य पदार्थ या दवाइया भी ऐसी होती है जिनके सेवन से आपको ये परेशानी होने लगती है।
शुगर के रोगियों को ये समस्या ज्यादा होती है।
बहुत अधिक शराब का सेवन, धूम्रपान आदि करने पर भी आपको इस परेशानी का सामना करना पड़ता है।
ठन्डे पानी में काफी देर रहना, या ठंडी चीज को काफी देर तक छूने के कारण भी आपको झनझनाहट महसूस हो सकती है।
हाथों और पैरों की झनझनाहट से बचने के उपाय:-
हल्दी का इस्तेमाल करें:-

हल्दी में मौजूद एंटी इंफ्लेमेंटरी गुण पर्याप्त मात्रा में मौजूद होते है, साथ ही इसमें एक तत्व पाया जाता है जिसे कुरकुर्मीन कहते है, इसके कारण आपके पुरे शरीर में ब्लड सर्कुलेशन को बेहतर बनाने में माद्दा मिलती है,इसके इस्तेमाल के लिए आप एक गिलास दूध में चुटकी भर हल्दी डालकर अच्छे से पकाएं, उसके बाद ठंडा करके इस दूध का सेवन करें साथ ही हल्दी और पानी का पेस्ट बनाकर प्रभावित हिस्से पर लगाएं, आपको झनझनाहट से राहत पाने में मदद मिलेगी।
दालचीनी का इस्तेमाल करें:-

दालचीनी का प्रयोग करने से भी आपको अपने हाथों और पैरों की झनझनाहट को दूर करने में मदद मिलती है, क्योंकि इसके सेवन से आपके शरीर में मैग्नीशियम, और पोटैशियम के तत्वों की कमी को पूरा करने में माद्दा मिलने के साथ आपके ब्लड सर्कुलेशन में भी मदद मिलती है, इससे बचने के लिए आपको एक गिलास में दालचीनी पाउडर को उबाल कर उसके गुनगुना रहने तक उसका सेवन करना चाहिए इसके अलावा आप दालचीनी पाउडर के साथ थोड़ा अदरक भी उबाल सकते है, और उसमे एक चम्मच शहद मिलाकर लेते हैं तो भी आपको फायदा होता है।
इन्हें भी पढ़ें:- खून की कमी की समस्या के घरेलू उपाय
व्यायाम करें:-


यदि आपको हाथों, पैरों में दर्द व् झनझनाहट की समस्या रहती है, तो आपको व्यायाम को अपनी दिनचर्या का हिस्सा जरूर बनाना चाहिए, क्योंकि व्यायाम करने से न केवल आपका ब्लड सर्कुलेशन सुचारु रूप से चलता है, बल्कि आपकी कोशिकाओं को भी बेहतर तरीके से काम करने में मदद मिलती है, जिससे आपको इस समस्या से राहत के साथ अपने आप को फिट रखने में भी मदद मिलती है।
मसाज करें:-

इस समस्या को दूर करने का सबसे आसान उपाय होता है, ऐसा करने से आपके अंगो को सही से काम करने मे, और ब्लड फ्लो को भी बेहतर तरीके से होने में मदद मिलती है, इसके इस्तेमाल के लिए आप सरसों, नारियल, जैतून के तेल को हल्का गरम करके अच्छे से अपने हाथों और पैरों की मसाज करें, जिससे इससे आपको अपनी इस परेशानी को दूर करने में मदद मिलती है, और मसाज करते समय अपनी उँगलियों को सर्कुलर मोशन में घुमाएं।
गरम सिकाई करें:-

सिकाई करना भी इस समस्या से बचने के लिए सबसे अच्छा और बेहतर उपचार है, इसके लिए आप गरम पानी में नमक, फिटकरी डालकर अच्छे से उबाल लें, उसके बाद एक सूती कपडा लेकर इस पानी में डालकर अच्छे से निचोड़ लें, फिर इस कपडे को प्रभावित हिस्से पर अच्छे से बाँध लें, या फिर पानी के गुनगुना रहने पर अपने हाथों या पैरों को इस पानी में डालकर सिकाई करें आपको राहत जरूर मिलेगी।
विटामिनस बी 12 युक्त खाद्य पदार्थ और हरी सब्जियों, फलों का सेवन भरपूर मात्रा में करना:-

शरीर में पोषक तत्वों की कमी होने के कारण भी आपको इस समस्या का सामना करना पड़ता है, खासकर जब शरीर में विटामिनस बी 12 की कमी हो इससे बचने के लिए आपको दूध, दही, चीज, पनीर, मक्खन, सोयाबीन दाल, सोया दूध, आदि का सेवन भरपूर करने के साथ अपने आहार में हरी सब्जियों और फलों को भी नियमित रूप से शामिल करना चाहिए ऐसा करने से आपको इस समस्या से बचने में मदद मिलती है, साथ ही आपको ड्राई फ्रूट्स आदि का सेवन भी भरपूर मात्रा में करना चाहिए।
मसाला मिश्रण चूर्ण का सेवन करें:-
लहसुन, जीरा, लौंग, इलायची को पीस कर एक बारीक चूर्ण तैयार करें, उसके बाद सुबह शाम इस चूर्ण का सेवन पानी के साथ करें, आपको इस समस्या से निजात पाने में मदद मिलेगी।
अश्वगंधा और आंवला चूर्ण का प्रयोग करें:-

यदि आप नियमित रूप से चुटकी भर अश्वगंधा के साथ आधा चम्मच आंवला चूर्ण मिलाकर उसका सेवन करते है, तो आपको इस समस्या से बचने में मदद मिलती है, साथ ही हाथों पैरों के दर्द से भी राहत मिलती है।

तो ये हैं कुछ कारण जिनकी वजह से आपको हाथों और पैरों में झनझनाहट की समस्या होती है, और साथ ही इससे बचने के लिए कुछ उपाय भी बताएं गए है, लेकिन यदि आप चाहते है की आपको ये समस्या न हो तो अपने आहार में विटामिन्स की मात्रा को भरपूर लें, साथ ही व्यायाम आदि को भी अपनी दिनचर्या का अहम हिस्सा बनाएं इससे आपके शरीर के सभी अंगो को सुचारु रूप से काम करने में मदद मिलती है।

हाथ-पैर सुन्न होने के कारण और इलाज


हाथ-पैर सुन्न होने के कारण


हाथ-पैर सुन्न होने के कारण और इलाज
हाथ-पैरों के सुन्न होने के क्या कारण होते है और सुन्न हाथ पैरों का इलाज : कई बार सोते, बैठते, लेते या खड़े हुए पैर सुन्न पड़ जाते हैं, जिसके कारण उन्हें हिलाने पर करंट जैसी अनुभूति होने लगती है। सुन्न हाथ या पैर को किसी चीज से छूने पर उस चीज का एहसास नहीं होता। इसके साथ उस हिस्से में दर्द, कमजोरी या ऐंठन भी महसूस हो सकती है।

हाथ या पैर का सुन्न होना एक आम समस्या है, जिसके बहुत से कारण हो सकते है लेकिन उनमे से निम्नलिखित हाथ-पैर के सुन्न होने के मुख्य कारण होते है।

बहुत देर तक एक ही स्थिति में बैठे रहने के कारण।
हाथों या पैरों पर प्रेशर
बहुत देर तक किसी ठंडी वस्तु को छूते रहना।
तंत्रिका में कोई चोट।
रक्त संचरण ठीक तरह से नहीं होना।
अत्यधिक शराब का सेवन।
थकान महसूस होना।
धूम्रपान करना।
आयरन की कमी के कारण।
मधुमेह होना।
शरीर में विटामिन सी या मैग्नेशियम की कमी आदि हाथ और पैर के सुन्न होने के मुख्य कारण है।

वैसे तो यह समस्या केवल कुछ ही मिनटों पर रहती है लेकिन कई बार इसकी अवधि कई घंटों तक की भी हो जाती है। अगर आपके साथ भी ऐसा कुछ है तो आपको डॉक्टर के पास अवश्य जाना चाहिए। क्योंकि हो सकता है यह किसी बड़ी बिमारी का लक्षण हो।

अगर आपके हाथ-पैर भी अक्सर बैठे हुए या खड़े हुए सुन्न हो जाते हैं तो यहाँ हमारे पास कुछ उपाय हैं जिनकी मदद से हाथ-पैर के सुन्न होने की समस्या को दूर किया जा सकता है।

हाथ-पैर सुन्न हो गए हैं? ये है उन्हें ठीक करने के उपाय 

अगर आपके हाथ-पैरों में झनझनाहट महसूस हो रही है और वे सुन्न हो गए है तो ये कुछ उपाय है जिनकी मदद से सुन्न हाथ-पैरों को ठीक किया जा सकता है।

हल्दी : हल्दी में कुछ ऐसे तत्व पाए जाते हैं जो ब्लड सर्कुलेशन को ठीक करते है। इसके सेवन से शरीर की कमजोरी दूर होती है और दर्द में आराम मिलाता है। इसके लिए 1 ग्लास में 1 चम्मच हल्दी मिलाकर गैस पर धीमी आंच पर पकाएं। हल्का ठंडा होने के बाद इस दूध को पीएं। शरीर के सुन्न वाले हिस्से पर हल्दी और पानी का पेस्ट लगाने से भी झनझनाहट कम होती है।


गर्म पानी का सेंक : इस उपाय के लिए सर्वप्रथम सुन्न वाले हिस्से पर गर्म पानी का सेंक करें। इसे उस हिस्से का ब्लड सर्कुलेशन बेहतर होगा। ऐसा करने से मांसपेशियां और नसें रिलैक्स होंगी। आप चाहे तो साफ़ कपडे को गर्म पानी में डुबोकर उससे भी प्रभावित हिस्से की सिकाई कर सकते हैं।

दालचीनी : दालचीनी में बहुत से तत्व होते हैं जो शरीर में ब्लड सर्कुलेशन को बढ़ाते हैं। एक्सपर्ट्स की मानें तो रोजाना 1-2 चम्मच दालचीनी पाउडर का सेवन करने से ब्लड सर्कुलेशन बढ़ता है। इसके लिए 1 ग्लास गर्म पानी में 1 चम्मच दालचीनी पाउडर मिलाएं और दिन में एक बार इसे पियें।

मसाज : जब भी हाथ या पैर सुन्न हो जाएं तो उस हिस्से की मसाज करना शुरू कर दें। ऐसा करने से ब्लड सर्कुलेशन बेहतर होता है और झनझनाहट दूर होती है। इसके लिए अआप नारियल या सरसों तेल को गर्म करके प्रयोग कर सकते हैं।
मैग्नीशियम युक्त फ़ूड : जिन लोगों के हाथ पैर अक्सर सुन्न हो जाते हैं उन्हें हरी पत्तेदार सब्जियां, मेवे, बीज, ओटमील, पीनट बटर, ठंडे पानी की मछलियां, सोयाबीन, केला, डार्क चॉकलेट, और लो फैट दही खाना चाहिए।


विटामिन बी फ़ूड : अगर आपके हाथ पैरों में भी अक्सर झनझनाहट होती है तो आपको अपने आहार में विटामिन बी युक्त खाद्य पदार्थों को सम्मिलित करना चाहिए। इसके लिए आप अंडे, एवोकाडो, मीट, केला, बीन्स, मछली, ओटमील, दूध, दही, चीज़, मेवे और फल आदि का सेवन कर सकते हैं।

प्रभावित हिस्से को ऊपर उठाएं : अगर हाथ या पैर सुन्न पड़ गए है तो उसके लिए उस हिस्से तो तुरंत ऊपर की तरफ उठाना चाहिए। ऐसा करने से उस हिस्से में ब्लड सर्कुलेशन बेहतर होता है। और झनझनाहट दूर होती है। आप चाहे तो उस हिस्से को तकिये पर ऊंचा उठाकर लेट भी सकते हैं।

लहसुन : कई बार यह समस्या खून के अत्यधिक गाढ़ा होने के कारण भी हो जाती हैं। इसके लिए आप डॉक्टरी जाँच करवा सकते हैं। डॉक्टरी जाँच में यदि प्रॉब्लम आती है तो खून को पतला करने के लिए दिन में एक बार लहुसन की एक कली चबाचबाकर खाएं।

पैरों की मालिश : जिन लोगों के पैर बार बार सो जाते है उन्हें पैरों की तलवों की गर्म तेल से मालिश करनी चाहिए। इससे झनझनाहट में आराम मिलेगा और ब्लड सर्कुलेशन भी बेहतर होगा।

तो ये थे कुछ उपाय जिनकी मदद से हाथ पैरों की सुन्न होने की समस्या से बचा जा सकता है। ये सभी उपाय पूरी तरह घरेलू हैं जिनके कोई साइड इफ़ेक्ट नहीं है।


हाथ पैर कांपने से रोकने के घरेलु इलाज


हाथों पैरों या शरीर के किसी भी अंग में अचानक से कम्पन का होना आपकी मर्ज़ी से नहीं होता है, यह अपनी मर्ज़ी से होने लग जाता है, कई बार तो आपके होंठ, और बात करते हुए आपकी आवाज़ में भी कपकपाहट होती है, इसके कारण एक तो डर हो सकता है, और यदि ये नहीं है तो इसका कारण एसेंशियल ट्रेमोर हो सकता है, जिसे लोग पार्किन्सन रोग भी समझ लेते है, इस अवस्था के होने पर आपके हाथों, पैरों के साथ आपको लिखने, बोलने, किसी भी काम को करने में कपकपाहट महसूस होती है।



Table of Contents
हाथों पैरों या शरीर के किसी भी अंग में अचानक से कम्पन का होना आपकी मर्ज़ी से नहीं होता है, यह अपनी मर्ज़ी से होने लग जाता है, कई बार तो आपके होंठ, और बात करते हुए आपकी आवाज़ में भी कपकपाहट होती है, इसके कारण एक तो डर हो सकता है, और यदि ये नहीं है तो इसका कारण एसेंशियल ट्रेमोर हो सकता है, जिसे लोग पार्किन्सन रोग भी समझ लेते है, इस अवस्था के होने पर आपके हाथों, पैरों के साथ आपको लिखने, बोलने, किसी भी काम को करने में कपकपाहट महसूस होती है।
इन्हे भी पढ़ें:- रात को नींद नहीं आती? चैन से सोना हैं तो करे ये उपाय
हाथों पैरों में कम्पन होने के कारण:-
विटामिन बी युक्त आहार का सेवन करें:-
तगार की जड़ का इस्तेमाल करें:-
ध्यान व् योगा करें:-
निम्बू के रस और नारियल पानी का सेवन करना चाहिए:-
दूध का सेवन करें:-
तनाव नहीं लेना चाहिए:-
इन्हे भी पढ़ें:- मानसिक तनाव से परेशान हैं? अपनाएं ये उपाय और खुश रहें
नशीले पदार्थो का सेवन न करें:-
इन्हे भी पढ़ें:- रात को नींद नहीं आती? चैन से सोना हैं तो करे ये उपाय

हाथों पैरों में कम्पन होने पर व्यक्ति का कोई कण्ट्रोल नहीं होता है, ज्यादातर यह समस्या बुजुर्ग लोगो में होती है, परन्तु आज के समय में गलत आदतों और बदलती जीवनशैली के कारण ये समस्या बच्चों और जवान लोगो में भी देखी जाती है, इसके सही कारण तो आज तक डॉक्टर या साइंटिस्ट भी नहीं पता कर पाएं है, परन्तु यह कम्पन दिमाग के सेरिबैलम भाग के कार्यों में बाधा के कारण होते है, यह समस्या तभी ज्यादा होती है जब आप कोई काम कर रहे होते है, या उठे हुए होते है, जब आप आराम कर रहे होते है तो आपको ऐसा महसूस नहीं होता है, हाथों और पैरों में कम्पन होने के और भी कई कारण हो सकता है, तो आइये पहले इसके कारण और उसके बाद इस समस्या के उपचार के लिए विस्तार से चर्चा करते है।
हाथों पैरों में कम्पन होने के कारण:-
जो लोग नींद को भरपूर नहीं लेते है, या जिन्हे अनिंद्रा की समस्या होती है, उन्हें हाथों पैरों में कम्पन होने लगती है।
ज्यादा शराब पीने के कारण जब आपको हैंगओवर होता है तब आपको कम्पन महसूस होती है।
ब्लड में ग्लूकोस की मात्रा की कमी होने पर भी आपको इस समस्या का सामना करना पड़ सकता है।
जो लोग मानसिक तनाव या डिप्रेशन में रहते है उन्हें इस समस्या का सामना करना पड़ सकता है।
जो लोग किसी भी प्रकार का नशा करते है, जैसे पान मसाला, सुपारी, गुटखा, खैनी, बीडी, सिगरेट, शराब, दवाई और भी प्रकार के नशे करते है उन्हें भी इस समस्या से परेशान होना पड़ता है।
पार्किन्सन रोग की समस्या होने पर आपको कम्पन महसूस होती है।
मस्तिष्क से जुड़े किसी भी तरह के रोग के कारण आपको हाथों पैरों में कम्पन महसूस हो सकती है।
थयरॉयड के कारण भी आपको ऐसा महसूस हो सकता है।
यदि कभी आपको दिमाग पर चोट लगी हो तो भी आपको ये परेशानी हो सकती है।
नींद की दवाइयों का सेवन अधिक मात्रा में करने से भी आपको इस समस्या का सामना करना पड़ सकता है।
विटामिन बी युक्त आहार का सेवन करें:-

शरीर में विटामिन बी की कमी होने के कारण आपको हाथों पैरों में कम्पन और आपके दिमाग द्वारा किये जाने वाले कार्यो में बाधा उत्त्पन्न हो सकती है, इसीलिए आपको हरी सब्जियों, फलों, दालें, बीन्स, अंडा आदि का सेवन करने से विटामिन और अन्य मिनरल्स की कमी को पूरा करने में मदद मिलती है, जिसके कारण आपको हाथों पैरों में होने वाली कम्पन की समस्या से भी राहत पाने में मदद मिलती है।
तगार की जड़ का इस्तेमाल करें:-

तगार की जड़ भी हाथों और पैरों में होने वाली कम्पन की समस्या से आपको आराम दिलाने में मदद करती है, क्योंकि इसमें आपको मांसपेशियों, दिमाग को शांत और अनिंद्रा की समस्या को दूर करने के गुण होते है, इसके इस्तेमाल के लिए आप दिन में दो से तीन बार इसकी चाय बना कर इसका सेवन करें, आपको आराम महसूस होगा।
ध्यान व् योगा करें:-

इस समस्या से बचने के आसान उपचार है की आप नियमित सुबह उठ कर ध्यान व् योगा करें, ऐसा करने से आपके दिमाग को रिलैक्स रहने में मदद मिलती है, साथ ही मानसिक तनाव व् अनिंद्रा की समस्या से भी राहत मिलती है, और आपको शाम के समय भी पार्क आदि में वॉक या जॉगिंग के लिए जरूर जाना चाहिए।
निम्बू के रस और नारियल पानी का सेवन करना चाहिए:-

हाथों पैरों में कम्पन की समस्या से राहत पाने के लिए आपको नियमित पानी में निम्बू के रस को मिलाकर उसका सेवन करना चाहिए, इसके अलावा नारियल पानी का सेवन करने से भी इस समस्या से राहत पाने में आपको बहुत मदद मिलती है, तो यदि आपको भी ऐसा महसूस होता है, तो आप भी निम्बू या नारियल पानी का सेवन कर सकते है।
दूध का सेवन करें:-

सोयाबीन को दूध में मिलाकर उसके सेवन करने से या तिलों को दूध में मिलाकर खाने से, या फिर नियमित बकरी के दूध का सेवन करने से भी आपको हाथों और पैरों में होने वाली कम्पन की समस्या से राहत पाने में मदद मिलती है।
तनाव नहीं लेना चाहिए:-

जो लोग ज्यादा स्ट्रेस में रहते है, और हमेशा अपने दिमाग में नकारात्मक विचारों को ही उत्त्पन्न करते है, उन्हें भी इस परेशानी का शिकार होना पड़ सकता है, इसीलिए जितना हो सकें आपको अपने आप को खुश रखने की कोशिश करनी चाहिए, और हमेशा अपनी सोच को भी सकारात्मक रखना चाहिए।

नशीले पदार्थो का सेवन न करें:-

नशीले पदार्थो का सेवन करने से आपके ब्लड में ग्लूकोस की मात्रा असंतुलित हो जाती है, जिसके कारण हाथों पैरों में कम्पन की समस्या हो जाती है, इससे बचने के लिए आप जितना हो सकें नशीले पदार्थो के सेवन से परहेज करना चाहिए, इससे परहेज करने पर आप खुद ही अपने अंदर बदलाव महसूस करेंगे।

तो ये कुछ उपाय है जिनका इस्तेमाल करने से आपको हाथों और पैरों में होने वाली कम्पन की समस्या से राहत पाने में मदद मिलती है, इससे राहत के लिए आपको स्ट्रेस को कम करना चाहिए, अच्छी आदतों को अपने जीवन में शामिल करना चाहिए, और यदि आपको ये समस्या किसी बीमारी की दवा लेने के कारण हो रही है तो इस विषय में भी आपको डॉक्टर से बात करनी चाहिए, और आप चाहे तो इस समस्या के लिए भी एक बार डॉक्टर से राय ले सकते है, इसके अलावा आपको किसी भी तरह के नशे और कैफीन के सेवन से भी परहेज करना चाहिए।





कोई टिप्पणी नहीं

Healths Is Wealth. Blogger द्वारा संचालित.