Header Ads

हाथ-पैर में झनझनाहट सी महसूस होती है


हाथ-पैर में झनझनाहट सी महसूस होती है तो अपनाएं ये आसान व घरेलू उपाय

एक जैसी स्थिति में बैठे रहने से हाथ पैर पूरी तरह सुन्न पड़ जाते है। ऐसा होने पर हम किसी भी चीज को छुते है तो हमे उसका अहसास भी नही होता। ऐसी अवस्था में हाथ-पैरों में सुईयां चुभने जैसा गहरा अहसास होता हैं या झनझनाहट सी महसूस होती हैं। हाथ-पैर सुन्न होने के दूसरे भी कई सारे कारण हो सकते हैं जैसे थकान, डायबिटीज, धूम्रपान, पोषक तत्वों की कमी आदि का होना। इसके साथ ही यह भी हो सकता है कि आपको प्रभावित स्थान पर दर्द,ऐठन या कमजोरी बहुत ज्यादा महसूस होती हो। ऐसे में हम आपके लिए कुछ घरेलू उपाय लेकर आये है जिनके माध्यम से आप इस समस्या से पूरी तरह छुटकारा पा सकते है।

- आप अपने आहार में अंडे, मछली, दूध,मेवे, मीट, केला, पनीर और फल जैसी चीजों को शामिल कर आप इस समस्या से पूरी तरह निजात पा सकते है।

- हाथ-पैर सुन्न होने पर ब्लड का फ्लो कतई नहीं हो पाता, तो ऐसे में आप दालचीनी पाउडर का सेवन अवश्य कर सकती हैं, क्योंकि इसमें न्यूरट्रिशियंस और कैल्शियल दोनों ही बहुत भरपूर मात्रा में पाएं जाते हैं।

-जब भी हाथ पैर-सुन्न पड़ जाये तो उनको मसाज देना शुरू कर दें। ऐसा करने से बल्ड सर्कुलेशन बहुत ज्यादा बढ़ता है।
-सबसे पहले प्रभावित स्थान पर गर्म पानी का सेक करें ऐसा करने वहां बल्ड सर्कुलेशन भी शुरू हो जाता है।

- अगर आपके हाथ-पैर सुन्न हो जाते हैं तो ऐसे में आप पनीर बटर, सोया बीन, हरी पत्तेदार सब्जियां, केला, लो फैट दही, ओटमील, ठंडे पानी की मछलियां और मेवे, जैसी चीजों का भरपूर सेवन करें।

- किचन में प्रयोग होने वाली हल्दी में ऐसे तत्व पाएं जाते हैं जो हमारे ब्लड सर्कुलेशन को बढ़ाने में बहुत ज्यादा मदद करती हैं।

फूड प्वाइजनिंग होने पर अपनाएं ये आसान उपाय!
हाथ पैरों में होती हैं झनझनाहट और थकान,तो जानिए शरीर में किस विटामिन की हैं कमी

जयपुर। दोस्तो जब हमारे शरीर में थकान,तनाव के कारण कुछ महत्वपूर्ण विटामिनों की कमी हो जाती है ,तो शरीर इसके कुछ संकेत देने लगता है। विटामिन की कमी शरीर के लिए हानिकारक हो सकती है। क्योंकि आज प्रत्येक व्यक्ति अपने काम और जिन्दगी में इतना व्यस्त हो गाया है की किसी ना किसी कारण वह कोई बिमारी का शिकार हो जाता है। जिसकी वजह है समय पर खाना-पीन का न होना । जिससे विटामिन्स की कमी की शिकायत और बहुत से रोग उत्पन्न होने की समस्याएं आने लगती हैं। विटामिन बी12 एक ऐसा तत्व माना गया हैं। जिसकी कमी होने से शरीर को बहुत नुकसान होता हैं। यह विटामिन हमारी कोशिकाओं में पाए जाने वाले DNA की मरम्मत व उनको बनाने में कई प्रकार की सहायता करता हैं। अगर आपके हाथ पैरों में झनझनाहट और थकान महसूस होती हैं तो शरीर में कौन से विटामिन की कमी होने से या इसकी कमी के क्या-क्या कारण हैं। इन सभी बातो की जानकारी आप हमारे इस लेख द्वारा जान पाएंगे- दोस्तो पहली कमी आनुवांशीकता को माना गया हैं।
https://www.healthsiswealth.com/
यह प्रॉब्लम पहले से आप के परिवार के किसी सदस्य को हैं तो इससे आप भी ग्रसित हो सकते हैं। आपके आंतों में पहले कोई सर्जरी हुई हैं तो भी इसका मुख्य कारण हो सकता हैं,क्रोनजस जैसी गंभीर बीमारियों के कारण ही आंतें विटामिन बी12 का अवशोषण नहीं कर पाती।

अगर किसी व्यक्ति में एनीमिया जैसी गंभीर बीमारी लंबे समय तक रहती हैं। तो उसमें भी बी12 की कमी होती हैं।
https://www.healthsiswealth.com/
एनीमिया और डायबिटीज के मरीज मेटफार्मिन दवा काफी समय तक लेने से भी विटामिन बी12 खत्म होने लगता हैं। और विटामिन 12 कमी के लक्षण यह है हाथ पैरों में जलन व झनझनाहट जैसी समस्या उत्पन्न होना।
आपकी याददाश्त का कमजोर होना सिर दर्द होना अत्यधिक थकान महसूस करना जैसे अनेक प्रमुख लक्षण हैं।

हाथ पैरों में होती है झनझनाहट तो आपके शरीर में है इस विटामिन की कमी
आज हम आप लोगो को विटामिन के बारे मे कुछ ऐसी बाते बताने जा रहे है, जो कि आपने पहले कभी नही सुनी होगी, आप सभी को बता दें कि जब हमारे शरीर में थकान या तनाव की समस्या होती है, तो उसका कारण भी विटामिन होता है, जी हा आप लोग सोच रहे होंगे कि भला विटामिन का शरीर की थकान या तनाव से क्या लेना देना है, तो आप सभी को बता दें कि जब हमारे शरीर मे विटामिनों कमी होती है, तभी हमारे शरीर मे थकान और तनाव की समस्या होती है, आप सभी को बता दें कि विटामिन की कमी शरीर के लिए बहुत हानिकारक साबित हो सकती है।

आप सभी को बता दें कि विटामिन बी12 एक ऐसा तत्व माना गया हैं, जिसकी कमी होने से शरीर को बहुत नुकसान होते हैं, यह विटामिन हमारे शरीर की कोशिकाओं में पाए जाने वाले DNA की मरम्मत व उनको बनाने में कई प्रकार की सहायता करता हैं, तो आज हम आप लोगो को बताएंगे कि हाथ पैरों मे झनझनाहट और थकान किस विटामिन कि कमी से होती है।
आप सभी को बता दें कि अगर ये समस्या पहले से आप के घर में से किसी भी सदस्य को हैं तो इस बीमारि का शिकार हो सकते हैं, अगर आपकी आंतों में पहले कोई सर्जरी हुई हैं तो ये भी इसका मुख्य कारण हो सकता हैं, क्रोनजस जैसी गंभीर बीमारियों के कारण ही आंतें विटामिन बी12 का अवशोषण नहीं कर पाती, अगर किसी व्यक्ति में एनीमिया जैसी गंभीर बीमारी लंबे समय तक रहती हैं, तो उसमें भी बी12 की कमी होती हैं।

आप सभी को बता दें कि जो लोग लंबे समय से एनीमिया और डायबिटीज की मेटफार्मिन दवा ले रहे हैं, तो उन लोगो मे विटामिन बी12 खत्म होने लगता हैं, विटामिन 12 कमी के लक्षण है हाथ पैरों में जलन व झनझनाहट जैसी समस्या उत्पन्न होना, आपकी याददाश्त का कमजोर होना सिर दर्द होना अत्यधिक थकान महसूस करना जैसे अनेक प्रमुख लक्षण हैं।
आपको हमारा ये आर्टिकल पसंद आया हो तो प्लीज इसे लाइक करें। अपने दोस्तों तक इस खबर को सबसे पहले पहुंचाने के लिए शेयर करें। साथ ही कोई सुझाव देना चाहे तो प्लीज कमेंट करें। अगर आपने हमारा पेज अब तक लाइक नहीं किया हो तो कृपया इसे जल्दी लाइक करें, जिससे लेटेस्ट अपडेट आप तक पहुंचा सके।


सोने से पहले इन दो अंगो पर लगायें सरसों का तेल, फिर देखें कमाल

सरसों का तेल बहुत ही लाभदायक होता है। अगर पुरुष विस्तर पर जाने से पहले सिर्फ इन दो अंगों पर सरसों का तेल लगाते हैं तो बहुत ही लाभ मिलेगा और यह बहुत अच्छा कमाल दिखाता है। बता दें कि सरसों के तेल में 60% मोनोअनसेचुरेटेड फैटी एसिड होता है जिसमें 42% इरुसिक एसिड और 12% ओलेक एसिड होता है, इसमें 21% पोलीअनसेचुरेटेड होता है, जिसमें से 6% ओमेगा-3 अल्फा-लिनोलेनिक एसिड और 15% ओमेगा -6 लिनोलेनिक एसिड होता है और 12% संतृप्त वसा होता है।
1) हर किसी पुरुष केे लिए यह फायदेमंद नुस्खा है। इसके लिए आप रोजाना सरसों का तेल लेकर अपने पैरों के तलवे पर लगाकर मालिश करे। ऐसा करने से आपकी आंखों की रोशनी तो तेज होगी ही, साथ ही आपको रात में नींद भी अच्छी आएगी।इसके अलावा इस उपाय को करने से आपका शरीर मजबूत होगा, साथ ही शरीर में भी कोई परेशानी नहीं होगा।
2) आपको बता दें कि अगर आप विस्तर पर जाने से पहले अपनी नाभि पर सरसों का तेल लगाते हैं। तो ऐसा करने से आपके होंठ मुलायम बने रहेंगे। साथ ही ऐसा करने से आपके पेट में कभी दर्द नहीं होगा। और आपकी पाचन क्रिया ठीक बनी रहेगी।
अगर हाथ-पैरो में होती है झनझनाहट, तो अपनाये ये उपाय


दोस्तों हमने कई लोगों के मुंह से सुना है कि लोगों को हाथों और पैरों में झुनझुनाहट होती है साथ ही उनके हाथ पैर सुन्न भी ह जाते हैं।बता दें कि यह झनझनाहट होकर सुन्न होंने वाली बीमारी बैहद खतरनाक है।
इसे बीमारी को कभी नजर अंदाज नहीं करना चाहिए।नहीं तो आपको भारी परेशानी का सामना करना पड़ सकता है।जब भी आपको इस तरह की परेशानी हो तो तुरंत चिकित्सक से परामर्श लेना चाहिए।
दोस्तों यह अपने आप में कोई बीमारी नहीं है लेकिन इसकी वजह से कई सारी परेशानिया हो सकती है।इस तरह का होना शरीर मे पोषक तत्वों की कमीं होनें का संकेत है.इसलिए अपने खाने में इस तरह की चीजों का समावेश करना चाहिए जिससे पोषक तत्वों की कमीं पूही हो सके।
इसके लिए नियमित खाने में मैग्नीशियम से भरपूर सब्जियों और फलों का सेवन करना चाहिए।साथ ही हरी पत्तेदार सब्जियां,सूखे मेवे,अलसी के बीज,काजू के बीज,जौ का दलिया,पनीर,ठंडे पानी की मछलियां,सोयाबीन,चॉकलेट जैसी चीजों के सेवन से बहुत फायदा होता हैं।दोस्तो इसी के साथ नियमति रूप से अपनी दिनचर्या मे व्यायाम को शामिल करे.साथ ही वह व्यायाम अधिक करे जिससे पैरों के कसरत अधिक हो सके।लगातार ऐसा करने से आपको इस परेशानी से छुटकारा मिल जाएगा और आप एक अच्छा जीवन व्यतित करने लगेंगे। 
दोस्तों इस बीमारी के होनें पर हमारे शरीर मे खून ब्लोक होनों लगता है कई सारी नसें अवरूद्ध हो जाती है जिसकी वजह से हाथ पैर सुन्न होनें लगते है। अगर यह समस्या लगातार बनी रहती है तो बिना देरी किए चिकित्सक से सलाह लेनी चाहिए।

सर्दियों में इस वजह से हाथ-पैर पड़ जाते हैं सुन्न, इस तरह से पाएं निजात ।


सर्दियों में अक्सर हाथों-पैरों और उनकी उंगलियों के सुन्न पड़ने की समस्या सामने आती है। ऐसे में प्रभावित जगह पर झनझनाहट, दर्द, कमजोरी और ऐंठन के लक्षण दिखाई देते हैं। तंत्रिका में चोट, थकान, नस का दबना या फिर शरीर में विटामिन्स, मैग्नीशियम आदि की कमी के कारण से भी हाथ-पैर सुन्न पड़ जाते हैं। सर्दियों में इस समस्या का प्रमुख कारण रक्त वाहिनियों का संकुचित होना है। दरअसल सर्दियों में दिल पर काफी जोर पड़ता है जिससे रक्त वाहिनियां संकुचित हो जाती हैं और शरीर के विभिन्न अंगों में ऑक्सीजन की आपूर्ति कम हो जाती है। रक्त संचार पर असर पड़ने की वजह से शरीर के विभिन्न अंग सुन्न पड़ जाते हैं।

इस तरह से पाएं निजात-
मसाज करें - प्रभावित जगह पर रक्त संचार बढ़ाने के लिए गर्म पानी से सेंकें। इससे मांसपेशियों और नसों को काफी आराम मिलता है। अगर आपके हाथ-पैर सुन्न हो गए हैं तो हल्के हाथों से उस पर मसाज करें। या फिर जैतून, नारियल या फिर सरसो के तेल को गुनगुना कर प्रभावित अंगो पर मसाज करें। इससे रक्त संचार तो बढ़ता ही है, साथ ही ऑक्सीजन की सप्लाई भी बढ़ती है।
डाइट में शामिल करें विटामिन्स - हाथों-पैरों की झनझनाहट को दूर करने के लिए अपने डाइट में विटामिन बी, बी6 और बी12 शामिल करें। इसके अलावा ओटमील,दूध, पनीर, दही, मेवा आदि को भी अपने आहार का हिस्सा बनाएं।

हल्दी है फायदेमंद - हल्दी में रक्त संचार बढ़ाने वाले तत्व पाए जाते हैं। साथ ही यह सूजन और दर्द कम करने में भी लाभकारी होता है। हल्दी-दूध का सेवन करने से हाथों-पैरों की झनझनाहट दूर होती है। इसके अलावा हल्दी और पानी के पेस्ट को प्रभावित जगह पर लगाने से भी यह समस्या दूर होती है।
धूम्रपान से रहें दूर - हाथ-पैर के सुन्न पड़ने की समस्या से बचने के लिए जरूरी है कि आप लंबे समय तक ठंड में रहने से बचें। अचानक अगर हाथ व पैर सुन्न हो जाते हैं तो तुरंत रगड़कर रक्त संचार बहाल करें। इसके अलावा धूम्रपान से दूरी बनाए रखें। ऐसा इसलिए क्योंकि इससे पेरिफेरल आर्टरी डिसीज होता है और पैरों में रक्त का संचार ठीक तरीके से नहीं हो पाता।

हाथ और पैरों की झंझनाहट को करें दूर इन आसान घरेलु उपचारों से

अकसर जब आप कभी एक ही अवस्था में बैठे रह जाते हैं तो आपके हाथ और पैर सुन्नं पड़ जाते हैं, जिसके कारण आपको कभी कोई भी चीज़ को छूने का एहसास मालूम नहीं पड़ता है। यही नहीं, इसके अलावा आपको प्रभावित स्था न पर दर्द, कमजोरी या ऐठन भी महसूस होती होगी। लगभग सभी लोग इस अनुभव का शिकार जरूर हुए होंगे। हाथ या पैर का सुन्न हो जाना बहुत ही कष्टदायक होता है। इसके साथ ही सुन्न हाथ या पैर में झनझनाहट, जलन, तेज दर्द और कमजोरी भी महसूस होती है। लेकिन घबराइए नहीं क्योंकि सरल घरेलू उपचार की मदद से इसका इलाज किया जा सकता है। आइये जानते हैं उन घरेलु उपचारों के बारे में। 

* हल्दी : 

हल्दी में मौजूद एंटी इंफ्लेमेंटरी गुण पर्याप्त मात्रा में मौजूद होते है, साथ ही इसमें एक तत्व पाया जाता है जिसे कुरकुर्मीन कहते है, इसके कारण आपके पुरे शरीर में ब्लड सर्कुलेशन को बेहतर बनाने में माद्दा मिलती है,इसके इस्तेमाल के लिए आप एक गिलास दूध में में चुटकी भर हल्दी डालकर अच्छे से पकाएं, उसके बाद ठंडा करके इसका सेवन करें।

* गर्म सिंकाई : 
सबसे पहले प्रभावित हिस्से पर गर्म पानी का सेक करें। यह सुन्न हिस्से में ब्लड की आपूर्ति बढ़ाने में मदद करता है। इसके अलावा, यह उस हिस्से की मांसपेशियों और नसों को आराम देता है। एक साफ कपड़े को गर्म पानी में भिगोकर 5-7 मिनट के लिये प्रभावित जगह को सेंके। 
* व्यायाम करना ना भूलें :

व्यायाम (एक्सरसाइज़) करने से शरीर में ब्लड सर्कुलेशन तेज़ी से होता है और सुन्न वाली जगह पर ऑक्सीजन की मात्रा भी बढ़ जाती है। जिन लोगों को अकसर सुन्न होने की शिकायत रहती है उन्हें रोजाना हाथ और पैरों का 15 मिनट व्यायाम करना चाहिए। इसके अलावा हफ्ते में 5 दिन के लिए 30 मिनट एरोबिक्सव करें, जिससे आप हमेशा स्वस्थ बने रहेंगे।

* दालचीनी : 

दालचीनी का प्रयोग करने से भी आपको अपने हाथों और पैरों की झनझनाहट को दूर करने में मदद मिलती है, क्योंकि इसके सेवन से आपके शरीर में मैग्नीशियम, और पोटैशियम के तत्वों की कमी को पूरा करने में माद्दा मिलने के साथ आपके ब्लड सर्कुलेशन में भी मदद मिलती है, इससे बचने के लिए आपको एक गिलास में दालचीनी पाउडर को उबाल कर उसके गुनगुना रहने तक उसका सेवन करना चाहिए।

* मसाज : 

हाथ या पैर में सुन्नपन आने पर मसाज इस समस्या से निपटने का सबसे आसान और सरल तरीका है। यह ब्लड सर्कुलेशन को बढ़ाता है, जिससे सुन्नता में कमी आती है। इसके अलावा यह मसल्स और नसों को प्रोत्साहित कर, समग्र कामकाज में सुधार करता है। अपने हाथों में गर्म जैतून, नारियल या सरसों के तेल लेकर इसे सुन्न हिस्से में लगाकर 5 मिनट के लिए सर्कुलर मोशन में अपनी उंगालियों से मसाज करें। जरूरत पड़ने पर इस उपाय को दोहराये।
हाथों और पैरों में झनझनाहट होने के कारण और उपाय


आपको भी कभी ऐसा महसूस हुआ है कि आपके हाथ पैर में बिल्कुल भी जान नहीं है। और आपके हाथ पैरों में अजीब सी झुनझुनी हो रही है, और कई बार इसमें दर्द भी महसूस हो सकता है। यदि आपके साथ ऐसा हो रहा है एक आम समस्या ही मानी जाती है।


कोई टिप्पणी नहीं

Healths Is Wealth. Blogger द्वारा संचालित.