Header Ads

माता-पिता से अपने रिश्तों को बेहतर कैसे बनाएं


माता-पिता से अपने रिश्तों को बेहतर कैसे बनाएं 
माता-पिता से अपने रिश्तों को बेहतर कैसे बनाएं - how to build a good relationship with your parents in hindi
आजकल के दौर में बच्चे जैसे-जैसे बड़े होते जाते है वैस-वैस उनकी अपने माता-पिता से दूरी बनती जाती है। बच्चों को युवावस्था में उनके दोस्त ही उनका परिवार लगते हैं लेकिन दोस्ती चाहें कितनी भी अच्छी हो, वक्त पर हर मुसीबत से लड़ने में सिर्फ और सिर्फ परिवार ही काम आता है। बच्चों और माता-पिता के बीच छोटी-मोटी खटपट होना आम बात है। कई बार आपके और आपके माता-पिता के बीच रिश्ते जरुरत से ज्यादा बिगड़ जाते हैं जिससे मनमुटाव बढ़ जाता है और रिश्तों में नकारात्मक भाव आ जाते हैं। अगर आप अपने माता–पिता से रिश्ते को सुधारना चाहते हैं तो इसके लिए आपको खुद में कुछ बदलाव करने होगें। इस आर्टिकल में हम बताने जा रहें हैं कि आप क्या कुछ करके अपने माता-पिता के साथ अपने रिश्ते मधुर कर सकते हैं।
1. माता–पिता से रिश्ते सुधारने के लिए पहले खुदको बदलें – Chang Yourself in hindi
अपने माता-पिता की सोच को बदलने की बजाय खुद को बदलने और सुधारने का प्रयास करें। अगर आप अपने माता-पिता के साथ अपने रिश्तों को सुधारना चाहते हैं तो पहले सही ढ़ंग से हर काम को करना शुरु करें। जरुरी नहीं है कि हर काम को सही करने का पहला प्रयास माता-पिता ही करें, यह फर्ज आपका भी बनता है इसलिए आप खुद से शुरुआत करें।

2. माता–पिता के प्रति हमेशा सराहनात्मक रहें – Be appreciative toward parents in hindi

आपके माता- पिता ने आपके लिए बहुत कुछ किया है, आपके लिए बहुत कष्ट सहें है। कभी आप अपने माता- पिता के आपके लिए किए गए कामोंके बारे में सोचें जिससे आपको अहसास होगा की आपके माता-पिता आपसे कितना प्यार करते हैं। माता-पिता के आपके हित में किए गए फैसलों और बलिदानों की सराहना करें जिससे आप अपने माता-पिता के दिल को छू सकते हैं।
3. रिश्ते मजबूत बनाने के लिए उनका सम्मान करें– Always be respectful in hindi

माता-पिता आपके लिए जीवन भर बहुत कुछ करते हैं। लेकिन वे बदले में आपसे सिर्फ थोड़ा प्यार और सम्मान चाहते हैं इसलिए अपने माता- पिता से प्यार करें और उनका सम्मान करें, गलती होने पर सॉरी बोलने से ना कतराएं,ऐसा करने से आप छोटे नहीं हो जाते बल्कि इससे वे खुश हो जाते हैं।

4. माता–पिता से झगड़ा होने के कारणों के बारे मेंसोचें – Figure out the cause of fight in hindi
माता-पिता से अपने रिश्तों को बेहतर कैसे बनाएं - how to build a good relationship with your parents in hindi
आप अपने माता- पिता और खुद के बीच हो रहे झगड़ों को खत्म करने के लिए उनके कारण के बारे में गहराई से सोचें और इन झगड़ों को खत्म करने के लिए उन कारणों को पहले खत्म करें ताकि आप रिश्तों को सुधार सकें। माता-पिता से अपने रिश्ते बेहतर बनाने के लिए पहले समस्या की जड़ तक जाना पड़ेगा और उसे सुधारना पड़ेगा।
5. माता–पिता से रिश्तों को लेकर सकारात्मक रहें– Be positive with parents in hindi

माता-पिता से अपने रिश्तों को सुधारने कि कोशिशों में हो सकता है आपके प्रयास शुरु में आपको असफल होते हुए लग रहे हों, लेकिन ऐसा सोचने की बजाय सकारात्मक रहें और अपने माता-पिता की बातों को भी सकारात्मक लें। ताकि आप उनके दिल के करीब जा सकें।

6. माता–पिता की सलाह का सम्मान करें – Always respect of their advice in Hindi

अक्सर टीन एज में बच्चे खुद को ज्यादा समझदार मानते हैं और उन्हें लगता है कि उनके माता-पिता चीजों को समझ नहीं पाते हैं। ऐसे में माता-पिता की सलाह मानना तो दूर उन्हें कुछ बताना भी जरुरी नहीं समझते हैं। इसलिए माता-पिता से हर बात साझा करें, उन्हें अपना दोस्त मानें, उनकी सलाह का सम्मान करें जिससे आपके रिश्ते मजबूत बनते हैं।
7. माता–पिता से रिश्ते सुधारने के लिए शांत रहें –Always keep calm with parents in hindi
माता-पिता से अपने रिश्तों को बेहतर कैसे बनाएं - how to build a good relationship with your parents in hindi
किसी भी झगड़े को तभी शांत किया जा सकता है जब शांति और समझदारी से काम लिया जाए। इसलिए बात-बात पर आग-बबूला होने की बजाय शांत रह कर बात सुलझाएं।

8. माता–पिता से रिश्ते सुधारने के लिए ईमानदारीबरतें – Be honest with parents in hindi
रिश्तों को लेकर हमेशा ईमानदार रहें, जब आप माता-पिता से कुछ छुपाएंगें ही नहीं तो लड़ाई करने की कोई वजह ही नहीं रहेगी।
9. माता–पिता से हमेशा समझदारी से बात करें –Be mature to make relationship in hindi
माता-पिता से अपने रिश्तों को बेहतर कैसे बनाएं - how to build a good relationship with your parents in hindi
आपको हर बात रखने का सही तरीका पता होना चाहिए, जिससे आपकी बातों की एक वैल्यू होती है। माता-पिता से जितना समझदारी से बात करेंगे वे आपको उतना ही जिम्मेदार मानकर फैसले लेने की स्वतंत्रता देगें।

कोई टिप्पणी नहीं

Healths Is Wealth. Blogger द्वारा संचालित.